Psychology Learning notes in Hindi (Complete Pdf Download)

Psychology-Learning-notes-in-Hindi-Complete-Pdf-Download

Psychology Learning notes in Hindi

(मनोविज्ञान सीखने के नोट्स हिंदी में) (अधिगम)

आज हम आपको Psychology Learning notes in Hindi (मनोविज्ञान सीखने के नोट्स हिंदी में) के नोट्स देने जा रहे है जिनको पढ़कर आपके ज्ञान में वृद्धि होगी और आप अपनी कोई भी टीचिंग परीक्षा पास कर सकते है | ऐसे हे और नोट्स फ्री में पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट पर रेगुलर आते रहे हम नोट्स अपडेट करते रहते है | तो चलिए जानते है, Psychology Learning (अधिगम) के बारे में विस्तार से |


“Tell me and I forget, teach me and I may remember, involve me and I learn.”

“मुझे बताओ और मैं भूल जाता हूँ, मुझे सिखाओ और मैं याद रख सकता हूँ, मुझे शामिल करो और मैं सीखता हूँ।”

Benjamin Franklin (1706-1790)

बेंजामिन फ्रैंकलिन का उद्धरण अनुभवात्मक शिक्षा के महत्व पर जोर देता है, जहां व्यक्ति सूचना के निष्क्रिय प्राप्तकर्ता होने के बजाय सीखने की प्रक्रिया में सक्रिय रूप से लगे रहते हैं।

केवल किसी को कुछ बताना उनके लिए जानकारी बनाए रखने के लिए पर्याप्त नहीं हो सकता है क्योंकि वे इसके साथ सक्रिय रूप से नहीं जुड़े हैं। शिक्षण अधिक प्रभावी हो सकता है, क्योंकि यह व्यक्तियों को संरचित तरीके से जानकारी प्राप्त करने की अनुमति देता है, लेकिन यह अभी भी उनके लिए जानकारी को पूरी तरह से समझने या याद रखने के लिए पर्याप्त नहीं हो सकता है।

हालांकि, सीखने की प्रक्रिया में व्यक्तियों को शामिल करना, जैसे व्यावहारिक गतिविधियों या समस्या को सुलझाने के अभ्यास के माध्यम से, उन्हें जानकारी के साथ सक्रिय रूप से जुड़ने और इसे व्यावहारिक तरीके से लागू करने की अनुमति देता है। इस तरह के अनुभवात्मक अधिगम को दीर्घकालिक प्रतिधारण और ज्ञान के अनुप्रयोग के लिए अत्यधिक प्रभावी दिखाया गया है।

इसलिए, यदि आप किसी को सीखने में मदद करना चाहते हैं, तो न केवल उन्हें जानकारी प्रदान करना या उन्हें पढ़ाना महत्वपूर्ण है, बल्कि उन्हें सीखने की प्रक्रिया में यथासंभव शामिल करना भी महत्वपूर्ण है।


सीखने की अवधारणा

(The Concept of Learning)

  • सीखना व्यवहार में बदलाव को संदर्भित करता है जो अभ्यास या अनुभव से उत्पन्न होता है।
  • व्यवहार में सभी परिवर्तनों को सीखना नहीं माना जाता है, जैसे कि थकान, बीमारी, दवा या परिपक्वता के कारण।
  • मनोविज्ञान में सीखने का उद्देश्य व्यक्तियों को उनके पर्यावरण में समायोजित करने में मदद करना है।
  • सीखने में कुछ सीखने, अभ्यास करने या अनुभव करने के माध्यम से ज्ञान या कौशल प्राप्त करना शामिल है।
  • सीखना एक व्यापक शब्द है जिसका परिणाम किसी व्यक्ति के व्यवहार और सोच पर स्थायी प्रभाव पड़ता है।

उदाहरण: मान लीजिए कि कोई छात्र कक्षा में गणित की समस्याओं से जूझ रहा है। ट्यूशन सत्र में भाग लेने और नियमित रूप से अभ्यास करने के बाद, छात्र की गणित की समस्याओं को हल करने की क्षमता में सुधार होता है। व्यवहार में यह परिवर्तन सीखने का एक उदाहरण है क्योंकि यह अभ्यास और अनुभव का परिणाम है, जिससे छात्र के कौशल और गणित की समझ पर स्थायी प्रभाव पड़ता है। दूसरी ओर, यदि उसी छात्र के गणित कौशल में ADHD की दवा के कारण सुधार होता है, तो इसे सीखना नहीं माना जाएगा क्योंकि यह अभ्यास या अनुभव का परिणाम नहीं था।


सीखने की प्रमुख परिभाषाएँ

(Key Definitions of Learning)

  • रिले और लुईस द्वारा परिभाषा (Definition by Riley and Lewis): रिले और लुईस के अनुसार, सीखना व्यवहार में एक अपेक्षाकृत स्थायी परिवर्तन है जो अनुभव या अभ्यास के परिणामस्वरूप होता है। यह परिभाषा बताती है कि सीखना व्यवहार में केवल एक अस्थायी परिवर्तन नहीं है बल्कि स्थायी है। उदाहरण के लिए, यदि कोई व्यक्ति साइकिल चलाना सीखता है, तो व्यवहार में परिवर्तन (बाइक चलाने की क्षमता) उसके साथ लंबे समय तक बना रहेगा।
    उदाहरण – एक बच्चा तैरना सीखने के बाद तैरना सीखता है। व्यवहार में परिवर्तन (तैरने की क्षमता) अपेक्षाकृत स्थायी है और लंबे समय तक न तैरने पर भी उनके साथ रहेगा।
  • गेट्स एट अल द्वारा परिभाषा (Definition by Gates et al): गेट्स और अन्य सीखने को व्यवहार में बदलाव के रूप में परिभाषित करते हैं जो अनुभव और प्रशिक्षण के माध्यम से होता है। यह परिभाषा सीखने की प्रक्रिया में अनुभव और प्रशिक्षण की भूमिका पर प्रकाश डालती है। इसका एक उदाहरण तब हो सकता है जब एक बच्चा मोमबत्ती की लौ को देखता है और उसे छूने की कोशिश करता है, लेकिन जल जाता है। इस अनुभव से बच्चा सीखता है कि आग गर्म होती है और नुकसान पहुंचा सकती है।
    उदाहरण – एक बच्चा गर्म चूल्हे को छूता है और जल्दी से उसे दोबारा नहीं छूना सीख जाता है। व्यवहार में यह बदलाव (स्टोव को छूना नहीं) जलने के अनुभव के परिणामस्वरूप होता है।
  • क्रो और क्रो द्वारा परिभाषा (Definition by Crowe and Crowe): क्रो और क्रो सीखने को आदतों, ज्ञान और दृष्टिकोण के अधिग्रहण के रूप में परिभाषित करते हैं। यह परिभाषा बताती है कि सीखना केवल ज्ञान प्राप्त करना नहीं है, बल्कि आदतों और दृष्टिकोणों को विकसित करना भी है। उदाहरण के लिए, जब एक बच्चा हर सुबह अपने दाँत ब्रश करना सीखता है, तो वह एक ऐसी आदत विकसित कर रहा होता है जो उसे दीर्घकाल में लाभ पहुँचाती है।
    उदाहरण – एक छात्र विभिन्न समस्याओं का अध्ययन और अभ्यास करके गणित सीखता है। वे इस प्रक्रिया के माध्यम से ज्ञान और आदतें दोनों प्राप्त करते हैं (जैसे कि किसी समस्या को कैसे हल किया जाए)।
  • हार्लॉक द्वारा परिभाषा (Definition by Harlock): हारलॉक ने सीखने को विकास के रूप में परिभाषित किया है जो अभ्यास और प्रयास के माध्यम से आता है। यह परिभाषा बताती है कि सीखने के लिए प्रयास और अभ्यास की आवश्यकता होती है और यह विकास की एक प्रक्रिया है। उदाहरण के लिए, जब कोई बच्चा चलना सीखता है, तो उसे अपने दम पर आत्मविश्वास से चलने से पहले अभ्यास करने और प्रयास करने की आवश्यकता होती है।
    उदाहरण – एक संगीतकार नियमित अभ्यास और प्रयास के माध्यम से एक वाद्य यंत्र बजाना सीखता है। एक संगीतकार के रूप में उनका विकास अभ्यास और प्रयास के माध्यम से होता है जो वे सीखने और अपने कौशल में सुधार करने में लगाते हैं।

कुल मिलाकर, सीखने की ये परिभाषाएँ सीखने की प्रक्रिया में अनुभव, अभ्यास और प्रयास के महत्व पर प्रकाश डालती हैं। वे इस बात पर भी जोर देते हैं कि सीखना व्यवहार या विकास में एक अपेक्षाकृत स्थायी परिवर्तन है जो इन कारकों के परिणामस्वरूप होता है।


अपेक्षाकृत स्थायी परिवर्तन क्या है?

