Hearing Impairment Notes In Hindi (PDF)

Hearing-Impairment-Notes-In-Hindi

Hearing Impairment Notes In Hindi

(श्रवण बाधित)

आज हम आपको Hearing Impairment Notes In Hindi (श्रवण बाधित/श्रवण हानि/श्रवण-बाधित) के नोट्स देने जा रहे है जिनको पढ़कर आपके ज्ञान में वृद्धि होगी और यह नोट्स आपकी आगामी परीक्षा को पास करने में मदद करेंगे | ऐसे और नोट्स फ्री में पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट पर रेगुलर आते रहे, हम नोट्स अपडेट करते रहते है | तो चलिए जानते है, श्रवण बाधित के बारे में विस्तार से |


श्रवणबाधित बच्चे का अर्थ और उसके प्रकार

(Meaning of hearing impaired child and its types)

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है क्योंकि वह एक दूसरे की भाषा सुन सकता है। जो व्यक्ति दूसरों की बातों को नहीं समझ पाता, उसे हम श्रवण बाधित कहते हैं। जन्म के कुछ समय बाद बच्चा माता-पिता या परिवार के अन्य सदस्यों की आवाज सुनकर उन्हें पहचान लेता है। भाषा को सुनने का कौशल पहले विकसित किया जाता है, उसके बाद ही बोलने और पढ़ने और लिखने का कौशल विकसित किया जाता है। जो बच्चे पूरी तरह से बहरे या सुनने में मुश्किल होते हैं उन्हें समाज में खुद को समायोजित करने में बहुत मुश्किल होती है। शिक्षा के प्रसार और नए वैज्ञानिकों ने यह सिद्ध कर दिया है कि बहरापन या ऊंचा सुनाई देना पूर्व जन्मों का परिणाम नहीं है बल्कि काफी हद तक यह लापरवाही का परिणाम है। एक बधिर बच्चा एक सामान्य बच्चे की तरह ही होता है और एक सामान्य बच्चे की तुलना में अधिक प्रतिभाशाली हो सकता है।

H.I (Hearing Impairment) का सम्बन्ध श्रवण यंत्र प्रक्रिया के क्षतिग्रस्त (Defects or damage to the Mechanism) के होने से है। यह क्षति कान के किसी भी भाग में हो सकती है

जैसे : बाह्य, मध्य या आन्तिरिक कान (External, Middle or Internal Ear) उसी श्रवण बाधिका से H.I पैदा होती है। यह H.I न्यूनतम से अधिक हो सकती है। व्यक्ति पूर्ण रूप से बहरा या ऊँचा सूनने वाला हो सकता है। यह दोष बाधित की प्रकृति और श्रवण दोष की मात्रा पर निर्भर करता है। कोई भी व्यक्ति या बच्चा जन्म के समय या किसी रोग, रुकावट या दुर्घटना के कारण भी H.I हो सकता है।

श्रवण बाधित बच्चों की परिभाषा

(Definition of Hearing Impaired Children)

श्रवण-बाधित बच्चे वे होते हैं जो दूसरों की आवाज को पूरी तरह या आंशिक रूप से नहीं सुन पाते हैं। ऐसे बच्चों को अक्सर बधिर कहा जाता है। उच्च श्रवण क्षमता वाले बच्चों की अपेक्षा पूर्ण रूप से बधिर बच्चों को अधिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। सुनवाई हानि स्थायी या आंशिक हो सकती है।
उदाहरण के लिए: यदि किसी बच्चे के कान के परदे में कोई दोष हो तो उसका उपचार संभव है या वह बच्चा श्रवण यंत्रों की सहायता से दूसरे की आवाज सुन सकता है। ऐसे बच्चों को सामान्य बच्चों के साथ ही पढ़ाया जा सकता है। इसके विपरीत पूरी तरह से श्रवण बाधित बच्चों को सामान्य कक्षा में सामान्य बच्चों के साथ नहीं पढ़ाया जा सकता है।

इस प्रकार हम कह सकते हैं कि श्रवण-बाधित बच्चा वह है जो या तो बिल्कुल सुन नहीं सकता या बिना किसी उपकरण की सहायता के सुन नहीं सकता और उन्हें प्रशिक्षण में कठिनाई का सामना करना पड़ता है। श्रवण दोष जन्म के बाद चोट, दुर्घटना, बीमारी आदि के कारण नहीं हो सकता है।
महत्वपूर्ण संवेदी अंग (Important Sensory Organs): कान मनुष्य का एक महत्वपूर्ण संवेदी अंग है। सुनने से ही हमें बाहरी जानकारी मिलती है। सुनकर ही हम एक दूसरे के वातावरण को महसूस करते हैं और सुनने से ही हमें खतरा भी महसूस होता है। हमें भी विश्व की घटनाओं की जानकारी इनके सुनने मात्र से ही प्राप्त हो जाती है। जो सुन ही नहीं सकते उनका भाषा का ज्ञान जरा भी नहीं बढ़ता क्योंकि सुनने से ही हमें सारी जानकारी मिल जाती है।

परिभाषा:

  • राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण संगठन (National Sample Survey Organization) (1991) के अनुसार, H.I उसे कहा जाता है जो सामान्य रूप से सामान्य ध्वनि को सुनने मे असक्षम हो।
  • भारतीय पुनर्वास (Indian resettlement) के अनुसार, जब impairment (बाधिता) 10DB (डेसीबल) हो तो व्यावसायिक तथा जब 65 DB (डेसीबल) तक हो जाए तो उसे शिक्षा के प्रयोग में लेना चाहिए ।”
  • विकलांग व्यक्ति शिक्षा अधिनियम 1990 – USA (Individuals with Disabilities Education Act 1990 – USA): बधिरता को एक सम्मेलन हानि के रूप में वर्णित किया जा सकता है जो युवा व्यक्ति के शैक्षिक प्रदर्शन को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करने के लिए तीव्र या असामान्य सुनवाई के माध्यम से सिमेंटिक डेटा प्राप्त करने के लिए काफी गंभीर है।
  • Morse (1987): लगभग बधिर व्यक्ति वह है जिसकी सुनने की क्षमता कुछ हद तक (आमतौर पर 35-70 DB) बिगड़ी हुई है जो उसे परेशान करती है लेकिन कान के माध्यम से प्रवचन की समझ को अवरुद्ध नहीं करती है। यह या तो पोर्टेबल एम्पलीफायरों के साथ या सुनने के उपकरण के बिना किया जा सकता है।

