Bruner model of teaching Notes in Hindi CAM (PDF Download)

Bruner-model-of-teaching-Notes-in-Hindi-CAM

Bruner model of teaching Notes in Hindi

(ब्रूनर का शिक्षण मॉडल)

आज हम आपको Bruner model of teaching Notes in Hindi (ब्रूनर का शिक्षण मॉडल) के नोट्स देने जा रहे है जिनको पढ़कर आपके ज्ञान में वृद्धि होगी और आप अपनी कोई भी टीचिंग परीक्षा पास कर सकते है | ऐसे और नोट्स फ्री में पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट पर रेगुलर आते रहे हम नोट्स अपडेट करते रहते है | तो चलिए जानते है, ब्रूनर का शिक्षण मॉडल के बारे में विस्तार से |


ब्रूनर का शिक्षण मॉडल

(Bruner Model of Teaching)

जेरोम ब्रूनर (Jerome Brunner) एक अमेरिकी मनोवैज्ञानिक हैं जिन्होंने “खोज सीखने” (“discovery learning”) के विचार के आधार पर शिक्षण का एक मॉडल विकसित किया। यह मॉडल कक्षा में सक्रिय सीखने और हाथों के अनुभवों के महत्व पर जोर देता है। शिक्षण के ब्रूनर मॉडल के बारे में कुछ मुख्य बिंदु इस प्रकार हैं:

  • डिस्कवरी लर्निंग (Discovery Learning): टीचिंग का ब्रूनर मॉडल डिस्कवरी लर्निंग के महत्व पर जोर देता है। इस दृष्टिकोण में, छात्रों को केवल यह बताए जाने के बजाय कि उन्हें क्या करना है, स्वयं नए विचारों का पता लगाने और खोजने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।
  • मचान (Scaffolding): ब्रूनर मॉडल का एक अन्य महत्वपूर्ण पहलू मचान है। इसका मतलब यह है कि शिक्षक छात्रों को नए विचारों या अवधारणाओं के माध्यम से काम करने में सहायता और मार्गदर्शन प्रदान करते हैं। यह समर्थन कई रूप ले सकता है, जिसमें प्रश्न पूछना, उदाहरण प्रदान करना और जटिल विचारों को छोटे, अधिक प्रबंधनीय भागों में तोड़ना शामिल है।
  • स्पाइरल करिकुलम (Spiral Curriculum): ब्रूनर स्पाइरल करिकुलम की अवधारणा में भी विश्वास करते थे, जहां छात्र समय के साथ महत्वपूर्ण अवधारणाओं और विचारों पर दोबारा गौर करते हैं, जैसे-जैसे वे आगे बढ़ते हैं, अपने ज्ञान और समझ पर निर्माण करते हैं। यह दृष्टिकोण प्रमुख विचारों को सुदृढ़ करने और यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि छात्रों के पास भविष्य की शिक्षा के लिए एक ठोस आधार है।

उदाहरण: शिक्षण का ब्रूनर मॉडल कक्षा में वास्तविक जीवन के उदाहरणों और अनुभवों के उपयोग के महत्व पर जोर देता है। कक्षा की शिक्षा को छात्रों के दैनिक जीवन से जोड़कर, शिक्षक सीखने को अधिक सार्थक और प्रासंगिक बनाने में मदद कर सकते हैं।

चलो एक बार उदाहरण द्वारा अच्छे से समझते है:

मान लीजिए कि एक शिक्षक सौर मंडल पर एक इकाई पढ़ा रहा है। केवल ग्रहों और उनकी विशेषताओं पर व्याख्यान देने के बजाय, शिक्षक अधिक इंटरैक्टिव और आकर्षक सीखने का अनुभव बनाने के लिए शिक्षण के ब्रूनर मॉडल का उपयोग कर सकते हैं। यहां बताया गया है कि यह कैसा दिख सकता है:

