Visual Impairment Notes In Hindi (PDF)

Visual-Impairment-Notes-In-Hindi

Visual Impairment Notes In Hindi

(दृष्टि दोष)

आज हम आपको Visual Impairment Notes In Hindi (दृष्टि दोष) के नोट्स देने जा रहे है जिनको पढ़कर आपके ज्ञान में वृद्धि होगी और यह नोट्स आपकी आगामी परीक्षा को पास करने में मदद करेंगे | ऐसे और नोट्स फ्री में पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट पर रेगुलर आते रहे, हम नोट्स अपडेट करते रहते है | तो चलिए जानते है, दृष्टि दोष के बारे में विस्तार से |


Visual Impairment Meaning and Definition

(दृष्टि दोष अर्थ और परिभाषा)

परिचय:

दृष्टिबाधित बच्चे वे होते हैं जो स्पष्ट रूप से देखने में असमर्थ होते हैं। इन बच्चों को निकट और दूर की वस्तुओं को देखने में कठिनाई होती है। दृष्टिबाधित बच्चे सामान्य बच्चों से भिन्न होते हैं। सामान्य बच्चे बिना किसी सहायता के वस्तुओं को देख पाते हैं लेकिन दृष्टिबाधित बच्चों को चश्मे या चश्मे की मदद से देखना पड़ता है। उनमें से कुछ ऐसे बच्चे हैं जो मोटे अक्षरों में छपी किताबों को पढ़ सकते हैं और कुछ ऐसे हैं जो देख ही नहीं सकते। दृष्टिबाधित बच्चों की जांच “स्नेलन चार्ट” द्वारा की जाती है। यह चार्ट ‘हर्बर्ट स्नेलन’ द्वारा विकसित किया गया था।

परिभाषा:

मेडिकल एसोसिएशन ऑफ अमेरिका (1934) के अनुसार, एक कानूनी रूप से पूरी तरह से अंधा बच्चा वह है जिसकी दृश्य तीक्ष्णता 20/200 है और सुधार के बाद बेहतर आंख में कम है। या जिनकी दृष्टि का क्षेत्र सीमित है और 20° का कोण बनाता है।


Visually challenged Person

(नेत्रहीन/दृष्टि बाधित व्यक्ति)

एक दृष्टिबाधित व्यक्ति वह होता है जिसकी दृष्टि हानि या अंधापन होता है जो देखने की उनकी क्षमता को प्रभावित करता है। उन्हें स्पष्ट रूप से देखने में कठिनाई हो सकती है या वे पूरी तरह से अंधे हो सकते हैं। इससे उनके लिए अपने आसपास की दुनिया को नेविगेट करना और रोजमर्रा के कार्य करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है।

नेत्रहीन व्यक्ति का वास्तविक जीवन का एक उदाहरण स्टीवी वंडर है, जो एक अमेरिकी गायक, गीतकार और संगीतकार है। वह समय से पहले पैदा हुआ था और परिणामस्वरूप, अपने इनक्यूबेटर (Incubator) में बहुत अधिक ऑक्सीजन प्राप्त करने के कारण जन्म के कुछ समय बाद ही वह अंधा हो गया था। अपनी दृश्य हानि के बावजूद, Stevie Wonder (25 Grammy Awards) और कई Chart-Topping Hits के साथ एक बेहद सफल और प्रभावशाली संगीतकार बन गए हैं। वह विकलांगता अधिकारों के मुखर हिमायती भी रहे हैं और उन्होंने अपने मंच का उपयोग दृष्टिबाधित लोगों के लिए जागरूकता और समर्थन बढ़ाने के लिए किया है।

Visual-Impairment-Notes-In-Hindi-PDF
Visual-Impairment-Notes-In-Hindi-PDF

दृश्य बाधा – सामाजिक सीमा

(Visual Handicap – Social Limitation)

दृश्य हानि या दृश्य बाधा दृष्टि के एक महत्वपूर्ण नुकसान को संदर्भित करता है जिसे चश्मे, कॉन्टैक्ट लेंस या सर्जरी से ठीक नहीं किया जा सकता है। दृश्य विकलांग लोगों को विभिन्न सामाजिक सीमाओं का सामना करना पड़ सकता है, जिनमें शामिल हैं:

  1. शैक्षिक कठिनाइयाँ (Educational difficulties): दृश्य हानि सीखने, पढ़ने और लिखने में बाधाएँ पैदा कर सकती हैं, जिससे दृष्टिबाधित व्यक्तियों के लिए स्कूल में अपने साथियों के साथ रहना या उच्च शिक्षा प्राप्त करना चुनौतीपूर्ण हो जाता है। उदाहरण के लिए, दृष्टिबाधित एक छात्र को कक्षा में पाठ्यपुस्तकों को पढ़ने या दृश्य सहायक सामग्री तक पहुँचने में कठिनाई हो सकती है।
  2. संचार चुनौतियाँ (Communication challenges): दृष्टिबाधित व्यक्तियों को सामाजिक परिस्थितियों में संचार चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है, खासकर जब ऐसे लोगों के साथ बातचीत करते हैं जो उनकी स्थिति को नहीं समझते हैं। उदाहरण के लिए, एक दृष्टिबाधित व्यक्ति को शरीर की भाषा या चेहरे के भावों को पढ़ने में कठिनाई हो सकती है और उसे सामाजिक स्थितियों में अतिरिक्त सहायता की आवश्यकता हो सकती है।
  3. रोजगार बाधाएँ (Employment barriers): दृश्य हानि कैरियर विकल्पों को सीमित कर सकती है और व्यक्तियों के लिए रोज़गार खोजना और बनाए रखना चुनौतीपूर्ण बना सकती है। उदाहरण के लिए, एक नेत्रहीन व्यक्ति कुछ कार्यों को करने में असमर्थ हो सकता है या कार्यस्थल में विशेष समायोजन की आवश्यकता हो सकती है।