Also Read: KVS COMPLETE NOTES IN HINDI FREE DOWNLOAD


श्रवण हानि के प्रकार

(Types of Hearing Loss)

सुनवाई हानि को निम्नलिखित श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है:

1. प्रवाहकीय श्रवण हानि (Conductive Hearing Loss)

प्रवाहकीय श्रवण हानि तब होती है जब ध्वनि तरंगें बाहरी और मध्य कानों के माध्यम से ठीक से संचालित नहीं होती हैं। इस प्रकार की सुनवाई हानि का अक्सर चिकित्सा या शल्य चिकित्सा द्वारा इलाज किया जा सकता है। प्रवाहकीय सुनवाई हानि के कारणों में शामिल हैं:

  • कान नहर में रुकावट (Blockage in the ear canal)
  • मध्य कान में द्रव (Fluid in the middle ear)
  • कान के पर्दे में छेद (Perforation in the eardrum)
  • अस्थियों में असामान्यताएं (Abnormalities in the ossicles)

उदाहरण: एक व्यक्ति जिसके ईयर कैनल में ईयरवैक्स का निर्माण होता है, जो रुकावट पैदा कर रहा है, प्रवाहकीय श्रवण हानि का अनुभव कर सकता है।

2. संवेदी स्नायविक श्रवण शक्ति की कमी (Sensorineural Hearing Loss)

सेंसोरिनुरल हियरिंग लॉस तब होता है जब आंतरिक कान (Cochlea) या श्रवण तंत्रिका को नुकसान होता है। इस प्रकार की सुनवाई हानि का चिकित्सकीय या शल्य चिकित्सा से इलाज नहीं किया जा सकता है और यह अक्सर स्थायी होता है। सेंसरिनुरल हियरिंग लॉस के कारणों में शामिल हैं:

  • उम्र बढ़ने (Aging)
  • तेज आवाज के संपर्क में आना (Exposure to loud noise)
  • आनुवंशिकी (Genetics)
  • कुछ दवाएं (Certain medications)

उदाहरण: एक व्यक्ति जो लंबे समय तक तेज शोर के संपर्क में रहा है, जैसे कि एक निर्माण कार्यकर्ता, सेंसरिनुरल हियरिंग लॉस का अनुभव कर सकता है।

श्रवण हानि की इन दो व्यापक श्रेणियों के अलावा, एक तीसरे प्रकार की सुनवाई हानि भी है जिसे मिश्रित सुनवाई हानि के रूप में जाना जाता है, जो प्रवाहकीय और संवेदी श्रवण हानि का संयोजन है। यह तब हो सकता है जब किसी व्यक्ति के बाहरी या मध्य कान में कोई समस्या हो और आंतरिक कान या श्रवण तंत्रिका को नुकसान हो।

3. मिश्रित हियरिंग लॉस (Mixed Hearing Loss)

इस प्रकार का हियरिंग लॉस कंडक्टिव और सेंसरिनुरल हियरिंग लॉस का संयोजन है। इस प्रकार की सुनवाई हानि विभिन्न स्थितियों के कारण हो सकती है जिसमें क्रोनिक कान संक्रमण, ट्यूमर और वंशानुगत सुनवाई हानि शामिल है।

उदाहरण : मिश्रित हियरिंग लॉस तब होता है जब किसी व्यक्ति में कंडक्टिव और सेंसरिनुरल हियरिंग लॉस दोनों होते हैं। उदाहरण के लिए, एक व्यक्ति के कान के पुराने संक्रमण का इतिहास हो सकता है जिसने उनके कान के परदे और मध्य कान को क्षतिग्रस्त कर दिया है, जिससे प्रवाहकीय श्रवण हानि हो सकती है। साथ ही, उनके भीतरी कान में बालों की कोशिकाओं को नुकसान के कारण उम्र से संबंधित श्रवण हानि (सेंसरिनुरल हियरिंग लॉस) भी हो सकता है। इस मामले में, व्यक्ति को कम और उच्च-आवृत्ति दोनों ध्वनियों को सुनने में कठिनाई हो सकती है और उनकी सुनवाई में सुधार के लिए चिकित्सा उपचार, श्रवण यंत्र और कर्णावत प्रत्यारोपण के संयोजन की आवश्यकता हो सकती है।

मिश्रित हियरिंग लॉस के कारणों में शामिल हैं:

  • उम्र बढ़ने (Aging)
  • तेज आवाज के संपर्क में आना (Exposure to loud noises)
  • कान के संक्रमण (Ear infections)
  • जेनेटिक कारक (Genetic factors)
  • ओटोटॉक्सिक दवाएं (Ototoxic medications)
  • सिर की चोटें (Head injuries)
  • भीतरी कान की विकृति (Malformation of the inner ear)
  • ट्यूमर (Tumors)
  • कुछ रसायनों के संपर्क में (Exposure to certain chemicals)

सुनने की सीमा और गंभीरता का आधार

(Range of Hearing and Basis of Severity)

श्रवण हानि की गंभीरता को डेसिबल (DB) में मापा जाता है और सुनने की सीमा के आधार पर इसे निम्नलिखित श्रेणियों में वर्गीकृत किया जाता है:

  1. हल्की श्रवण हानि (Mild Hearing Impairment) (26-40 dB): इस स्तर पर, बच्चा धीमी आवाज़ सुन सकता है लेकिन बहुत धीमी आवाज़ नहीं सुन सकता। उदाहरण के लिए, उन्हें फुसफुसाहट की बातचीत सुनने या कम आवाज में टेलीविजन सुनने में कठिनाई हो सकती है।
  2. मध्यम श्रवण हानि (Moderate Hearing Impairment) (41-55 dB): इस स्तर पर, बच्चों को 55 dB तक का नुकसान होता है। वे धीमी आवाज नहीं सुन पाते हैं और उन्हें हियरिंग एड की जरूरत पड़ती है। उदाहरण के लिए, उन्हें सामान्य भाषण सुनने या शोरगुल वाले वातावरण में बातचीत को समझने में कठिनाई हो सकती है।
  3. गंभीर सुनवाई हानि (Severe Hearing Impairment) (56-70 डीबी): इस स्तर पर, बच्चे नरम आवाज़ बिल्कुल नहीं सुन सकते हैं, लेकिन बहुत तेज़ आवाज़ें सुन सकते हैं जैसे कि आग का अलार्म या कार का हॉर्न।
  4. गहरा श्रवण दोष (Profound Hearing Impairment) (71-90 dB): इस स्तर पर, बच्चे श्रवण यंत्र या कर्णावत प्रत्यारोपण की सहायता के बिना बहुत कम सुन सकते हैं।
  5. निकट बहरापन (Near Deafness) (91-120 dB): इस स्तर पर, बच्चे के पूरी तरह से बहरे होने का खतरा होगा। वे केवल जेट इंजन या बंदूक की गोली जैसी बहुत तेज़ आवाज़ें सुन सकते हैं।
  6. बहरापन (Deafness) (121 डीबी और अधिक): इस स्तर पर, बच्चा कुछ भी नहीं सुन सकता है और संवाद करने के लिए सांकेतिक भाषा के उपयोग की आवश्यकता होगी।