(What is relatively permanent change?)

अपेक्षाकृत स्थायी परिवर्तन व्यवहार में उन परिवर्तनों को संदर्भित करता है जो क्षणिक या अल्पकालिक नहीं होते हैं, लेकिन जरूरी नहीं कि स्थायी पैटर्न भी हों। यहाँ कुछ बिंदु हैं जो इस अवधारणा को वास्तविक जीवन के उदाहरण के साथ समझाते हैं:

  1. सीखना सहज नहीं है बल्कि यह आनुवंशिक संसाधनों का उपयोग करके कौशल प्राप्त करने की एक प्रक्रिया है। (Learning is not innate but it is a process of acquiring skills using genetic resources)
    सीखना कोई ऐसी चीज नहीं है जिसके साथ हम पैदा हुए हैं। बल्कि, यह अनुभव, अवलोकन और निर्देश के माध्यम से कौशल, ज्ञान और व्यवहार प्राप्त करने की एक प्रक्रिया है।
    उदाहरण के लिए, एक बच्चा परीक्षण और त्रुटि, दूसरों के अवलोकन और माता-पिता या बड़े भाई-बहन के निर्देश के माध्यम से बाइक चलाना सीख सकता है। एक बार जब बच्चा बाइक चलाना सीख जाता है, तो कौशल अपेक्षाकृत स्थायी हो सकता है, लेकिन यह जन्मजात क्षमता नहीं है।
  2. व्यवहार में अस्थायी परिवर्तन सीखना नहीं है। (Temporary change in behavior is not learning)
    व्यवहार में अस्थायी परिवर्तन को अधिगम नहीं माना जाता है क्योंकि वे अपेक्षाकृत स्थायी परिवर्तनों का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं।
    उदाहरण के लिए, एक व्यक्ति डरावनी फिल्म देखने के बाद व्यवहार में अस्थायी परिवर्तन का अनुभव कर सकता है, जैसे चिंतित या भयभीत महसूस करना। हालांकि, व्यवहार में यह बदलाव अल्पकालिक रहने की संभावना है और यह व्यक्ति के व्यवहार में अपेक्षाकृत स्थायी परिवर्तन का प्रतिनिधित्व नहीं करेगा।
  3. सीखने से सकारात्मक और नकारात्मक दोनों तरह के बदलाव आ सकते हैं। (Learning can lead to both positive and negative changes)
    सीखने के परिणामस्वरूप व्यवहार में सकारात्मक और नकारात्मक दोनों परिवर्तन हो सकते हैं।
    उदाहरण के लिए, एक व्यक्ति सीख सकता है कि सिगरेट पीने से विश्राम की एक अस्थायी भावना प्रदान की जा सकती है, लेकिन यह लंबे समय में नकारात्मक स्वास्थ्य परिणाम भी पैदा कर सकता है। इसी तरह, एक व्यक्ति सीख सकता है कि नियमित रूप से व्यायाम करने से उनके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है, जिससे उनके व्यवहार में सकारात्मक बदलाव आ सकते हैं।

अंत में, अपेक्षाकृत स्थायी परिवर्तन व्यवहार में उन परिवर्तनों को संदर्भित करता है जो क्षणिक या अल्पकालिक नहीं होते हैं, लेकिन जरूरी नहीं कि स्थायी पैटर्न भी हों। सीखना कौशल, ज्ञान और व्यवहार को अनुभव, अवलोकन और निर्देश के माध्यम से प्राप्त करने की प्रक्रिया है, जिससे व्यवहार में सकारात्मक और नकारात्मक दोनों परिवर्तन हो सकते हैं।


सीखने की प्रकृति और विशेषताएँ

(Nature and Characteristics of Learning)

सीखना एक जटिल और गतिशील प्रक्रिया है जिसमें ज्ञान, कौशल और व्यवहार का अधिग्रहण शामिल है। यहां कुछ बिंदु दिए गए हैं जो वास्तविक जीवन के उदाहरण के साथ-साथ सीखने की प्रकृति और विशेषताओं का वर्णन करते हैं:

  • सीखना एक उद्देश्यपूर्ण और लक्ष्य-उन्मुख प्रक्रिया है। (Learning is a purposeful and goal-oriented process): सीखना एक यादृच्छिक या आकस्मिक प्रक्रिया नहीं है। यह एक उद्देश्यपूर्ण और लक्ष्य-उन्मुख प्रक्रिया है जिसमें विशिष्ट ज्ञान, कौशल या व्यवहार का अधिग्रहण शामिल है।
    उदाहरण के लिए, एक छात्र किसी विशेष विषय में अच्छे ग्रेड प्राप्त करने का लक्ष्य निर्धारित कर सकता है और उद्देश्यपूर्ण सीखने की गतिविधियों में संलग्न हो सकता है, जैसे कि पढ़ना, व्याख्यान में भाग लेना और समस्या को सुलझाने के अभ्यास का अभ्यास करना।
  • सीखना निरंतर और सार्वभौमिक है। (Learning is continuous and universal): सीखना एक सतत प्रक्रिया है जो हमारे पूरे जीवन में घटित होती है, न कि केवल औपचारिक शैक्षिक परिवेश में। यह एक सार्वभौमिक प्रक्रिया भी है जो उम्र, लिंग या संस्कृति की परवाह किए बिना सभी व्यक्तियों में होती है।
    उदाहरण के लिए, एक व्यक्ति अनौपचारिक रूप से सामाजिक संपर्क, पढ़ने, या शैक्षिक वीडियो देखने के माध्यम से नए कौशल या ज्ञान सीख सकता है।
  • सीखना समायोजन के लिए बनाता है। (Learning makes for adjustments):  सीखने में अक्सर नई जानकारी या अनुभवों के आधार पर हमारे ज्ञान, कौशल और व्यवहार में समायोजन करना शामिल होता है।
    उदाहरण के लिए, एक छात्र जो किसी विशेष विषय के साथ संघर्ष करता है, वह अपनी अध्ययन की आदतों को समायोजित कर सकता है या अपनी समझ और प्रदर्शन को बेहतर बनाने के लिए अतिरिक्त सहायता मांग सकता है।
  • सीखना व्यापक है, जिसमें संज्ञानात्मक, भावात्मक और साइकोमोटर क्षेत्रों में परिवर्तन शामिल हैं। (Learning is comprehensive, involving changes in cognitive, affective, and psychomotor areas): सीखना एक व्यापक प्रक्रिया है जिसमें संज्ञानात्मक (सोच), भावात्मक (भावनात्मक) और साइकोमोटर (भौतिक) क्षेत्रों में परिवर्तन शामिल हैं।
    उदाहरण के लिए, एक छात्र एक नई अवधारणा (संज्ञानात्मक) सीख सकता है, एक विषय (भावात्मक) के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण विकसित कर सकता है, और एक परियोजना (साइकोमोटर) को पूरा करके अपने ज्ञान का प्रदर्शन कर सकता है।
  • सीखना स्थानांतरित किया जाता है। (Learning is transferred): सीखना विशिष्ट संदर्भों या स्थितियों तक सीमित नहीं है। इसे नई स्थितियों या संदर्भों में स्थानांतरित किया जा सकता है, जिससे व्यक्तियों को अलग-अलग सेटिंग्स में सीखी गई बातों को लागू करने की अनुमति मिलती है।
    उदाहरण के लिए, एक छात्र गणित की कक्षा में समस्या समाधान कौशल सीख सकता है और फिर कक्षा के बाहर वास्तविक दुनिया की समस्याओं को हल करने के लिए इन कौशलों को लागू कर सकता है।
  • सीखना एक प्रक्रिया है, उत्पाद नहीं। (Learning is a process, not a product): सीखना एक बार की घटना या कोई उत्पाद नहीं है जिसे अधिग्रहित और संग्रहीत किया जा सकता है। यह एक सतत और सतत प्रक्रिया है जिसमें सक्रिय जुड़ाव और भागीदारी शामिल है।
    उदाहरण के लिए, एक छात्र कक्षा में एक नई अवधारणा सीख सकता है लेकिन इसे बनाए रखने और इसे लागू करने के लिए अवधारणा की समीक्षा और अभ्यास जारी रखने की आवश्यकता है।
  • सीखना आनुवंशिकता और पर्यावरण दोनों पर निर्भर करता है। (Learning depends on both heredity and environment): सीखना आनुवंशिक कारकों (आनुवंशिकता) और पर्यावरणीय कारकों (जैसे, संस्कृति, सामाजिक संपर्क, शिक्षा) दोनों से प्रभावित होता है।
    उदाहरण के लिए, एक छात्र की सीखने की क्षमता उनकी प्राकृतिक क्षमताओं (जैसे, बुद्धि) के साथ-साथ उनके पर्यावरण (जैसे, शिक्षा की गुणवत्ता, संसाधनों की उपलब्धता) से प्रभावित हो सकती है।
  • सीखना अनुभवों के माध्यम से आयोजित किया जाता है। (Learning is organized through experiences): सीखना उन अनुभवों और गतिविधियों के माध्यम से आयोजित किया जाता है जिन्हें सीखने की सुविधा के लिए डिज़ाइन किया गया है।
    उदाहरण के लिए, एक शिक्षक एक पाठ योजना तैयार कर सकता है जिसमें छात्रों को शामिल करने और उनके सीखने की सुविधा के लिए व्यावहारिक गतिविधियाँ, समूह चर्चाएँ और स्वतंत्र शोध शामिल हैं।
  • सीखना आम तौर पर अपेक्षाकृत स्थायी होता है। (Learning is generally relatively permanent): सीखने में व्यवहार, ज्ञान या कौशल में अपेक्षाकृत स्थायी परिवर्तन शामिल हैं।
    उदाहरण के लिए, एक छात्र जो एक नई भाषा बोलना सीखता है, इस ज्ञान और कौशल को लंबे समय तक बनाए रख सकता है, भले ही वे इसका नियमित रूप से उपयोग न करें।