वास्तविक जीवन का उदाहरण: हेलेन केलर एक प्रसिद्ध लेखक, राजनीतिक कार्यकर्ता और व्याख्याता थीं जो बहरी और अंधी थीं। उसने ब्रेल पढ़ना और सांकेतिक भाषा के माध्यम से संवाद करना सीखकर अपनी दृश्य बाधा पर काबू पाया, यह दिखाते हुए कि गंभीर दृष्टिबाधित लोग भी सही समर्थन और आवास के साथ महान चीजें प्राप्त कर सकते हैं।

अंधापन – प्रकाश की कोई धारणा नहीं, छवियों का प्रक्षेपण नहीं

(Blindness – No Perception of Light, No Projection of Images)

अंधापन दृश्य हानि का एक गंभीर रूप है जिसके परिणामस्वरूप दृष्टि की कुल हानि होती है। अंधापन आनुवंशिकी, चोट, या बीमारी सहित कई कारकों के कारण हो सकता है। जो व्यक्ति अंधे हैं उन्हें प्रकाश या छवियों के प्रक्षेपण की कोई धारणा नहीं है, जिससे महत्वपूर्ण सामाजिक सीमाएं हो सकती हैं, जैसे:

  1. गतिशीलता संबंधी चुनौतियाँ (Mobility challenges): नेत्रहीन व्यक्तियों को अपरिचित वातावरण में नेविगेट करने, सड़कों को पार करने या सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करने में कठिनाई हो सकती है। यह दैनिक गतिविधियों में भाग लेने और शिक्षा, रोजगार और स्वास्थ्य सेवा तक पहुंचने की उनकी क्षमता को सीमित कर सकता है।
  2. सामाजिक अलगाव (Social isolation): अंधे व्यक्ति संचार, गतिशीलता और सामुदायिक संसाधनों तक पहुँचने में कठिनाइयों के कारण सामाजिक अलगाव का अनुभव कर सकते हैं। इससे अकेलेपन और अवसाद की भावना पैदा हो सकती है।
  3. रोजगार बाधाएँ (Employment barriers): नेत्रहीन व्यक्तियों को सीमित नौकरी के अवसरों, भेदभाव और आवास की आवश्यकता के कारण महत्वपूर्ण रोजगार बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है। इससे वित्तीय असुरक्षा और स्वतंत्रता की कमी हो सकती है।

वास्तविक जीवन का उदाहरण: स्टीवी वंडर एक प्रसिद्ध संगीतकार और गीतकार हैं जो जन्म के कुछ समय बाद से ही अंधे हैं। अपनी दृश्य हानि के बावजूद, उन्होंने संगीत उद्योग में बड़ी सफलता हासिल की है और उन्हें कई वाद्ययंत्र बजाने और हिट गाने बनाने की क्षमता के लिए जाना जाता है।

कमजोर दृष्टि – दोष (प्रकाशहीन का प्रक्षेपण और प्रकाश की धारणा कम है)

(Poor Vision – Defect (Projection of Lightless and Perception of Light is Less))

खराब दृष्टि एक ऐसा शब्द है जिसका उपयोग दृश्य हानि की एक श्रृंखला का वर्णन करने के लिए किया जाता है जिसके परिणामस्वरूप कम-से-इष्टतम दृश्य तीक्ष्णता या स्पष्टता होती है। खराब दृष्टि आनुवंशिकी, चोट, या बीमारी सहित कई कारकों के कारण हो सकती है। कमजोर दृष्टि वाले व्यक्तियों को निम्नलिखित सीमाओं का अनुभव हो सकता है:

  1. पढ़ने में कठिनाई (Difficulty reading): कमजोर दृष्टि वाले व्यक्तियों को छोटे प्रिंट पढ़ने या पाठ को स्पष्ट रूप से देखने में कठिनाई हो सकती है, जिससे किताबें, समाचार पत्र और अन्य लिखित सामग्री पढ़ने की उनकी क्षमता सीमित हो सकती है।
  2. सीमित गतिशीलता (Limited mobility): खराब दृष्टि व्यक्तियों के लिए अपने वातावरण को नेविगेट करना चुनौतीपूर्ण बना सकती है, विशेष रूप से कम रोशनी या अपरिचित स्थितियों में। यह दैनिक गतिविधियों में भाग लेने और सामुदायिक संसाधनों तक पहुँचने की उनकी क्षमता को सीमित कर सकता है।
  3. तनावपूर्ण संचार (Strained communication): खराब दृष्टि वाले व्यक्तियों को सामाजिक स्थितियों में संचार कठिनाइयों का अनुभव हो सकता है, खासकर जब ऐसे लोगों के साथ बातचीत करते हैं जो उनकी स्थिति को नहीं समझते हैं। इससे सामाजिक अलगाव और स्वतंत्रता की कमी हो सकती है।

वास्तविक जीवन का उदाहरण: बेंजामिन फ्रैंकलिन एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक व्यक्ति हैं जिनके बारे में माना जाता है कि उनकी दृष्टि कमजोर थी। अपनी दृश्य हानि के बावजूद, उन्होंने एक राजनेता, आविष्कारक और लेखक के रूप में बड़ी सफलता हासिल की, यह प्रदर्शित करते हुए कि खराब दृष्टि वाले व्यक्ति अभी भी महान चीजें हासिल कर सकते हैं।


Visual Handicapped Symptoms

(दृष्टिबाधिता के लक्षण)

दृश्य हानि या अंधापन एक ऐसी स्थिति को संदर्भित करता है जहां एक व्यक्ति को देखने में कठिनाई का अनुभव होता है या बिल्कुल भी नहीं देख पाता है। यहाँ दृष्टिबाधित व्यक्तियों के कुछ लक्षण दिए गए हैं जो स्थिति की पहचान करने में मदद कर सकते हैं:

  1. शारीरिक और व्यवहार संबंधी विशेषताएं (Physical and Behavioral Characteristics): किसी व्यक्ति की शारीरिक और व्यवहार संबंधी विशेषताओं को देखकर दृश्य हानि की पहचान की जा सकती है। उदाहरण के लिए, दृष्टिबाधित बच्चों के बैठने या खड़े होने के दौरान एक अलग आसन हो सकता है, और उन्हें अपने आस-पास नेविगेट करने में भी कठिनाई हो सकती है।
    उदाहरण के लिए: एक नेत्रहीन व्यक्ति को अपने आस-पास नेविगेट करने में कठिनाई हो सकती है या चलने में मदद करने के लिए बेंत का उपयोग कर सकता है। वे पठन सामग्री को अपने चेहरे के पास भी रख सकते हैं या पढ़ते समय अपने सिर को एक तरफ झुका सकते हैं।
  2. धुंधलापन या पानी वाली आंखें (Blurriness or Watery Eyes): बार-बार धुंधलापन या आंखों से पानी आना दृश्य हानि का एक और सामान्य लक्षण है। यह लक्षण मोतियाबिंद, ग्लूकोमा और धब्बेदार अध: पतन सहित कई नेत्र स्थितियों के कारण हो सकता है।
    उदाहरण के लिए: मोतियाबिंद से पीड़ित व्यक्ति को धुंधली दृष्टि का अनुभव हो सकता है, जबकि एलर्जी वाले व्यक्ति की आंखों में पानी आ सकता है। उदाहरण के लिए, मौसमी एलर्जी वाले व्यक्ति को वसंत के दौरान आंखों में पानी और नाक बहने का अनुभव हो सकता है।
  3. पढ़ने और लिखने में कठिनाई (Difficulty in Reading and Writing): दृष्टिबाधित व्यक्तियों को स्पष्ट रूप से देखने में असमर्थता के कारण पढ़ने और लिखने में कठिनाई हो सकती है। उन्हें लिखित सामग्री तक पहुँचने में मदद करने के लिए विशेष आवास की आवश्यकता हो सकती है, जैसे ब्रेल या बड़े प्रिंट वाली पुस्तकें।
    उदाहरण के लिए: दृष्टिबाधित छात्र को कक्षा में विशेष समायोजन की आवश्यकता हो सकती है, जैसे ब्रेल या ऑडियो पाठ्यपुस्तकें। वे पढ़ने और लिखने में मदद करने के लिए स्क्रीन रीडर या आवर्धन सॉफ़्टवेयर जैसी सहायक तकनीक का भी उपयोग कर सकते हैं।
  4. पलकों का बार-बार झपकना (Repeated Blinking of the Eyelids): दृष्टिबाधित व्यक्ति अपनी पलकें उन लोगों की तुलना में अधिक बार झपका सकते हैं जो दृष्टिबाधित नहीं हैं। यह लक्षण आंखों की कई स्थितियों के कारण हो सकता है, जिसमें ड्राई आई सिंड्रोम, एलर्जी या तंत्रिका क्षति शामिल है।
    उदाहरण के लिए: ड्राई आई सिंड्रोम से पीड़ित व्यक्ति अपनी आंखों को लुब्रिकेट करने में मदद करने के लिए अपनी पलकों को सामान्य से अधिक बार झपका सकता है। यह आंखों की कई स्थितियों का लक्षण हो सकता है, जिसमें एलर्जी, तंत्रिका क्षति या हार्मोनल परिवर्तन शामिल हैं।
  5. चिड़चिड़ापन और चेहरे के संपर्क में कमी (Irritability and Lack of Facial Contact): दृष्टिबाधित व्यक्ति दूसरों के साथ चिड़चिड़े या अलग दिखाई दे सकते हैं क्योंकि उन्हें आंखों से संपर्क बनाने या दृश्य संकेतों का जवाब देने में कठिनाई हो सकती है। उन्हें भावनाओं को व्यक्त करने या दूसरों की भावनाओं की व्याख्या करने में भी परेशानी हो सकती है।
    उदाहरण के लिए: एक दृष्टिबाधित व्यक्ति अलग-थलग या अमित्र दिखाई दे सकता है क्योंकि उन्हें आंखों से संपर्क करने या चेहरे के भावों की व्याख्या करने में कठिनाई होती है। उदाहरण के लिए, हो सकता है कि उन्हें पता ही न चले कि कोई उन्हें देखकर मुस्कुरा रहा है या भीड़ भरे कमरे में किसी दोस्त को पहचान नहीं पा रहे हैं।
  6. आंखों से पानी आना (Watering from the Eyes): दृष्टि दोष का एक अन्य लक्षण आंखों से पानी आना है। यह लक्षण आंखों की कई स्थितियों के कारण हो सकता है, जिसमें ड्राई आई सिंड्रोम, एलर्जी या तंत्रिका क्षति शामिल है।
    उदाहरण के लिए: ड्राई आई सिंड्रोम वाले व्यक्ति को आंखों से पानी आने का अनुभव हो सकता है क्योंकि शरीर प्राकृतिक स्नेहन की कमी की भरपाई करने की कोशिश करता है। यह आंखों की कई स्थितियों का लक्षण हो सकता है, जिसमें एलर्जी, तंत्रिका क्षति या हार्मोनल परिवर्तन शामिल हैं।

वास्तविक जीवन का उदाहरण: उदाहरण के लिए, एक बच्चा जिसे स्कूल में ब्लैकबोर्ड देखने में कठिनाई होती है या टेलीविजन देखते समय बार-बार भेंगापन करता है, उसे दृष्टि दोष हो सकता है। इसी तरह, एक बुजुर्ग व्यक्ति जिसे सड़क के संकेतों को पढ़ने या चेहरों को पहचानने में परेशानी होती है, उसे भी दृष्टि दोष हो सकता है। इन लक्षणों की जल्द से जल्द पहचान करना और दृष्टि हानि या अन्य जटिलताओं को रोकने के लिए उचित चिकित्सा की तलाश करना महत्वपूर्ण है।

