Mental Retardation Notes In Hindi (PDF)

Mental-Retardation-Notes-In-Hindi

Mental Retardation Notes In Hindi

(मानसिक मंदता)

आज हम आपको Mental Retardation Notes In Hindi (मानसिक मंदता) के नोट्स देने जा रहे है जिनको पढ़कर आपके ज्ञान में वृद्धि होगी और यह नोट्स आपकी आगामी परीक्षा को पास करने में मदद करेंगे | ऐसे और नोट्स फ्री में पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट पर रेगुलर आते रहे, हम नोट्स अपडेट करते रहते है | तो चलिए जानते है, मानसिक मंदता के बारे में विस्तार से |


Mental Retardation

(मानसिक मंदता)

जब बच्चों को अपनी उम्र के अनुसार पढ़ने, लिखने, सीखने और समझने में कठिनाई का अनुभव होता है, तो यह मानसिक मंदता का संकेत हो सकता है। यदि बच्चे का मस्तिष्क बौद्धिक और कार्यात्मक दोनों स्थितियों में ठीक से काम नहीं कर रहा है, तो इस स्थिति को चिकित्सा क्षेत्र में “मानसिक मंदता” कहा जाता है।

  • बौद्धिक विकलांगता (I.D = Intellectual disability) के चार स्तर हैं: हल्के, मध्यम और गंभीर। कभी-कभी I.D को “अन्य” या “अनिर्दिष्ट” के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है।
  • I.D = Intellectual disability में कम I.Q और समायोजन की समस्याएं शामिल हैं जिनमें रोजमर्रा के कार्यों को करने में असमर्थता होती है। सीखने, बोलने या सामाजिक संबंधों और शारीरिक अक्षमताओं में भी समस्या हो सकती है।
  • जन्म के समय (I.D = Intellectual disability) (बौद्धिक अक्षमता) के गंभीर मामलों का निदान किया जाता है। आप ऐसी बातों को तब तक नहीं समझ सकते जब तक कि स्थितियां गंभीर मोड़ नहीं ले लेतीं।

मानसिक मंदता का अर्थ और परिभाषा

(Meaning and Definition of Mental Retardation)

M.R का मतलब:

एक मानसिक मंद बच्चा औसत बच्चे की तुलना में धीमा होता है। क्योंकि उनका I.Q सामान्य बच्चों से कम होता है। इस प्रकार के बच्चे मानसिक विकास, शारीरिक संतुलन, सामाजिक समायोजन और रुचियों के बहुरूपता में सामान्य बच्चों से पीछे रह जाते हैं। इस प्रकार के बच्चों के लिए विशेष पाठ्यक्रम और विशेष रूप से प्रशिक्षित शिक्षकों की आवश्यकता होती है। ऐसे बच्चों को स्लो लर्नर्स भी कहा जाता है। उन बच्चों का I.Q 75 या उससे कम होता है।

  • I.Q = Intelligence Quotient
  • M.R = Mental Retardation

परिभाषा:

  • Isaac के अनुसार, “मानसिक मंदता को मानसिक अक्षमताओं के अपूर्ण और अपर्याप्त सामान्य विकास के रूप में परिभाषित किया गया है।
  • Page (1962) के अनुसार, “मानसिक मंदता कम मानसिक विकास की स्थिति है जो बच्चे में जन्म के समय से मौजूद होती है या बचपन में विकसित होती है। इसकी मुख्य विशेषताएं सीमित बौद्धिक स्तर और सामाजिक अपर्याप्तता हैं।”

Also Read: KVS COMPLETE NOTES IN HINDI FREE DOWNLOAD


मानसिक मंदता के प्रकार

(Types of Mental Retardation)

मानसिक मंदता, जिसे बौद्धिक विकलांगता के रूप में भी जाना जाता है, को विभिन्न मानदंडों के आधार पर विभिन्न प्रकारों में वर्गीकृत किया जा सकता है। मानसिक मंदता के कुछ प्रकार निम्नलिखित हैं:

I. IQ के आधार पर (Based on IQ):

मानसिक मंदता को वर्गीकृत करने के लिए IQ स्कोर ऐतिहासिक रूप से एक आधार के रूप में उपयोग किया गया है। IQ स्कोर के आधार पर विभिन्न स्तर निम्नलिखित हैं:

  1. हल्की बौद्धिक अक्षमता (Mild Intellectual Disability): IQ स्कोर 50-70 के बीच।
    उदाहरण: हल्के बौद्धिक अक्षमता वाले व्यक्ति को अमूर्त तर्क के साथ कठिनाई हो सकती है और शैक्षणिक और जीवन कौशल सीखने में अतिरिक्त सहायता की आवश्यकता हो सकती है।
  2. मध्यम बौद्धिक विकलांगता (Moderate Intellectual Disability): IQ स्कोर 35-49 के बीच।
    उदाहरण: मध्यम बौद्धिक अक्षमता वाले व्यक्ति को दैनिक जीवन में महत्वपूर्ण समर्थन की आवश्यकता हो सकती है और सीमित संचार और सामाजिक कौशल हो सकते हैं।
  3. गंभीर बौद्धिक अक्षमता (Severe Intellectual Disability): IQ स्कोर 20-34 के बीच।
    उदाहरण: एक गंभीर बौद्धिक विकलांगता वाले व्यक्ति की भाषा क्षमता सीमित हो सकती है और उसे दैनिक जीवन में निरंतर समर्थन की आवश्यकता हो सकती है।
  4. गहन बौद्धिक विकलांगता (Profound Intellectual Disability): IQ स्कोर 20 से नीचे।
    उदाहरण: गहन बौद्धिक अक्षमता वाले व्यक्ति के पास सीमित मोटर क्षमताएं हो सकती हैं और उन्हें अपनी दैनिक जरूरतों के लिए निरंतर देखभाल और सहायता की आवश्यकता हो सकती है।

I.Q सूत्र: M.A/C.A X 100

मान लीजिए कि एक बच्चा 10 साल (C.A.) का है, लेकिन उसकी बौद्धिक क्षमता 7 साल (M.A.) की है। उनके IQ की गणना करने के लिए, हम निम्नलिखित सूत्र का उपयोग करेंगे:

M.A/C.A X 100 = IQ

हमारे पास मौजूद मूल्यों को प्रतिस्थापित करते हुए, हम प्राप्त करते हैं:

7/10 X 100 = 70

तो इस बच्चे का आईक्यू 70 होगा, जो हल्के बौद्धिक अक्षमता को दर्शाता है।

⇒ M.A = मानसिक आयु (Mental Age)
⇒ C.A = वास्तविक आयु (Chronological Age)

