Transition From Segregation To Inclusion Notes In Hindi

Transition-From-Segregation-To-Inclusion-Notes-In-Hindi

Transition From Segregation To Inclusion Notes In Hindi

(पृथक्करण से समावेशन तक का संक्रमण)

आज हम आपको Transition From Segregation To Inclusion Notes In Hindi (पृथक्करण से समावेशन तक का संक्रमण) के नोट्स देने जा रहे है जिनको पढ़कर आपके ज्ञान में वृद्धि होगी और यह नोट्स आपकी आगामी परीक्षा को पास करने में मदद करेंगे | ऐसे और नोट्स फ्री में पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट पर रेगुलर आते रहे, हम नोट्स अपडेट करते रहते है | तो चलिए जानते है, पृथक्करण से समावेशन तक का संक्रमण के बारे में विस्तार से |


Transformation in Inclusive Education

(समावेशी शिक्षा में बदलाव)

समावेशी शिक्षा एक सीखने के माहौल को संदर्भित करती है जहां प्रत्येक छात्र, उनकी पृष्ठभूमि या क्षमताओं की परवाह किए बिना स्वागत और समर्थन किया जाता है। यह विविधता, इक्विटी और समावेश को बढ़ावा देता है, और इसका उद्देश्य सभी छात्रों के लिए अपनेपन की भावना पैदा करना है। हालाँकि, समावेशी शिक्षा प्राप्त करने के लिए पारंपरिक शैक्षिक प्रथाओं और संरचनाओं में परिवर्तन की आवश्यकता होती है।

टिप्पणियाँ:

  1. अलगाव से एकीकरण में बदलाव (Shift from segregation to integration): अतीत में, विकलांग या विशेष जरूरतों वाले छात्रों को अक्सर मुख्यधारा की कक्षाओं से अलग कर दिया जाता था और विशेष स्कूलों या कक्षाओं में रखा जाता था। समावेशी शिक्षा अलगाव से एकीकरण की ओर बदलाव की मांग करती है, जहां विभिन्न क्षमताओं वाले छात्र एक ही कक्षा में एक साथ सीखते हैं।
    उदाहरण: अतीत में, दृष्टिबाधित छात्रों को अक्सर दृष्टिहीनों के लिए विशेष स्कूलों में रखा जाता था। हालाँकि, समावेशी शिक्षा प्रथाओं को अपनाने के साथ, ये छात्र अब मुख्यधारा के स्कूलों में जा सकते हैं और सहायक तकनीकों और आवास के माध्यम से समर्थन प्राप्त कर सकते हैं।
  2. पाठ्यचर्या और निर्देशात्मक आवास (Curriculum and instructional accommodations): समावेशी शिक्षा के लिए एक लचीले और अनुकूलनीय पाठ्यक्रम की आवश्यकता होती है जो छात्रों की सीखने की विविध आवश्यकताओं को पूरा करता हो। इसमें वैकल्पिक मूल्यांकन विधियों, विभेदित निर्देश और बहु-मोडल सीखने के संसाधनों जैसे निर्देशात्मक आवास शामिल हैं।
    उदाहरण: विविध शिक्षार्थियों वाली कक्षा में, एक शिक्षक सीखने की अक्षमता वाले छात्रों की सहायता के लिए ग्राफिक आयोजकों और दृश्य सहायक सामग्री का उपयोग कर सकता है। इसके अतिरिक्त, दृष्टिबाधित छात्र को उनकी सीखने की जरूरतों को समायोजित करने के लिए ब्रेल या ऑडियो पाठ्यपुस्तकें प्रदान की जा सकती हैं।
  3. सहयोगात्मक शिक्षण और समर्थन (Collaborative teaching and support): समावेशी शिक्षा एक समग्र और समावेशी शिक्षण वातावरण प्रदान करने के लिए शिक्षकों, अभिभावकों और सहायक कर्मचारियों के बीच सहयोग को बढ़ावा देती है। इसमें सह-शिक्षण शामिल है, जहां दो शिक्षक सभी छात्रों का समर्थन करने के लिए एक साथ काम करते हैं, और भाषण चिकित्सक और व्यावसायिक चिकित्सक जैसे सहायक कर्मचारियों की भागीदारी शामिल है।
    उदाहरण: ऑटिज़्म वाले छात्र के साथ कक्षा में, एक शिक्षक अतिरिक्त सहायता और आवास प्रदान करने के लिए एक विशेष शिक्षा शिक्षक के साथ सहयोग कर सकता है। इसके अतिरिक्त, एक भाषण चिकित्सक संचार कौशल विकसित करने के लिए छात्र के साथ काम कर सकता है।
  4. सुलभ भौतिक और सामाजिक वातावरण (Accessible physical and social environment): समावेशी शिक्षा के लिए भौतिक और सामाजिक वातावरण की आवश्यकता होती है जो सभी छात्रों के लिए उनकी क्षमताओं की परवाह किए बिना सुलभ हो। इसमें भौतिक आवास जैसे कि रैंप और सुलभ टॉयलेट, साथ ही सामाजिक आवास जैसे सकारात्मक संबंधों को बढ़ावा देना और कलंक को कम करना शामिल है।
    उदाहरण: व्हीलचेयर का उपयोग करने वाले छात्रों के साथ एक स्कूल में, रैंप और सुलभ टॉयलेट यह सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक होंगे कि वे स्कूल में आसानी से घूम सकें। इसके अतिरिक्त, विकलांग और विकलांग छात्रों के बीच सकारात्मक संबंधों को बढ़ावा देने से कलंक कम हो सकता है और समावेशिता को बढ़ावा मिल सकता है।