Also Read: B.Ed COMPLETE Project File IN HINDI FREE DOWNLOAD


दृष्टि दोष के प्रकार और उनकी विशेषताएं

(Types of Visual Impairment and Their Characteristics)

दृश्य हानि किसी भी स्थिति को संदर्भित करती है जिसके परिणामस्वरूप दृष्टि की कमी या पूर्ण हानि होती है। विभिन्न प्रकार के दृश्य विकार हैं, प्रत्येक की अपनी विशेषताओं और कारणों के साथ। यहाँ दृष्टि दोष के कुछ सबसे सामान्य प्रकार हैं:

  1. मायोपिया (निकट दृष्टि दोष) (Myopia (nearsightedness)): मायोपिया एक ऐसी स्थिति है जहां दूर की वस्तुएं धुंधली दिखाई देती हैं जबकि पास की वस्तुएं स्पष्ट होती हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि नेत्रगोलक बहुत लंबा होता है, जिससे प्रकाश रेटिना के सामने केंद्रित होता है। मायोपिया से पीड़ित लोगों को अवतल लेंस पहनने से लाभ हो सकता है।
    * दूर की वस्तुएँ धुंधली दिखाई देती हैं।
    * यह तब होता है जब नेत्रगोलक बहुत लंबा होता है या कॉर्निया बहुत घुमावदार होता है।
    उदाहरण 1: एक छात्र जो किताबें पढ़ सकता है लेकिन व्हाइटबोर्ड या शिक्षक के लेखन को दूर से देखने के लिए संघर्ष करता है।
    उदाहरण 2: एक बच्चा जो कक्षा में बोर्ड नहीं पढ़ सकता है लेकिन किताब को करीब से पढ़ सकता है।
  2. हाइपरमेट्रोपिया (दूरदर्शिता) (Hypermetropia (farsightedness)): हाइपरमेट्रोपिया एक ऐसी स्थिति है जहां दूर की वस्तुएं स्पष्ट दिखाई देती हैं, लेकिन पास की वस्तुएं धुंधली दिखाई देती हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि नेत्रगोलक बहुत छोटा होता है, जिससे प्रकाश रेटिना के पीछे केंद्रित होता है। हाइपरमेट्रोपिया वाले लोगों को उत्तल लेंस पहनने से लाभ हो सकता है।
    * पास की वस्तुएँ धुंधली दिखाई देती हैं।
    * यह तब होता है जब नेत्रगोलक बहुत छोटा होता है या कॉर्निया बहुत सपाट होता है।
    उदाहरण 1: एक व्यक्ति जो आसानी से समाचार पत्र पढ़ सकता है लेकिन अपने फोन पर संदेशों को पढ़ना या चीजों को करीब से देखना मुश्किल हो जाता है।
    उदाहरण 2: एक व्यक्ति जो दूर से सड़क के संकेत को पढ़ सकता है, लेकिन किताब को करीब से पढ़ने के लिए संघर्ष करता है।
  3. मोतियाबिंद (Cataract): मोतियाबिंद आंख में लेंस का एक धुंधलापन है, जो धुंधली या धुंधली दृष्टि का कारण बन सकता है। समय के साथ, मोतियाबिंद बढ़ सकता है, जिससे इसे स्पष्ट रूप से देखना अधिक कठिन हो जाता है।
    * लेंस धुंधला और अपारदर्शी हो जाता है, जिससे दृष्टि धुंधली या धुंधली हो जाती है।
    * यह आमतौर पर उम्र बढ़ने के कारण होता है, लेकिन जन्मजात या चोट या बीमारी के कारण भी हो सकता है।
    उदाहरण 1: एक बुजुर्ग व्यक्ति जिसे स्पष्ट रूप से देखने में परेशानी होती है, खासकर तेज रोशनी में।
    उदाहरण 2: एक बुजुर्ग व्यक्ति जिसकी दृष्टि धुंधली या धुंधली होती है, जिससे उन्हें पढ़ने, ड्राइविंग या चेहरों को पहचानने जैसे दैनिक कार्यों को करने में कठिनाई होती है।
  4. ग्लूकोमा (Glaucoma): ग्लूकोमा एक ऐसी स्थिति है जहां आंख में दबाव बढ़ने से ऑप्टिक तंत्रिका को नुकसान पहुंचता है, जिसके परिणामस्वरूप दृष्टि चली जाती है। यह समय के साथ धीरे-धीरे हो सकता है और अक्सर इसके उन्नत होने तक इसके कोई लक्षण नहीं होते हैं।
    * आंख के अंदर उच्च दबाव के कारण ऑप्टिक तंत्रिका को नुकसान।
    * यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाए तो यह दृष्टि हानि और अंततः अंधापन का कारण बन सकता है।
    उदाहरण 1: एक मध्यम आयु वर्ग का व्यक्ति जो परिधीय दृष्टि या सुरंग दृष्टि के नुकसान का अनुभव करता है, जो अंततः अनुपचारित होने पर पूर्ण अंधापन का कारण बन सकता है।
    उदाहरण 2: एक वृद्ध व्यक्ति जो धीरे-धीरे परिधीय दृष्टि खो देता है और उसे कम रोशनी में देखने में कठिनाई होती है।
  5. दृष्टिवैषम्य (Astigmatism): दृष्टिवैषम्य एक ऐसी स्थिति है जहां कॉर्निया को अनियमित रूप से आकार दिया जाता है, जिससे सभी दूरियों पर विकृत दृष्टि होती है। इससे धुंधली या दोहरी दृष्टि, आंखों में तनाव और सिरदर्द हो सकता है।
