List of All Pedagogy Initiatives In Hindi (PDF)

List-of-All-Pedagogy-Initiatives-NISHTHA-SAFAL-RKSK-DIKSHA-PISA-SEShaGun

List of All Pedagogy Initiatives NISHTHA, SAFAL, RKSK, DIKSHA, PISA, SEShaGun

आज के इस आर्टिकल में हम आपको List of All Pedagogy Initiatives के नोट्स देने जा रहे है जिन्हे पढ़कर आप अपना टीचिंग एग्जाम पास कर सकते हो | तो चलिए जानते है इसके बारे में विस्तार से | हाल के वर्षों में, दुनिया भर में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार पर जोर दिया गया है, और इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए विभिन्न पहलें शुरू की गई हैं। भारत में, शिक्षकों के कौशल और दक्षताओं को बढ़ाने और छात्रों के बीच डिजिटल और वित्तीय साक्षरता को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा कई पहलें शुरू की गई हैं। इस लेख में, हम भारत सरकार द्वारा शुरू की गई कुछ प्रमुख पहलों पर चर्चा करेंगे, जैसे NISHTHA, SAFAL, RKSK, DIKSHA, PISA, and SEShaGun.

List-of-All-Pedagogy-Initiatives-NISHTHA-SAFAL-RKSK-DIKSHA-PISA-SEShaGun
List-of-All-Pedagogy-Initiatives-NISHTHA-SAFAL-RKSK-DIKSHA-PISA-SEShaGun
  1. NISHTHA (निष्ठा):

  • NISHTHA का मतलब स्कूल प्रमुखों और शिक्षकों की समग्र उन्नति के लिए राष्ट्रीय पहल है।
  • यह शिक्षकों और स्कूल प्रमुखों के लिए एक प्रशिक्षण कार्यक्रम है, जिसका उद्देश्य उनकी दक्षताओं और कौशल को बढ़ाना है।
  • यह पहल 2019 में मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा शुरू की गई थी।
  • यह एक व्यापक कार्यक्रम है जिसमें शिक्षाशास्त्र, छात्र मूल्यांकन और कक्षा प्रबंधन सहित शिक्षण के सभी पहलुओं को शामिल किया गया है।
  • कार्यक्रम को स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करने और छात्रों को उच्च गुणवत्ता वाली शिक्षा प्राप्त करने के लिए सुनिश्चित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।
  • उदाहरण के लिए, निष्ठा को भारतीय राज्य मध्य प्रदेश के 42,000 से अधिक सरकारी स्कूलों में लागू किया गया है, जिसका उद्देश्य उन स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करना है।

स्कूल प्रमुखों और शिक्षकों के लिए राष्ट्रीय पहल समग्र उन्नति (निष्ठा) की कई प्रमुख विशेषताएं हैं:

  • व्यापक प्रशिक्षण मॉड्यूल (Comprehensive training modules): इस कार्यक्रम में शिक्षण और सीखने के विभिन्न पहलुओं, जैसे शिक्षाशास्त्र, मूल्यांकन, कक्षा प्रबंधन और समावेशी शिक्षा को शामिल करते हुए व्यापक प्रशिक्षण मॉड्यूल शामिल हैं। ये मॉड्यूल शिक्षकों और स्कूल प्रमुखों के कौशल और दक्षताओं में सुधार करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं।
  • प्रौद्योगिकी एकीकरण (Technology integration): NISHTHA शिक्षा में प्रौद्योगिकी के उपयोग पर जोर देता है, और शिक्षकों को प्रशिक्षित किया जाता है कि वे अपने शिक्षण अभ्यासों में डिजिटल उपकरणों और संसाधनों को कैसे एकीकृत करें।
  • निरंतर व्यावसायिक विकास (Continuous professional development): कार्यक्रम शिक्षकों और स्कूल प्रमुखों को नवीनतम शिक्षण विधियों और प्रथाओं के साथ अद्यतित रखने में मदद करने के लिए निरंतर व्यावसायिक विकास प्रदान करता है।
  • अनुकूलन योग्य प्रशिक्षण (Customizable training): प्रशिक्षण मॉड्यूल को शिक्षकों और स्कूलों की विशिष्ट आवश्यकताओं और आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अनुकूलित किया जा सकता है।
  • लचीलापन (Flexibility): कार्यक्रम लचीला है और इसे स्कूलों और शिक्षकों की सुविधा पर लागू किया जा सकता है।
  • बहु-स्तरीय प्रशिक्षण (Multi-level training): NISHTHA प्राथमिक से माध्यमिक तक शिक्षा के विभिन्न स्तरों पर प्रशिक्षण प्रदान करती है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सभी शिक्षक और स्कूल प्रमुख आवश्यक प्रशिक्षण प्राप्त करें।
  • समावेशी शिक्षा (Inclusive education): यह कार्यक्रम समावेशी शिक्षा के महत्व पर जोर देता है और प्रशिक्षण प्रदान करता है कि एक समावेशी शिक्षण वातावरण कैसे बनाया जाए जो विशेष आवश्यकताओं वाले छात्रों सहित सभी छात्रों की आवश्यकताओं को पूरा करता हो।