निष्कर्ष: समावेशी शिक्षा परिवर्तन की एक सतत प्रक्रिया है जिसके लिए पारंपरिक शैक्षिक प्रथाओं और संरचनाओं में बदलाव की आवश्यकता होती है। विविधता, इक्विटी और समावेशन को बढ़ावा देकर, समावेशी शिक्षा एक सीखने का माहौल बनाती है जहां सभी छात्र आगे बढ़ सकते हैं।

Also Read: KVS COMPLETE NOTES IN HINDI FREE DOWNLOAD


शिक्षा में अलगाव से समावेशन तक का संक्रमण

(Transition from Segregation to Inclusion in Education)

शिक्षा में Transition का अर्थ है परिवर्तन लाना और Segregation का अर्थ है अलग-अलग करना। शिक्षा में अलगाव से समावेशन तक का परिवर्तन विशेष आवश्यकता वाले बच्चों को शिक्षा प्रदान करने की दिशा में दृष्टिकोण में बदलाव को संदर्भित करता है। इससे पहले, विकलांग बच्चों को बाहर रखा गया था और मुख्यधारा की शिक्षा से अलग कर दिया गया था। लेकिन अब, उन्हें एक समावेशी शिक्षा प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है जो उनकी व्यक्तिगत जरूरतों को पूरा करता है और उन्हें समान स्तर पर समाज में भाग लेने की अनुमति देता है। परिप्रेक्ष्य में यह बदलाव क्रमिक रहा है और अभी भी जारी है।

जो बच्चे Disabled है उनके लिए अलग स्कूल बनाए गए जिसे विशिष्ट बच्चों के लिए विशिष्ट स्कूल बोला जाता था विशिष्ट बच्चों को पहले शापित माना जाता था और उनको हर क्षेत्र में अलग रखा जाता था। उसके बाद ये देखा गया कि इनकी समस्या क्या और कितनी गंभीर है। अगर समस्या ज्यादा है तो Hospital में भेजा वहाँ पर उनके लिए शिक्षा की व्यवस्था की जाए अगर सामान्य है तो सभी बच्चों के साथ स्कूल भेजा जाए |