    * अनियमित आकार के कॉर्निया के कारण किसी भी दूरी पर धुंधली दृष्टि।
    * यह विकृत या झुकी हुई दृष्टि का कारण बन सकता है।
    उदाहरण 1: एक व्यक्ति जो दूरी की परवाह किए बिना वस्तुओं की झुकी हुई या विकृत छवि देखता है।
    उदाहरण 2: एक व्यक्ति जो किसी भी दूरी पर विकृत, धुंधली या असमान दृष्टि का अनुभव करता है।
  6. रेटिनाइटिस पिगमेंटोसा (Retinitis Pigmentosa (RP)): RP एक आनुवंशिक स्थिति है जहां रेटिना धीरे-धीरे काम करना बंद कर देता है, जिसके परिणामस्वरूप परिधीय और रात की दृष्टि का नुकसान होता है। यह मंद प्रकाश में देखने में कठिनाई पैदा कर सकता है और अंततः अंधापन का कारण बन सकता है।
    * आनुवंशिक विकारों का एक समूह जो रेटिना को प्रभावित करता है, जिसके कारण धीरे-धीरे दृष्टि हानि होती है।
    * यह आमतौर पर रतौंधी से शुरू होता है और टनल विजन तक बढ़ता है।
    उदाहरण 1: जिस व्यक्ति को कम रोशनी की स्थिति में देखने में कठिनाई होती है, वह धीरे-धीरे अपनी परिधीय दृष्टि खो देता है।
    उदाहरण 2: एक व्यक्ति जिसे कम रोशनी में देखने में कठिनाई होती है, उसकी दृष्टि का क्षेत्र संकुचित होता है, और सुरंग दृष्टि का अनुभव कर सकता है।
  7. प्रीमेच्योरिटी की रेटिनोपैथी (Retinopathy of Prematurity (ROP)): आरओपी एक ऐसी स्थिति है जो गर्भावस्था के 31 सप्ताह से पहले पैदा होने वाले समय से पहले बच्चों को प्रभावित करती है। असामान्य रक्त वाहिकाएं रेटिना में बढ़ती हैं, जिससे निशान पड़ जाते हैं और अंततः रेटिना की टुकड़ी और अंधापन हो जाता है।
    * एक स्थिति जो समयपूर्व शिशुओं को प्रभावित करती है और रेटिना में असामान्य रक्त वाहिका वृद्धि का कारण बन सकती है।
    * यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाए तो यह दृष्टि हानि और अंधापन का कारण बन सकता है।
    उदाहरण 1: एक समय से पहले शिशु इस स्थिति को विकसित कर सकता है, जिससे रेटिना में असामान्य रक्त वाहिका वृद्धि हो सकती है, जिससे दृष्टि संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।
    उदाहरण 2: एक समय से पहले का शिशु जो रेटिना में असामान्य रक्त वाहिकाओं को विकसित करता है और अंधेपन को रोकने के लिए सर्जरी की आवश्यकता होती है।
  8. कोलोबोमा (Coloboma): कोलोबोमा एक ऐसी स्थिति है जहां आंख पूरी तरह से विकसित नहीं होती है, जिसके परिणामस्वरूप आंख में ऊतक का एक टुकड़ा गायब हो जाता है। यह धुंधली या विकृत दृष्टि का कारण बन सकता है और आंख के अन्य हिस्सों जैसे आईरिस, रेटिना, या ऑप्टिक तंत्रिका को प्रभावित कर सकता है।
    * एक ऐसी स्थिति जिसमें आंख का कोई हिस्सा गायब या अविकसित होता है।
    * यह परितारिका, रेटिना, या ऑप्टिक तंत्रिका को प्रभावित कर सकता है।
    उदाहरण 1: इस स्थिति के साथ पैदा होने वाले बच्चे की आंख की संरचना में छेद या छेद हो सकता है, जिससे धुंधली या विकृत दृष्टि हो सकती है।
    उदाहरण 2: एक बच्चा जो आंख में ऊतक के लापता टुकड़े के साथ पैदा होता है, जिसके परिणामस्वरूप धुंधली या विकृत दृष्टि होती है।
  9. स्क्विंट (स्ट्रैबिस्मस) (Squint (Strabismus)): स्क्विंट या स्ट्रैबिस्मस एक ऐसी स्थिति है जहां आंखें ठीक से संरेखित नहीं होती हैं, जिससे दोहरी दृष्टि या मस्तिष्क एक आंख को दबा देता है। यह जन्मजात या मांसपेशियों या तंत्रिका समस्या के कारण हो सकता है।
    * एक ऐसी स्थिति जिसमें आंखें ठीक से संरेखित नहीं होती हैं, जिससे दोहरी दृष्टि या खराब गहराई का बोध होता है।
    * यह जन्मजात या चोट या बीमारी के कारण हो सकता है।
    उदाहरण 1: एक बच्चा जो एक ही समय में दोनों आँखों से किसी वस्तु पर ध्यान केंद्रित नहीं कर सकता।
    उदाहरण 2: इस स्थिति वाले व्यक्ति की आंखें एक सीध में नहीं होती हैं और अलग-अलग दिशाओं में इशारा करती हुई दिखाई देती हैं, जिससे गहराई को समझने में कठिनाई होती है और आंखों पर जोर पड़ता है।

Visual-Impairment-Notes-In-Hindi
Visual-Impairment-Notes-In-Hindi

दृष्टि दोष के कारण

(Causes of Visual Impairment)

दृश्य हानि या दृष्टि हानि विभिन्न कारणों से हो सकती है। दृश्य हानि के कुछ प्रमुख कारण हैं:

  • आनुवंशिक (वंशानुगत प्रभाव) (Genetic (hereditary effect)): नेत्र रोग माता-पिता से विरासत में मिल सकते हैं। यदि माता-पिता दोनों में कोई आनुवंशिक विकार है जो उनकी दृष्टि को प्रभावित करता है, तो उनके बच्चे को भी इसी तरह की समस्या हो सकती है।
    नेत्र रोग पीढ़ी दर पीढ़ी नीचे जा सकते हैं।
    उदाहरण 1: रेटिनाइटिस पिगमेंटोसा, एक आनुवंशिक विकार जो धीरे-धीरे दृष्टि हानि का कारण बनता है, दुनिया भर में लगभग 4,000 लोगों में से 1 को प्रभावित करता है।
    उदाहरण 2: रेटिनाइटिस पिगमेंटोसा एक अनुवांशिक विकार है जो प्रगतिशील दृष्टि हानि का कारण बन सकता है।
  • जन्मजात विकार (Congenital Disorders): जन्मजात विकारों के कारण कुछ बच्चे दृष्टि दोष के साथ पैदा होते हैं। ऐसा ही एक विकार जन्मजात मोतियाबिंद है जहां आंख का लेंस धुंधला हो जाता है, जिससे धुंधली या धुंधली दृष्टि होती है।
    जन्म के समय दृश्य हानि मौजूद है।
    उदाहरण: जन्मजात मोतियाबिंद, आंख के लेंस के बादल जो धुंधली दृष्टि का कारण बन सकते हैं, 5,000 नवजात शिशुओं में लगभग 1 को प्रभावित करते हैं।
  • वातावरणीय कारक (Environmental Factors):
  1. प्रसवपूर्व (जन्म से पहले) (Prenatal (Before Birth)): गर्भावस्था के दौरान कुछ रसायनों, दवाओं या संक्रमणों के संपर्क में आने से बच्चे की आँखों का विकास प्रभावित हो सकता है।
    गर्भावस्था के दौरान मातृ दवा का उपयोग, संक्रमण या कुपोषण भ्रूण की आंखों के विकास को प्रभावित कर सकता है।
    उदाहरण 1: जन्मजात रूबेला सिंड्रोम, रूबेला वायरस के कारण होने वाली स्थिति जो शिशुओं में अंधापन, बहरापन और हृदय दोष पैदा कर सकती है।
    उदाहरण 2: गर्भावस्था के दौरान रूबेला संक्रमण से जन्मजात रूबेला सिंड्रोम हो सकता है, जिससे नवजात शिशुओं में अंधापन हो सकता है।
  2. नेटल (जन्म के दौरान) (Natal (During Birth)): प्रसव के दौरान जटिलताओं जैसे कि समय से पहले जन्म, जन्म का आघात, या ऑक्सीजन की कमी के कारण दृष्टि हानि हो सकती है।
    प्रसव के दौरान जटिलताएं, जैसे कि बच्चे के मस्तिष्क में ऑक्सीजन की कमी, दृष्टि हानि का कारण बन सकती है।
    उदाहरण 1: प्रसव के दौरान संदंश के अनुचित उपयोग या वैक्यूम निष्कर्षण के कारण जन्म चोट।
    उदाहरण 2: समय से पहले जन्म लेने वाले शिशुओं में समयपूर्वता की रेटिनोपैथी विकसित होने का खतरा होता है।
  3. प्रसवोत्तर (जन्म के बाद) ( Postnatal (After Birth)): आंखों में संक्रमण, चोट या हानिकारक रसायनों के संपर्क में आने से भी दृष्टि हानि हो सकती है।
    संक्रमण, चोट, या विषाक्त पदार्थों के संपर्क में आने से आँखें खराब हो सकती हैं और दृश्य हानि हो सकती है।
    उदाहरण 1: कार दुर्घटना या गिरने के कारण होने वाली दर्दनाक मस्तिष्क की चोट ऑप्टिक तंत्रिका को नुकसान पहुंचा सकती है और दृष्टि हानि का कारण बन सकती है।
    उदाहरण 2: नेत्रश्लेष्मलाशोथ या कॉर्नियल अल्सर से अस्थायी या स्थायी दृष्टि हानि हो सकती है।
  • कुपोषण (Malnutrition): खराब पोषण, विशेष रूप से विटामिन ए की कमी से रतौंधी, कॉर्नियल अल्सर और ज़ेरोफथाल्मिया जैसे नेत्र रोग हो सकते हैं।
    पोषण संबंधी कमियां आंखों के स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती हैं और दृष्टि हानि का कारण बन सकती हैं।
    उदाहरण: विटामिन A की कमी, विकासशील देशों में बाल दृष्टिहीनता का एक सामान्य कारण, विटामिन ए से भरपूर आहार का सेवन करके रोका जा सकता है।
  • दुर्घटनाएं (Accidents): दुर्घटनाओं या सिर या आंखों में चोट लगने से दृष्टि हानि हो सकती है।
    दुर्घटनाओं से होने वाली आंखों की चोटें दृष्टि हानि या अंधापन का कारण बन सकती हैं।
    उदाहरण 1: घरेलू सफाई उत्पादों या कार्यस्थल के रसायनों के संपर्क में आने से आँखों में रासायनिक जलन।
    उदाहरण 2: कार दुर्घटना या खेल की चोट के दौरान सिर पर चोट लगने से दर्दनाक मस्तिष्क की चोट और दृष्टि हानि हो सकती है।

संक्षेप में, दृश्य हानि के कई कारण हैं, जिनमें आनुवंशिक विकारों से लेकर पर्यावरणीय कारक जैसे संक्रमण, कुपोषण, दुर्घटनाएँ और चोटें शामिल हैं। दृष्टि हानि के कारण की पहचान करना और दृष्टि की और गिरावट को रोकने के लिए तत्काल चिकित्सा ध्यान देना महत्वपूर्ण है।

Also Read: CTET COMPLETE NOTES IN HINDI FREE DOWNLOAD


दृष्टिबाधित बच्चों के लिए शिक्षा

(Education for Visually Challenged Children)