  • डिस्कवरी लर्निंग (Discovery Learning): शिक्षक छात्रों को सौर प्रणाली के बारे में पहले से ही क्या जानते हैं, इस पर मंथन करने के लिए कह सकते हैं। फिर, छात्र ग्रहों और उनकी विशेषताओं के बारे में शोध करने और नई जानकारी खोजने के लिए छोटे समूहों में काम कर सकते हैं।
  • मचान (Scaffolding): जब छात्र अपने शोध पर काम करते हैं, तो शिक्षक उन्हें ट्रैक पर बने रहने और जानकारी के विभिन्न टुकड़ों के बीच संबंध बनाने में मदद करने के लिए मार्गदर्शक प्रश्न पूछ सकते हैं। शिक्षक यह भी उदाहरण दे सकते हैं कि विभिन्न ग्रह एक-दूसरे से कैसे संबंधित हैं, और छात्रों को जटिल विचारों को छोटे, अधिक प्रबंधनीय भागों में विभाजित करने में मदद करते हैं।
  • सर्पिल पाठ्यचर्या (Spiral Curriculum): पूरी इकाई के दौरान, शिक्षक समय के साथ छात्रों के ज्ञान और समझ पर निर्माण करते हुए, प्रमुख अवधारणाओं और विचारों पर फिर से विचार कर सकता है। उदाहरण के लिए, छात्र ग्रहों के बारे में बुनियादी तथ्यों को सीखकर शुरू कर सकते हैं, और बाद में इस ज्ञान को और अधिक जटिल कार्यों में लागू कर सकते हैं, जैसे कि किसी विशेष ग्रह का पता लगाने के लिए एक मिशन तैयार करना।

उदाहरण: सीखने के अनुभव को अधिक सार्थक और प्रासंगिक बनाने के लिए, शिक्षक सौर प्रणाली पर इकाई को छात्रों के दैनिक जीवन से जोड़ सकते हैं। उदाहरण के लिए, छात्र शोध कर सकते हैं कि ग्रहों की स्थिति हमारे मौसम के पैटर्न को कैसे प्रभावित करती है, या कैसे अंतरिक्ष अन्वेषण ने नई तकनीकों को जन्म दिया है जिनका हम आज उपयोग करते हैं।

Also Read: CTET COMPLETE NOTES IN HINDI FREE DOWNLOAD


ब्रूनर की अवधारणा प्राप्ति मॉडल

(Bruner’s Concept Attainment Model (CAM))

I. ब्रूनर के अवधारणा प्राप्ति मॉडल का अवलोकन (Overview of Bruner’s Concept Attainment Model)

  • 1950 के दशक में जेरोम ब्रूनर और उनके सहयोगियों द्वारा विकसित
  • मॉडलों के सूचना प्रसंस्करण वर्ग का हिस्सा
  • छात्रों को अवधारणाओं को पढ़ाने के लिए उपयोग किया जाता है
  • मानव सोच की प्रक्रिया के अध्ययन से उत्पन्न हुआ

II. CMA के प्रमुख घटक (Key Components of the CAM)

  • उदाहरण (Example): शिक्षक ऐसे उदाहरण प्रस्तुत करता है जो सिखाई जा रही अवधारणा के सकारात्मक या नकारात्मक उदाहरण हैं
  • परिकल्पना (Hypothesis): छात्र प्रदान किए गए उदाहरणों के आधार पर परिकल्पना उत्पन्न करते हैं
  • परीक्षण (Test): छात्र अतिरिक्त उदाहरणों की जाँच करके अपनी परिकल्पना का परीक्षण करते हैं
  • प्रतिक्रिया (Feedback): शिक्षक छात्रों को उनकी परिकल्पना की वैधता के बारे में प्रतिक्रिया प्रदान करता है

III. CMA के लाभ (Benefits of the CAM)

  • सीखने की प्रक्रिया में सक्रिय जुड़ाव को प्रोत्साहित करता है
  • महत्वपूर्ण सोच कौशल विकसित करता है
  • विभिन्न वस्तुओं के बीच समानताओं और संबंधों को पहचानने की क्षमता को बढ़ाता है
  • व्यक्तिगत सीखने के अनुभवों की अनुमति देता है

IV. CAM का वास्तविक जीवन उदाहरण (Real-Life Example of the CAM)

3rd कक्षा के छात्रों के एक समूह को “विषम संख्या” की अवधारणा को पढ़ाना:

  • उदाहरण (Example): शिक्षक संख्या 1, 3, 5, और 7 को विषम संख्याओं के धनात्मक उदाहरण के रूप में और 2, 4, 6 और 8 को ऋणात्मक उदाहरण के रूप में प्रस्तुत करता है।
  • परिकल्पना (Hypothesis): छात्र परिकल्पना उत्पन्न करते हैं कि विषम संख्याएँ वे हैं जिन्हें 2 से समान रूप से विभाजित नहीं किया जा सकता है।
  • परीक्षण (Test): छात्र 9, 11 और 13 जैसे अतिरिक्त उदाहरणों की जांच करके और यह पुष्टि करते हुए कि वे वास्तव में विषम हैं, अपनी परिकल्पना का परीक्षण करते हैं।
  • प्रतिक्रिया (Feedback): शिक्षक छात्रों को प्रतिक्रिया प्रदान करता है, उनकी परिकल्पना की वैधता की पुष्टि करता है और विषम संख्याओं की अवधारणा को और मजबूत करता है।