II. शिक्षा के आधार पर (Based on Education):

शिक्षा मानसिक मंदता को वर्गीकृत करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक और मानदंड है। शिक्षा के आधार पर विभिन्न स्तर निम्नलिखित हैं:

  1. मूर्ख (मूर्ख बुद्धि) (Moron (foolish intellect): इस स्तर के बच्चों का IQ 51-70 के बीच होता है। ऐसे बच्चे पढ़ने-लिखने में कम सक्षम होते हैं। पढ़ाई में दिक्कतें आती हैं। उन्हें विशेष प्रशिक्षण देकर व्यवसाय करने के लिए तैयार किया जाता है।
    उदाहरण: मूर्ख के रूप में वर्गीकृत व्यक्ति को बुनियादी शैक्षणिक और जीवन कौशल सीखने के लिए विशेष प्रशिक्षण की आवश्यकता हो सकती है।
  2. मूर्ख (मनोदशा / कम बुद्धि) (Imbecile (Mood / Low intelligence): इस स्तर पर “बच्चों की बुद्धि 25-50 तक होती है। ये बच्चे पढ़-लिख नहीं पाते हैं। इस प्रकार के बच्चे को हमेशा दूसरों की मदद की जरूरत होती है, जिसे वे खुद देखभाल नहीं कर सकता।
    उदाहरण: एक मूढ़ के रूप में वर्गीकृत व्यक्ति को बुनियादी कार्यों को करने के लिए दूसरों से निरंतर सहायता की आवश्यकता हो सकती है।
  3. इडियट (जड़ बुद्धि) (Idiot (root intelligence): इस अवस्था में बच्चों की वृद्धि 25 से कम होती है। ऐसे बच्चे कोई भी कार्य करने में असमर्थ होते हैं। वे स्वयं भी अन्न नहीं खा सकते, वस्त्र नहीं पहन सकते, कोई अति कठिन कार्य नहीं कर सकते।
    उदाहरण: एक मूर्ख के रूप में वर्गीकृत व्यक्ति को खाने और कपड़े पहनने जैसे सबसे बुनियादी कार्यों को करने में भी कठिनाई हो सकती है।

III. गंभीरता के आधार पर (Based on Severity):

मानसिक मंदता को स्थिति की गंभीरता के आधार पर भी वर्गीकृत किया जा सकता है। गंभीरता के आधार पर विभिन्न स्तर निम्नलिखित हैं:

  1. हल्की मानसिक मंदता (Mild Mental Retardation): इस स्तर में बच्चों की बुद्धि भागफल 55-70 तक होती है। इस स्तर पर विशेष शिक्षा कार्यक्रम के माध्यम से बच्चों को शिक्षा प्रदान की जा सकती है। इसे – (EMR = Educable Mental Retardation) भी कहते हैं। यानी शिक्षित मानसिक मंदता, 85% आबादी ऐसी है।
    उदाहरण: हल्का मानसिक मंदता वाला व्यक्ति एक विशेष शिक्षा कार्यक्रम के माध्यम से सीखने में सक्षम हो सकता है और उसे दैनिक जीवन में कुछ सहायता की आवश्यकता हो सकती है।
  2. मध्यम मानसिक मंदता (Moderate Mental Retardation): बच्चों का बुद्धि स्कोर 40-54 है। इसे (TMR = Trainable Mental Retardation) भी कहा जाता है, इस स्तर पर 10% आबादी पाई जाती है। इस अवस्था में बालक का मानसिक स्तर 4-7 वर्ष की आयु तक होता है। उन्हें विशेष शिक्षा कार्यक्रमों के माध्यम से शिक्षा प्रदान की जा सकती है।
    उदाहरण: मध्यम मानसिक मंदता वाले व्यक्ति में सीमित संज्ञानात्मक क्षमताएं हो सकती हैं और उन्हें महत्वपूर्ण दैनिक समर्थन की आवश्यकता होती है।
  3. गंभीर मानसिक मंदता (Severe Mental Retardation): इस अवस्था में बच्चे का IQ 20-39 तक होता है। यह समस्या केवल 3-4% आबादी में देखी जाती है। इस अवस्था में व्यक्ति दूसरों पर निर्भर रहता है। वे अपना ख्याल नहीं रख सकते। उनके पास खराब मोटर समन्वय और संवाद करने की क्षमता है। बहुत से लोगों में संवेदी दोष हो सकते हैं जैसे सुनने की हानि, और दृष्टि की हानि।
    उदाहरण: गंभीर मानसिक मंदता वाले व्यक्ति के पास सीमित संचार और मोटर क्षमताएं हो सकती हैं और दैनिक जीवन में निरंतर समर्थन की आवश्यकता हो सकती है।
  4. गहन मानसिक मंदता (Profound Mental Retardation): इस स्तर पर, बच्चे का I.Q 20 से कम है। इस स्तर पर केवल 1-2% आबादी देखी जा सकती है। ये लोग खाने, पीने और कपड़े पहनने जैसे साधारण से साधारण काम भी अपने आप नहीं कर सकते। कई तरह के शारीरिक दोष भी देखने को मिल सकते हैं। : गूंगापन, बहरापन |
    उदाहरण: गहन मानसिक मंदता वाले व्यक्ति की महत्वपूर्ण शारीरिक और संज्ञानात्मक सीमाएँ हो सकती हैं और उन्हें अपनी दैनिक आवश्यकताओं के लिए निरंतर देखभाल और सहायता की आवश्यकता हो सकती है।

Characteristics of Children with mental retardation

(मानसिक मंदता वाले बच्चों की विशेषताएं)

यहां वास्तविक जीवन के उदाहरणों के साथ बौद्धिक अक्षमता वाले बच्चों की विशेषताएं हैं:

  1. जीभ बाहर निकलना और लार टपकना (Tongue Protrusion and Drooling): बौद्धिक विकलांग बच्चों को अपनी जीभ और लार को नियंत्रित करने में कठिनाई हो सकती है, जिससे उनकी जीभ बाहर निकल जाती है और लार टपकने लगती है।
    उदाहरण: डाउन सिंड्रोम वाला बच्चा अपने चेहरे की मांसपेशियों में कम मांसपेशी टोन के कारण इन विशेषताओं को प्रदर्शित कर सकता है।
  2. भाषण और भाषा की कठिनाइयाँ (Speech and language difficulties): बौद्धिक विकलांग बच्चों को भाषण और भाषा के विकास सहित संचार के साथ संघर्ष करना पड़ सकता है।
    उदाहरण: ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर से पीड़ित बच्चे को भाषा और संचार कौशल में कठिनाई हो सकती है।
  3. असावधानी और कम एकाग्रता (Inattention and poor concentration): बौद्धिक विकलांग बच्चों को ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई हो सकती है और कार्य पर बने रहने के लिए अतिरिक्त सहायता की आवश्यकता हो सकती है।
    उदाहरण: अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी) से पीड़ित बच्चा असावधानी से संघर्ष कर सकता है और उसके लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद के लिए दवा या व्यवहार चिकित्सा की आवश्यकता होती है।
  4. सीमित बौद्धिक क्षमताएं (Limited intellectual abilities): बौद्धिक अक्षमताओं वाले बच्चों का आईक्यू स्कोर 70 से कम होता है और उन्हें शैक्षणिक कौशल और सामाजिक संपर्क में कठिनाई हो सकती है।
    उदाहरण: फ्रैगाइल एक्स सिंड्रोम जैसे आनुवंशिक विकार वाला बच्चा बौद्धिक अक्षमता और सीखने और संचार कौशल के साथ संघर्ष कर सकता है।
  5. दूसरों पर निर्भरता (Dependence on others): बौद्धिक विकलांग बच्चों को दैनिक कार्यों और गतिविधियों को पूरा करने के लिए दूसरों के समर्थन और सहायता की आवश्यकता हो सकती है।
    उदाहरण: सेरेब्रल पाल्सी वाले बच्चे को चलने-फिरने और स्वयं की देखभाल के कार्यों में सहायता की आवश्यकता हो सकती है।
  6. सामाजिक और भावनात्मक चुनौतियाँ (Social and Emotional Challenges): बौद्धिक विकलांग बच्चे सामाजिक अंतःक्रियाओं और भावनात्मक विनियमन के साथ संघर्ष कर सकते हैं।
    उदाहरण: विलियम्स सिंड्रोम वाला बच्चा अत्यधिक दोस्ताना व्यवहार प्रदर्शित कर सकता है और उचित सामाजिक सीमाओं के साथ संघर्ष कर सकता है।
  7. सीमित खेल कौशल (Limited play skills): बौद्धिक अक्षमताओं वाले बच्चे कल्पनाशील खेल के साथ संघर्ष कर सकते हैं और दोहराए जाने वाले या नियमित गतिविधियों को पसंद कर सकते हैं।
    उदाहरण: Rett syndrome वाले बच्चे को खेलने के कौशल में कठिनाई हो सकती है और वह सरल गतिविधियों जैसे वीडियो देखना या संगीत सुनना पसंद करता है।
  8. विलंबित विकासात्मक मील के पत्थर (Delayed Developmental Milestones): बौद्धिक अक्षमता वाले बच्चों को बैठने, रेंगने, चलने और बात करने जैसे विकासात्मक मील के पत्थर तक पहुंचने में देरी का अनुभव हो सकता है।
    उदाहरण: एक कार दुर्घटना के कारण मस्तिष्क की चोट वाले बच्चे को विकासात्मक मील के पत्थर तक पहुंचने में देरी का अनुभव हो सकता है और उन्हें अपनी पूरी क्षमता तक पहुंचने के लिए अतिरिक्त चिकित्सा और सहायता की आवश्यकता होती है।

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि बौद्धिक अक्षमता वाला प्रत्येक बच्चा अद्वितीय होता है और वह कई विशेषताओं और चुनौतियों का प्रदर्शन कर सकता है। उचित समर्थन, हस्तक्षेप और समझ के साथ, बौद्धिक अक्षमता वाले बच्चे अपनी पूरी क्षमता हासिल कर सकते हैं और आगे बढ़ सकते हैं।

Also Read: CTET COMPLETE NOTES IN HINDI FREE DOWNLOAD


Symptoms of Intellectual Disability

(बौद्धिक अक्षमता के लक्षण)

यहां उचित शीर्षकों और वास्तविक जीवन के उदाहरण के साथ बौद्धिक अक्षमता के लक्षण दिए गए हैं:

संज्ञानात्मक लक्षण (Cognitive Symptoms):

  • बौद्धिक मानकों को पूरा करने में विफलता (Failure to meet intellectual standards): बौद्धिक अक्षमता वाले लोग अपने आयु वर्ग के बौद्धिक मानकों को पूरा करने के लिए संघर्ष कर सकते हैं या बुनियादी कौशल सीखने में असफल हो सकते हैं।
  • अन्य बच्चों की तुलना में बैठना या चलना सीखने में देरी (Delayed learning to sit or walk compared to other children): बौद्धिक विकलांग बच्चों को बैठने या चलने जैसे विकासात्मक मील के पत्थर तक पहुंचने में देरी का अनुभव हो सकता है।
  • याददाश्त की समस्या (Memory problems): बौद्धिक अक्षमता वाले लोगों को अल्पकालिक याददाश्त में कठिनाई हो सकती है, जिससे उनके लिए निर्देशों को याद रखना या कार्यों को पूरा करना कठिन हो जाता है।
  • कार्यों के परिणामों को समझने में असमर्थता (Inability to understand the consequences of actions): बौद्धिक अक्षमता वाले लोग अपने कार्यों के प्रभाव को नहीं समझ सकते हैं, जिससे आवेगी व्यवहार या खराब निर्णय लेने की ओर अग्रसर होता है।
  • तार्किक रूप से सोचने में असमर्थता (Inability to think logically): उन्हें समस्या-समाधान, तर्क और आलोचनात्मक सोच में कठिनाई हो सकती है।
    उदाहरण: बौद्धिक अक्षमता वाला बच्चा बुनियादी गणित कौशल सीखने में संघर्ष कर सकता है या उसे अपने कार्यों के परिणामों को समझने में कठिनाई हो सकती है, जैसे गर्म स्टोव को छूने का खतरा।

व्यवहार लक्षण (Behavioral Symptoms):

  • जिज्ञासा की कमी (Lack of curiosity): बौद्धिक अक्षमता वाले लोग नई चीजें सीखने में जिज्ञासा या रुचि की कमी दिखा सकते हैं।
  • सीखने की कठिनाइयाँ (Learning difficulties): उन्हें नए कौशल सीखने, जानकारी संसाधित करने या निर्देशों का पालन करने में परेशानी हो सकती है।
  • चीजों को याद रखने में कठिनाई (Difficulty remembering things): वे चीजों को जल्दी भूल सकते हैं या जानकारी को याद रखने में कठिनाई महसूस कर सकते हैं।
  • स्कूल के लिए आवश्यक अकादमिक कार्यों को पूरा करने में असमर्थता (Inability to complete school-required academic assignments): वे स्कूल के काम को पूरा करने या अकादमिक मानकों को पूरा करने के लिए संघर्ष कर सकते हैं।
  • IQ 70 से कम (IQ less than 70): एक कम IQ स्कोर अक्सर बौद्धिक अक्षमता का संकेतक होता है।
  • बात करने या स्वयं की देखभाल करने में असमर्थता (Inability to talk or care for oneself): गंभीर मामलों में, बौद्धिक अक्षमता वाले लोग स्वयं की देखभाल करने या प्रभावी ढंग से संवाद करने में असमर्थ हो सकते हैं।
    उदाहरण: एक बौद्धिक अक्षमता वाला वयस्क कार्य कार्यों को पूरा करने में संघर्ष कर सकता है या उसे स्नान या कपड़े पहनने जैसी बुनियादी स्व-देखभाल गतिविधियों में सहायता की आवश्यकता हो सकती है।