अंत में, सीखना एक उद्देश्यपूर्ण और लक्ष्य-उन्मुख प्रक्रिया है जिसमें संज्ञानात्मक, भावात्मक और साइकोमोटर क्षेत्रों में निरंतर और व्यापक परिवर्तन शामिल हैं। सीखना भी स्थानांतरित किया जाता है, एक प्रक्रिया, दोनों आनुवंशिकता और पर्यावरण से प्रभावित होती है, और अनुभवों के माध्यम से व्यवस्थित होती है। अंत में, सीखने का परिणाम व्यवहार, ज्ञान या कौशल में अपेक्षाकृत स्थायी परिवर्तन होता है।


सीखने की विशेषताएं

(Features of Learning)

सीखना एक गतिशील और सतत प्रक्रिया है जो हमारे जीवन भर चलती रहती है। यहाँ कुछ बिंदु दिए गए हैं जो वास्तविक जीवन के उदाहरण के साथ सीखने की प्रमुख विशेषताओं का वर्णन करते हैं:

  • सीखना कभी न खत्म होने वाली प्रक्रिया है। (Learning is a never-ending process): सीखना किसी विशिष्ट अवधि या जीवन के चरण तक सीमित नहीं है। यह एक सतत प्रक्रिया है जो हमारे पूरे जीवन में घटित होती है।
    उदाहरण के लिए, एक वयस्क अपने पेशे या शौक से संबंधित नए कौशल या ज्ञान सीख सकता है।
  • सीखना बचपन की अवधि तक ही सीमित नहीं है बल्कि यह जीवन के साथ चलता है। (Learning is not restricted to the childhood period but it goes with life): सीखना बचपन या औपचारिक शिक्षा तक ही सीमित नहीं है। यह एक आजीवन प्रक्रिया है जो विभिन्न संदर्भों और स्थितियों में घटित होती है।
    उदाहरण के लिए, एक व्यक्ति अनौपचारिक रूप से सामाजिक संपर्क, पढ़ने या ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के माध्यम से नए कौशल या ज्ञान सीख सकता है।
  • सीखना ज्ञान, कौशल और मूल्यों के अधिग्रहण से संबंधित है। (Learning is concerned with the acquisition of knowledge, skills, and values): सीखने में तथ्यात्मक ज्ञान, प्रक्रियात्मक ज्ञान और वैचारिक ज्ञान सहित विभिन्न प्रकार के ज्ञान का अधिग्रहण शामिल है। इसमें विभिन्न कौशलों का विकास भी शामिल है,
    जैसे – संज्ञानात्मक कौशल, सामाजिक कौशल और भावनात्मक कौशल। अंत में, सीखने का संबंध सहानुभूति, सम्मान और जिम्मेदारी जैसे मूल्यों और दृष्टिकोणों के विकास से है।
  • सीखने का उद्देश्य बौद्धिक विकास करना है। (Learning aims at intellectual development): सीखने का उद्देश्य महत्वपूर्ण सोच, समस्या समाधान और रचनात्मकता को बढ़ावा देकर बौद्धिक विकास को बढ़ाना है।
    उदाहरण के लिए, एक छात्र एक जटिल समस्या का विश्लेषण करना, विभिन्न समाधानों का मूल्यांकन करना और एक रचनात्मक समाधान विकसित करना सीख सकता है।
  • सारा समाज सीखने की जगह है। (The whole society is the place for learning): सीखना विभिन्न संदर्भों में होता है, जिसमें औपचारिक शैक्षिक सेटिंग्स, अनौपचारिक सेटिंग्स और सामाजिक सेटिंग्स शामिल हैं। यह मानव अनुभव की विविधता को दर्शाते हुए विभिन्न सामाजिक और सांस्कृतिक संदर्भों में भी होता है।
    उदाहरण के लिए, एक व्यक्ति विविध पृष्ठभूमि के लोगों के साथ सामाजिक संपर्क के माध्यम से विभिन्न सांस्कृतिक मानदंडों और मूल्यों को सीख सकता है।

अंत में, सीखना एक गतिशील और सतत प्रक्रिया है जो हमारे जीवन भर चलती रहती है। इसमें विभिन्न प्रकार के ज्ञान, कौशल और मूल्यों का अधिग्रहण शामिल है और इसका उद्देश्य बौद्धिक विकास को बढ़ाना है। अंत में, सीखना विभिन्न संदर्भों में होता है और मानव अनुभव की विविधता को दर्शाता है।


Learning and Maturation

(सीखना और परिपक्वता)

Learning

(सीखना)

Maturation

(परिपक्वता)

यह कमाया जाता है। यह कुदरती हैं। इसमें वे परिवर्तन होते हैं जो सामान्य वृद्धि से संबंधित होते हैं।
सीखने में अभ्यास का बहुत महत्व है। अभ्यास में कोई महत्व नहीं है।
सीखना परिपक्वता पर निर्भर करता है। परिपक्वता की प्रक्रिया सीखने पर निर्भर नहीं करती है।
सीखना जिंदगी भर चलता है। यह आता है और एक समय में बंद हो जाता है।
यह एक व्यक्तिगत प्रक्रिया होती है। यह एक सामान्य प्रक्रिया है।

उदाहरण:

  • Learning (सीखना): एक बच्चा स्कूल में जाकर और नियमित रूप से अभ्यास करके पढ़ना और लिखना सीखता है। वे अभ्यास के माध्यम से धीरे-धीरे अपने पढ़ने और लिखने के कौशल में सुधार करते हैं, और उनकी सीखने की क्षमता उनकी परिपक्वता पर निर्भर करती है।
  • Maturation (परिपक्वता): एक बच्चे की शारीरिक वृद्धि और विकास, जैसे ऊंचाई और वजन, अभ्यास या सीखने के बावजूद समय के साथ होने वाली प्राकृतिक परिपक्वता का परिणाम है।

Psychology-Learning-notes-in-Hindi-Complete-Pdf-Download
Psychology-Learning-notes-in-Hindi-Complete-Pdf-Download

अधिगम को प्रभावित करने वाले कारक

(FACTORS AFFECTING LEARNING)

  1. INDIVIDUAL VARIABLE (व्यक्तिगत चर)
  2. TASK VARIABLE (कार्य चर)
  3. METHOD VARIABLE (विधि चर)
  4. ENVIRONMENTAL VARIABLES (पर्यावरणीय चर)
  5. SOCIAL VARIABLES (सामाजिक चर)
  6. PSYCHOLOGICAL VARIABLES (मनोवैज्ञानिक चर)

व्यक्तिगत चर

(INDIVIDUAL VARIABLE)

संवेदना और समझ (Sensation and Perception):
  • संवेदी अंग व्यक्तियों को पर्यावरण में उत्तेजनाओं को समझने में मदद करते हैं। इन अंगों में कोई भी दोष सीखने को प्रभावित कर सकता है।
  • उदाहरण के लिए, श्रवण बाधित छात्र को व्याख्यान के माध्यम से सीखने में कठिनाई हो सकती है।
परिपक्वता (Maturation):
  • समय के साथ संभावनाओं के जैविक प्रकटीकरण को संदर्भित करता है।
  • उदाहरण के लिए, एक बच्चा जटिल अवधारणाओं को तब तक समझने में सक्षम नहीं हो सकता है जब तक कि वे एक निश्चित आयु तक नहीं पहुंच जाते हैं और उनका मस्तिष्क सूचना को संसाधित करने के लिए पर्याप्त परिपक्व नहीं होता है।
सीखने की तैयारी (Readiness to Learn):
  • सीखने की क्षमता और इच्छा।
  • उदाहरण के लिए, एक छात्र किसी विशेष विषय को तब तक सीखने में दिलचस्पी नहीं ले सकता जब तक कि वे इसकी प्रासंगिकता को नहीं समझते या इसके व्यावहारिक अनुप्रयोग को नहीं देखते।
आयु और परिपक्वता (Age and Maturity):
  • सीखना उम्र और बौद्धिक परिपक्वता से प्रभावित होता है।
  • उदाहरण के लिए, एक छोटा बच्चा जटिल गणितीय समस्याओं से जूझ सकता है लेकिन कला या संगीत में उत्कृष्ट हो सकता है।
लिंग (Sex):
  • सेक्स अंतर कुछ क्षमताओं के सीखने को प्रभावित कर सकता है।
  • उदाहरण के लिए, शोध से पता चला है कि पुरुष स्थानिक तर्क कार्यों में महिलाओं से बेहतर प्रदर्शन करते हैं।
पूर्व अनुभव (Previous Experience):
  • पिछले सफल अनुभव व्यक्तियों को भविष्य में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।
  • उदाहरण के लिए, एक छात्र जिसे पहले अपने लेखन के लिए सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है, उसे और अधिक लिखने के लिए प्रेरित किया जा सकता है।
शारीरिक और मानसिक थकान (Physical and Mental Fatigue):
  • थकान सीखने की प्रक्रिया को बाधित कर सकती है।
  • उदाहरण के लिए, एक छात्र जो नींद से वंचित है, उसे कक्षा में ध्यान केंद्रित करने और जानकारी को बनाए रखने में कठिनाई हो सकती है।
मानसिक क्षमताएं (Mental Abilities):
  • किसी कार्य को सीखना सीखने वाले की मानसिक क्षमता पर निर्भर करता है।
  • उदाहरण के लिए, सीखने की अक्षमता वाले छात्र को स्कूल में सफल होने के लिए विशेष निर्देश और आवास की आवश्यकता हो सकती है।
शारीरिक बाधाएँ (Physical Handicaps):
  • शारीरिक दुर्बलता सीखने को प्रभावित कर सकती है।
  • उदाहरण के लिए, नेत्रहीन छात्र को प्रभावी ढंग से सीखने के लिए ब्रेल या ऑडियो प्रारूप में सामग्री की आवश्यकता हो सकती है।
प्रेरणा (Motivation):
  • प्रेरणा सीखने के लिए केंद्रीय है।
  • आंतरिक प्रेरणा तब होती है जब कोई व्यक्ति व्यक्तिगत रुचि या आनंद जैसे आंतरिक कारकों से प्रेरित होता है। उदाहरण के लिए, एक छात्र जो कला के प्रति जुनूनी है, अपने कौशल में सुधार करने के लिए आंतरिक रूप से प्रेरित हो सकता है।
  • बाहरी प्रेरणा तब होती है जब कोई व्यक्ति बाहरी कारकों जैसे पुरस्कार या दंड से प्रेरित होता है।
  • उदाहरण के लिए, एक छात्र जिसे अपना होमवर्क पूरा करने के लिए पुरस्कार देने का वादा किया जाता है, वह ऐसा करने के लिए बाह्य रूप से प्रेरित हो सकता है।

कार्य चर

(TASK VARIABLE)

कार्य की लंबाई (Length of the Task):
  • सीखने और याद रखने के लिए लंबी शिक्षण सामग्री चुनौतीपूर्ण हो सकती है।
  • उदाहरण के लिए, एक छात्र को पाठ्यपुस्तक के एक लंबे अध्याय में सभी जानकारी को बनाए रखने में कठिनाई हो सकती है।
कार्य की कठिनाई (The Difficulty of the Task):
  • कठिन कार्यों को सीखने में अधिक समय लग सकता है।
  • उदाहरण के लिए, किसी छात्र को जटिल गणितीय अवधारणाओं को समझने के लिए अधिक समय की आवश्यकता हो सकती है।
कार्य की सार्थकता (Meaningfulness of the Task):
  • अर्थहीन कार्यों की तुलना में सार्थक कार्यों को सीखना और बनाए रखना आसान होता है।
  • उदाहरण के लिए, एक छात्र को उस विषय के बारे में सीखना आसान हो सकता है जिसमें वे रुचि रखते हैं, उस विषय की तुलना में जो उन्हें उबाऊ लगता है।
सीखने की स्थिति (Learning Situation):
  • सीखने का माहौल सीखने को प्रभावित कर सकता है।
  • उदाहरण के लिए, एक छात्र को शोर या ध्यान भंग करने वाली कक्षा में ध्यान केंद्रित करना और सीखना चुनौतीपूर्ण हो सकता है।
आवश्यकताएँ (Needs):
  • प्रभावी सीखने के लिए शारीरिक और मनोसामाजिक आवश्यकताओं को पूरा किया जाना चाहिए।
  • उदाहरण के लिए, एक भूखा छात्र सीखने की तुलना में भोजन प्राप्त करने पर अधिक ध्यान केंद्रित कर सकता है।

विधि चर

(METHOD VARIABLES )