दृष्टिबाधित बच्चों को शिक्षा प्राप्त करने में महत्वपूर्ण चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। इसलिए, यह सुनिश्चित करने के लिए रणनीतियों को लागू करना आवश्यक है कि वे गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त करें।

दृष्टिबाधित बच्चों के लिए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा सुनिश्चित करने की रणनीतियाँ:

  1. बैठने की व्यवस्था (Seating Arrangement): दृष्टिबाधित बच्चों को पहली कतार में बैठाना चाहिए। यह उन्हें ब्लैकबोर्ड और शिक्षक को स्पष्ट रूप से देखने में सक्षम करेगा, जिससे उनकी आंखों पर जोर पड़ने की संभावना कम हो जाएगी।
    उदाहरण: एक कक्षा में नेत्रहीन बच्चों को पहली पंक्ति में बिठाया जा सकता है। उदाहरण के लिए, अमेरिका के एक स्कूल में, शिक्षक ने नेत्रहीन छात्रों को पहली दो पंक्तियाँ सौंपी ताकि वे बोर्ड को आसानी से देख सकें और शिक्षक को सुन सकें।
  2. चश्मे का प्रावधान (Provision of Spectacles): जिन बच्चों को देखने में थोड़ी कठिनाई होती है उन्हें चश्मा प्रदान किया जाना चाहिए। इससे न केवल उन्हें स्पष्ट रूप से देखने में मदद मिलेगी बल्कि उनकी आंखों को होने वाले नुकसान को भी रोका जा सकेगा।
    उदाहरण: भारत में, संकरा नेत्र अस्पताल वंचित पृष्ठभूमि के बच्चों को मुफ्त नेत्र शल्य चिकित्सा और चश्मा प्रदान करता है। अस्पताल में एक मोबाइल इकाई है जो स्कूलों का दौरा करती है और आंखों की जांच करती है, जिसके बाद जिन बच्चों को चश्मे की जरूरत होती है उन्हें चश्मा प्रदान किया जाता है।
  3. लांछन लगाने से बचें (Avoid Stigmatization): किसी भी बच्चे को यह महसूस नहीं कराया जाना चाहिए कि वह दृष्टिबाधित है। ऐसे बच्चों के साथ समान व्यवहार किया जाना चाहिए और दूसरों के समान अवसर दिए जाने चाहिए।
    उदाहरण: ब्राजील के एक स्कूल ने दृष्टिबाधित छात्रों के खिलाफ डराने-धमकाने का मुकाबला करने के लिए “बेम मी क्वेर” (लव मी) नामक एक कार्यक्रम बनाया। कार्यक्रम छात्रों के प्रति सहानुभूति और सम्मान सिखाने पर केंद्रित है और उन्हें दृष्टिबाधित छात्रों के साथ समान व्यवहार करने के लिए प्रोत्साहित करता है।
  4. पढ़ने और सीखने की सामग्री (Reading and Learning Materials): पढ़ने और सीखने की सामग्री अलग-अलग रंगों और मोटे अक्षरों की होनी चाहिए। इससे नेत्रहीन बच्चों को विभिन्न शब्दों और अक्षरों के बीच अंतर करने में मदद मिलेगी। पूरी तरह दृष्टिहीन बच्चों के लिए भी ब्रेल सामग्री उपलब्ध कराई जानी चाहिए।
    उदाहरण: यूके में, रॉयल नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ब्लाइंड पीपल (RNIB) नेत्रहीन छात्रों को सुलभ किताबें, जैसे ऑडियोबुक, ब्रेल किताबें और बड़े प्रिंट वाली किताबें प्रदान करता है। आरएनआईबी के पास एक ऑनलाइन लाइब्रेरी भी है जिसे नेत्रहीन छात्र एक्सेस कर सकते हैं।
  5. कुशल और प्रशिक्षित शिक्षक (Skilled and Trained Teachers): एक कुशल और प्रशिक्षित शिक्षक होना चाहिए जिसे कम दृष्टि वाले बच्चों के बारे में जानकारी हो। नेत्रहीन बच्चों को प्रभावी ढंग से सीखने में मदद करने के लिए शिक्षक को उपयुक्त शिक्षण विधियों का उपयोग करने में सक्षम होना चाहिए।
    उदाहरण: कनाडा में, ओंटारियो कॉलेज ऑफ टीचर्स ने शिक्षकों के लिए “दृष्टिबाधित छात्रों को पढ़ाना” नामक एक पाठ्यक्रम विकसित किया है। यह पाठ्यक्रम शिक्षकों को दृष्टिबाधित छात्रों को प्रभावी ढंग से पढ़ाने के लिए आवश्यक ज्ञान और कौशल प्रदान करता है।
  6. प्रेरणा (Motivation): बच्चों को पढ़ने और सीखने के लिए प्रेरित करना चाहिए ताकि वे खुद को दूसरों से अलग न समझें। यह विभिन्न माध्यमों से किया जा सकता है जैसे सकारात्मक सुदृढीकरण और उनकी उपलब्धियों की मान्यता।
    उदाहरण: संयुक्त राज्य अमेरिका में, नेशनल फेडरेशन ऑफ़ द ब्लाइंड (NFB) NFB BELL अकादमी (साक्षरता और सीखने के लिए ब्रेल संवर्धन) नामक एक युवा कार्यक्रम चलाता है। कार्यक्रम का उद्देश्य 4-12 वर्ष की आयु के नेत्रहीन बच्चों को ब्रेल और अन्य आवश्यक कौशल सिखाना है। कार्यक्रम में बच्चों को सीखने के लिए प्रेरित करने के लिए फील्ड ट्रिप और गेम जैसी मजेदार गतिविधियां भी शामिल हैं। कार्यक्रम में भाग लेने से नेत्रहीन बच्चों को अपनी क्षमताओं पर विश्वास होता है और वे सीखने को जारी रखने के लिए प्रेरित महसूस करते हैं।