ब्रूनर परिभाषाएँ

(Brunner definition)

Bruner-model-of-teaching-Notes-in-Hindi-CAM
Bruner-model-of-teaching-Notes-in-Hindi-CAM

जेरोम ब्रूनर (Jerome Brunner), एक अमेरिकी मनोवैज्ञानिक, ने अनुभूति और सीखने से संबंधित कई परिभाषाओं का योगदान दिया। यहाँ उनकी दो उल्लेखनीय परिभाषाएँ हैं:

धारणा (Notion): वेकर के वैसर पदावली के अनुसार, “एक धारणा एक विचार, एक संपत्ति, एक मानसिक प्रतिबिंब है जो व्यक्तिगत उदाहरणों का एक सामान्यीकरण है।” यह परिभाषा इस विचार पर प्रकाश डालती है कि विचार मानसिक प्रतिनिधित्व हैं जो विशिष्ट उदाहरणों में सामान्यीकरण करते हैं। उदाहरण के लिए, “कुत्ते” की धारणा में विशिष्ट कुत्तों के साथ व्यक्तिगत अनुभवों के आधार पर कुत्तों की विभिन्न नस्लों, आकारों और रंगों के मानसिक प्रतिनिधित्व शामिल हो सकते हैं।

उद्दीपन (Stimulus): डी सैको (D’Sacco) के अनुसार, “उत्तेजना एक वर्ग के रूप में होती है जिसकी सामान्य विशेषताएं होती हैं। पुस्तक, शहर, क्रिया, विश्लेषण, ठोस, तरल, बर्फ, सर्कस, बगीचा, घर, आदि सभी अवधारणाएँ हैं।” यह परिभाषा इस विचार पर जोर देती है कि उद्दीपक केवल व्यक्तिगत, अलग-थलग घटनाएँ नहीं हैं, बल्कि बड़ी श्रेणियों या वर्गों का हिस्सा हैं। उदाहरण के लिए, एक “पुस्तक” के प्रोत्साहन में विभिन्न प्रकार की पुस्तकों का मानसिक प्रतिनिधित्व शामिल हो सकता है, जैसे कि कल्पना, गैर-कल्पना, पाठ्यपुस्तकें और चित्र पुस्तकें।

चलो एक बार उदाहरण द्वारा अच्छे से समझते है :

मान लीजिए कि एक शिक्षक “न्याय” की अवधारणा पर एक इकाई पढ़ा रहा है। छात्रों को अवधारणा को बेहतर ढंग से समझने में मदद करने के लिए शिक्षक ब्रूनर की परिभाषाओं का उपयोग कर सकते हैं:

  • धारणा (Notion): शिक्षक छात्रों से उन स्थितियों के विशिष्ट उदाहरण साझा करने के लिए कह सकता है जिन्हें वे “न्यायसंगत” या “अन्यायपूर्ण” मानते हैं। फिर, शिक्षक छात्रों को इन स्थितियों की सामान्य विशेषताओं या गुणों की पहचान करने में मदद कर सकता है, जैसे कि निष्पक्षता, समानता और परिणाम।
  • प्रोत्साहन (Stimulus): जब छात्र न्याय की अवधारणा का पता लगाते हैं, तो शिक्षक उन्हें यह समझने में भी मदद कर सकते हैं कि कैसे यह अवधारणा बड़ी श्रेणियों या उत्तेजनाओं की कक्षाओं में फिट बैठती है। उदाहरण के लिए, शिक्षक चर्चा कर सकता है कि कैसे न्याय की अवधारणा अन्य अवधारणाओं, जैसे कानून, नैतिकता और नैतिकता से संबंधित है।

ब्रूनर की परिभाषाओं का उपयोग करके, शिक्षक छात्रों को न्याय की अवधारणा की गहरी और अधिक सूक्ष्म समझ विकसित करने में मदद कर सकता है, जबकि इस अवधारणा को अन्य संबंधित विचारों और अनुभवों से भी जोड़ सकता है।