कुल मिलाकर, NISHTHA का उद्देश्य शिक्षकों और स्कूल प्रमुखों की क्षमता का निर्माण करना, सीखने के लिए एक छात्र-केंद्रित और परिणाम-उन्मुख दृष्टिकोण को बढ़ावा देना और भारत में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करना है।


  1. SAFAL – Structured Assessment For Analyzing Learning Levels (सीखने के स्तर के विश्लेषण के लिए संरचित मूल्यांकन):

  • SAFAL का मतलब स्टूडेंट एक्सेस टू फाइनेंशियल एंड डिजिटल लिटरेसी है।
  • यह स्कूली छात्रों के बीच वित्तीय साक्षरता को बढ़ावा देने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा शुरू की गई एक पहल है।
  • कार्यक्रम का उद्देश्य छात्रों को धन प्रबंधन, बचत, निवेश और अन्य वित्तीय अवधारणाओं के बारे में सिखाना है।
  • इस पहल का उद्देश्य छात्रों को डिजिटल बैंकिंग और अन्य डिजिटल वित्तीय सेवाओं के बारे में पढ़ाकर डिजिटल साक्षरता को बढ़ावा देना है।
  • यह कार्यक्रम पूरे भारत में 12,000 से अधिक स्कूलों में लागू किया गया है, और 15 लाख से अधिक छात्रों तक पहुंच गया है।
  • उदाहरण के लिए, भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश के स्कूलों में SAFAL को लागू किया गया है, जहाँ छात्रों को पैसे बचाने के महत्व और डिजिटल बैंकिंग सेवाओं का उपयोग करने के बारे में सिखाया गया है।

SAFAL (स्ट्रक्चर्ड असेसमेंट फॉर एनालाइजिंग लर्निंग लेवल्स) भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय द्वारा सरकारी स्कूलों में छात्रों के सीखने के स्तर का आकलन करने के लिए विकसित एक उपकरण है। सफल की कुछ प्रमुख विशेषताएं हैं:

  • व्यापक मूल्यांकन (Comprehensive assessment): सफल एक व्यापक मूल्यांकन उपकरण है जो भाषा, गणित और विज्ञान जैसे विभिन्न विषयों और सीखने के डोमेन को कवर करता है।
  • ग्रेड-वार मूल्यांकन (Grade-wise assessment): टूल को ग्रेड 3 से 8 तक के छात्रों के सीखने के स्तर का आकलन करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, और प्रत्येक विषय और सीखने के डोमेन के लिए ग्रेड-वार बेंचमार्क प्रदान करता है।
  • डायग्नोस्टिक असेसमेंट (Diagnostic assessment): SAFAL एक डायग्नोस्टिक असेसमेंट टूल है जो शिक्षकों को प्रत्येक छात्र के सीखने के अंतराल और कमजोरियों की पहचान करने और लक्षित हस्तक्षेप प्रदान करने में मदद करता है।
  • उपचारात्मक शिक्षण सामग्री (Remedial teaching material): मूल्यांकन के परिणामों के आधार पर, सफल शिक्षकों को उपचारात्मक शिक्षण सामग्री प्रदान करता है जिसका उपयोग वे छात्रों को उनके सीखने के स्तर को बेहतर बनाने में मदद करने के लिए कर सकते हैं।
  • इंटरएक्टिव और आकर्षक (Interactive and engaging): टूल रंगीन चित्रों और ग्राफिक्स के साथ इंटरैक्टिव और आकर्षक होने के लिए डिज़ाइन किया गया है जो छात्रों के लिए मूल्यांकन प्रक्रिया को दिलचस्प बनाता है।
  • लचीला कार्यान्वयन (Flexible implementation): स्कूल की जरूरतों और संसाधनों के आधार पर सफल को विभिन्न तरीकों से लागू किया जा सकता है, जैसे कि पूरी कक्षा का आकलन, समूह का आकलन या व्यक्तिगत आकलन।
  • निरंतर निगरानी (Continuous monitoring): SAFAL छात्रों के सीखने के स्तर की निरंतर निगरानी के लिए एक रूपरेखा प्रदान करता है, जो शिक्षकों को प्रगति को ट्रैक करने और उनकी शिक्षण रणनीतियों को तदनुसार समायोजित करने में मदद करता है।

