Use Of ICT In Teaching Learning Process Notes In Hindi (PDF)

Use-Of-ICT-In-Teaching-Learning-Process-Notes-In-Hindi

Use Of ICT In Teaching Learning Process Notes In Hindi

(शिक्षण अधिगम प्रक्रिया में आईसीटी का उपयोग)

आज हम आपको Use Of ICT In Teaching Learning Process Notes In Hindi (शिक्षण अधिगम प्रक्रिया में आईसीटी का उपयोग) के नोट्स देने जा रहे है जिनको पढ़कर आपके ज्ञान में वृद्धि होगी और यह नोट्स आपकी आगामी परीक्षा को पास करने में मदद करेंगे | ऐसे और नोट्स फ्री में पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट पर रेगुलर आते रहे, हम नोट्स अपडेट करते रहते है | तो चलिए जानते है, शिक्षण अधिगम प्रक्रिया में आईसीटी का उपयोग के बारे में विस्तार से |


सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी)

(Information and Communication Technology (ICT))

सूचना दुनिया की धुरी है। पूरी दुनिया सूचनाओं के इर्द-गिर्द घूम रही है। किसी भी निजी प्रतिष्ठान या सरकारी कार्यालय का आधार सच्ची और प्रामाणिक जानकारी होती है। सूचना का अपना विस्तृत क्षेत्र होता है। सूचना की कोई सीमा नहीं है और इसके प्रकार भी असीमित हैं। इन विभिन्न प्रकार की सूचनाओं को प्राप्त करने और प्रसारित करने के लिए उपयोग की जाने वाली तकनीक को ही सूचना प्रौद्योगिकी कहा जा सकता है। हमारे दैनिक जीवन में भी सूचना का बहुत महत्वपूर्ण स्थान है। सूचनाओं को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुँचाने के लिए प्रतिदिन नए-नए प्रयोग एवं प्रयास किए जा रहे हैं।

उदाहरण:

  • हमारे दैनिक जीवन में सूचना प्रौद्योगिकी के महत्व को दर्शाने वाला एक उदाहरण यह हो सकता है कि हम विभिन्न विषयों पर जानकारी तक पहुँचने के लिए इंटरनेट का उपयोग कैसे करते हैं। उदाहरण के लिए, जब हमें किसी विशेष विषय पर शोध करने की आवश्यकता होती है, तो हम दुनिया भर के विभिन्न स्रोतों से प्रासंगिक जानकारी खोजने के लिए Google जैसे खोज इंजन का उपयोग कर सकते हैं।
  • हम दुनिया भर की नवीनतम समाचारों और घटनाओं से अवगत रहने के लिए फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का भी उपयोग कर सकते हैं। ये प्लेटफॉर्म हमें विभिन्न पृष्ठभूमि और संस्कृतियों के लोगों के साथ सूचना और विचार साझा करने की अनुमति देते हैं।
  • इसके अलावा, कई व्यवसाय और संगठन अपने दिन-प्रतिदिन के कार्यों को पूरा करने के लिए सूचना प्रौद्योगिकी पर बहुत अधिक निर्भर करते हैं। उदाहरण के लिए, बैंक और वित्तीय संस्थान लेन-देन को संसाधित करने और ग्राहक डेटा प्रबंधित करने के लिए कंप्यूटर सिस्टम का उपयोग करते हैं। Amazon और Flipkart जैसे ऑनलाइन खुदरा विक्रेता ग्राहक व्यवहार का विश्लेषण करने और व्यक्तिगत उत्पाद अनुशंसाओं की पेशकश करने के लिए जटिल एल्गोरिदम का उपयोग करते हैं।

संक्षेप में, सूचना प्रौद्योगिकी हमारे दैनिक जीवन का एक अभिन्न अंग बन गई है, और इसका महत्व बढ़ना तय है क्योंकि हम संचार, मनोरंजन, शिक्षा और हमारे जीवन के कई अन्य पहलुओं के लिए इस पर निर्भर रहना जारी रखते हैं।

  • सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी/ICT) सूचना को संसाधित करने, संग्रहीत करने, पुनः प्राप्त करने और विनिमय करने के लिए डिजिटल तकनीकों के उपयोग को संदर्भित करता है। इसमें कंप्यूटर, सॉफ्टवेयर, स्मार्टफोन, इंटरनेट, सोशल मीडिया और बहुत कुछ जैसी तकनीकों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है। ICT ने हमारे संवाद करने, काम करने, सीखने और व्यवसाय करने के तरीके को बदल दिया है।
  • उदाहरण : ऑनलाइन खरीदारी आईसीटी का एक अनुप्रयोग है जहां उपभोक्ता कंप्यूटर या स्मार्टफोन का उपयोग करके अपने घरों में आराम से सामान या सेवाओं को ब्राउज़ और खरीद सकते हैं। इसने ग्राहकों को सुविधा, विविधता और प्रतिस्पर्धी मूल्य प्रदान करते हुए खुदरा उद्योग में क्रांति ला दी है। एक अन्य उदाहरण टेलीकॉन्फ्रेंसिंग है, जो लोगों को दूर से वीडियो और ऑडियो तकनीकों का उपयोग करके बैठकें और सम्मेलन आयोजित करने की अनुमति देता है, जिससे यात्रा में समय और संसाधनों की बचत होती है।
  • आईसीटी ने शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और सरकारी सेवाओं में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है। ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म और शैक्षिक सॉफ्टवेयर ने शिक्षा को अधिक सुलभ और वैयक्तिकृत बना दिया है। इलेक्ट्रॉनिक मेडिकल रिकॉर्ड और टेलीमेडिसिन ने स्वास्थ्य सेवा वितरण और पहुंच में सुधार किया है। ऑनलाइन टैक्स फाइलिंग और पब्लिक सर्विस एप्लिकेशन जैसी ई-सरकार सेवाओं ने सरकारी सेवाओं को अधिक कुशल और पारदर्शी बना दिया है।

कुल मिलाकर, आईसीटी दक्षता, उत्पादकता और संचार में सुधार के लिए व्यक्तियों, व्यवसायों और सरकारों के लिए एक आवश्यक उपकरण बन गया है।

Also Read: CTET COMPLETE NOTES IN HINDI FREE DOWNLOAD


Meaning and Definition of ICT

(आईसीटी का अर्थ और परिभाषा)

शिक्षा में सूचना-संचार प्रौद्योगिकी का अर्थ शिक्षण और सीखने के सभी पहलुओं में डिजिटल उपकरणों के उपयोग से लिया जाता है। सूचना और संचार प्रौद्योगिकी तीन शब्दों से मिलकर बना है। सूचना, संचार और प्रौद्योगिकी

  • सूचना (Information): सूचना का अर्थ है एक विचार या संदेश, जिसे एक व्यक्ति दूसरों तक पहुँचाता है।
  • संचार (Communication): संचार एक पारस्परिक प्रक्रिया है जो विचारों, भावनाओं, विश्वासों और सूचनाओं को दूसरों के साथ साझा करने में मदद करती है।
  • तकनीकी (Technical): वैज्ञानिक ज्ञान के प्रयोगात्मक रूप को तकनीकी कहा जाता है।
  • परिभाषा: UNESCO के अनुसार, “सूचना को संभालने, संशोधित करने और उपयोग करने के लिए उपयोग की जाने वाली वैज्ञानिक, तकनीकी और इंजीनियरिंग अनुशासन और प्रबंधन तकनीकें।”
  • हरित क्रांति (Green Revolution) और औद्योगिक क्रांति (Industrial Revolution) के बाद सूचना क्रांति (Information Revolution) के उदय के साथ सेवा क्षेत्र सबसे तेजी से विकास कर रहा है। इस क्षेत्र में काम करने वाले लोगों को (White-Collar Worker) या (Knowledge Worker) कहा जाता है।
UNESCO = United Nations Educational, Scientific and Cultural Organization.

 The Role of ICT in the Teaching and Learning Process

(शिक्षण और सीखने की प्रक्रिया में आईसीटी की भूमिका)

सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) ने हमारे सीखने और सिखाने के तरीके को बदल दिया है। आईसीटी उपकरणों, तकनीकों और संसाधनों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है जो सीखने और सिखाने की प्रक्रिया को बढ़ा सकते हैं। इस लेख में, हम उन विभिन्न तरीकों पर चर्चा करेंगे जिनमें शिक्षण और सीखने की प्रक्रिया का समर्थन करने के लिए आईसीटी का उपयोग किया जा रहा है।