Also Read: B.Ed COMPLETE Project File IN HINDI FREE DOWNLOAD


ब्रूनर अनुमान

(Bruner Assumptions)

जेरोम ब्रूनर ने लोगों के सीखने और अवधारणाओं को विकसित करने के तरीके के बारे में कई धारणाएँ बनाईं। यहाँ उनकी कुछ प्रमुख धारणाएँ हैं:

  • अवधारणा बनाने की क्षमता (Concept-making ability): ब्रूनर का मानना था कि मनुष्य के पास वस्तुओं को अलग-अलग श्रेणियों या वर्गों में भेदभाव और वर्गीकृत करने की प्राकृतिक क्षमता है। यह क्षमता हमें अपने आसपास के जटिल और विविध वातावरण को समझने की अनुमति देती है।
  • जटिलताओं को कम करना (Reducing complications): वस्तुओं को वर्गों में विभाजित करके, हम पर्यावरण की जटिलता को कम कर सकते हैं और अपने आसपास की दुनिया में वस्तुओं को बेहतर ढंग से समझ सकते हैं। वर्गीकरण की यह प्रक्रिया हमें उन वस्तुओं को पहचानने और समझने में मदद करती है जिनका हम सामना करते हैं।
  • अवधारणा के तत्व (Elements of concept): ब्रूनर के अनुसार, एक अवधारणा के पांच प्रमुख तत्व हैं: नाम, उदाहरण, गुण, गुण मान और नियम। ये तत्व हमें अवधारणाओं को बनाने और समझने में मदद करते हैं।

जेरोम ब्रूनर के अनुसार अवधारणा के पाँच तत्व होते हैं:

  1. नाम (Name): नाम एक अवधारणा का पहला तत्व है। यह किसी विशेष वर्ग की चीजों को दिए गए लेबल को संदर्भित करता है, जैसे कि – किताब, पहाड़, शहर, खिलौना, आदि। एक अवधारणा का नाम व्यक्तियों को वस्तुओं को विभिन्न वर्गों में पहचानने और वर्गीकृत करने में मदद करता है।
  2. उदाहरण (Examples): उदाहरण एक अवधारणा का दूसरा तत्व है। दो प्रकार के उदाहरण हैं: सकारात्मक और नकारात्मक। सकारात्मक उदाहरण उन उदाहरणों को संदर्भित करते हैं जो किसी विशेष अवधारणा से संबंधित होते हैं, जबकि नकारात्मक उदाहरण ऐसे उदाहरण होते हैं जो उस अवधारणा से संबंधित नहीं होते हैं। उदाहरण के लिए, यदि अवधारणा “फल” है, तो एक सकारात्मक उदाहरण “सेब” या “नारंगी” होगा, जबकि एक नकारात्मक उदाहरण “कुर्सी” या “टेबल” होगा।
  3. विशेषताएँ (Attributes): विशेषताएँ सरल विशेषताएँ हैं जो उदाहरणों को एक ही वर्ग में रखने का कारण बनती हैं। हालाँकि, किसी विशेष अवधारणा के लिए सभी विशेषताएँ अनिवार्य नहीं हैं। उदाहरण के लिए, अवधारणा “फल” की विशेषताओं में खाद्य होना, बीज होना और पेड़ों या झाड़ियों पर उगना शामिल है।
  4. विशेषता मान (Attribute Values): प्रत्येक विशेषता का एक विशेषता मान होता है, जो किसी विशेष उदाहरण में किसी विशेष गुण की उपस्थिति की डिग्री को प्रकट करता है। उदाहरण के लिए, अवधारणा “फल” के लिए विशेषता मानों में वह डिग्री शामिल होती है जिसमें एक उदाहरण मीठा, खट्टा, रसदार या पका हुआ होता है।
  5. नियम (Rule): एक नियम एक अवधारणा के आवश्यक गुणों का एक कथन या परिभाषा है। शिक्षक अपने परिणामों को सारांशित करने के लिए नियमों का उपयोग करते हैं, और वे व्यक्तियों को किसी विशेष अवधारणा की आवश्यक विशेषताओं को समझने में सहायता करते हैं।

कुल मिलाकर, एक अवधारणा के पांच तत्व (नाम, उदाहरण, विशेषताएँ, गुण मान और नियम) व्यक्तियों को उनके आसपास की दुनिया को वर्गीकृत करने और समझने में मदद करते हैं। इन तत्वों का उपयोग करके व्यक्ति अपने पर्यावरण की जटिलता को कम कर सकते हैं और दुनिया की वस्तुओं को पहचान सकते हैं।