उदाहरण: भारत में दृष्टिबाधित बच्चों को शिक्षा और पुनर्वास सेवाएं प्रदान करने के लिए राष्ट्रीय दृष्टि विकलांग संस्थान (NIVH) की स्थापना की गई है। संस्थान प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा, व्यावसायिक प्रशिक्षण और शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रमों सहित विभिन्न पाठ्यक्रम प्रदान करता है। संस्थान में एक ब्रेल प्रेस भी है जो ब्रेल पाठ्यपुस्तकों और अन्य पठन सामग्री का उत्पादन करती है। संस्थान के शिक्षकों को नेत्रहीन बच्चों की जरूरतों को पूरा करने के लिए उपयुक्त शिक्षण विधियों का उपयोग करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। ऐसे प्रयासों से नेत्रहीन बच्चे गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं और समाज के आत्मनिर्भर सदस्य बन सकते हैं।

Also Read: KVS COMPLETE NOTES IN HINDI FREE DOWNLOAD


दृष्टिबाधित बच्चों के लिए गुण और दोष

(Merits and Demerits for Visually Challenged Children)

नेत्रहीन बच्चों को अपने दैनिक जीवन में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। ये चुनौतियाँ उनके शारीरिक, सामाजिक और भावनात्मक कल्याण को प्रभावित कर सकती हैं। इस भाग में हम नेत्रहीन बच्चे होने के गुण और दोषों पर चर्चा करेंगे।

गुण (Merits):

  1. बढ़ी हुई मेमोरी (Enhanced Memory): नेत्रहीन बच्चे अक्सर अपने आसपास की दुनिया को नेविगेट करने के लिए अपनी याददाश्त पर भरोसा करते हैं। इससे बेहतर स्मृति कौशल का विकास हो सकता है, जो उनके शैक्षणिक और व्यक्तिगत जीवन में फायदेमंद हो सकता है।
  2. बढ़ी हुई लचीलापन (Increased Resilience): नेत्रहीन बच्चों को अक्सर उन चुनौतियों का सामना करना पड़ता है जो उनके दृष्टिबाधित साथियों को नहीं होती। इससे लचीलापन और मुकाबला करने के कौशल का विकास हो सकता है, जो भविष्य की चुनौतियों से निपटने में उपयोगी हो सकता है।
  3. अन्य इंद्रियों का विकास (Development of Other Senses): दृष्टिबाधित बच्चे अक्सर अपने आसपास की दुनिया को समझने के लिए स्पर्श, ध्वनि और गंध जैसी अन्य इंद्रियों पर भरोसा करते हैं। इससे इन इंद्रियों का विकास हो सकता है, जिससे वे दृष्टिहीन व्यक्तियों की तुलना में अधिक तीव्र हो जाते हैं।
  4. सवतंत्रता (Independence): दृष्टिबाधित बच्चों को अक्सर कम उम्र से ही स्वतंत्र होने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। इससे मजबूत समस्या-समाधान और निर्णय लेने के कौशल का विकास हो सकता है, जो उनके व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में उपयोगी हो सकता है।

दोष (Demerits):

  1. सामाजिक एकांत (Social Isolation): दृष्टिबाधित बच्चों को उनकी दृश्य हानि के कारण सामाजिक अलगाव का सामना करना पड़ सकता है। उनके लिए दोस्त बनाना, खेल या अन्य गतिविधियों में भाग लेना या अपने साथियों के साथ प्रभावी ढंग से संवाद करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है।
  2. अभिगम्यता चुनौतियाँ (Accessibility Challenges): नेत्रहीन बच्चों को अपने दैनिक जीवन में सुगमता की चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। वे सार्वजनिक स्थानों पर नेविगेट करने, प्रौद्योगिकी का उपयोग करने, या शिक्षा या रोजगार के अवसरों तक पहुँचने के लिए संघर्ष कर सकते हैं।
  3. स्वास्थ्य के मुद्दों (Health Issues): दृष्टिबाधित बच्चों को अपने दैनिक जीवन में आने वाली चुनौतियों के कारण स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं जैसे अवसाद, चिंता, या मोटापे के विकास का अधिक खतरा हो सकता है।
  4. शैक्षिक चुनौतियां (Educational Challenges): दृष्टिबाधित बच्चों को शिक्षा प्राप्त करने में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। उन्हें विशेष उपकरण या शिक्षण विधियों की आवश्यकता हो सकती है जो मुख्यधारा के स्कूलों में आसानी से उपलब्ध नहीं हो सकते हैं।

उदाहरण: Stevie Wonder नाम के एक नेत्रहीन बच्चे ने कई चुनौतियों का सामना किया और एक सफल संगीतकार बन गया। अपनी दृश्य हानि के बावजूद, उन्होंने कई वाद्ययंत्र बजाना सीखा और एक सफल गीतकार और कलाकार बन गए। वह कई नेत्रहीन बच्चों के लिए एक प्रेरणा हैं जो अपनी चुनौतियों के बावजूद अपने जीवन में सफलता प्राप्त करने की आकांक्षा रखते हैं।


निष्कर्ष: निष्कर्ष के आधार पर यह कहा जा सकता है कि दृष्टिबाधित बच्चों को घर, समाज और स्कूल में बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है, किसी की आंखों से देखने की क्षमता कम होती है या बिल्कुल नहीं होती है। हमें किसी भी बच्चे को यह महसूस नहीं कराना चाहिए कि वह किसी भी तरह से सामान्य बच्चों से अलग है। इनके लिए समुचित व्यवस्था की जाए। यदि व्यवस्था की गई है तो समय-समय पर जांच करते रहें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy link
Powered by Social Snap