  1. अंधविश्वास (Superstition): प्राचीन समय में, लोगों में विकलांग बच्चों के बारे में अंधविश्वास था, और उन्हें अक्सर उपेक्षित या मार दिया जाता था। लेकिन मध्य युग में लोग सोचते थे कि लोग अक्षम हैं वो भगवान के गुस्से और बुरी आत्माओं के शिकार हुए हैं। लेकिन आजकल ऐसे बच्चों को गुरुकुल में शिक्षा का प्रावधान है। हालांकि, आधुनिक समय में, शारीरिक या बौद्धिक अक्षमता वाले बच्चों सहित विशेष जरूरतों वाले बच्चों को शिक्षा प्रदान करने के महत्व की मान्यता बढ़ रही है।
  2. अलगाव (Segregation): विकलांग बच्चों का अलगाव अतीत में एक आम बात थी। उनके लिए पृथक विद्यालयों की स्थापना की गई, जिन्हें विशेष विद्यालय कहा जाता था। 1900 ई0 में बेनिजामिन ने विकलांगों के बच्चों को शिक्षित करने पर विचार प्रस्तुत किया। Itai Gueta एक फ्रेंच चिकित्सक थे जिन्होने एक उपकरण का आविष्कार किया था वह बहरे व्यक्तियों के लिए मौखिक शिक्षा के निर्माता Therapist थे। कोलम्बिया में 1875 में बहरे व्यक्तियों के लिए पहला कालेज शुरू किया गया था। 1940 के दशक के अंत में इंगलैंड में पहला उपचारात्मक केंन्द्र स्थापित किया गया था।
  3. एकीकृत शिक्षा की दिशा में आंदोलन (Movement towards Integrated Education): 1970 के दशक में, यूनाइटेड स्टेट्स कोर्ट ने अनिवार्य किया कि मानसिक रूप से मंद बच्चों को शिक्षा प्रदान की जानी चाहिए। 1975 में, संयुक्त राज्य अमेरिका में शिक्षा अधिनियम पारित किया गया, जिसने यह सुनिश्चित किया कि विकलांग सभी बच्चों की शिक्षा तक पहुंच होगी। विशेष आवश्यकता वाले बच्चों को समावेशी शिक्षा प्रदान करने की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम था। असक्षम व्यक्ति को सामान्य शिक्षा प्रणाली से बाहर नहीं रखा जाएगा और  असक्षम व्यक्ति प्राथमिक और माध्यमिक को समावेशी में मुफ्त में ग्रहण कर सकता है।
  4. समावेशन (Inclusion): समावेशन का अर्थ है कि विशेष आवश्यकता वाले बच्चों को सामान्य शिक्षा प्रणाली में शामिल किया जाता है, और वे अन्य बच्चों के साथ शिक्षा प्राप्त करते हैं। पाठ्यक्रम और सामग्री को बच्चों की व्यक्तिगत जरूरतों के अनुसार डिजाइन किया गया है। साथ ही समस्या का पता लगाना कि समस्या कितनी गंभीर है और कैसे उसको दूर किया जा सकता है। Mentaly, Visual, Learning Disability सबकी समस्या अलग-अलग है। समस्या का Level पता लगाकर उसका समाधान करना । यह दृष्टिकोण मानता है कि प्रत्येक बच्चा अद्वितीय है और उसकी विशिष्ट आवश्यकताएं हैं। समावेशी शिक्षा विकलांग बच्चों को उनके कौशल और प्रतिभा को विकसित करने और समाज के सक्रिय सदस्य बनने में मदद करती है।

वास्तविक जीवन का उदाहरण: मान लीजिए कि Autism से पीड़ित एक बच्चा नियमित स्कूल जाता है। उस स्थिति में, स्कूल बच्चे को सीखने और अन्य छात्रों के साथ बातचीत करने में मदद करने के लिए अतिरिक्त सहायता प्रदान करेगा, जैसे कि एक विशेष शिक्षक। बच्चे की आवश्यकताओं के अनुरूप पाठ्यक्रम को संशोधित किया जा सकता है, और शिक्षण दृष्टिकोण को बच्चे के लिए समझने में आसान बनाने के लिए अनुकूलित किया जा सकता है। बच्चा स्कूल की सभी गतिविधियों में भाग ले सकेगा और किसी भी अवसर से वंचित नहीं रहेगा।