उदाहरण: मध्यम श्रवण हानि (41-55 dB) वाला बच्चा अपने शिक्षक को शोरगुल वाली कक्षा में सुनने के लिए संघर्ष कर सकता है या समूह चर्चा के दौरान महत्वपूर्ण जानकारी से चूक सकता है। ध्वनि को बढ़ाने और सुनने और संवाद करने की उनकी क्षमता में सुधार करने में सहायता के लिए उन्हें सुनवाई सहायता की आवश्यकता हो सकती है।


Hearing-Impairment-Notes-In-Hindi
Hearing-Impairment-Notes-In-Hindi

श्रवण हानि के कारण

(Causes of Hearing Impairment)

श्रवण दोष ध्वनि सुनने की आंशिक या पूर्ण अक्षमता को संदर्भित करता है। श्रवण दोष के कुछ कारण इस प्रकार हैं:

प्रसवपूर्व (जन्म से पहले) (Prenatal (before birth))

  1. आनुवंशिकता (Heredity):यदि माता-पिता को सुनने की समस्या है या बहरे हैं, तो यह उनकी संतानों को पारित किया जा सकता है।
    उदाहरण: यदि माता-पिता दोनों को सुनने की समस्या है तो एक बच्चा श्रवण दोष के साथ पैदा हो सकता है। उदाहरण के लिए, दो बधिर माता-पिता से पैदा हुआ बच्चा भी बधिर हो सकता है।
  2. रूबेला (जर्मन खसरा) (Rubella (German Measles)):रूबेला से गर्भवती महिलाएं अपने अजन्मे बच्चे को संक्रमण दे सकती हैं, जिससे सुनने में समस्या हो सकती है।
    उदाहरण: यदि पहली तिमाही के दौरान एक गर्भवती महिला को रूबेला हो जाता है, तो उसके बच्चे को जन्मजात रूबेला सिंड्रोम विकसित होने का खतरा होता है, जो अन्य समस्याओं के साथ-साथ सुनने की अक्षमता का कारण बन सकता है।
  3. संक्रमण (Infection):गर्भावस्था के दौरान मां द्वारा अनुबंधित कोई भी संक्रामक रोग बच्चे की सुनवाई को प्रभावित कर सकता है।
    उदाहरण: एक गर्भवती महिला जिसे साइटोमेगालोवायरस (CMV) हो जाता है, वह इसे अपने अजन्मे बच्चे को दे सकती है, जिससे सुनने की हानि हो सकती है।
  4. दवाएँ (Drugs):गर्भावस्था के दौरान माँ द्वारा ली जाने वाली कुछ दवाएँ बच्चे में श्रवण दोष पैदा कर सकती हैं।
    उदाहरण: एक गर्भवती महिला जो ओटोटॉक्सिक दवाएं लेती है जैसे कि एमिनोग्लाइकोसाइड एंटीबायोटिक्स या कुछ कीमोथेरेपी दवाएं विकासशील बच्चे की सुनवाई को नुकसान पहुंचा सकती हैं।
  5.  कुपोषण (Malnutrition):कुपोषित माताएँ श्रवण बाधित बच्चों को जन्म दे सकती हैं।
    उदाहरण: कुपोषित माँ से पैदा हुए बच्चे में सुनने की समस्या विकसित होने का अधिक जोखिम हो सकता है। उदाहरण के लिए, एक अध्ययन में पाया गया कि इथियोपिया में जो बच्चे नाटे और कुपोषित थे, उनमें सुनने की अक्षमता का प्रचलन अधिक था।

जन्म के समय (At Natal Birth)

  1. ऑक्सीजन की कमी (Deprivation of oxygen):बच्चे के जन्म के दौरान ऑक्सीजन की कमी से श्रवण हानि हो सकती है।
    एक बच्चा जो प्रसव के दौरान श्वासावरोध का अनुभव करता है, वह सुनवाई हानि से पीड़ित हो सकता है।
    उदाहरण : एक बच्चा जो जन्म के दौरान ऑक्सीजन से वंचित था और नवजात एन्सेफैलोपैथी से पीड़ित था, श्रवण हानि विकसित कर सकता है।
  2. समय से पहले प्रसव (Premature Delivery):समय से पहले जन्म लेने वाले शिशुओं में सुनने की अक्षमता विकसित होने का अधिक जोखिम होता है।
    समय से पहले जन्म लेने वाले बच्चे को सुनने में अक्षमता सहित कई स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा होता है।
    उदाहरण : एक अध्ययन में पाया गया कि अत्यधिक समय से पहले के शिशुओं में पूर्णकालिक शिशुओं की तुलना में श्रवण हानि का प्रसार अधिक था।
  3. असुरक्षित प्रसव (Unsafe Delivery): प्रसव के दौरान जटिलताएं, जैसे कठिन प्रसव या संदंश का उपयोग, बच्चे में श्रवण हानि का कारण बन सकता है।
    एक असुरक्षित प्रसव से जन्म के समय चोट लग सकती है, जिससे सुनने में समस्या हो सकती है।
    उदाहरण : एक बच्चा जो प्रसव के दौरान ब्रैकियल प्लेक्सस की चोट से पीड़ित होता है, उसमें भी सुनने की क्षमता कम हो सकती है।

प्रसव के बाद का (Postnatal)