  1. औपचारिक शिक्षा में आईसीटी का उपयोग (Use of ICT in Formal Education): बड़े पैमाने पर औपचारिक शिक्षा प्रदान करने के लिए आईसीटी का उपयोग किया जा रहा है। स्कूलों में छात्रों को शैक्षिक सामग्री देने के लिए रेडियो, टीवी, कंप्यूटर, इंटरनेट, सीडी-रोम और मल्टीमीडिया प्रस्तुतियों जैसी तकनीकों का उपयोग किया जाता है।
    उदाहरण: एक शिक्षक कक्षा में शैक्षिक वीडियो प्रदर्शित करने के लिए प्रोजेक्टर का उपयोग करता है, या एक छात्र घर पर अध्ययन करने के लिए ऑनलाइन पाठ्यक्रम सामग्री का उपयोग करता है।
  2. शिक्षा विज्ञान में शैक्षणिक उपकरण के रूप में आईसीटी का उपयोग (Use of ICT as Pedagogical Tools in Education Science): शिक्षक शिक्षण प्रक्रिया का समर्थन करने के लिए पाठ्यक्रम से संबंधित सामग्री और स्पष्ट तरीके और उदाहरण प्रदान करने के लिए सॉफ्टवेयर पैकेज और वेब पेज का उपयोग करते हैं।
    उदाहरण: एक विज्ञान शिक्षक छात्रों को जटिल वैज्ञानिक अवधारणाओं को प्रदर्शित करने के लिए सिमुलेशन सॉफ़्टवेयर का उपयोग करता है या छात्रों की समझ का आकलन करने के लिए इंटरैक्टिव क्विज़ प्रदान करने के लिए एक वेब पेज का उपयोग करता है।
  3. गुणवत्तापूर्ण शिक्षण के लिए आईसीटी का उपयोग (Use of ICT for Quality Learning): आईसीटी एक प्रभावी शिक्षण वातावरण बनाता है जो छात्रों के सीखने के कौशल और आदतों में सुधार करता है, जो उनके दैनिक जीवन से संबंधित हैं।
    उदाहरण: एक ऑनलाइन पाठ्यक्रम में वीडियो, इंटरएक्टिव क्विज़ और चर्चाएँ शामिल हैं जो वास्तविक जीवन की स्थितियों से संबंधित हैं, जिससे छात्र अपनी सीख को व्यावहारिक स्थितियों में लागू कर सकते हैं।
  4. आईसीटी में समावेशिता (Inclusiveness in ICT): आईसीटी शिक्षा में समावेश लाता है। विशेष आवश्यकता वाले छात्र अपनी शैक्षिक आवश्यकताओं का समर्थन करने के लिए विशेष आईसीटी उपकरणों का उपयोग कर सकते हैं, और हर कोई पाठ्यक्रम सामग्री का उपयोग कर सकता है।
    उदाहरण: दृष्टिबाधित छात्र पाठ्यक्रम सामग्री तक पहुँचने के लिए स्क्रीन रीडिंग सॉफ़्टवेयर का उपयोग करता है या सुनने में कठिनाई वाला छात्र ऑनलाइन व्याख्यान के दौरान सांकेतिक भाषा दुभाषिया का उपयोग करता है।
  5. उच्च शिक्षा के लिए आईसीटी का उपयोग (Use of ICT for Higher Education): आईसीटी का उपयोग उच्च शिक्षा का समर्थन करने के लिए किया जाता है। छात्रों को समस्याओं को हल करने के लिए आईसीटी के उपयोग को समझने और न्यायोचित ठहराने और विभिन्न रणनीतियों पर चर्चा, परीक्षण और मूल्यांकन करने में कौशल विकसित करने की आवश्यकता है।
    उदाहरण: एक विश्वविद्यालय में एक छात्र एक शोध परियोजना के लिए डेटा का विश्लेषण करने के लिए सांख्यिकीय सॉफ्टवेयर का उपयोग करता है या केस स्टडी का विश्लेषण करने के लिए साथियों के साथ एक ऑनलाइन समूह चर्चा में भाग लेता है।
  6. आईसीटी का उपयोग सहयोग को प्रोत्साहित करता है (ICT Use Encourages Collaboration): आईसीटी छात्रों को एक साथ लाता है, उन्हें चर्चा करने और सहयोगी रूप से काम करने में सक्षम बनाता है। यह संचार के अवसर प्रदान करता है, जिससे भाषा का विकास होता है।
    उदाहरण: छात्र समूह परियोजनाओं पर काम करने और अपने काम को साझा करने, फीडबैक प्रदान करने और एक दूसरे से सीखने के लिए एक ऑनलाइन मंच का उपयोग करते हैं।
  7. आईसीटी का उपयोग सीखने को प्रेरित करता है (Use of ICT Motivates Learning): बच्चे प्रौद्योगिकी से प्रेरित होते हैं और इंटरैक्टिव और आकर्षक तरीकों से सीखने का आनंद लेते हैं।
    उदाहरण: छात्र मज़ेदार और आकर्षक तरीके से जटिल अवधारणाओं को सीखने के लिए शैक्षणिक गेम और सिमुलेशन का उपयोग करते हैं।
  8. हर कोई अलग तरह से सीखता है (Everyone Learns Differently): आईसीटी छात्रों को उनकी सीखने की प्राथमिकताओं के अनुरूप विभिन्न शैलियों और विधियों का उपयोग करके विभिन्न तरीकों से सीखने के अवसर प्रदान करता है।
    उदाहरण: एक छात्र जो दृश्य सीखने को प्राथमिकता देता है, एक शैक्षिक वीडियो देखता है, जबकि एक छात्र जो श्रवण सीखने को प्राथमिकता देता है, उसी विषय पर एक पॉडकास्ट सुनता है।
  9. प्रशासनिक उद्देश्यों के लिए आईसीटी का उपयोग (Use of ICT for Administrative Purposes): ICT का उपयोग प्रशासनिक उद्देश्यों के लिए भी किया जाता है, जिससे स्कूल प्रबंधन कम बोझिल हो जाता है। शिक्षक आसानी से छात्रों के अंक, व्यक्तिगत और शैक्षणिक रिकॉर्ड का प्रबंधन कर सकते हैं और उन्हें माता-पिता और प्रबंधकों को आवश्यकतानुसार उपलब्ध करा सकते हैं।
    उदाहरण: एक शिक्षक छात्रों के ग्रेड, उपस्थिति और असाइनमेंट को रिकॉर्ड करने और प्रबंधित करने के लिए एक ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग करता है, जिससे वे इस जानकारी को माता-पिता और व्यवस्थापकों के साथ आसानी से साझा कर सकें।