निष्कर्ष: शिक्षा में अलगाव से समावेशन तक का संक्रमण एक लंबी और क्रमिक प्रक्रिया रही है। यह सभी बच्चों को उनकी क्षमताओं या अक्षमताओं की परवाह किए बिना शिक्षा प्रदान करने के महत्व की मान्यता से प्रेरित है। समावेशी शिक्षा यह सुनिश्चित करती है कि विशेष आवश्यकता वाले बच्चों को बाहर न रखा जाए और उन्हें सीखने और बढ़ने के समान अवसर दिए जाएं। यह एक समावेशी समाज बनाने की दिशा में एक सकारात्मक कदम है जहां सभी को महत्व दिया जाता है और उनका सम्मान किया जाता है।


Transition-From-Segregation-To-Inclusion-Notes-In-Hindi
Transition-From-Segregation-To-Inclusion-Notes-In-Hindi

विकलांग छात्रों को शिक्षा प्रदान करने में कमियाँ

(Deficiencies in Imparting Education to Students with Disabilities)

विकलांग छात्रों को शिक्षा प्रदान करना एक मौलिक अधिकार है जिस तक प्रत्येक व्यक्ति की पहुंच होनी चाहिए। हालाँकि, वर्तमान शिक्षा प्रणाली में कई कमियाँ हैं जो विकलांग छात्रों को वह गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त करने से रोकती हैं जिसके वे हकदार हैं। इस लेख में, हम विकलांग छात्रों को शिक्षा प्रदान करने में कुछ प्रमुख कमियों और इन मुद्दों को कैसे दूर किया जा सकता है, पर चर्चा करेंगे।