सीखने की विधि (Method of Learning):
  • सीखने की सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि शिक्षार्थी पूर्ण या आंशिक विधि अपनाता है या नहीं।
  • उदाहरण के लिए, एक छात्र को एक जटिल अवधारणा को छोटे भागों में तोड़कर सीखना आसान हो सकता है।
अभ्यास की मात्रा (Amount of Practice):
  • अभ्यास से प्रतिधारण बढ़ता है।
  • उदाहरण के लिए, एक छात्र जो नियमित रूप से एक संगीत वाद्ययंत्र का अभ्यास करता है, वह समय के साथ और अधिक कुशल हो सकता है।
संवेदनशील दृष्टिकोण की प्रकृति (Nature of Sensitive Approach):
  • संवेदी अनुभव सीखने को बढ़ा सकते हैं।
  • उदाहरण के लिए, व्यावहारिक विज्ञान प्रयोग छात्रों की मदद कर सकता है
अभ्यास का वितरण (Distribution of Practice):
  • बिना ब्रेक के लंबे समय तक अध्ययन करने की तुलना में कुछ छात्रों के लिए लगातार ब्रेक के साथ कम समय के लिए अध्ययन करना अधिक प्रभावी हो सकता है।
प्रोत्साहन की उपलब्धता (Availability of Incentives):
  • एक छात्र जो पुरस्कार से प्रेरित होता है, जैसे अच्छे ग्रेड या शिक्षक से प्रशंसा, ऐसे प्रोत्साहन से प्रेरित नहीं होने वाले छात्र की तुलना में अधिक मेहनत कर सकता है और अधिक जानकारी बनाए रख सकता है।

Also Read: CTET COMPLETE NOTES IN HINDI FREE DOWNLOAD


ENVIRONMENTAL VARIABLES

(पर्यावरणीय चर)

  • भौतिक वातावरण (PHYSICAL ENVIRONMENT): कक्षा का भौतिक वातावरण सीखने को प्रभावित कर सकता है, जैसे प्रकाश और हवा की मात्रा, शोर का स्तर, बैठने की व्यवस्था और कक्षा का तापमान।
    उदाहरण: यदि कक्षा बहुत अधिक गर्म या बहुत ठंडी हो, या यदि बाहर से बहुत अधिक शोर हो, तो एक छात्र को ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई हो सकती है।
  • मनोवैज्ञानिक वातावरण (PSYCHOLOGICAL ENVIRONMENT): कक्षा के मनोवैज्ञानिक वातावरण में शिक्षक का रवैया, साथियों से समर्थन और प्रोत्साहन का स्तर और कक्षा का समग्र वातावरण जैसे कारक शामिल हैं।
    उदाहरण: यदि शिक्षक लगातार उनके काम की आलोचना करता है या उनके साथी सहायक नहीं हैं, तो एक छात्र सीखने के लिए हतोत्साहित और अनुत्तेजित महसूस कर सकता है।
  • घर का वातावरण (HOME ENVIRONMENT): घर का वातावरण भी सीखने को प्रभावित कर सकता है, जैसे शिक्षा में माता-पिता की भागीदारी, घर पर सीखने के संसाधनों की उपलब्धता और स्कूल के बाहर सीखने के लिए समर्थन का स्तर।
    उदाहरण: एक छात्र जो ऐसे घर से आता है जहां शिक्षा को महत्व नहीं दिया जाता है, स्कूल के बाहर शैक्षिक संसाधनों या समर्थन तक उसकी पहुंच नहीं हो सकती है, जो उनकी शैक्षणिक सफलता को प्रभावित कर सकता है। दूसरी ओर, एक छात्र जो एक ऐसे घर से आता है जहाँ शिक्षा को अत्यधिक महत्व दिया जाता है और प्रोत्साहित किया जाता है, उसके पास सीखने के लिए अधिक संसाधन और समर्थन हो सकता है।

सामाजिक चर

(SOCIAL VARIABLES)

  • सहकर्मी समूह (PEER GROUP): सहकर्मी समूह के भीतर सामाजिक गतिशीलता सीखने को प्रभावित कर सकती है, जैसे सहकर्मी दबाव, प्रभाव और सहयोग।
    उदाहरण: एक छात्र अपने साथियों से कुछ व्यवहार या दृष्टिकोण के अनुरूप दबाव महसूस कर सकता है, जो उनके शैक्षणिक प्रदर्शन को प्रभावित कर सकता है। वैकल्पिक रूप से, समूह परियोजनाओं पर साथियों के साथ सहयोग सीखने को बढ़ा सकता है और विचारों के आदान-प्रदान की सुविधा प्रदान कर सकता है।
  • पारिवारिक पृष्ठभूमि (FAMILY BACKGROUND): एक छात्र की पारिवारिक पृष्ठभूमि, जैसे कि उनकी सामाजिक आर्थिक स्थिति, सांस्कृतिक पृष्ठभूमि और पारिवारिक मूल्य, सीखने को प्रभावित कर सकते हैं।
    उदाहरण: एक छात्र जो सीमित वित्तीय संसाधनों वाले परिवार से आता है, उसके पास शिक्षण या शैक्षिक सामग्री जैसे सीखने के लिए संसाधनों या समर्थन तक पहुंच नहीं हो सकती है। सांस्कृतिक पृष्ठभूमि भी सीखने को प्रभावित कर सकती है, क्योंकि एक अलग संस्कृति के छात्र की अपने साथियों की तुलना में अलग अपेक्षाएं या सीखने की शैली हो सकती है।
  • शिक्षक प्रभावशीलता (TEACHER EFFECTIVENESS): निर्देश देने और कक्षा के प्रबंधन में शिक्षक की प्रभावशीलता सीखने को प्रभावित कर सकती है।
    उदाहरण: एक शिक्षक जो आकर्षक, जानकार और सहायक है, सीखने को बढ़ा सकता है और छात्रों को सीखने के लिए प्रेरित कर सकता है। दूसरी ओर, एक शिक्षक जो असंगठित, अप्रस्तुत, या अप्राप्य है, सीखने में बाधा डाल सकता है और छात्रों को सीखने की प्रक्रिया में शामिल होने से हतोत्साहित कर सकता है।
  • स्कूल का वातावरण (SCHOOL ENVIRONMENT): स्कूल का वातावरण, जैसे कि स्कूल के संसाधन, सुविधाएं और संस्कृति, सीखने को प्रभावित कर सकते हैं।
    उदाहरण: सीमित संसाधनों या सुविधाओं वाला एक विद्यालय प्रभावी शिक्षण के लिए आवश्यक संसाधन या सहायता प्रदान करने में सक्षम नहीं हो सकता है। एक स्कूल संस्कृति जो अकादमिक सफलता पर जोर देती है और एक सुरक्षित और सहायक वातावरण प्रदान करती है, सीखने को बढ़ा सकती है और शैक्षणिक उपलब्धि को सुगम बना सकती है।

मनोवैज्ञानिक चर

(PSYCHOLOGICAL VARIABLES)