संक्षेप में, बौद्धिक विकलांगता संज्ञानात्मक, व्यवहारिक और कार्यात्मक कौशल को प्रभावित कर सकती है, और गंभीरता में हल्के से गहरे तक भिन्न हो सकती है। यदि आपको संदेह है कि आप या आपके जानने वाला कोई बौद्धिक अक्षमता से ग्रस्त है, तो यह सुनिश्चित करने के लिए पेशेवर मूल्यांकन और सहायता प्राप्त करना महत्वपूर्ण है कि उन्हें उचित देखभाल और संसाधन प्राप्त हों।


मानसिक मंदता के कारण

(Causes of mantel Retardation)

मानसिक मंदता, जिसे बौद्धिक विकलांगता के रूप में भी जाना जाता है, एक ऐसी स्थिति है जिसमें किसी व्यक्ति की संज्ञानात्मक कार्यप्रणाली औसत से काफी कम होती है, जिससे दैनिक जीवन को अपनाने में कठिनाई होती है। मानसिक मंदता के कारणों को आनुवंशिक, पर्यावरण, या दोनों के संयोजन के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है।

I. आनुवंशिक कारण (Genetic Causes)

  1. डाउन सिंड्रोम या मंगोलिज़्म (Down’s Syndrome or Mongolism): मानसिक मंदता आनुवंशिक त्रुटि या दोषपूर्ण जीन संयोजन के कारण होती है। उदाहरण के लिए, डाउन सिंड्रोम में जोड़े में एक अतिरिक्त गुणसूत्र होता है, जिसके परिणामस्वरूप मानसिक कमजोरी होती है। डाउन सिंड्रोम वाले व्यक्तियों में चेहरे की विशेषताएं होती हैं जैसे गोल चेहरा, छोटी चपटी नाक, तिरछी आंखें और उभरी हुई जीभ।
    उदाहरण: डाउन सिंड्रोम वाले व्यक्ति का एक प्रसिद्ध उदाहरण क्रिस बर्क है, जो एक अमेरिकी अभिनेता और लोक गायक हैं। उन्हें टेलीविजन श्रृंखला “लाइफ गोज़ ऑन” में उनकी भूमिका के लिए जाना जाता है।
  2. क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम (Klinefelter Syndrome): केवल पुरुषों में पाया जाने वाला एक आनुवंशिक विकार, क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम तब होता है जब सेक्स ग्रंथियों की कमी होती है। इससे प्रभावित व्यक्तियों में मानसिक दुर्बलता आ जाती है।
    उदाहरण: क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम का एक वास्तविक जीवन का उदाहरण जो मैकएल्डेरी नाम का एक ब्रिटिश गायक-गीतकार है। उन्हें 20 साल की उम्र में इस स्थिति का पता चला था।

II. पर्यावरणीय कारण (Environmental Causes)

  1. हाइड्रोसिफ़लस (Hydrocephalus): हाइड्रोसिफ़लस एक चिकित्सा स्थिति है जिसमें नवजात बच्चे के मस्तिष्क में मस्तिष्कमेरु द्रव का संचय होता है, जिससे मस्तिष्क का आकार सामान्य से बड़ा हो जाता है। यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाए तो यह मानसिक मंदता का परिणाम हो सकता है।
    उदाहरण: Hydrocephalus का एक उदाहरण एक नवजात शिशु है जिसका नाम शेन माइकल हेली है, जो इस स्थिति के साथ पैदा हुआ था। उन्होंने जन्म के समय सबसे बड़े सिर परिधि वाले बच्चे होने का रिकॉर्ड बनाया, जो कि 19 इंच था।
  2. माइक्रोसेफली या मैक्रोसेफली (Microcephaly or Macrocephaly): माइक्रोसेफली एक ऐसी स्थिति है जिसमें व्यक्ति के सिर का आकार सामान्य से छोटा हो जाता है, जबकि मैक्रोसेफली एक ऐसी स्थिति है जिसमें व्यक्ति के सिर का आकार सामान्य से बड़ा हो जाता है। दोनों स्थितियों से मानसिक मंदता हो सकती है।
    उदाहरण: Microcephaly का एक उदाहरण ब्राजील का एक युवा लड़का है जिसका नाम ज्योति आमगे है। वह केवल 15 इंच के सिर परिधि के साथ दुनिया की सबसे छोटी महिला होने का रिकॉर्ड रखती है।
  3. बौनापन (Cretinism) (Dwarfism (Cretinism): यह रोग थायराइड हार्मोन की कमी के कारण होता है। थायराइड हार्मोन की कमी से बच्चे में मानसिक कमजोरी हो सकती है।
    उदाहरण: बौनेपन वाले व्यक्ति का एक प्रसिद्ध उदाहरण Peter Dinklage (पीटर डिंकलेज़) हैं, जो एक अमेरिकी अभिनेता हैं। उन्हें टेलीविजन श्रृंखला “Game of Thrones (गेम ऑफ थ्रोन्स)” में उनकी भूमिका के लिए जाना जाता है।
  4. एमौरोटिक इडिओसी (Amaurotic Idiocy): यह एक दुर्लभ विरासत में मिला विकार है जिसमें वसा का पाचन बंद हो जाता है। अमौरोटिक इडिओसी दो प्रकार की होती है – इन्फेंटाइल और जुवेनाइल। इन्फेंटाइल टाइप में 6 महीने से बच्चे में लक्षण दिखने लगते हैं और 8 साल की उम्र तक मौत हो जाती है। जुवेनाइल टाइप में 6-13 साल में बच्चे की मौत हो जाती है।
    उदाहरण: अमौरोटिक मूढ़ता का एक उदाहरण एक दुर्लभ आनुवंशिक विकार है जिसे Tay-Sachs रोग कहा जाता है। यह यहूदी आबादी के बीच अधिक आम है। इसका एक उदाहरण जैकब लेस नाम के एक अमेरिकी लड़के का मामला है जिसे इस बीमारी का पता चला था और 7 साल की उम्र में उसकी मृत्यु हो गई थी।
  5. फेनिलकेटोनुरिया (पीकेयू) (Phenylketonuria (PKU): पीकेयू एक अनुवांशिक विकार है जिसमें प्रोटीन चयापचय (Metabolism) में समस्या होती है। मानसिक मंदता के लक्षण जन्म के 6 से 12 महीने बाद दिखाई देते हैं। प्रभावित बच्चों में एक्जिमा, कंपकंपी, और फीकी पड़ चुकी त्वचा, बाल और आंखों जैसे शारीरिक लक्षण भी हो सकते हैं।
    उदाहरण: PKU का एक उदाहरण Terry Bradshaw नाम का एक अमेरिकी फुटबॉल खिलाड़ी है, जिसकी यह स्थिति है। वह Pittsburgh Steelers के पूर्व क्वार्टरबैक (quarterback) और एक टेलीविजन विश्लेषक हैं।