वास्तविक जीवन का उदाहरण: COVID-19 महामारी के दौरान, दुनिया भर के स्कूलों को शिक्षा में निरंतरता सुनिश्चित करने के लिए दूरस्थ शिक्षा पर स्विच करना पड़ा। आईसीटी ने इस समय के दौरान शिक्षण और सीखने की प्रक्रिया का समर्थन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। शिक्षकों ने विभिन्न आईसीटी उपकरणों का उपयोग किया, जैसे कि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग, शैक्षिक सॉफ्टवेयर और ऑनलाइन शिक्षण प्लेटफॉर्म, पाठ देने और छात्रों के साथ जुड़ने के लिए। नतीजतन, छात्र घर से सीखना जारी रखने में सक्षम थे, और शिक्षक छात्रों की प्रगति की निगरानी करने और जरूरत पड़ने पर सहायता प्रदान करने में सक्षम थे। यह विशेष रूप से चुनौतीपूर्ण समय के दौरान शिक्षण और सीखने की प्रक्रिया का समर्थन करने में आईसीटी के महत्व को दर्शाता है।

Also Read: KVS COMPLETE NOTES IN HINDI FREE DOWNLOAD


आईसीटी के गुण और दोष

(Merits and Demerits of ICT)

सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) ने हमारे संवाद करने, सीखने और काम करने के तरीके को बदल दिया है। इस लेख में, हम छात्रों, शिक्षकों, प्रबंधकों, योजनाकारों और परामर्शदाताओं पर इसके प्रभाव पर ध्यान केंद्रित करते हुए आईसीटी के गुणों और दोषों का पता लगाएंगे।

Use-Of-ICT-In-Teaching-Learning-Process-Notes-In-Hindi
Use-Of-ICT-In-Teaching-Learning-Process-Notes-In-Hindi

आईसीटी के गुण

(Merits of ICT)

आईसीटी के विभिन्न हितधारकों के लिए कई लाभ हैं, जैसा कि नीचे बताया गया है:

छात्रों के लिए लाभ (Benefits for Students)
  • अनिवार्य प्रशिक्षण (Compulsory training): छात्रों को अनिवार्य प्रशिक्षण के अवसर मिलते हैं, जहाँ वे आत्म-सुधार के लिए जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और लागू कर सकते हैं।
  • सूचना के स्रोतों की खोज (search for sources of information): विद्यार्थियों को सूचना के स्त्रोत खोजने, आवश्यक सूचनाएँ प्राप्त करने तथा सूचनाएँ प्राप्त करने में सहायता मिलती है।
  • शुद्ध सूचना का प्रसारण (Finding sources of information): शुद्ध रूप में सूचना प्राप्त करने, परिवर्तित करने, उपयोग करने और प्रसारित करने का एक तरीका है, जिससे छात्रों को लाभ होता है।
  • निर्णय लेने और समस्या समाधान की क्षमता (Decision-making and problem-solving ability): उचित निर्णय लेने और समस्या को सुलझाने की क्षमता में प्राप्त प्रशिक्षण छात्रों को अपने व्यवहार में परिवर्तन लाने में सक्षम बनाता है।
  • उदाहरण: एक छात्र किसी विशिष्ट विषय में एक ऑनलाइन पाठ्यक्रम ले सकता है, ट्यूटोरियल वीडियो देख सकता है, या अपने शैक्षणिक हितों से संबंधित विभिन्न विषयों पर चर्चा करने के लिए एक ऑनलाइन फोरम में भाग ले सकता है।
शिक्षकों के लिए लाभ (Benefits for Teachers)
  • शिक्षण सहायता (Teaching assistance): शिक्षकों को उनके शिक्षण कार्य में बहुत मदद मिलती है।
  • शिक्षण सामग्री का चयन (Selection of teaching materials): आईसीटी शिक्षण सामग्री और तकनीकों के चयन में मदद करता है।
  • प्रेरणा और नवीनता (Motivation and innovation): एक शिक्षक छात्रों को सीखने के लिए प्रेरित कर सकता है और शिक्षा प्रदान करने के अपने तरीकों में रोचकता और नवीनता ला सकता है।
  • उदाहरण: एक शिक्षक एक व्याख्यान देने के लिए एक इंटरैक्टिव व्हाइटबोर्ड का उपयोग कर सकता है, छात्रों के लिए एक डिजिटल क्विज़ बना सकता है या जटिल अवधारणाओं को समझाने के लिए शैक्षिक सॉफ़्टवेयर का उपयोग कर सकता है।
C. प्रबंधकों और योजनाकारों के लिए लाभ (Benefits for Managers and Planners)
  • नए आविष्कारों की जानकारी (Information about new inventions): उन्हें शिक्षा के क्षेत्र में हो रहे नए आविष्कारों और विकास कार्यों की जानकारी मिलती है। और वे अपनी योजना के अनुसार बदल सकते हैं।
  • सही निर्णय (Correct decisions): ये शिक्षा से संबंधित कार्यों और गतिविधियों के बारे में सही निर्णय ले सकते हैं।
  • उदाहरण: एक स्कूल के प्रधानाचार्य आईसीटी का उपयोग छात्र के प्रदर्शन की निगरानी करने, सुधार के क्षेत्रों की पहचान करने और संसाधनों को प्रभावी ढंग से आवंटित करने के लिए कर सकते हैं।
परामर्शदाताओं के लिए लाभ (Benefits for Counselors)
  • उपयुक्त मार्गदर्शन (Appropriate guidance): आईसीटी का उपयोग उन्हें परामर्शदाता को उचित शैक्षिक, व्यावसायिक और व्यक्तिगत मार्गदर्शन प्रदान करने में सक्षम बनाता है।
  • संपूर्ण जानकारी (Complete information): छात्रों के व्यक्तित्व और गुणों के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त की जा सकती है जिससे वे अपना कार्य ठीक प्रकार से कर सकें।
  • उदाहरण: एक करियर काउंसलर छात्रों को उनकी ताकत और कमजोरियों की पहचान करने, करियर के विभिन्न रास्तों का पता लगाने और उनके भविष्य के बारे में सूचित निर्णय लेने में मदद करने के लिए ऑनलाइन आकलन का उपयोग कर सकता है।

आईसीटी के दोष

(Demerits of ICT)

इसके लाभों के बावजूद, आईसीटी की कुछ सीमाएँ हैं, जिनकी चर्चा नीचे की गई है:

महंगा (Costly)
  • स्कूलों में आईसीटी का उपयोग बहुत महंगा है। अधिकांश विद्यालय तकनीकी उपकरणों की खरीद और रख-रखाव से संबंधित खर्चों को पूरा करने में सक्षम नहीं हैं।
  • उदाहरण: किसी स्कूल के पास अपने छात्रों के लिए नवीनतम कंप्यूटर, टैबलेट या सॉफ़्टवेयर खरीदने का बजट नहीं हो सकता है।
परिवर्तन का प्रतिरोध (Resistance to Change)
  • नौकरी छूटने का डर (Fear of job loss): कुछ शिक्षकों के मन में यह डर है कि आईसीटी के इस्तेमाल से शिक्षण-अधिगम गतिविधियों पर उनका प्रभुत्व खत्म हो जाएगा और उनकी नौकरी भी खत्म हो जाएगी।
  • नई विधियों का विरोध (Opposition to new methods): कुछ शिक्षक रूढ़िवादी होते हैं और पुरानी बातों/पद्धतियों में विश्वास करते हैं। पढ़ाते समय वे पुराने तरीकों को प्राथमिकता देते हैं और आईसीटी का उपयोग करने से इनकार करते हैं।
  • उदाहरण: एक शिक्षक को लग सकता है कि वे आईसीटी का उपयोग करने के लिए पर्याप्त रूप से सक्षम नहीं हैं, या उनके पास अपनी शिक्षण विधियों में प्रौद्योगिकी को शामिल करने के लिए आवश्यक प्रशिक्षण नहीं हो सकता है।
सीमित पहुंच (Limited Access)
  • कंप्यूटर की सीमित उपलब्धता (Limited availability of computers): संस्था में कंप्यूटरों की एक निश्चित संख्या के कारण, छात्रों को स्कूलों में आईसीटी कौशल का अभ्यास करने के लिए कम समय मिलता है। इससे उनकी पढ़ाई अधूरी रह जाती है।
  • उदाहरण: एक छात्र को अन्य छात्रों के साथ एक कंप्यूटर साझा करना पड़ सकता है, जो शैक्षिक संसाधनों और सॉफ्टवेयर तक उनकी पहुंच को सीमित कर सकता है।

Also Read: B.Ed COMPLETE Project File IN HINDI FREE DOWNLOAD


अंत में,

  • आईसीटी ने हमारे सीखने, पढ़ाने और शैक्षिक संस्थानों के प्रबंधन के तरीके में क्रांति ला दी है। यह छात्रों के लिए अनिवार्य प्रशिक्षण, सूचना के स्रोत खोजने, शुद्ध जानकारी का प्रसारण, निर्णय लेने और समस्या को सुलझाने की क्षमता जैसे कई लाभ प्रदान करता है। शिक्षक शिक्षण सहायता, शिक्षण सामग्री के चयन, प्रेरणा और नवाचार से लाभान्वित हो सकते हैं। प्रबंधक और योजनाकार नए आविष्कारों और सही निर्णयों के बारे में जानकारी से लाभान्वित हो सकते हैं, जबकि परामर्शदाता उचित मार्गदर्शन और पूरी जानकारी के लिए आईसीटी का उपयोग कर सकते हैं।
  • हालाँकि, ICT की कुछ सीमाएँ भी हैं, जैसे इसकी उच्च लागत, परिवर्तन का प्रतिरोध और कंप्यूटर तक सीमित पहुँच। शैक्षिक संस्थानों को आईसीटी के लाभों और सीमाओं के बीच संतुलन खोजना चाहिए और इसकी कमियों को कम करते हुए इसकी क्षमता को अधिकतम करने के लिए रणनीति विकसित करनी चाहिए।
  • कुल मिलाकर, आईसीटी ने शिक्षा को बदल दिया है और भविष्य में भी ऐसा करना जारी रखेगा। जैसे-जैसे प्रौद्योगिकी का विकास जारी है, शिक्षण संस्थानों के लिए इन परिवर्तनों के साथ तालमेल बिठाना और छात्रों के सीखने के परिणामों को बेहतर बनाने के लिए उनका उपयोग करना महत्वपूर्ण है।
निष्कर्ष: निष्कर्ष के रूप में यह कहा जा सकता है कि आईसीटी प्रस्तुति छात्र की बौद्धिक क्षमता को बदल सकती है। आईसीटी के माध्यम से शिक्षा में किया जा सकता है और शिक्षण-अधिगम को सरल बनाया जा सकता है। इसका उपयोग करके वर्तमान शिक्षा प्रणाली? जीवन आधारित सूचना समाज का निर्माण करने के लिए उपयोग किया जा सकता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy link
Powered by Social Snap