  1. समाजशास्त्रीय (Sociological): मैनिंजाइटिस, खसरा, या अन्य बीमारियों जैसे संक्रमणों का तुरंत इलाज न होने पर बच्चों में श्रवण हानि हो सकती है।
    मैनिंजाइटिस या खसरा जैसे संक्रमण से बच्चों में श्रवण हानि हो सकती है।
    उदाहरण : मैनिंजाइटिस बच्चों में अधिग्रहित श्रवण हानि का एक सामान्य कारण है।
  2. पर्यावरणीय कारक (Environmental factors): खराब रहने की स्थिति, तेज शोर के संपर्क में आना और तपेदिक जैसे संक्रमण भी बच्चों में श्रवण हानि का कारण बन सकते हैं।
    तेज आवाज के संपर्क में आने से, जैसे कि शोरगुल वाले कार्यस्थल में या तेज संगीत से, सुनने की क्षमता खराब हो सकती है।
    उदाहरण : एक संगीतकार जो उच्च स्तर के शोर के संपर्क में है, शोर-प्रेरित सुनवाई हानि विकसित कर सकता है। इसी तरह, जो बच्चे शोरगुल वाले वातावरण में बड़े होते हैं, जैसे कि हवाई अड्डों या राजमार्गों के पास, उनमें श्रवण दोष विकसित होने का अधिक जोखिम हो सकता है।

वास्तविक जीवन का उदाहरण: गर्भावस्था के दौरान रूबेला से पीड़ित मां से पैदा होने वाले बच्चे में संक्रमण के कारण श्रवण दोष विकसित हो सकता है। इसी तरह, एक समय से पहले बच्चे को प्रसव के दौरान जटिलताओं के कारण सुनने में समस्या हो सकती है, जैसे कि ऑक्सीजन की कमी। मैनिंजाइटिस या खसरा जैसे संक्रमण भी बच्चों में श्रवण हानि का कारण बन सकते हैं यदि तुरंत इलाज न किया जाए। इसलिए, गर्भवती महिलाओं की देखभाल करना और यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि बच्चों को समय पर चिकित्सा ध्यान मिले ताकि श्रवण हानि को रोका जा सके।


सुनवाई हानि लक्षण

(Hearing Loss Symptoms)

उनमें दृष्टिबाधित बच्चों के साथ कुछ विशेषताएं और विशेषताएं समान हैं लेकिन उनमें कुछ विशिष्ट विशेषताएं भी देखी जाती हैं। इन बच्चों में कुछ महत्वपूर्ण विशेषताएं होती हैं Hearing loss symptoms बच्चों को विभिन्न तरीकों से प्रभावित कर सकते हैं, उनकी बौद्धिक क्षमता, शैक्षिक उपलब्धि, सामाजिक विकास और समायोजन, व्यवहारिक विशेषताओं, शारीरिक क्षमताओं और संचार क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं। इस प्रतिक्रिया में, हम बधिर बच्चों की विभिन्न विशेषताओं का वर्णन और व्याख्या करेंगे।

1. श्रवणबाधित बच्चों की बौद्धिक क्षमता (Intellectual ability of hearing-impaired children)

  • उनके गुणात्मक रूप से भिन्न वातावरण के कारण, श्रवण-बाधित बच्चों का बौद्धिक कार्य सामान्य बच्चों की तुलना में सीमित होता है।
  • श्रवण-बाधित बच्चों की बौद्धिक क्षमता उनके संज्ञान में किसी कमी के कारण नहीं है, बल्कि पारंपरिक भाषा प्रणालियों के अपर्याप्त विकास के कारण है।
  • अध्ययनों से पता चला है कि गंभीर श्रवण हानि वाले लोगों का औसत IQ 63 और मध्यम IQ 91 होता है, यह दर्शाता है कि वे सामान्य बच्चों की तुलना में बौद्धिक रूप से सक्षम नहीं हैं।
  • उदाहरण के लिए, गंभीर सुनवाई हानि के साथ पैदा हुए बच्चे का जीवन के महत्वपूर्ण विकासात्मक चरणों के दौरान भाषा के लिए सीमित संपर्क हो सकता है, जिससे बौद्धिक विकास में देरी हो सकती है।

2. बधिर बच्चों की शैक्षिक उपलब्धि (Educational Achievement of Deaf Children)

  • हल्के श्रवण हानि वाले बच्चे और वयस्क आम तौर पर गंभीर सुनवाई हानि वाले लोगों की तुलना में अकादमिक विषयों में अधिक प्राप्त करते हैं।
  • जो लोग बधिर पैदा होते हैं उन्हें जीवन में बाद में बधिर बनने वालों की तुलना में अकादमिक कौशल प्राप्त करने में अधिक कठिनाई होती है।
  • उच्च सामाजिक आर्थिक स्थिति के बधिर बच्चे गरीब परिवारों की तुलना में कम शैक्षणिक कठिनाइयों का अनुभव करते हैं।
  • बधिर बच्चे पढ़ने-लिखने की परीक्षा में सामान्य की तरह प्रदर्शन नहीं कर पाते हैं, लेकिन कला या ललित कला में प्रदर्शन करने की उनकी क्षमता सामान्य से कम नहीं होती है।
  • शैक्षिक मंदता की डिग्री उम्र के साथ बढ़ती है, विशेष रूप से गणित और प्राकृतिक विज्ञान जैसे पूर्व-शैक्षणिक कौशल में।
  • उदाहरण के लिए, हल्के श्रवण हानि वाला बच्चा शिक्षा में उत्कृष्टता प्राप्त कर सकता है, जबकि गंभीर सुनवाई हानि वाला बच्चा अकादमिक कौशल हासिल करने के लिए संघर्ष कर सकता है। इसी तरह, एक उच्च सामाजिक आर्थिक स्थिति के बधिर बच्चे को एक गरीब परिवार के बधिर बच्चे की तुलना में कम शैक्षणिक कठिनाइयों का अनुभव हो सकता है।

3. श्रवण बाधित बच्चे का सामाजिक विकास और समायोजन (Social development and adjustment of the hearing impaired child)

  • श्रवण-बाधित बच्चे भावनात्मक अस्थिरता दिखाते हैं, जिससे कुसमायोजन होता है, लेकिन यह स्पष्ट रूप से दिखाई नहीं दे सकता है।
  • खराब संचार कौशल और हताशा के कारण, श्रवण-बाधित बच्चे अलगाव में शरण लेते हैं, जिससे उनके सामाजिक विकास पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।
  • उदाहरण के लिए, श्रवण हानि वाला बच्चा संचार कठिनाइयों के कारण निराश और अलग-थलग महसूस कर सकता है, जिससे भावनात्मक अस्थिरता और कुसमायोजन हो सकता है।

4. श्रवण-बाधित बच्चों की व्यवहार संबंधी विशेषताएं (Behavioral Characteristics of Hearing-Impaired Children)