अंत में, मानसिक मंदता विभिन्न आनुवंशिक और पर्यावरणीय कारकों के कारण हो सकती है। प्रारंभिक पहचान और हस्तक्षेप मानसिक मंदता वाले व्यक्तियों की स्थिति को प्रबंधित करने और सुधारने में मदद कर सकता है।

निष्कर्ष: मानसिक मंदता वाले बच्चे सामान्य बच्चों से अलग व्यवहार करते हैं। ये बच्चे किसी भी सूरत में सक्षम नहीं हैं। उच्च मानसिक मंदता वाले बच्चे दूसरों पर निर्भर रहते हैं। बच्चों को विशेष प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है।

Mental-Retardation-Notes-In-Hindi
Mental-Retardation-Notes-In-Hindi

बौद्धिक अक्षमता के कारण

(Causes of Intellectual Disability)

बौद्धिक विकलांगता, जिसे मानसिक मंदता के रूप में भी जाना जाता है, के विभिन्न कारण हो सकते हैं। यहाँ बौद्धिक अक्षमता के सामान्य कारण हैं:

प्रसव पूर्व कारण (Prenatal Causes):

जन्म से पहले, विभिन्न कारक बच्चे में बौद्धिक अक्षमता का कारण बन सकते हैं। कुछ सबसे आम प्रसवपूर्व कारण हैं:

  • वंशानुगत कारक (Hereditary factors): यदि बच्चे के एक या दोनों माता-पिता बौद्धिक अक्षमता से पीड़ित हैं, तो बच्चे को इस स्थिति के विकसित होने का अधिक खतरा होता है।
  • आघात (Trauma): जन्म से पहले आघात, जैसे संक्रमण, शराब या नशीली दवाओं का सेवन, या अन्य जहरीले पदार्थ, मस्तिष्क के विकास को प्रभावित कर सकते हैं और बौद्धिक अक्षमता का कारण बन सकते हैं।
  • मातृ संक्रमण (Maternal Infections): रूबेला, टोक्सोप्लाज़मोसिज़, साइटोमेगालोवायरस संक्रमण, सिफलिस या एचआईवी जैसे संक्रमण भी बच्चे में बौद्धिक अक्षमता का कारण बन सकते हैं।

जन्म जटिलताएं (Birth Complications):

जन्म के दौरान जटिलताएं भी बौद्धिक अक्षमता का कारण बन सकती हैं। इन जटिलताओं में शामिल हो सकते हैं:

  • आघात (Trauma): जन्म के दौरान आघात, जैसे ऑक्सीजन की कमी या समय से पहले प्रसव, मस्तिष्क के विकास को प्रभावित कर सकता है और बौद्धिक अक्षमता का कारण बन सकता है।
  • मातृ रोग (Maternal diseases): मातृ रोग जैसे मधुमेह, हृदय रोग, किडनी रोग आदि भी बच्चे के मस्तिष्क के विकास को प्रभावित कर सकते हैं और बौद्धिक अक्षमता का कारण बन सकते हैं।

आनुवंशिक विकार (Genetic Disorders):

  • आनुवंशिक विकार बौद्धिक अक्षमता का एक अन्य सामान्य कारण है। ये विकार विरासत में मिले हैं और इसमें शामिल हो सकते हैं:
  • फेनिलकेटोनुरिया (पीकेयू) (Phenylketonuria (PKU): पीकेयू एक दुर्लभ आनुवंशिक विकार है जो मस्तिष्क के विकास के लिए आवश्यक अमीनो एसिड फेनिलएलनिन को तोड़ने की शरीर की क्षमता को प्रभावित करता है।
  • टे-सैक्स रोग (Tay-Sachs Disease): टे-सैक्स रोग एक दुर्लभ आनुवंशिक विकार है जो मस्तिष्क और तंत्रिकाओं में वसायुक्त पदार्थों को तोड़ने की शरीर की क्षमता को प्रभावित करता है।
  • क्रोमोसोम असामान्यताएं (Chromosome Abnormalities): डाउन सिंड्रोम जैसी क्रोमोसोम असामान्यताएं भी बौद्धिक अक्षमता का कारण बन सकती हैं।

वातावरणीय कारक (Environmental Factors):

पर्यावरणीय कारक भी बौद्धिक अक्षमता का कारण बन सकते हैं। इन कारकों में शामिल हो सकते हैं:

  • सीसा या पारा विषाक्तता (Lead or Mercury Poisoning): सीसा या पारा के संपर्क में आने से मस्तिष्क का विकास प्रभावित हो सकता है और बौद्धिक अक्षमता हो सकती है।
  • गंभीर कुपोषण या आहार संबंधी समस्याएं (Severe Malnutrition or Dietary Problems): गंभीर कुपोषण या आहार संबंधी समस्याएं जैसे आयोडीन की कमी या विटामिन बी 9 की कमी भी बौद्धिक अक्षमता का कारण बन सकती है।
  • बचपन की बीमारी (Childhood Illness): गंभीर बचपन की बीमारियाँ जैसे काली खांसी, खसरा, या मेनिन्जाइटिस मस्तिष्क के विकास को प्रभावित कर सकती हैं और बौद्धिक अक्षमता का कारण बन सकती हैं।

गर्भावस्था की जटिलताएं (Complications of Pregnancy):

  • गर्भावस्था की जटिलताओं जैसे गर्भावस्था में हाई बीपी, बच्चे के जन्म के दौरान अत्यधिक रक्तस्राव, या प्लेसेंटल डिसफंक्शन भी बच्चे में बौद्धिक अक्षमता का कारण बन सकता है।

वास्तविक जीवन का उदाहरण: गर्भावस्था के दौरान शराब का सेवन करने वाली मां से पैदा हुए बच्चे में फीटल अल्कोहल सिंड्रोम विकसित हो सकता है, जिससे बौद्धिक अक्षमता हो सकती है। इसी तरह, डाउन सिंड्रोम या अन्य आनुवंशिक विकारों के पारिवारिक इतिहास वाले माता-पिता से पैदा होने वाला बच्चा बौद्धिक अक्षमता के साथ पैदा हो सकता है।