  • रवैया (ATTITUDE): सीखने के प्रति एक छात्र का रवैया उनकी प्रेरणा, जुड़ाव और शैक्षणिक उपलब्धि को प्रभावित कर सकता है। सीखने के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण प्रभावी सीखने की सुविधा प्रदान कर सकता है, जबकि नकारात्मक दृष्टिकोण सीखने में बाधा उत्पन्न कर सकता है।
    उदाहरण: एक छात्र जो सीखने के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण रखता है और सफल होने की अपनी क्षमता में विश्वास करता है, उसके सीखने की प्रक्रिया में संलग्न होने और शैक्षणिक सफलता प्राप्त करने की अधिक संभावना होती है। दूसरी ओर, एक छात्र जो सीखने के प्रति नकारात्मक रवैया रखता है और महसूस करता है कि वे सफल नहीं हो सकते हैं, सीखने के लिए कम प्रेरित हो सकते हैं और अकादमिक रूप से संघर्ष कर सकते हैं।
  • रुचि (INTEREST): रुचि एक प्रमुख कारक है जो सीखने में प्रेरणा और जुड़ाव को प्रभावित करता है। छात्रों की विषय या विषय में रुचि होने पर जानकारी सीखने और बनाए रखने की अधिक संभावना होती है।
    उदाहरण: एक छात्र जो किसी विशेष विषय या विषय में रुचि रखता है, उसके सीखने की प्रक्रिया में संलग्न होने और जानकारी को बनाए रखने की अधिक संभावना होती है। उदाहरण के लिए, इतिहास में रुचि रखने वाला छात्र ऐतिहासिक तथ्यों और घटनाओं को सीखने और याद रखने के लिए उस छात्र की तुलना में अधिक प्रेरित हो सकता है जिसकी इतिहास में कोई दिलचस्पी नहीं है।
  • प्रेरणा (MOTIVATION): प्रेरणा वह प्रेरक शक्ति है जो कार्रवाई की ओर ले जाती है और सीखने की मात्रा और गुणवत्ता को प्रभावित कर सकती है। जो छात्र सीखने के लिए प्रेरित होते हैं, उनके सीखने की प्रक्रिया में संलग्न होने और अकादमिक सफलता प्राप्त करने की अधिक संभावना होती है।
    उदाहरण: एक छात्र जो आंतरिक या बाह्य रूप से सीखने के लिए प्रेरित होता है, उसके सीखने की प्रक्रिया में संलग्न होने और शैक्षणिक सफलता प्राप्त करने की अधिक संभावना होती है। उदाहरण के लिए, एक छात्र जो अच्छे ग्रेड प्राप्त करने की इच्छा से प्रेरित होता है, वह कठिन परिश्रम कर सकता है और सीखने के लिए अधिक प्रयास कर सकता है, जो बाहरी पुरस्कार से प्रेरित नहीं होता है।
  • चिंता (ANXIETY): चिंता जानकारी को ध्यान केंद्रित करने और संसाधित करने की छात्र की क्षमता में बाधा डालकर सीखने को प्रभावित कर सकती है। उच्च स्तर की चिंता वाले छात्रों को ध्यान केंद्रित करने, जानकारी बनाए रखने या परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करने में मुश्किल हो सकती है।
    उदाहरण: उच्च स्तर की चिंता का अनुभव करने वाला छात्र सीखने और अकादमिक प्रदर्शन के साथ संघर्ष कर सकता है। उदाहरण के लिए, एक छात्र जो परीक्षण चिंता का अनुभव करता है, उसे परीक्षा के दौरान जानकारी पर ध्यान केंद्रित करने और याद रखने में कठिनाई हो सकती है, जो उनके प्रदर्शन को प्रभावित कर सकती है।
  • आत्म-सम्मान (SELF-ESTEEM): आत्म-सम्मान एक व्यक्ति की अपनी योग्यता की धारणा को संदर्भित करता है और सीखने में जोखिम लेने की उनकी प्रेरणा, आत्मविश्वास और इच्छा को प्रभावित करके सीखने को प्रभावित कर सकता है।
    उदाहरण: एक छात्र जो उच्च आत्मसम्मान रखता है और अपनी क्षमताओं में विश्वास करता है, उसके सीखने में जोखिम लेने और चुनौतियों का सामना करने की संभावना अधिक होती है। दूसरी ओर, कम आत्म-सम्मान वाले छात्र को अपनी क्षमताओं पर कम भरोसा हो सकता है और चुनौतीपूर्ण कार्यों को छोड़ने या टालने की अधिक संभावना हो सकती है।

सीखने और पर्यावरण

(learning and environment)

  • सीखने के लिए अनुकूल वातावरण (Environment Conducive to Learning): सीखने की प्रक्रिया में पर्यावरण एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एक सकारात्मक और अनुकूल वातावरण सीखने को बढ़ावा दे सकता है, जबकि एक नकारात्मक वातावरण इसमें बाधा बन सकता है। पर्यावरण में भौतिक स्थान, प्रकाश व्यवस्था, शोर के स्तर और तापमान जैसे कारक शामिल हैं।
    उदाहरण के लिए, आरामदायक बैठने, उचित प्रकाश व्यवस्था और उपयुक्त तापमान वाली कक्षा सीखने के लिए अनुकूल वातावरण प्रदान कर सकती है।
  • प्रोत्साहन की उपस्थिति (Presence of Stimulus): अधिगम के लिए उद्दीपन की उपस्थिति अनिवार्य है। उद्दीपक वे सूचनाएँ हैं जो शिक्षार्थी को ज्ञानेन्द्रियों के माध्यम से प्रस्तुत की जाती हैं। इंद्रियों में दृष्टि, श्रवण, स्वाद, गंध और स्पर्श शामिल हैं। सीखने को बढ़ावा देने के लिए उपयुक्त उत्तेजनाओं की उपस्थिति आवश्यक है।
    उदाहरण के लिए, एक शिक्षक शिक्षार्थियों को जानकारी प्रस्तुत करने के लिए चित्र, वीडियो और चित्रों जैसे दृश्य साधनों का उपयोग कर सकता है।
  • बाहरी नकारात्मक कारकों की अनुपस्थिति (Absence of External Negative Factors): सीखने के लिए बाहरी नकारात्मक कारकों की अनुपस्थिति भी महत्वपूर्ण है। इन नकारात्मक कारकों में गर्मी, अव्यवस्थित बैठने, शोर, जगह की कमी और विकर्षण शामिल हैं।
    उदाहरण के लिए, एक शोरगुल वाली कक्षा शिक्षार्थियों को विचलित कर सकती है और ध्यान केंद्रित करने और ध्यान केंद्रित करने की उनकी क्षमता में हस्तक्षेप कर सकती है, जिससे सीखने के परिणाम खराब हो सकते हैं।
  • शिक्षक और सहपाठियों के साथ संबंध (Relationship with Teacher and Classmates): सीखने के लिए शिक्षक और सहपाठियों के साथ संबंध भी महत्वपूर्ण है। शिक्षक और सहपाठियों के साथ एक सकारात्मक संबंध एक सहायक और प्रेरक सीखने का माहौल बना सकता है। शिक्षार्थी जो अपने शिक्षकों और सहपाठियों द्वारा मूल्यवान और सम्मानित महसूस करते हैं, उनके सीखने की प्रक्रिया में शामिल होने की अधिक संभावना है।
  • शिक्षार्थी के व्यक्तिगत अंतर (Individual Differences of the Learner): शिक्षार्थियों के बीच व्यक्तिगत मतभेद भी सीखने को प्रभावित कर सकते हैं। इन अंतरों में रुचि, योग्यता, बुद्धि, स्वास्थ्य, थकान और पूर्व ज्ञान शामिल हैं।
    उदाहरण के लिए, एक शिक्षार्थी जो किसी विषय में रुचि रखता है, वह इसे सीखने के लिए प्रेरित होने की अधिक संभावना रखता है, जबकि एक शिक्षार्थी जिसमें रुचि नहीं है, वह सीखने के लिए प्रेरित नहीं हो सकता है। इसी तरह, किसी विषय के पूर्व ज्ञान वाले शिक्षार्थियों के विषय में नए लोगों की तुलना में जल्दी सीखने की संभावना अधिक होती है।

Internal and External Factors Affecting Learning and Environment

(सीखने और पर्यावरण को प्रभावित करने वाले आंतरिक और बाहरी कारक)

सीखने और पर्यावरण को प्रभावित करने वाले कारकों की तालिका:

Internal Factors of the Learner Examples
Intelligence (बुद्धिमत्ता) उच्च IQ वाला छात्र कम IQ वाले छात्र की तुलना में तेजी से नई अवधारणा सीख सकता है।
Age (उम्र) एक छोटे बच्चे को जटिल विषयों को सीखने में कठिनाई हो सकती है जिसके लिए अमूर्त तर्क की आवश्यकता होती है, एक बड़े छात्र को जानकारी याद रखने में अधिक कठिनाई हो सकती है।
Physical Health (शारीरिक स्वास्थ्य) एक छात्र जो शारीरिक रूप से अस्वस्थ है, उसे जानकारी पर ध्यान केंद्रित करने या याद रखने में कठिनाई हो सकती है।
Mental Health (मानसिक स्वास्थ्य) एक छात्र जो मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों का सामना कर रहा है, जैसे अवसाद या चिंता, ध्यान केंद्रित करने और जानकारी को बनाए रखने में कठिनाई हो सकती है।
Maturation (परिपक्वता) एक छात्र के परिपक्व होने पर, वे जटिल तर्क और अमूर्त अवधारणाओं को समझने में अधिक सक्षम हो सकते हैं।
Readiness (तत्परता) एक छात्र जो सीखने के लिए तैयार है, उसके प्रेरित होने और सीखने की प्रक्रिया में शामिल होने की संभावना अधिक होती है।
Interest (दिलचस्पी) जो छात्र किसी विषय में रुचि रखते हैं, उनके सीखने की प्रक्रिया में शामिल होने और जानकारी को बनाए रखने की अधिक संभावना होती है।
Attitude (नज़रिया) सीखने के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण रखने वाले छात्र के सीखने की प्रक्रिया में शामिल होने और जानकारी को बनाए रखने की अधिक संभावना होती है।
Aptitude (कौशल) किसी विषय के लिए स्वाभाविक योग्यता वाला छात्र उस योग्यता के बिना छात्र की तुलना में सामग्री को अधिक आसानी से सीख सकता है।
Fatigue (थकान) एक छात्र जो थका हुआ है उसे ध्यान केंद्रित करने और जानकारी को बनाए रखने में कठिनाई हो सकती है।
Prior learning (पूर्व शिक्षण) पिछला ज्ञान और अनुभव एक छात्र की नई सामग्री सीखने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है।
Inheritance (विरासत) अनुवांशिक कारक छात्र की सीखने की क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं, जैसे बुद्धि या सीखने की अक्षमता।

 

Learner’s Environmental Factors (External Factors) Examples
Subject matter (विषय – वस्तु) एक छात्र के लिए अपनी व्यक्तिगत रुचियों और पृष्ठभूमि ज्ञान के आधार पर कुछ विषयों को सीखना अधिक कठिन या आसान हो सकता है।
Learning Method (सीखने की विधि) अलग-अलग छात्र अलग-अलग तरीकों का उपयोग करके बेहतर सीख सकते हैं, जैसे कि दृश्य, श्रवण या हाथों से सीखना।
Teacher’s method of teaching (शिक्षक के पढ़ाने का तरीका) एक शिक्षक जो आकर्षक शिक्षण विधियों का उपयोग करता है और एक सहायक शिक्षण वातावरण प्रदान करता है, वह छात्र की सीखने की क्षमता को सकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है।
Knowledge of Progress (प्रगति का ज्ञान) उनकी प्रगति पर प्रतिक्रिया एक छात्र को सीखना जारी रखने और सुधार करने के लिए प्रेरित कर सकती है।
Physical Environment of the Learner (शिक्षार्थी का भौतिक वातावरण) कम से कम विकर्षणों के साथ एक आरामदायक, अच्छी तरह से रोशनी वाला सीखने का माहौल छात्र की ध्यान केंद्रित करने और सीखने की क्षमता में सुधार कर सकता है।
Social Environment of the Learner (शिक्षार्थी का सामाजिक परिवेश) सकारात्मक संबंधों के साथ एक सहायक सामाजिक वातावरण एक छात्र की प्रेरणा और सीखने की प्रक्रिया में जुड़ाव को सकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है।

 


Psychology-Learning-notes-in-Hindi-Complete-Pdf-Download
Psychology-Learning-notes-in-Hindi-Complete-Pdf-Download

Characteristics and Steps of Learning

(सीखने के लक्षण और चरण)

Characteristics of Learning (सीखने की विशेषताएं):
  • सीखना ही सीखना है (To learn is to learn): इसका अर्थ है कि सीखने की प्रक्रिया स्वयं सीखने के अनुभव का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह केवल ज्ञान प्राप्त करने के बारे में नहीं है बल्कि स्वयं सीखने की प्रक्रिया के बारे में भी है।
  • सीखना व्यवहार में बदलाव है (Learning is a change in behavior): सीखने में व्यवहार में बदलाव शामिल है, या तो एक नए व्यवहार के रूप में या मौजूदा व्यवहार के संशोधन के रूप में।
  • सीखना नए ज्ञान की प्रतिक्रियाओं का अधिग्रहण है (Learning is the acquisition of new knowledge responses): सीखने में नए ज्ञान, कौशल, दृष्टिकोण और मूल्यों का अधिग्रहण शामिल है, जो व्यवहार में परिवर्तन की ओर ले जाता है।
  • सीखना आदत बनाने की प्रक्रिया है (Learning is the process of forming habits): आदतें पुनरावृत्ति के माध्यम से बनती हैं, और सीखने में नई आदतें बनाने की प्रक्रिया शामिल होती है।
  • सीखना अनुभवों का संश्लेषण है (Learning is the synthesis of experiences): सीखना केवल ज्ञान प्राप्त करने के बारे में नहीं है, बल्कि मौजूदा ज्ञान के साथ नए अनुभवों को संश्लेषित और एकीकृत करना भी है।
  • सीखना क्रिया और उत्पादन है (Learning is action and production): सीखने में क्रिया करना और कुछ उत्पादन करना शामिल है, चाहे वह एक नया कौशल या ज्ञान हो।
  • सीखना अनुकूलन है (Learning is adaptation): सीखने में नई परिस्थितियों और चुनौतियों का अनुकूलन करना और तदनुसार हमारे व्यवहार को समायोजित करना शामिल है।
  • सीखना विशेष परिस्थितियों का उत्पाद है (Learning is the product of special circumstances): सीखना पर्यावरण, सामाजिक और सांस्कृतिक कारकों सहित विभिन्न कारकों से प्रभावित हो सकता है।
  • सीखना भी सीखना है (Unlearning is also learning): कभी-कभी, हमें नई आदतों को सीखने के लिए पुरानी आदतों और व्यवहारों को छोड़ना पड़ता है। सीखने की यह प्रक्रिया भी सीखने का एक रूप है।
  • सीखना एक सार्वभौमिक प्रक्रिया है (Learning is a universal process): सीखना एक प्राकृतिक और सार्वभौमिक प्रक्रिया है जो हमारे पूरे जीवन में होती है।
  • सीखना एक सतत/निरंतर प्रक्रिया है (Learning is an ongoing/continuous process): सीखना एक आजीवन प्रक्रिया है, और हम जीवन भर नई चीजें सीखते रहते हैं।
Steps of Learning (सीखने के चरण):
  • प्रेरणा (Motivation): प्रेरणा सीखने के पीछे प्रेरक शक्ति है। यह सीखने की इच्छा और सीखने के लिए आवश्यक प्रयास करने की इच्छा है।
  • लक्ष्य/उद्देश्य (Goal/objective): स्पष्ट लक्ष्य और उद्देश्य निर्धारित करने से सीखने के प्रयासों पर ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलती है और सीखने की प्रक्रिया को दिशा मिलती है।
  • तैयारी (Readiness): शिक्षार्थियों को सीखने के लिए शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक रूप से तैयार होना चाहिए।
  • जलवायु (Climate): सीखने का माहौल सीखने के लिए सहायक और अनुकूल होना चाहिए। इसमें शारीरिक आराम, सुरक्षा और शिक्षकों और सहपाठियों के साथ सकारात्मक संबंध जैसे कारक शामिल हैं।
  • प्रतिक्रिया (Response): सीखने में उत्तेजनाओं का जवाब देना शामिल है, चाहे वह पढ़ने, सुनने या हाथ से चलने वाली गतिविधियों के माध्यम से हो।
  • समायोजन (Adjustment): शिक्षार्थियों को नई जानकारी और अनुभवों के जवाब में अपने व्यवहार और सोच को समायोजित करने में सक्षम होना चाहिए।
  • व्यवहार में परिवर्तन (Change in behavior): सीखने में व्यवहार में परिवर्तन शामिल होता है, या तो एक नए व्यवहार के रूप में या मौजूदा व्यवहार के संशोधन के रूप में।
  • स्थिरीकरण (Stabilization): एक बार नए व्यवहार या आदतें बन जाने के बाद, उन्हें निरंतर अभ्यास और सुदृढीकरण के माध्यम से स्थिर किया जाना चाहिए।

सीखने या प्रशिक्षण के हस्तांतरण का अर्थ

(Meaning of Transfer of Learning or Training)