  • बधिर लोग समाज के मानदंडों और परंपराओं से विचलित हो सकते हैं।
  • कुछ बधिर लोग आजीवन बहरेपन का सामना करते हैं और सामान्य उत्पादक जीवन जीते हैं, यह दर्शाता है कि बहरेपन का मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता है।
  • बधिर लोग अन्य श्रवण-बाधित लोगों के साथ जुड़ते हैं, एक समूह और संस्कृति बनाते हैं जो एक दूसरे को सिखाते हैं कि समाज में कैसे काम करना है और दूसरों के साथ कैसे बातचीत करनी है।
  • उदाहरण के लिए, कुछ बधिर लोग श्रवण-बाधित लोगों का एक समूह बना सकते हैं और अन्य बहरे लोगों के साथ जुड़ना पसंद करते हैं, जिससे एक अनूठी संस्कृति का विकास होता है।

5. बधिर बच्चों की शारीरिक क्षमता (Physical abilities of deaf children)

  • श्रवण-बाधित बच्चे अपने साथियों या सामान्य लोगों से कार्यात्मक श्रवण में मौलिक रूप से भिन्न हो सकते हैं।
  • कार्यात्मक सुनवाई हानि को डेसिबल समूहों में वर्गीकृत किया गया है, जिसमें अधिक डेसिबल हानि सुनने में अधिक कठिनाई का संकेत देती है।
  • जो लोग बहरे या कम सुनते हैं उनमें सामान्य आबादी की तुलना में कम या ज्यादा संवेदी क्षमताएं हो सकती हैं, जैसे दृष्टि, गंध, स्वाद और स्पर्श।
  • उदाहरण के लिए, गंभीर श्रवण हानि वाले बच्चे को प्रवर्धन उपकरणों का उपयोग करते हुए भी भाषण और बातचीत को समझने में कठिनाई हो सकती है।
Functional Hearing Description Example
Less than 25-decibel loss (normal) Normal hearing ability

(सामान्य सुनने की क्षमता)

A person can easily hear and understand speech and sounds in daily life without difficulty.

(एक व्यक्ति बिना किसी कठिनाई के दैनिक जीवन में वाणी और ध्वनियों को आसानी से सुन और समझ सकता है।)

26-40 decibel loss Mild hearing loss

(हल्का श्रवण हानि)

A person may have difficulty hearing low-pitched sounds or when there is background noise. They may require some adjustments in volume or speaking style.

(एक व्यक्ति को धीमी आवाज या पृष्ठभूमि शोर सुनने में कठिनाई हो सकती है। उन्हें मात्रा या बोलने की शैली में कुछ समायोजन की आवश्यकता हो सकती है।)

41-55 decibel loss Moderate hearing loss

(मध्यम श्रवण हानि)

A person can understand face-to-face conversations but may have difficulty in group settings or noisy environments. They may require amplification devices or preferential seating.

(एक व्यक्ति आमने-सामने की बातचीत को समझ सकता है लेकिन समूह सेटिंग या शोरगुल वाले वातावरण में कठिनाई हो सकती है। उन्हें प्रवर्धन उपकरणों या अधिमान्य बैठने की आवश्यकता हो सकती है।)

56-70 decibels loss Moderately severe hearing loss

(मध्यम रूप से गंभीर श्रवण हानि)

A person may struggle to understand speech even in quiet environment and may miss parts of conversation. They may require sign language or assistive technology.

(एक व्यक्ति शांत वातावरण में भी भाषण को समझने के लिए संघर्ष कर सकता है और बातचीत के कुछ हिस्सों को याद कर सकता है। उन्हें सांकेतिक भाषा या सहायक तकनीक की आवश्यकता हो सकती है।)

70-90 decibel loss Severe hearing loss

(गंभीर श्रवण हानि)

A person may only understand shouted speech or amplified sounds and may have difficulty communicating without assistive technology.

(एक व्यक्ति केवल चिल्लाने वाले भाषण या प्रवर्धित ध्वनियों को समझ सकता है और सहायक तकनीक के बिना संवाद करने में कठिनाई हो सकती है।)

More than 91-decibel loss Profound hearing loss

(गहन श्रवण हानि)

A person may not benefit from hearing aids or amplification devices and may rely on sign language or other forms of communication.

(एक व्यक्ति श्रवण यंत्र या प्रवर्धन उपकरणों से लाभान्वित नहीं हो सकता है और सांकेतिक भाषा या संचार के अन्य रूपों पर निर्भर हो सकता है।)

कार्यात्मक सुनवाई हानि के लिए उदाहरण: यदि मध्यम कार्यात्मक सुनवाई हानि वाला व्यक्ति कक्षा व्याख्यान में भाग ले रहा है, तो उसे शिक्षक के भाषण को समझने में कठिनाई हो सकती है। शिक्षक को निर्देशात्मक अनुकूलन प्रदान करने की आवश्यकता हो सकती है जैसे कि लिखित नोट्स प्रदान करना या अपनी आवाज़ को बढ़ाने के लिए माइक्रोफ़ोन का उपयोग करना। पृष्ठभूमि के शोर को कम करने और शिक्षक के भाषण को समझने की उनकी क्षमता में सुधार करने के लिए छात्र कक्षा में अधिमान्य बैठने से भी लाभान्वित हो सकते हैं।

6. श्रवण-बाधित बच्चों की संचार क्षमता (Communication ability of hearing-impaired children)

  • यदि श्रवण हानि मध्यम है, और श्रवण-बाधित लोगों की शब्दावली शक्ति सामान्य से कम है, तो भाषा के विकास में देरी हो रही है।
  • यदि श्रवण हानि गंभीर है, तो मौखिक संचार क्षमता लगभग शून्य हो सकती है।
  • भाषा और संचार कौशल व्यक्तियों और समूहों के बीच बातचीत पर निर्भर करते हैं, और बधिर लोग दूसरों के साथ बातचीत करने से बच सकते हैं।
  • सामान्य लोग भी श्रवण हानि वाले लोगों की उपेक्षा कर सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप बातचीत के कम अवसर मिलते हैं।
  • उदाहरण के लिए, मध्यम सुनवाई हानि वाले बच्चे में भाषा के विकास और सीमित शब्दावली में देरी हो सकती है, जबकि श्रवण इनपुट की कमी के कारण गंभीर श्रवण हानि वाले बच्चे में लगभग कोई मौखिक संचार क्षमता नहीं हो सकती है।