बौद्धिक अक्षमता का निदान

(Diagnosis of Intellectual Disability)

बौद्धिक विकलांगता, जिसे मानसिक मंदता के रूप में भी जाना जाता है, एक ऐसी स्थिति है जो किसी व्यक्ति की बौद्धिक और अनुकूल कार्यप्रणाली को प्रभावित करती है। यहां बताया गया है कि इसका निदान कैसे किया जा सकता है:

  1. माता-पिता से बात करें (Talk to parents): बच्चे के विकास के इतिहास, पारिवारिक इतिहास और किसी भी चिकित्सा समस्या के बारे में जानकारी इकट्ठा करने के लिए डॉक्टर माता-पिता से बात करेंगे।
    उदाहरण: डॉक्टर 5 साल के बच्चे के माता-पिता से बात करता है जिसे सीखने में कठिनाई होती है और वह अभी तक पूरे वाक्यों में बात नहीं कर पाता है। माता-पिता ने बताया कि बच्चे का जन्म समय से पहले हुआ था और शुरुआती वर्षों में उसे कुछ स्वास्थ्य संबंधी जटिलताएँ थीं।
  2. बच्चे के साथ बातचीत (Interacting with the child): डॉक्टर बच्चे के संज्ञानात्मक और अनुकूली कामकाज का मूल्यांकन करने के लिए बच्चे के व्यवहार, संचार कौशल और सामाजिक बातचीत का निरीक्षण करेंगे।
    उदाहरण: एक डॉक्टर की नियुक्ति के दौरान, एक संदिग्ध बौद्धिक अक्षमता वाले 7 वर्षीय बच्चे को सरल निर्देशों का पालन करने में कठिनाई होती है और संचार कौशल सीमित होता है। डॉक्टर नोट करता है कि बच्चा वेटिंग रूम में अन्य बच्चों के साथ नाटक खेलने या सामाजिक बातचीत में शामिल नहीं होता है।
  3. मानक परीक्षण (Standard Test): बच्चे को स्टैनफोर्ड-बिनेट इंटेलिजेंस टेस्ट जैसे मानकीकृत परीक्षण दिए जाएंगे, जो बच्चे की बौद्धिक क्षमता को मापता है और उसकी तुलना उसी उम्र के अन्य बच्चों से करता है।
    उदाहरण: एक 10 साल के बच्चे की बौद्धिक क्षमता का आकलन करने के लिए स्टैनफोर्ड-बिनेट इंटेलिजेंस टेस्ट दिया जाता है। परिणाम बताते हैं कि बच्चे का आईक्यू उनके आयु वर्ग के औसत से कम है।
  4. अन्य परीक्षण (Other Tests): बच्चे के लक्षणों का कारण बनने वाली किसी भी अंतर्निहित चिकित्सा स्थिति का पता लगाने के लिए डॉक्टर अतिरिक्त परीक्षण भी कर सकते हैं। इन परीक्षणों में रक्त परीक्षण, मस्तिष्क स्कैन या विकासात्मक आकलन शामिल हो सकते हैं।
    उदाहरण: एक 3 साल के बच्चे को विकासात्मक आकलन के लिए भेजा जाता है जब उसके माता-पिता ने देखा कि बच्चा अपने विकासात्मक मील के पत्थर को पूरा नहीं कर रहा है। रक्त परीक्षण और एक मस्तिष्क स्कैन किसी भी अंतर्निहित चिकित्सा स्थितियों का पता लगाने के लिए किया जाता है जो बच्चे की देरी का कारण हो सकता है।
  5. स्कूल-आधारित मूल्यांकन (School-based assessments): बच्चे की शैक्षिक आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए स्कूल अक्सर आकलन करते हैं। इन आकलनों में संज्ञानात्मक परीक्षण, व्यवहार संबंधी अवलोकन और शिक्षकों और माता-पिता से इनपुट शामिल हो सकते हैं।
    उदाहरण: एक 6 साल के बच्चे का मूल्यांकन एक स्कूल मनोवैज्ञानिक द्वारा उनकी शैक्षिक आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए किया जाता है। यह देखा गया है कि बच्चे को पढ़ने और लिखने में कठिनाई होती है और वह कक्षा में आवेगी व्यवहार प्रदर्शित करता है। बच्चे के शिक्षकों और माता-पिता से भी इनपुट लिया जाता है।
  6. बहु-विषयक टीम (Multidisciplinary Team): बौद्धिक विकलांगता के निदान में आमतौर पर पेशेवरों की एक बहु-विषयक टीम शामिल होती है, जिसमें एक मनोवैज्ञानिक, बाल रोग विशेषज्ञ, भाषण-भाषा रोगविज्ञानी और व्यावसायिक चिकित्सक शामिल होते हैं। वे बच्चे की ताकत और कमजोरियों का आकलन करने के लिए मिलकर काम करते हैं और बच्चे की जरूरतों के अनुरूप उपचार योजना विकसित करते हैं।
    उदाहरण: एक मनोवैज्ञानिक, बाल रोग विशेषज्ञ, भाषण-भाषा रोगविज्ञानी, और व्यावसायिक चिकित्सक सहित पेशेवरों की एक टीम द्वारा एक 12 वर्षीय बच्चे को बौद्धिक अक्षमता का निदान किया जाता है। टीम बच्चे की संज्ञानात्मक और अनुकूली कार्यप्रणाली का आकलन करती है, उनकी ताकत और कमजोरियों की पहचान करती है, और उनकी आवश्यकताओं के अनुरूप एक उपचार योजना विकसित करती है।
  7. जारी मूल्यांकन (Ongoing evaluations): बौद्धिक विकलांग बच्चों को उनकी प्रगति की निगरानी करने और आवश्यकतानुसार उनकी उपचार योजनाओं को समायोजित करने के लिए निरंतर मूल्यांकन प्राप्त करना चाहिए।
    उदाहरण: बौद्धिक अक्षमता वाला एक 15 वर्षीय बच्चा अपनी प्रगति की निगरानी के लिए निरंतर मूल्यांकन प्राप्त करता है। उत्पन्न होने वाली किसी भी नई चुनौतियों का समाधान करने के लिए बच्चे की उपचार योजना को आवश्यक रूप से समायोजित किया जाता है।

उदाहरण के लिए, यदि किसी बच्चे को स्कूल के काम में कठिनाई हो रही है या दूसरों के साथ संवाद करने में कठिनाई हो रही है, तो उनके माता-पिता उन्हें एक डॉक्टर के पास ले जा सकते हैं जो उनकी बौद्धिक और अनुकूली कार्यप्रणाली का आकलन करेगा। डॉक्टर तब बच्चे को एक विशेषज्ञ के पास भेज सकते हैं, जो बच्चे की कठिनाइयों का कारण निर्धारित करने और उपचार योजना विकसित करने के लिए अतिरिक्त परीक्षण और आकलन करेगा।