सीखने या प्रशिक्षण का हस्तांतरण उस घटना को संदर्भित करता है जिसमें पिछले सीखने के अनुभव एक नए कौशल या व्यवहार के प्रदर्शन को प्रभावित करते हैं। यह एक संदर्भ से प्राप्त ज्ञान या कौशल को नए या अलग संदर्भ में लागू करने की प्रक्रिया है।

उदाहरण:

  • एक बच्चा जिसने साइकिल चलाना सीख लिया है वह मोटरसाइकिल चलाना आसानी से सीख सकता है, क्योंकि संतुलन और स्टीयरिंग में शामिल कौशल समान हैं।
  • एक छात्र जिसने गणित में अंशों की अवधारणा सीखी है, अनुपात और समानुपात के साथ काम करते समय उसी ज्ञान को विज्ञान में लागू कर सकता है।

यदि सीखने में समानता → सकारात्मक स्थानांतरण। (Positive Transfer)
यदि सीखने की असमानता → नकारात्मक स्थानांतरण। (Negative Transfer)

स्थानांतरण के प्रकार

(Types of Transfer)

सकारात्मक स्थानांतरण (Positive Transfer)
  • सकारात्मक हस्तांतरण तब होता है जब पहले सीखा कौशल या ज्ञान एक नए कौशल या व्यवहार को सीखने की सुविधा प्रदान करता है। दूसरे शब्दों में, पूर्व सीखने का अनुभव एक नए कार्य के प्रदर्शन को बढ़ाता है।
  • उदाहरण: एक व्यक्ति जिसने पियानो बजाना सीखा है, वह आसानी से गिटार बजाना सीख सकता है, क्योंकि दोनों के लिए समान अंगुलियों के समन्वय और संगीत-पढ़ने के कौशल की आवश्यकता होती है।
  • उदाहरण: साइकिल चलाना सीखकर बाइक चलाना आसान
नकारात्मक स्थानांतरण (Negative Transfer)
  • नकारात्मक स्थानांतरण तब होता है जब पहले से सीखे गए कौशल या ज्ञान एक नए कौशल या व्यवहार को सीखने में बाधा डालते हैं। दूसरे शब्दों में, पूर्व सीखने का अनुभव एक नए कार्य के प्रदर्शन में हस्तक्षेप करता है।
  • उदाहरण: एक व्यक्ति जिसने ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन वाली कार चलाना सीख लिया है, उसे मैन्युअल ट्रांसमिशन वाली कार चलाना सीखने में कठिनाई हो सकती है, क्योंकि दाहिने पैर से ब्रेक और गैस पैडल दबाने का पहले सीखा हुआ व्यवहार नए व्यवहार में बाधा उत्पन्न कर सकता है। क्लच के लिए बाएं पैर का उपयोग करना।
  • जैसे – 1 जनवरी 2024 लिखने के स्थान पर जब कोई 1 जनवरी 2023 ही लिखता है।
शून्य स्थानांतरण (Zero Transfer)
  • जीरो ट्रांसफर तब होता है जब पहले सीखे गए कौशल या ज्ञान का नए कौशल या व्यवहार के सीखने पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। दूसरे शब्दों में, पूर्व सीखने का अनुभव न तो किसी नए कार्य के प्रदर्शन को सुगम बनाता है और न ही बाधा डालता है।
  • उदाहरण: जिस व्यक्ति ने सॉकर खेलना सीखा है, उसे शतरंज खेलना सीखने में कोई फायदा नहीं हो सकता है, क्योंकि दोनों कौशल असंबंधित हैं और समान संज्ञानात्मक या शारीरिक क्षमताओं की आवश्यकता नहीं है।
  • जैसे – जब कोई बच्चा बास्केटबॉल खेलने के बाद टेनिस खेलता है।

Learning Disabilities

(सीखने की अक्षमता)

Table of Learning Disabilities with Examples

Learning Disability Description with Example
Dyslexia सामान्य बुद्धि और दृष्टि होने के बावजूद शब्दों को पढ़ने और पहचानने में कठिनाई।

उदाहरण: डिस्लेक्सिया से पीड़ित बच्चे को शब्दों को डिकोड करने, धाराप्रवाह पढ़ने, या उन्होंने जो पढ़ा है उसे समझने में कठिनाई हो सकती है। उन्हें वर्तनी और लेखन में भी कठिनाई हो सकती है। उदाहरण के लिए, डिस्लेक्सिया वाला बच्चा “बिल्ली” शब्द को “कार्य” के रूप में पढ़ सकता है।

Dysgraphia सामान्य बुद्धि और ठीक मोटर कौशल होने के बावजूद स्पष्ट रूप से और सुसंगत रूप से लिखने में कठिनाई।

उदाहरण: डिसग्राफिया से पीड़ित बच्चे को लिखावट, वर्तनी और अपने विचारों को कागज पर व्यवस्थित करने में परेशानी हो सकती है। उदाहरण के लिए, डिस्ग्राफिया वाला बच्चा बहुत धीरे-धीरे और श्रमपूर्वक लिख सकता है, ऐसे अक्षरों के साथ जो खराब तरीके से बने हैं और पढ़ने में मुश्किल हैं।

Dyscalculia सामान्य बुद्धि होने के बावजूद संख्याओं और गणितीय अवधारणाओं को समझने और उनका उपयोग करने में कठिनाई।

उदाहरण: डिसकैलकुलिया वाले बच्चे को बुनियादी गणित कौशल जैसे गिनती, जोड़ना, घटाना और गुणा करने में कठिनाई हो सकती है। वे बीजगणित और ज्यामिति जैसी अधिक जटिल अवधारणाओं के साथ भी संघर्ष कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, डिसकैलकुलिया वाले बच्चे को गुणा तालिका याद रखने या अंशों को समझने में परेशानी हो सकती है।

Dysphagia निगलने में कठिनाई, जिससे भाषण और भाषा के विकास में समस्या हो सकती है।

उदाहरण: डिस्पैगिया से पीड़ित बच्चे को खाने, पीने और निगलने में परेशानी हो सकती है। यह उन्हें भोजन पर गला घोंटने या चोक करने का कारण बन सकता है, जिससे सांस की समस्या और बोलने में कठिनाई हो सकती है।

Alexia पढ़ने में कठिनाई, अक्सर मस्तिष्क क्षति या चोट के कारण होती है।

उदाहरण: अलेक्सिया से पीड़ित बच्चा पहले पढ़ने में सक्षम हो सकता है, लेकिन चोट या बीमारी के कारण वह क्षमता खो देता है। उन्हें शब्दों को पहचानने और लिखित भाषा को समझने में कठिनाई हो सकती है।

Dementia स्मृति, सोच और संज्ञानात्मक कार्य में प्रगतिशील गिरावट अक्सर उम्र बढ़ने से जुड़ी होती है।

उदाहरण: मनोभ्रंश सभी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकता है, लेकिन यह आमतौर पर वृद्ध वयस्कों से जुड़ा होता है। लक्षणों में स्मृति हानि, भाषा और संचार में कठिनाई, और मनोदशा और व्यवहार में परिवर्तन शामिल हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, मनोभ्रंश से पीड़ित व्यक्ति परिचित लोगों या वस्तुओं के नाम भूल सकता है, परिचित स्थानों के आसपास अपना रास्ता खोजने में परेशानी हो सकती है, और ड्रेसिंग और ग्रूमिंग जैसे दैनिक कार्यों में कठिनाई हो सकती है।

सीखने की अक्षमता के उदाहरण व्यापक रूप से भिन्न हो सकते हैं, और प्रत्येक व्यक्ति को विभिन्न लक्षणों और चुनौतियों का अनुभव हो सकता है। सीखने की अक्षमता वाले व्यक्तियों को उनकी चुनौतियों से उबरने और उनकी पूरी क्षमता तक पहुंचने में मदद करने के लिए उचित निदान और सहायता प्राप्त करना महत्वपूर्ण है।


Also Read:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy link
Powered by Social Snap