  1. महंगी शिक्षा (Costly Education): विकलांग छात्रों को विशेष शिक्षा की आवश्यकता होती है जो उनकी आवश्यकताओं के अनुरूप हो। हालाँकि, इस तरह की शिक्षा अक्सर महंगी होती है क्योंकि इसके लिए विशेष रूप से प्रशिक्षित शिक्षकों, विशेष सुविधाओं और उपकरणों की आवश्यकता होती है। विशिष्ट बच्चों के लिए अलग से स्कूल होंगे, उनके लिए शिक्षक भी अलग-अलग होंगे, सुविधाएं भी अलग होंगी। सामान्य शिक्षक उन्हें अच्छे से नहीं पढ़ सकते हैं उनके लिए प्रशिक्षित और शिक्षकों की आवश्यकता होती है जिसमें बहुत खर्चा होता है। यह वित्तीय बोझ अक्सर परिवारों को वहन करने के लिए बहुत अधिक होता है, जिससे इन छात्रों के लिए अवसरों की कमी हो जाती है। समावेशी शिक्षा एक समाधान है जिसका उद्देश्य विकलांग छात्रों को मुख्यधारा के स्कूलों में एकीकृत करना है, परिवारों पर वित्तीय बोझ को कम करना है।
    उदाहरण: ऑटिज़्म वाले बच्चे को विशेष उपकरण और चिकित्सा सत्र की आवश्यकता हो सकती है जो महंगा हो सकता है, जिससे सीमित वित्तीय संसाधनों वाले परिवारों के लिए उन्हें आवश्यक शिक्षा प्रदान करना मुश्किल हो जाता है।
  2. सीमित क्षेत्र (Limited Area): कई क्षेत्रों में, सीमित संख्या में संस्थान और स्कूल हैं जो विकलांग छात्रों की सेवा करते हैं। यह उन छात्रों के लिए एक चुनौती है जो ग्रामीण या दूरस्थ क्षेत्रों में रहते हैं और उन्हें शिक्षा प्राप्त करने के लिए लंबी दूरी तय करनी पड़ती है। इस मुद्दे को हल करने के लिए, अधिक संस्थानों और स्कूलों को ग्रामीण क्षेत्रों में स्थापित करने की आवश्यकता है जहां उनकी उच्च मांग है।
    जहाँ पर disabled की संख्या कम है वहां पर उनके लिए Institude खोल दिए गए। और जहाँ पर संख्या ज्यादा है वहां पर Industury, Metro Station खोल दिए गए। अगर इनके लिए क्षेत्र सीमित होगा तो थे वहां तक कैसे पहुचेगे। इनके लिए आवश्यकता है Rural area में और संस्थाएं खोल दि गई दूर क्षेत्र में तो उनको जाने में परेशानी होगी’ इसलिए उनके लिए वही संस्थाए और स्कूल खोले जाए जहां पर इनको आवश्यकता है।
    उदाहरण: ग्रामीण क्षेत्रों में, विकलांग बच्चों की जरूरतों को पूरा करने वाले स्कूलों तक सीमित पहुंच हो सकती है, जिससे परिवारों को लंबी दूरी की यात्रा करने या विशेष शिक्षा प्राप्त करने के लिए शहरी क्षेत्रों में स्थानांतरित होने के लिए मजबूर होना पड़ता है।
  3. मानवाधिकारों का उल्लंघन (Violation of Human Rights): विकलांग छात्रों को शिक्षा का अधिकार किसी भी अन्य छात्र के समान है। हालांकि, कई विकलांग छात्र अपने अधिकारों से अनजान हैं और जब उनके अधिकारों का उल्लंघन किया जा रहा है तो वे अपनी आवाज उठाने में असमर्थ हैं। शिक्षा को सभी छात्रों के लिए उनकी अक्षमता की परवाह किए बिना सुलभ बनाया जाना चाहिए, और विकलांग छात्रों के अधिकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के प्रयास किए जाने चाहिए।
    उदाहरण: बधिरता वाले बच्चे को नियमित स्कूल में जाने के अधिकार से वंचित किया जा सकता है क्योंकि स्कूल में उन्हें समायोजित करने के लिए आवश्यक सुविधाएं नहीं हैं, जो उनके शिक्षा के अधिकार का उल्लंघन है।
  4. विशेष शिक्षा में कुशल शिक्षकों की कमी (Lack of Skilled Teachers in Special Education): विकलांग छात्रों को पढ़ाने के लिए विशेष कौशल की आवश्यकता होती है जो कई शिक्षकों के पास नहीं होती है। विशेष शिक्षा में कुशल शिक्षकों की यह कमी विकलांग छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करना चुनौतीपूर्ण बनाती है। इस मुद्दे को हल करने के लिए, विकलांग छात्रों को पढ़ाने के लिए आवश्यक विशेष कौशल और तकनीकों में शिक्षकों को प्रशिक्षित करने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम स्थापित किए जाने चाहिए।