Also Read: B.Ed COMPLETE Project File IN HINDI FREE DOWNLOAD


मानसिक मंदता को रोकने के तरीके

(Ways to Prevent Mental Retardation)

मानसिक मंदता, जिसे बौद्धिक विकलांगता के रूप में भी जाना जाता है, एक ऐसी स्थिति है जिसमें किसी व्यक्ति के संज्ञानात्मक और अनुकूली कौशल औसत से काफी नीचे होते हैं। जबकि मानसिक मंदता के कुछ कारण अनुवांशिक होते हैं, प्रारंभिक हस्तक्षेप और उचित देखभाल के माध्यम से कई मामलों को रोका जा सकता है। मानसिक मंदता को रोकने के कुछ तरीके इस प्रकार हैं:

  1. टीकाकरण (Vaccination): खसरा और हेपेटाइटिस बी जैसी कुछ बीमारियों के खिलाफ टीकाकरण से उन संक्रमणों की शुरुआत को रोका जा सकता है जो मानसिक मंदता का कारण बन सकते हैं।
    उदाहरण: रूबेला, जिसे आमतौर पर जर्मन खसरा के रूप में जाना जाता है, एक वायरल बीमारी है जो अजन्मे शिशुओं में विकासात्मक देरी और बौद्धिक अक्षमता का कारण बन सकती है यदि मां गर्भावस्था के दौरान वायरस को अनुबंधित करती है। रूबेला के खिलाफ टीकाकरण बीमारी को रोक सकता है और अजन्मे बच्चे को मानसिक मंदता से बचा सकता है।
  2. नवजात स्क्रीनिंग (Newborn screening): फेनिलकेटोनुरिया (PKU) और हाइपरथायरायडिज्म जैसी कुछ स्थितियों का शीघ्र पता लगाने और उपचार करने से मानसिक मंदता को विकसित होने से रोका जा सकता है।
    उदाहरण: PKU एक आनुवंशिक विकार है जो फेनिलएलनिन, एक एमिनो एसिड के चयापचय को प्रभावित करता है। यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो यह मस्तिष्क क्षति और बौद्धिक अक्षमता का कारण बन सकता है। नवजात स्क्रीनिंग पीकेयू का जल्दी पता लगा सकती है, और एक विशेष आहार स्थिति को मानसिक मंदता पैदा करने से रोक सकता है।
  3. अच्छी प्रसवपूर्व देखभाल (Good prenatal care): गर्भावस्था के दौरान उचित देखभाल से शिशुओं में मानसिक मंदता का खतरा कम हो सकता है।
    उदाहरण: शराब का सेवन करने वाली गर्भवती महिलाओं में फीटल अल्कोहल सिंड्रोम वाले बच्चों को जन्म देने का जोखिम अधिक होता है, जो बौद्धिक अक्षमता का कारण बन सकता है। शराब से परहेज और गर्भावस्था के दौरान अच्छा पोषण बनाए रखने से फीटल अल्कोहल सिंड्रोम को रोका जा सकता है और मानसिक मंदता के जोखिम को कम किया जा सकता है।
  4. नियमित विकासात्मक जाँच (Regular developmental check-ups): बाल रोग विशेषज्ञों को सभी बच्चों की नियमित शारीरिक और मानसिक विकासात्मक जाँच करनी चाहिए।
    उदाहरण: विकास संबंधी देरी का शीघ्र पता लगाने से मानसिक मंदता को रोकने में मदद मिल सकती है। जो बच्चे उपेक्षित या कुपोषित हैं या जो ऐसी परिस्थितियों में रहते हैं जहां रोग संचरण की संभावना है, उन्हें नियमित विकासात्मक जांच करानी चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे सामान्य रूप से विकसित हो रहे हैं।
  5. अल्ट्रासाउंड और अन्य परीक्षण (Ultrasound and other tests): कुछ परीक्षण भ्रूण की असामान्यताओं का पता लगा सकते हैं और मानसिक मंदता को रोक सकते हैं।
    उदाहरण: अल्ट्रासाउंड मस्तिष्क में संरचनात्मक असामान्यताओं का पता लगा सकता है जो मानसिक मंदता का कारण बन सकता है। CVS: chorionic villus sampling (भ्रूण में जेनेटिक गड़बड़ियों की जांच करना) और एमनियोसेंटेसिस जैसे अन्य परीक्षण आनुवंशिक विकारों का पता लगा सकते हैं जो मानसिक मंदता का कारण बन सकते हैं। शुरुआती पहचान से माता-पिता और स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं को उपचार और देखभाल के बारे में सूचित निर्णय लेने में मदद मिल सकती है।

अंत में, मानसिक मंदता को गर्भावस्था के दौरान कुछ सावधानियां बरतकर, जन्म के समय अच्छी देखभाल करके और बचपन में नियमित जांच और जांच कराकर रोका जा सकता है। बौद्धिक अक्षमता का कारण बनने वाली स्थितियों का शीघ्र पता लगाने और उपचार करने से बच्चे के जीवन के परिणाम में महत्वपूर्ण अंतर आ सकता है।


मानसिक मंदता के इलाज के तरीके

(Ways to Treat Mental Retardation)

मानसिक मंदता, जिसे बौद्धिक विकलांगता के रूप में भी जाना जाता है, एक ऐसी स्थिति है जिसमें एक व्यक्ति में महत्वपूर्ण संज्ञानात्मक और अनुकूली कौशल की कमी होती है। यद्यपि इसे ठीक नहीं किया जा सकता है, उचित उपचार के साथ, बौद्धिक रूप से अक्षम व्यक्ति जीवन कौशल सीख सकते हैं और अपनी अधिकतम क्षमता प्राप्त कर सकते हैं। मानसिक मंदता के इलाज के कुछ तरीके इस प्रकार हैं:

  1. परामर्श (Counseling): परामर्श बौद्धिक रूप से अक्षम व्यक्ति को सुरक्षा जोखिमों को कम करने और उचित जीवन कौशल सीखने में मदद कर सकता है।
    उदाहरण: एक बौद्धिक रूप से अक्षम बच्चे को सड़क पार करने जैसी कुछ स्थितियों के खतरों को समझने में परेशानी हो सकती है। काउंसलिंग से बच्चे को यह सीखने में मदद मिल सकती है कि इन स्थितियों में कैसे सुरक्षित रहना है और उचित जीवन कौशल विकसित करना है।
  2. मानसिक मंदता के बारे में सीखना (Learning about mental retardation): माता-पिता और देखभाल करने वालों को बौद्धिक अक्षमता के बारे में जितना संभव हो उतना सीखना चाहिए ताकि स्थिति को बेहतर ढंग से समझा जा सके और बच्चे की मदद कैसे की जा सके।
    उदाहरण: बौद्धिक विकलांगता के बारे में सीखकर, माता-पिता बच्चे की ज़रूरतों और सीमाओं को समझ सकते हैं और उचित देखभाल और सहायता प्रदान कर सकते हैं।
  3. समूह गतिविधियाँ (Group activities): कला कक्षाओं और खेल जैसी सामूहिक गतिविधियों में भाग लेने से बौद्धिक रूप से अक्षम बच्चे को सामाजिक कौशल विकसित करने में मदद मिल सकती है।
    उदाहरण: एक बौद्धिक रूप से विकलांग बच्चा जो एक खेल टीम में भाग लेता है, टीम वर्क सीख सकता है, साथियों के साथ सामूहीकरण कर सकता है और शारीरिक कौशल विकसित कर सकता है।
  4. स्वतंत्रता को प्रोत्साहित करना (Encouraging independence): एक बौद्धिक रूप से विकलांग बच्चे को नए कौशल सीखने और अपने दम पर काम करने के लिए प्रोत्साहित करने से उन्हें स्वतंत्रता प्राप्त करने में मदद मिल सकती है।
    उदाहरण: एक बौद्धिक रूप से विकलांग बच्चे को साधारण भोजन पकाने के तरीके सीखने के लिए मार्गदर्शन की आवश्यकता हो सकती है, लेकिन एक बार जब वे कौशल में महारत हासिल कर लेते हैं, तो वे स्वतंत्र रूप से अपने लिए भोजन तैयार कर सकते हैं।
  5. विशेष शिक्षा (Special education): एक IEP: Individualized Education Plan (व्यक्तिगत शिक्षा योजना) में बौद्धिक रूप से अक्षम बच्चे को नामांकित करने से उनकी शैक्षिक आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद मिल सकती है।
    उदाहरण: एक IEP एक अनुरूप शिक्षा योजना प्रदान कर सकता है जो बच्चे की अनूठी सीखने की ज़रूरतों को पूरा करता है और उन्हें अकादमिक सफलता प्राप्त करने में मदद करता है।
  6. पेशेवरों के साथ सहयोग (Collaboration with professionals): डॉक्टरों, चिकित्सक और शिक्षकों जैसे पेशेवरों के साथ काम करना बौद्धिक रूप से अक्षम बच्चे के लिए व्यापक देखभाल और सहायता प्रदान कर सकता है।
    उदाहरण: एक भाषण चिकित्सक बौद्धिक रूप से अक्षम बच्चे को अपने संचार कौशल में सुधार करने में मदद कर सकता है, जबकि एक विशेष शिक्षा शिक्षक बच्चे को अकादमिक रूप से सफल होने में मदद करने के लिए अनुरूप निर्देश प्रदान कर सकता है।

अंत में, हालांकि मानसिक मंदता को ठीक नहीं किया जा सकता है, उचित उपचार के साथ, बौद्धिक रूप से अक्षम व्यक्ति जीवन कौशल सीख सकते हैं और अपनी अधिकतम क्षमता हासिल कर सकते हैं। परामर्श, समूह गतिविधियाँ, स्वतंत्रता को प्रोत्साहित करना, विशेष शिक्षा, और पेशेवरों के साथ सहयोग, सभी एक बौद्धिक रूप से अक्षम व्यक्ति के लिए व्यापक देखभाल और सहायता प्रदान करने में मदद कर सकते हैं।


Table of IQ scores

(IQ स्कोर की तालिका)

यहां IQ स्कोर और उनके संबंधित वर्गीकरण की तालिका दी गई है:

IQ Score Classification
Above 130 Very high or gifted (बहुत ऊँचा या गुणवान/प्रतिभाशाली)
120-129 Superior (बेहतर/वरिष्ठ)
110-119 High average (उच्च औसत)
90-109 Average (औसत)
80-89 Low average (कम औसत)
70-79 Borderline intellectual functioning (सीमा रेखा बौद्धिक कामकाज/कार्यप्रणाली)
Below 70 Intellectual disability (बौद्धिक अक्षमता/बौद्धिक विकलांगता)

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि IQ स्कोर बुद्धि का केवल एक माप है और किसी व्यक्ति की क्षमताओं या क्षमता के बारे में निर्णय लेने के लिए अलगाव में इसका उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। इसके अतिरिक्त, ऐसे कई कारक हैं जो IQ स्कोर को प्रभावित कर सकते हैं, जिनमें पर्यावरणीय कारक और परीक्षण में सांस्कृतिक पूर्वाग्रह शामिल हैं।

उदाहरण:

IQ स्कोर की गणना और उपयोग कैसे किया जाता है, इसका एक उदाहरण यहां दिया गया है:

मान लीजिए सारा नाम की एक व्यक्ति ने एक IQ टेस्ट दिया जिसका औसत स्कोर 100 था और मानक विचलन 15 था। सारा के टेस्ट के नतीजे बताते हैं कि उसने 50 में से 45 सवालों के सही जवाब दिए। उसके IQ स्कोर की गणना करने के लिए, हम निम्नलिखित सूत्र का उपयोग कर सकते हैं:

IQ = (Test Score / Total Possible Score) x 15 + 100

इसलिए, सारा के आईक्यू स्कोर के लिए, हम निम्नलिखित मानों को दर्ज करेंगे:

IQ = (45/50) x 15 + 100
IQ = 0.9 x 15 + 100
IQ = 13.5 + 100
IQ = 113.5

113.5 के उसके IQ स्कोर के आधार पर, सारा को उच्च औसत बुद्धि वाला माना जाएगा।

हालाँकि, जैसा कि मैंने पहले उल्लेख किया है, किसी व्यक्ति की क्षमताओं या क्षमता के बारे में निर्णय लेने के लिए IQ स्कोर एकमात्र कारक नहीं होना चाहिए। अन्य कारकों, जैसे व्यक्तिगत हितों, कार्य अनुभव और गैर-संज्ञानात्मक कौशल को भी ध्यान में रखा जाना चाहिए। इसके अतिरिक्त, यह पहचानना महत्वपूर्ण है कि IQ स्कोर विभिन्न कारकों से प्रभावित हो सकते हैं, जैसे परीक्षण और पर्यावरणीय कारकों में सांस्कृतिक पूर्वाग्रह, और बौद्धिक या विकासात्मक विकलांग व्यक्तियों के साथ भेदभाव करने के लिए इसका उपयोग नहीं किया जाना चाहिए।


Also Read:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy link
Powered by Social Snap