  • वर्ग निर्माण की प्रक्रिया (Process of class formation): विभिन्न वस्तुओं को उनके गुणों के आधार पर विभिन्न वर्गों में रखा जाता है। वर्ग निर्माण की प्रक्रिया के दो तत्व हैं: वर्ग निर्माण का कार्य और वैचारिक उपलब्धि का कार्य।
  • समान रणनीतियाँ (Similar strategies): जबकि सिमेंटिक कक्षाओं की सामग्री एक संस्कृति से दूसरी संस्कृति में भिन्न हो सकती है, ब्रूनर का मानना था कि वर्ग-निर्माण या अवधारणा-निर्माण में शामिल प्रक्रियाएँ सभी संस्कृतियों में समान हैं।
  • संकल्पना निश्चित करना (Fixing the concept): किसी संकल्पना को प्राप्त करने के लिए पहले संकल्पना का निर्धारण किया जाता है और फिर उस संकल्पना के तत्वों का निर्धारण किया जाता है।
  • भाषा की भूमिका (Role of language): भाषा अवधारणाओं के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यह अनुभवों को व्यवस्थित करने और उन्हें ज्ञान में बदलने में मदद करता है।
  • सीखने की तत्परता (Readiness to learn): ब्रूनर के अनुसार, सीखना तभी हो सकता है जब सीखने वाला सीखने के लिए तैयार हो। शिक्षकों को एक उपयुक्त सीखने का माहौल प्रदान करना चाहिए जो शिक्षार्थी की तैयारी का समर्थन करता है।
  • सक्रिय भागीदारी (Active participation): ब्रूनर सीखने की प्रक्रिया में शिक्षार्थी की सक्रिय भागीदारी के महत्व पर जोर देता है। छात्रों को स्वयं प्रश्न पूछने, अन्वेषण करने और अवधारणा की खोज करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।
  • सर्पिल पाठ्यक्रम (Spiral curriculum): ब्रूनर ने सर्पिल पाठ्यक्रम की अवधारणा पेश की, जो नियमित अंतराल पर अवधारणाओं की समीक्षा और समीक्षा के महत्व पर जोर देती है। पाठ्यचर्या को इस तरह से संरचित किया जाना चाहिए कि छात्र नई अवधारणाओं को सीखें और साथ ही पहले सीखी गई अवधारणाओं पर दोबारा गौर करें और उन्हें मजबूत करें।

वास्तविक जीवन का उदाहरण: जानवरों के बारे में पढ़ाने वाला शिक्षक जानवरों को विभिन्न श्रेणियों जैसे स्तनधारी, पक्षी, सरीसृप, उभयचर और मछली में वर्गीकृत करने की अवधारणा का उपयोग कर सकता है। शिक्षक प्रत्येक श्रेणी से संबंधित जानवरों के उदाहरण प्रदान कर सकता है और प्रत्येक श्रेणी को परिभाषित करने वाली विशेषताओं की व्याख्या भी कर सकता है। छात्र प्रश्न पूछकर और विभिन्न जानवरों की विशेषताओं की खोज करके सीखने की प्रक्रिया में सक्रिय रूप से भाग ले सकते हैं। शिक्षक अनुभवों को व्यवस्थित करने और उन्हें ज्ञान में बदलने के लिए भाषा का उपयोग कर सकता है। सर्पिल पाठ्यक्रम को नियमित अंतराल पर पशु वर्गीकरण की अवधारणाओं की समीक्षा और समीक्षा करके लागू किया जा सकता है, जबकि जानवरों से संबंधित नई अवधारणाओं को भी पेश किया जा सकता है।

चलो एक बार उदाहरण द्वारा अच्छे से समझते है:

मान लीजिए कि एक शिक्षक “जानवरों” की अवधारणा पर एक इकाई पढ़ा रहा है। छात्रों को अवधारणा को बेहतर ढंग से समझने में मदद करने के लिए शिक्षक ब्रूनर की मान्यताओं का उपयोग कर सकते हैं:

  • अवधारणा बनाने की क्षमता (Concept-making ability): शिक्षक छात्रों से उन विभिन्न जानवरों की पहचान करने के लिए कह कर शुरू कर सकते हैं जिनके बारे में वे जानते हैं। विभिन्न प्रकार के जानवरों को पहचान कर, छात्र वस्तुओं को विभिन्न श्रेणियों या वर्गों में भेदभाव और वर्गीकृत करने की अपनी प्राकृतिक क्षमता का प्रदर्शन कर रहे हैं।
  • जटिलताओं को कम करना (Reducing complications): जैसे-जैसे छात्र विभिन्न जानवरों के बारे में अधिक सीखते हैं, शिक्षक इन जानवरों को विभिन्न वर्गों या समूहों में वर्गीकृत करने में उनकी मदद कर सकते हैं। यह वर्गीकरण प्रक्रिया पर्यावरण की जटिलता को कम करने में मदद कर सकती है और छात्रों के लिए विभिन्न प्रकार के जानवरों को समझना आसान बना सकती है।
  • अवधारणा के तत्व (Elements of concept): शिक्षक छात्रों को समझा सकते हैं कि “जानवरों” की अवधारणा में पाँच प्रमुख तत्व हैं: नाम, उदाहरण, विशेषताएँ, गुण मान और नियम। शिक्षक इन तत्वों में से प्रत्येक का उदाहरण प्रदान कर सकता है, जैसे कि विभिन्न प्रकार के जानवर जो “जानवरों” की श्रेणी में आते हैं, वे विशेषताएँ जो सभी जानवरों को साझा करते हैं, और नियम जो जानवरों के व्यवहार को नियंत्रित करते हैं।
  • कक्षा निर्माण की प्रक्रिया (Process of class formation): जब छात्र विभिन्न जानवरों के बारे में अधिक सीखते हैं, तो शिक्षक उन्हें यह समझने में मदद कर सकते हैं कि विभिन्न जानवरों को उनके गुणों के आधार पर विभिन्न वर्गों में कैसे रखा जाता है। उदाहरण के लिए, शिक्षक समझा सकते हैं कि कैसे स्तनधारी पक्षियों, सरीसृपों और मछलियों से उनकी शारीरिक विशेषताओं के आधार पर भिन्न होते हैं।
  • समान रणनीतियाँ (Similar strategies): शिक्षक इस बात पर भी चर्चा कर सकते हैं कि किस प्रकार वर्ग-निर्माण या अवधारणा-निर्माण की प्रक्रिया सभी संस्कृतियों में समान है, भले ही सिमेंटिक कक्षाओं की विशिष्ट सामग्री एक संस्कृति से दूसरी संस्कृति में भिन्न हो।
  • अवधारणा को ठीक करना (Fixing the concept): अंत में, शिक्षक अवधारणा के प्रमुख तत्वों को सारांशित करके और विभिन्न प्रकार के जानवरों के उदाहरणों की समीक्षा करके छात्रों को उनके दिमाग में “जानवरों” की अवधारणा को ठीक करने में मदद कर सकते हैं।

Overview of the Bruner Concept – Element of CAM (Concept Attainment Model)

(ब्रूनर अवधारणा का अवलोकन – CAM का तत्व (अवधारणा प्राप्ति मॉडल))

Concept Attainment Model (CAM) 1950 के दशक में जेरोम ब्रूनर द्वारा विकसित एक निर्देशात्मक मॉडल है। यह छात्रों को विभिन्न अवधारणाओं के बीच पहचानने और अंतर करने में मदद करके आगमनात्मक तर्क कौशल को बढ़ावा देने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यहाँ मॉडल के कुछ प्रमुख तत्व हैं:

  • केंद्र (Focus): कॉन्सेप्ट अटेनमेंट मॉडल का मुख्य फोकस छात्रों की आगमनात्मक तर्क शक्ति का विकास करना है। इसका उद्देश्य एक स्पष्ट प्रक्रिया प्रस्तुत करना है जिसके द्वारा हम वस्तुओं, लोगों, घटनाओं और गुणों के बीच अंतर करते हैं और उन्हें तदनुसार वर्गीकृत करते हैं। उदाहरण के लिए, यदि अवधारणा “स्वस्थ भोजन” है, तो छात्रों को स्वस्थ खाद्य पदार्थों की विशेषताओं की पहचान करना और उन्हें अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थों से अलग करना सिखाया जाएगा।
  • वाक्य – विन्यास (Syntax): संकल्पना प्राप्ति मॉडल में तीन प्रकार की संरचनाएँ शामिल हैं:
  1. उपलब्धि का अवधारणा-ग्रहण मॉडल (Concept-Eclipse Model of Achievement): इस संरचना में छात्रों को अवधारणा की स्पष्ट समझ विकसित करने में मदद करने के लिए नकारात्मक लोगों को बाहर करते हुए एक अवधारणा के सकारात्मक उदाहरण प्रस्तुत करना शामिल है।
  2. अवधारणा उपलब्धि के चयन प्रतिनिधित्व की संरचना (Structure of the selected representation of concept achievement): इस संरचना में विभिन्न प्रकार के उदाहरण प्रस्तुत करना शामिल है जिनमें छात्रों को अवधारणा की पहचान करने में मदद करने के लिए कुछ सामान्य है।
  3. असंगठित सामग्री प्रतिनिधित्व की संरचना (Structure of unorganized material representation): इस संरचना में ऐसे उदाहरणों का मिश्रण प्रस्तुत करना शामिल है जो स्पष्ट रूप से एक दूसरे से संबंधित नहीं हैं ताकि छात्रों को उन्मूलन की प्रक्रिया के माध्यम से अवधारणा की पहचान करने में मदद मिल सके।
  • सामाजिक व्यवस्था (Social System): कॉन्सेप्ट अटेनमेंट मॉडल सीखने की स्थितियों में मध्यम स्तर की संरचनात्मक स्वतंत्रता प्रदान करता है। शिक्षक शिक्षा को नियंत्रित करता है, तथ्यों और उदाहरणों को प्रस्तुत करता है, और निर्णय करता है कि अवधारणा के उदाहरण के रूप में प्रस्तुत उदाहरण इससे संबंधित हैं या नहीं।
  • प्रतिक्रिया का सिद्धांत (Principle of Feedback): शिक्षक को छात्रों की अवधारणाओं के प्रति एक सहायक दृष्टिकोण अपनाना चाहिए। हालाँकि, इस बात पर भी जोर दिया जाना चाहिए कि प्राकृतिक रूप में अनुमानित और काल्पनिक विचार हैं। जैसा कि बच्चों को अवधारणा के गुणों के बारे में सिखाया जा रहा है, शिक्षक को छात्रों को प्रतिक्रिया प्रदान करने के लिए इसके साथ लिखना या रिकॉर्ड करना चाहिए।
  • सहायक प्रणाली (Auxiliary System): कॉन्सेप्ट अटेनमेंट मॉडल सकारात्मक और नकारात्मक उदाहरण प्रस्तुत करने के लिए ब्लैकबोर्ड या फ्लैशकार्ड जैसी सहायक प्रणालियों का उपयोग करता है जिन्हें फलालैन बोर्ड पर प्रदर्शित किया जा सकता है। छात्रों को तथ्यों, आंकड़ों और सामग्रियों के स्रोतों को जानना चाहिए।
  • प्रयोग (Experimentation): अवधारणा उपलब्धि मॉडल प्रयोग को प्रोत्साहित करता है और एक उत्कृष्ट मूल्यांकन उपकरण है। आगमनात्मक तर्क के माध्यम से युवा शिक्षार्थियों को अवधारणाओं को पढ़ाने का यह एक शानदार तरीका है और इसका उपयोग सभी उम्र और ग्रेड स्तर के छात्रों के लिए किया जा सकता है।

कुल मिलाकर, अवधारणा प्राप्ति मॉडल उन शिक्षकों के लिए एक उपयोगी निर्देशात्मक मॉडल है जो छात्रों को उनके आगमनात्मक तर्क कौशल विकसित करने में मदद करना चाहते हैं। सकारात्मक और नकारात्मक उदाहरणों का उपयोग करके, संबंधित और असंबंधित अवधारणाओं का मिश्रण प्रस्तुत करके, और छात्रों को प्रतिक्रिया प्रदान करके, शिक्षक विभिन्न अवधारणाओं को बेहतर ढंग से समझने और उनमें अंतर करने में छात्रों की मदद कर सकते हैं।

Also Read: KVS COMPLETE NOTES IN HINDI FREE DOWNLOAD


ब्रूनर गुण और सीएएम की सीमाएं

(Bruner Merits and Limits of CAM)

Concept Attainment Model (CAM) 1950 के दशक में जेरोम ब्रूनर द्वारा विकसित एक निर्देशात्मक मॉडल है। जबकि मॉडल के कई लाभ हैं, इसके बारे में जागरूक होने की कुछ सीमाएँ भी हैं। यहाँ CAM मॉडल की खूबियाँ और सीमाएँ हैं:

गुण (Merits):

  • तर्क शक्ति का विकास करता है (Develops reasoning power): कॉन्सेप्ट अटेनमेंट मॉडल का मुख्य लाभ यह है कि यह छात्रों की तर्क शक्ति को विकसित करने में मदद करता है। विभिन्न अवधारणाओं के बीच अंतर करना सीखकर, छात्र व्यवस्थित रूप से चीजों का विश्लेषण करने और विभिन्न स्थितियों में अपने ज्ञान को लागू करने में सक्षम होते हैं। उदाहरण के लिए, यदि छात्र “स्वस्थ भोजन” की अवधारणा के बारे में सीखते हैं, तो वे उस ज्ञान को अपने दैनिक जीवन में स्वस्थ विकल्प बनाने के लिए लागू कर सकते हैं।
  • कल्पना और क्षमता विकसित करता है (Develops imagination and abilities): सीएएम छात्रों की कल्पना और क्षमताओं को विकसित करने में भी मदद करता है। संबंधित और असंबंधित अवधारणाओं का मिश्रण प्रस्तुत करके, छात्रों को रचनात्मक रूप से सोचने और विभिन्न विचारों के बीच संबंध बनाने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।
  • बौद्धिक विकास (Intellectual development): सीएएम के प्रयोग से छात्रों में बौद्धिक विकास भी हो सकता है। उन्हें कैसे सोचना और तर्क करना सिखाकर, छात्र जटिल विचारों को समझने और समस्याओं को हल करने के लिए बेहतर ढंग से सुसज्जित होते हैं।
  • सक्रिय अध्ययन (Active learning): सीएएम सक्रिय सीखने को बढ़ावा देता है, जहां छात्र शिक्षण-सीखने की प्रक्रिया के दौरान हर पल व्यस्त रहता है। यह छात्रों को रुचि रखने और अपने स्वयं के सीखने में निवेश करने में मदद करता है।
  • स्वाध्याय की आदत (Self-study habit): CAM छात्रों में स्वाध्याय (स्वाध्याय) की आदत भी विकसित करता है। चीजों को स्वयं सीखने और उनका विश्लेषण करने के लिए उन्हें प्रोत्साहित करने से, छात्र अधिक आत्मनिर्भर और स्वतंत्र शिक्षार्थी बन जाते हैं।

सीमाएं (Limits):

  • अनुचित परिकल्पनाएँ (Inappropriate hypotheses): कभी-कभी, छात्र अनुचित परिकल्पनाएँ बना सकते हैं, जो उनकी सोच को गलत दिशा में ले जा सकती हैं। यह सीएएम मॉडल की एक सीमा हो सकती है, क्योंकि यह सही धारणा बनाने वाले छात्रों पर निर्भर करता है।
  • गंभीरता का अभाव (Lack of seriousness): कुछ छात्र सीएएम मॉडल को गंभीरता से नहीं ले सकते हैं, जो उनके सीखने को प्रभावित कर सकता है। मॉडल को प्रभावी होने के लिए सभी छात्रों से सक्रिय भागीदारी की आवश्यकता है।
  • निष्क्रिय शिक्षार्थी (Passive learners): CMA मॉडल के दौरान कुछ छात्र निष्क्रिय और मौन रह सकते हैं, जो प्रक्रिया में उनके सीखने और जुड़ाव को सीमित कर सकता है।
  • शिक्षक की तैयारी (Teacher preparation): CAM मॉडल के लिए शिक्षकों से महत्वपूर्ण तैयारी की आवश्यकता होती है, जिन्हें सावधानीपूर्वक उदाहरणों का चयन करना चाहिए और अपने छात्रों के लिए एक सहायक शिक्षण वातावरण बनाना चाहिए।

निष्कर्ष: कुल मिलाकर, अवधारणा उपलब्धि मॉडल उन शिक्षकों के लिए एक उपयोगी निर्देशात्मक मॉडल है जो छात्रों को उनकी तर्क शक्ति और कल्पना को विकसित करने में मदद करना चाहते हैं। जबकि जागरूक होने के लिए कुछ सीमाएँ हैं, सीएएम छात्रों में सक्रिय सीखने और बौद्धिक विकास को बढ़ावा देने के लिए एक प्रभावी उपकरण बना हुआ है।


Also Read:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy link
Powered by Social Snap