    उदाहरण: डिस्लेक्सिया से पीड़ित बच्चे को पठन कौशल विकसित करने के लिए विशेष निर्देश की आवश्यकता हो सकती है, लेकिन प्रभावी निर्देश प्रदान करने के लिए शिक्षक के पास आवश्यक प्रशिक्षण और ज्ञान नहीं हो सकता है।
  5. अपर्याप्त बुनियादी ढाँचा (Inadequate Infrastructure): विकलांग छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए पर्याप्त बुनियादी ढाँचा आवश्यक है। इसमें सुलभ भवन, कक्षाएँ, परिवहन, सहायक तकनीक और विशेष उपकरण जैसी भौतिक सुविधाएँ शामिल हैं। इन सुविधाओं के बिना, विकलांग छात्रों को शिक्षा प्राप्त करने और शैक्षणिक और पाठ्येतर गतिविधियों में पूरी तरह से भाग लेने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है।
    उदाहरण: एक बच्चा जो व्हीलचेयर का उपयोग करता है, वह कक्षा या स्कूल में प्रवेश करने में सक्षम नहीं हो सकता है, जिसमें सीढ़ियां हैं और कोई रैंप नहीं है, जिससे उनके लिए शैक्षणिक और पाठ्येतर गतिविधियों में भाग लेना असंभव हो जाता है।
  6. व्यक्तिगत निर्देश की आवश्यकता (Need for Individualized Instruction): प्रत्येक छात्र अद्वितीय होता है और उसकी अपनी सीखने की शैली होती है। प्रत्येक विकलांग छात्र को उनकी क्षमताओं और सीखने की शैली के अनुसार व्यक्तिगत निर्देश प्रदान करना आवश्यक है। यह दृष्टिकोण सुनिश्चित करता है कि प्रत्येक छात्र को अकादमिक रूप से सफल होने के लिए आवश्यक समर्थन प्राप्त हो।
    उदाहरण: ADHD वाले बच्चे को सीखने की अक्षमता वाले बच्चे की तुलना में अलग-अलग शिक्षण रणनीतियों की आवश्यकता हो सकती है। शिक्षकों को प्रत्येक छात्र की व्यक्तिगत जरूरतों को पूरा करने के लिए अपनी शिक्षण विधियों को अनुकूलित करने की आवश्यकता है।
  7. शिक्षकों और अन्य पेशेवरों के बीच सहयोग (Collaboration between Teachers and Other Professionals): विकलांग छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए शिक्षकों, प्रशासकों और अन्य पेशेवरों के बीच सहयोग की आवश्यकता होती है। सहयोग यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि प्रत्येक छात्र को अपनी पूरी क्षमता हासिल करने के लिए उचित समर्थन और सेवाएं प्राप्त हों।
    उदाहरण: भाषण और भाषा की कठिनाइयों वाले बच्चे को संचार कौशल विकसित करने के लिए भाषण चिकित्सक की सहायता की आवश्यकता हो सकती है। छात्र को आवश्यक सहायता प्रदान करने के लिए शिक्षकों और चिकित्सक को सहयोग करने की आवश्यकता है।
  8. साक्ष्य-आधारित प्रथाओं का उपयोग (Use of Evidence-Based Practices): विकलांग छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए साक्ष्य-आधारित प्रथाओं का उपयोग आवश्यक है। इन प्रथाओं में व्यक्तिगत निर्देश, सकारात्मक सुदृढीकरण, व्यवहार प्रबंधन तकनीक और सहायक तकनीक शामिल हैं। शिक्षकों को उन प्रथाओं का उपयोग करने की आवश्यकता है जो अक्षमता वाले छात्रों को अकादमिक रूप से सीखने और सफल होने में मदद करने में प्रभावी साबित हुई हैं।
    उदाहरण: ऑटिज्म से पीड़ित बच्चा व्यवहार प्रबंधन तकनीकों के उपयोग से लाभान्वित हो सकता है, जैसे कि सकारात्मक सुदृढीकरण, सामाजिक और संचार कौशल विकसित करने के लिए। ये अभ्यास प्रभावी साबित हुए हैं और बच्चे के लिए सर्वोत्तम संभव शिक्षा प्रदान करने के लिए इनका उपयोग किया जाना चाहिए।