Also Read: CTET COMPLETE NOTES IN HINDI FREE DOWNLOAD


 श्रवण बाधित (H.I.) बच्चों की विशेषताएं

(Characteristics of Hearing Impaired (H.I.) Children)

बच्चों में Hearing Impaired (H.I.) विभिन्न तरीकों से प्रकट हो सकता है, और उचित हस्तक्षेप प्रदान करने के लिए उन्हें जल्दी पहचानना महत्वपूर्ण है। यहां कुछ विशेषताएं दी गई हैं जो (H.I.) बच्चों का प्रदर्शन:

  1. कान का बहना (Ear discharge): कान से बार-बार मवाद या पानी निकलना इस बात का संकेत है कि बच्चे को सुनने में समस्या हो रही है। अगर अनुपचारित छोड़ दिया जाए तो यह सुनवाई हानि का कारण बन सकता है।
    उदाहरण : एक बच्चा जो अक्सर कान में दर्द की शिकायत करता है और उसके कान से पीले या हरे रंग का स्राव होता है, उसे कान का संक्रमण हो सकता है, जिसे अगर अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो सुनने की हानि हो सकती है।
  2. कान का दर्द (Earache): कान में दर्द सुनने की समस्याओं का एक सामान्य लक्षण है, जो हल्के से लेकर गंभीर तक हो सकता है।
    यदि कोई बच्चा बार-बार अपने कान को रगड़ रहा है या खींच रहा है, तो यह कान में दर्द या कान के संक्रमण का संकेत हो सकता है, जो उनकी सुनने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है।
    उदाहरण :एक बच्चा जो टेलीविजन देखते समय या संगीत सुनते समय कान में दर्द की शिकायत करता है, उसे सुनने में समस्या हो सकती है।
  3. असावधानी (Inattention): श्रवण-बाधित बच्चा अपने परिवेश में असावधान या उदासीन दिखाई दे सकता है क्योंकि वह सुनने और समझने में संघर्ष करता है कि क्या हो रहा है।
    उदाहरण : एक बच्चा जो अपना नाम पुकारे जाने पर प्रतिक्रिया नहीं देता है या तेज आवाज पर प्रतिक्रिया नहीं करता है, उसे सुनने में परेशानी हो सकती है।
  4. दोहराए जाने वाले निर्देश (Repeating instructions): श्रवण हानि वाले बच्चों को निर्देशों को कई बार दोहराने की आवश्यकता हो सकती है जब तक कि वे उन्हें सुन और समझ न लें।
    यदि कोई बच्चा बार-बार निर्देशों को दोहराने के लिए कहता है, तो यह सुनने में कठिनाई का संकेत हो सकता है।
    उदाहरण : जिस बच्चे को निर्देशों का पालन करने से पहले कई बार निर्देशों की आवश्यकता होती है, उसे सुनने में परेशानी हो सकती है।
  5. आलस्य (Laziness): श्रवण हानि वाले बच्चे गतिविधियों में आलसी या उदासीन दिखाई दे सकते हैं क्योंकि उन्हें सुनने और संवाद करने में कठिनाई होती है।
    उदाहरण : एक बच्चा जो समूह की गतिविधियों से बचता है या जो बातचीत में भाग लेने में हिचकिचाता है, वह सुनने में अक्षम हो सकता है।
  6. रूई से बंद कान (Cotton-plugged ear): दृष्टिबाधित बच्चे अपने कानों में रुई लगा सकते हैं, जो सुनने में कठिनाई का संकेत देता है।
    उदाहरण : एक बच्चा जो अक्सर अपने कानों में अपनी उंगलियां डालता है या उसके कानों में खुजली की शिकायत करता है, उसे सुनने में परेशानी हो सकती है।
  7. होठों पर खींचना (Pulling on lips): बच्चे पढ़ते समय अपने होठों को खींच सकते हैं, क्योंकि वे ध्वनियों को समझने और शब्दों को समझने की कोशिश करते हैं।
    उदाहरण : एक बच्चा जो पढ़ते समय अपने होंठ हिलाता है या ऐसा प्रतीत होता है कि वह शब्दों को मुँह में ले रहा है, उसे पाठ को सुनने और समझने में कठिनाई हो सकती है।
  8. होंठ पढ़ना (Lip-reading): श्रवण हानि वाले बच्चे बोले गए शब्दों को समझने के लिए होठों को पढ़ने पर भरोसा कर सकते हैं, बोलने वाले की आवाज के बजाय उसके होठों पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।
    उदाहरण : एक बच्चा जो बात करते समय वक्ता के मुंह को घूरता है, हो सकता है कि वह अपनी सुनने की अक्षमता की भरपाई के लिए लिप-रीडिंग का उपयोग कर रहा हो।
  9. सिर घुमाना (Head-turning): अधिक स्पष्ट रूप से सुनने के लिए बच्चे ध्वनि के स्रोत की ओर अपना सिर घुमा सकते हैं।
    उदाहरण : एक बच्चा जो अपने सिर को एक तरफ झुकाता है या ध्वनि के स्रोत की ओर अपना सिर घुमाता है, उसे सुनने की अक्षमता हो सकती है।
  10. संचार समस्याएं (Communication problems): H.I. बच्चे संचार के साथ संघर्ष कर सकते हैं, दूसरों को समझने और खुद को अभिव्यक्त करने में।
    उदाहरण : एक बच्चा जिसे सवालों के जवाब देने या खुद को स्पष्ट रूप से व्यक्त करने में कठिनाई होती है, हो सकता है कि वह सुनने में अक्षम हो जो उनके संचार कौशल को प्रभावित कर रहा हो।

उदाहरण: एक बच्चा H.I. शोर-शराबे वाली कक्षा में निर्देशों का पालन करने में कठिनाई हो सकती है, जिससे शैक्षणिक प्रदर्शन खराब हो सकता है। संचार समस्याओं के कारण उन्हें साथियों के साथ सामूहीकरण करने और मित्र बनाने में भी कठिनाई हो सकती है। प्रारंभिक पहचान और हस्तक्षेप से बच्चे की सुनने और संचार कौशल में सुधार करने में मदद मिल सकती है, जिससे शैक्षणिक और सामाजिक सेटिंग में बेहतर परिणाम प्राप्त हो सकते हैं।

Also Read: B.Ed COMPLETE Project File IN HINDI FREE DOWNLOAD


श्रवण-बाधित बच्चों के लिए शिक्षा के निहितार्थ

(Education Implications for Hearing-Impaired Children)