निष्कर्ष: विकलांग छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करना एक समावेशी समाज बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। विकलांग छात्रों को शिक्षा प्रदान करने में कमियों को दूर करना यह सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक है कि वे वह शिक्षा प्राप्त करें जिसके वे हकदार हैं। एक साथ काम करके और प्रभावी समाधान लागू करके, हम एक ऐसा समाज बना सकते हैं जो सभी के लिए समान अवसर प्रदान करता हो।

Also Read: CTET COMPLETE NOTES IN HINDI FREE DOWNLOAD


1992 (RCI) भारतीय पुनर्वास परिषद

(1992 (RCI) Rehabilitation Council of India)

  1. संस्थानों को मान्यता (Recognition to institutions): भारतीय पुनर्वास परिषद (Rehabilitation Council of India (RCI)) विकलांग बच्चों की शैक्षिक आवश्यकताओं को पूरा करने वाले संस्थानों को मान्यता प्रदान करती है। यह मान्यता महत्वपूर्ण है क्योंकि यह सुनिश्चित करती है कि ये संस्थान आवश्यक मानकों को पूरा करते हैं और विकलांग बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए सुसज्जित हैं।
  2. विशिष्ट पाठ्यक्रम और सीखने की सामग्री (Specific curriculum and learning materials): RCI एक विशिष्ट पाठ्यक्रम और सीखने की सामग्री बनाने के लिए जिम्मेदार है जो विकलांग बच्चों की शैक्षिक आवश्यकताओं को पूरा करता है। यह सुनिश्चित करता है कि विकलांग बच्चों की शैक्षिक सामग्री तक पहुंच है जो उनकी व्यक्तिगत सीखने की जरूरतों के लिए उपयुक्त है।

1995 PwD (विकलांगता वाले व्यक्ति) अधिनियम

(1995 PwD (Person with Disability) Act

  1. अधिकारों का संरक्षण (Protection of rights): विकलांग व्यक्ति (PwD) अधिनियम, 1995 विकलांग व्यक्तियों के अधिकारों की रक्षा करने और उन्हें शिक्षा सहित जीवन के सभी पहलुओं में समान अवसर प्रदान करने के लिए बनाया गया है।
  2. विकलांगता का प्रमाणन (Certification of disability): शारीरिक अक्षमता वाले व्यक्ति जिन्हें चिकित्सा विशेषज्ञों द्वारा 40% या अधिक के रूप में प्रमाणित किया गया है, वे PwD अधिनियम के तहत सुरक्षा के लिए पात्र हैं। इसमें दृष्टिबाधित, श्रवण बाधित और मानसिक मंदता वाले व्यक्ति शामिल हैं।
  3. शिक्षक प्रशिक्षण संस्थान (Teacher training institute): PwD अधिनियम के अनुसार सरकार को विकलांग बच्चों के लिए विशेष रूप से एक शिक्षक प्रशिक्षण संस्थान स्थापित करने की आवश्यकता है। यह सुनिश्चित करता है कि शिक्षक विकलांग बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए आवश्यक कौशल और ज्ञान से लैस हैं।
  4. शिक्षा के लिए विस्तृत योजनाएँ (Detailed plans for education): PwD अधिनियम के अनुसार सरकार को विकलांग बच्चों की शिक्षा के लिए विस्तृत योजनाएँ बनाने की आवश्यकता है। इसमें उनकी शैक्षिक आवश्यकताओं की पहचान करना और यह सुनिश्चित करना शामिल है कि उनके पास उपयुक्त शैक्षिक सामग्री और संसाधनों तक पहुंच है।
  5. परिवहन सुविधाएं (Transport facilities): PwD अधिनियम सरकार को विकलांग बच्चों को परिवहन सुविधाएं प्रदान करने की आवश्यकता है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उनकी शैक्षिक संस्थानों तक पहुंच हो। यह महत्वपूर्ण है क्योंकि यह सुनिश्चित करता है कि विकलांग बच्चों को परिवहन सुविधाओं की कमी के कारण शिक्षा से बाहर नहीं किया जाता है।

वास्तविक जीवन का उदाहरण: एक नेत्रहीन छात्र जो PwD अधिनियम के तहत प्रमाणित है, आरसीआई द्वारा एक विशिष्ट पाठ्यक्रम और शिक्षण सामग्री के निर्माण से लाभान्वित हो सकता है। इसके अतिरिक्त, छात्र आरसीआई द्वारा मान्यता प्राप्त स्कूल में भाग ले सकता है, यह सुनिश्चित करते हुए कि संस्थान विकलांग छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए आवश्यक मानकों को पूरा करता है। छात्र यह सुनिश्चित करने के लिए सरकार की परिवहन सुविधाओं के प्रावधान से भी लाभान्वित हो सकते हैं कि वे स्कूल जा सकते हैं।

Also Read: B.Ed COMPLETE Project File IN HINDI FREE DOWNLOAD


Also Read:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy link
Powered by Social Snap