  1. पूरी तरह से बधिर बच्चों के लिए विशेष स्कूल (Special schools for children who are completely deaf): बधिर बच्चों को विशेष शैक्षिक सेटिंग्स की आवश्यकता हो सकती है जहां शिक्षण और सीखने का माहौल उनकी आवश्यकताओं के अनुरूप हो। उदाहरण के लिए, बधिरों के लिए स्कूल उन छात्रों के लिए विशेष निर्देश और संचार रणनीतियाँ प्रदान करते हैं जो बधिर हैं या सुनने में कठिन हैं।
    उदाहरण: बधिर बच्चों के लिए एक विशेष स्कूल का एक उदाहरण कैलिफोर्निया स्कूल फॉर द डेफ है, जो बधिर या कम सुनने वाले छात्रों के लिए एक व्यापक शिक्षा कार्यक्रम प्रदान करता है।
  2. हल्की श्रवण हानि वाले बच्चों के लिए साधनों का प्रावधान (Provision of means for children with mild hearing impairment): हल्के श्रवण दोष वाले बच्चों को सहायक तकनीक से लाभ हो सकता है, जैसे श्रवण यंत्र, कर्णावत प्रत्यारोपण, या एफएम सिस्टम, जो ध्वनि को बढ़ा सकते हैं और उनकी सुनवाई में सुधार कर सकते हैं।
    उदाहरण: हल्का श्रवण दोष वाला बच्चा फ़ोनक स्काई क्यू जैसे श्रवण यंत्रों का उपयोग कर सकता है, जो विशेष रूप से बच्चों के लिए डिज़ाइन किए गए हैं और उच्च गुणवत्ता वाले ध्वनि प्रवर्धन प्रदान करते हैं।
  3. शिक्षक द्वारा आगे बढ़ने की प्रेरणा (Motivation by the teacher to move forward): श्रवणबाधित बच्चों को सीखने और अपनी पढ़ाई में सफल होने के लिए प्रेरित करने में शिक्षक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। प्रोत्साहन और सकारात्मक सुदृढीकरण बच्चों को सीखने के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण विकसित करने और उनके आत्म-सम्मान का निर्माण करने में मदद कर सकता है।
    उदाहरण: एक शिक्षक श्रवण-बाधित बच्चे को प्राप्त करने योग्य लक्ष्य निर्धारित करके और प्रगति करने पर उसकी प्रशंसा करके प्रेरित कर सकता है। उदाहरण के लिए, एक शिक्षक एक छात्र को अपने बोलने के कौशल का अभ्यास करने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है और दूसरों के साथ सफलतापूर्वक संवाद करने पर उनकी प्रशंसा कर सकता है।
  4. कक्षा की उचित व्यवस्था (Proper classroom arrangements): श्रवण-बाधित बच्चे विशिष्ट कक्षा की व्यवस्था से लाभान्वित हो सकते हैं, जैसे कि शिक्षक के पास बैठना या शोर के स्रोतों से दूर, अपने सीखने के माहौल को अनुकूलित करना और विकर्षण को कम करना।
    उदाहरण: श्रवण-बाधित बच्चों के लिए एक कक्षा में, शिक्षक बैठने की व्यवस्था कर सकते हैं ताकि छात्र उनके सामने हों और शोर के स्रोतों से दूर हों, जैसे कि खिड़कियां या दरवाजे। प्रतिध्वनियों को कम करने और पृष्ठभूमि के शोर को कम करने के लिए शिक्षक ध्वनि-अवशोषित सामग्री का भी उपयोग कर सकते हैं।
  5. व्यावसायिक प्रशिक्षण (Vocational training): शैक्षणिक निर्देश के अलावा, श्रवण-बाधित बच्चे व्यावसायिक प्रशिक्षण और व्यावहारिक सीखने के अवसरों से लाभान्वित हो सकते हैं जो उन्हें भविष्य के रोजगार या अन्य जीवन कौशल के लिए तैयार कर सकते हैं।
    उदाहरण: बधिर छात्र सूचना प्रौद्योगिकी, ग्राफिक डिजाइन, या पाक कला जैसे विभिन्न क्षेत्रों में व्यावसायिक प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, बधिरों के लिए टेक्सास स्कूल एक पाक कला कार्यक्रम प्रदान करता है जहां छात्र खाना बनाना और खाना बनाना सीखते हैं।
  6. सांकेतिक भाषा का प्रयोग (Use of sign language): सांकेतिक भाषा एक दृश्य भाषा है जिसका उपयोग बहरे और कम सुनने वाले व्यक्तियों के साथ संवाद करने के लिए किया जा सकता है। शिक्षक और सहपाठी श्रवण-बाधित छात्रों के साथ संचार में सुधार करने और उन्हें कक्षा में शामिल महसूस करने में मदद करने के लिए सांकेतिक भाषा सीख सकते हैं।
    उदाहरण: अमेरिकी सांकेतिक भाषा (American Sign Language (ASL)) संयुक्त राज्य अमेरिका में उपयोग की जाने वाली सबसे आम सांकेतिक भाषा है। शिक्षक और सहपाठी श्रवण-बाधित छात्रों के साथ संवाद करने और उन्हें कक्षा में शामिल होने का एहसास कराने के लिए एएसएल सीख सकते हैं।
  7. छोटे या गलत शब्दों के प्रयोग से बचें (Avoid using short or wrong words): बधिर बच्चों के साथ संवाद करते समय स्पष्ट और संक्षिप्त भाषा का उपयोग करना महत्वपूर्ण है। कठबोली या संक्षिप्ताक्षरों का उपयोग करने से बचें जो उनके लिए अपरिचित हो सकते हैं और यह सुनिश्चित करने के लिए उपयुक्त शब्दावली और वाक्य संरचना का उपयोग करें कि वे संदेश को समझ सकें।
    उदाहरण: श्रवण-बाधित बच्चों के साथ संवाद करते समय, स्पष्ट और संक्षिप्त भाषा का उपयोग करना महत्वपूर्ण होता है। उदाहरण के लिए, “चाहते हैं” के लिए “वाना” कहने के बजाय, शिक्षक को पूरे वाक्य “क्या आप चाहते हैं” का उपयोग करना चाहिए।
  8. दृश्य सहायक सामग्री का उपयोग (Use of visual aids): चित्र, आरेख और वीडियो जैसे दृश्य सहायक उपकरण श्रवण-बाधित बच्चों को जानकारी को अधिक प्रभावी ढंग से समझने और बनाए रखने में मदद कर सकते हैं। शिक्षक अपने पाठों के पूरक के लिए दृश्य सहायक सामग्री का उपयोग कर सकते हैं और बधिर छात्रों के लिए सीखने के अनुभव में सुधार कर सकते हैं।
    उदाहरण: दृश्य सहायक सामग्री, जैसे चित्र, आरेख और वीडियो, बधिर बच्चों को जानकारी को अधिक प्रभावी ढंग से समझने और याद रखने में मदद कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, एक शिक्षक विज्ञान या गणित में एक जटिल अवधारणा को समझाने के लिए दृश्य सहायता का उपयोग कर सकता है।
  9. मोटे अक्षरों वाली पुस्तकों का उपयोग (Use of books with bold letters): श्रवण-बाधित बच्चों को बड़े और मोटे अक्षरों वाली पुस्तकों से लाभ हो सकता है जो पढ़ने में आसान होती हैं। यह उनके पढ़ने के कौशल को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है और पढ़ने को उनके लिए कम चुनौती बना सकता है।
    उदाहरण: मोटे अक्षरों वाली किताबें, जैसे चेरिल रोजर्स की “बिग एंड लिटिल” श्रृंखला, श्रवण-बाधित बच्चों को उनके पढ़ने के कौशल में सुधार करने और उनके आत्मविश्वास को बढ़ाने में मदद कर सकती हैं। इन पुस्तकों में पाठ को अधिक दृष्टिगत रूप से आकर्षक और पढ़ने में आसान बनाने के लिए मोटे अक्षरों और चमकीले रंगों का उपयोग किया गया है।
निष्कर्ष: श्रवण बाधित बच्चों को दूसरों की बातें सुनने और समझने में समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसे बच्चों के लिए ऐसे यंत्रों का प्रयोग किया जाना चाहिए जिससे वे स्पष्ट सुन सकें। उन्हें अलग-अलग तरीकों से बिजनेस के लिए तैयार करना ताकि वे खुद को सामान्य बच्चों से अलग न समझें।

Deafness vs hearing loss

(बहरापन बनाम श्रवण हानि)

बहरापन और श्रवण हानि दो अलग-अलग शब्द हैं जो सुनवाई हानि के विभिन्न स्तरों का वर्णन करते हैं। निम्नलिखित बिंदु बहरेपन और श्रवण हानि के बीच अंतर का वर्णन करते हैं।

  • बहरापन ध्वनि सुनने में पूर्ण या लगभग पूर्ण अक्षमता को संदर्भित करता है। इसका मतलब यह है कि व्यक्ति किसी भी आवाज को बिल्कुल भी सुनने में असमर्थ होता है, चाहे वह तेज हो या धीमी। इसके विपरीत, श्रवण हानि ध्वनियों को सुनने में आंशिक या पूर्ण अक्षमता है। श्रवण हानि वाले लोग अभी भी कुछ आवाजें सुन सकते हैं, लेकिन वे कुछ आवाजें सुनने में सक्षम नहीं हो सकते हैं, जैसे उच्च स्वर वाली आवाजें।
  • बहरापन अक्सर भीतरी कान या श्रवण तंत्रिका को नुकसान का परिणाम होता है। यह आनुवांशिक कारकों या तेज शोर के संपर्क में आने के कारण भी हो सकता है। बहरापन कई प्रकार के कारकों के कारण हो सकता है, जिसमें उम्र बढ़ना, तेज आवाज के संपर्क में आना, संक्रमण और कुछ दवाएं शामिल हैं।
  • बहरेपन का आमतौर पर निदान तब किया जाता है जब किसी व्यक्ति की सुनने की क्षमता 90 डेसिबल या उससे अधिक हो। इसके विपरीत, श्रवण हानि का निदान तब किया जाता है जब किसी व्यक्ति की श्रवण सीमा 25 और 90 डेसिबल के बीच होती है।

उदाहरण:

  • बहरेपन का एक उदाहरण वह व्यक्ति है जो सुनने की क्षमता के बिना पैदा हुआ था। वे सांकेतिक भाषा का उपयोग कर संवाद कर सकते हैं और दूसरों के साथ संवाद करने के लिए दृश्य संकेतों पर भरोसा कर सकते हैं।
  • श्रवण हानि का एक उदाहरण एक व्यक्ति है जिसे रेस्तरां या भीड़-भाड़ वाली जगहों जैसे शोर भरे वातावरण में बातचीत सुनने में कठिनाई होती है। ध्वनि सुनने की उनकी क्षमता में सुधार के लिए उन्हें श्रवण यंत्र की आवश्यकता हो सकती है।

यहां उदाहरणों के साथ बहरेपन और श्रवण हानि की तुलना करने वाली तालिका दी गई है:

Deafness Hearing Loss
Definition Significant hearing loss that impacts communication

(महत्वपूर्ण सुनवाई हानि जो संचार को प्रभावित करती है)

Partial or total inability to hear sound normally

(सामान्य रूप से ध्वनि सुनने में आंशिक या पूर्ण अक्षमता)

Causes Congenital, genetic, illness, injury, exposure to loud noise

(जन्मजात, अनुवांशिक, बीमारी, चोट, तेज आवाज के संपर्क में आना)

Aging, noise exposure, disease, medication, injury

(बुढ़ापा, शोर का जोखिम, बीमारी, दवा, चोट)

Degree Profound hearing loss

(गहन श्रवण हानि)

Ranges from mild to profound

(हल्की से लेकर गहरी तक होती है)

Communication Sign language, lip-reading, text messaging

(सांकेतिक भाषा, होंठ पढ़ना, पाठ संदेश)

Hearing aids, cochlear implants, speech therapy, captioning

(श्रवण यंत्र, कर्णावत प्रत्यारोपण, भाषण चिकित्सा, अनुशीर्षक)

Examples Someone who communicates primarily through sign language

(कोई व्यक्ति जो मुख्य रूप से सांकेतिक भाषा के माध्यम से संवाद करता है)

Someone who has trouble understanding speech in a noisy environment or needs to use subtitles to watch TV

(कोई व्यक्ति जिसे शोरगुल के माहौल में भाषण समझने में परेशानी होती है या टीवी देखने के लिए उपशीर्षक का उपयोग करने की आवश्यकता होती है)

Hearing impaired machine Amazon Link – Click Here to Buy and Check Price Online on Amazon

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy link
Powered by Social Snap