कुल मिलाकर, SAFAL एक मूल्यवान उपकरण है जो शिक्षकों को सरकारी स्कूलों में छात्रों के सीखने के स्तर का आकलन करने और सुधारने में मदद करता है, और भारत में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए सरकार के प्रयासों का समर्थन करता है।


  1. RKSK – Rashtriya Kishor Swasthya Karyakram (राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम):

  • RKSK का मतलब राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम है।
  • यह स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक स्वास्थ्य पहल है।
  • कार्यक्रम का उद्देश्य किशोरों को स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करना और उनमें स्वस्थ व्यवहार को बढ़ावा देना है।
  • इस पहल में कई गतिविधियाँ शामिल हैं, जैसे स्वास्थ्य शिक्षा, परामर्श और स्क्रीनिंग सेवाएँ।
  • यह कार्यक्रम पूरे भारत के 500 से अधिक जिलों में लागू किया गया है और 2 मिलियन से अधिक किशोरों तक पहुंच गया है।
  • उदाहरण के लिए, आरकेएसके को भारतीय राज्य राजस्थान में लागू किया गया है, जहां किशोरों को स्वास्थ्य शिक्षा, परामर्श और स्क्रीनिंग सेवाएं प्रदान की गई हैं।

आरकेएसके (राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम) भारत सरकार के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा भारत में किशोरों के स्वास्थ्य और कल्याण में सुधार के लिए शुरू किया गया एक व्यापक कार्यक्रम है। आरकेएसके की कुछ प्रमुख विशेषताएं हैं:

  • समग्र दृष्टिकोण (Holistic approach): RKSK स्वास्थ्य के शारीरिक, मानसिक और सामाजिक पहलुओं को संबोधित करते हुए किशोर स्वास्थ्य के लिए एक समग्र दृष्टिकोण अपनाता है।
  • जीवन कौशल शिक्षा (Life skills education): कार्यक्रम किशोरों को जीवन कौशल शिक्षा प्रदान करता है, जिसमें संचार, निर्णय लेने, समस्या को सुलझाने और महत्वपूर्ण सोच कौशल शामिल हैं।
  • स्वास्थ्य सेवाएं (Health services): RKSK का उद्देश्य किशोरों को व्यापक स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करना है, जिसमें यौन और प्रजनन स्वास्थ्य सेवाएं, मानसिक स्वास्थ्य सेवाएं और पोषण सेवाएं शामिल हैं।
  • सामुदायिक भागीदारी (Community participation): कार्यक्रम किशोर स्वास्थ्य और कल्याण को बढ़ावा देने में समुदाय की भागीदारी पर जोर देता है, और माता-पिता, शिक्षकों और अन्य हितधारकों की भागीदारी को प्रोत्साहित करता है।
  • लैंगिक संवेदनशीलता (Gender sensitivity): RKSK किशोर स्वास्थ्य और कल्याण को बढ़ावा देने में लैंगिक संवेदनशीलता के महत्व को पहचानता है, और स्वास्थ्य परिणामों में लिंग आधारित असमानताओं को संबोधित करता है।
  • सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (Information and communication technology): कार्यक्रम किशोरों तक पहुंचने और उन्हें उनके स्वास्थ्य और कल्याण से संबंधित जानकारी और सेवाएं प्रदान करने के लिए सूचना और संचार प्रौद्योगिकी का उपयोग करता है।
  • निगरानी और मूल्यांकन (Monitoring and evaluation): RKSK के पास एक मजबूत निगरानी और मूल्यांकन ढांचा है जो कार्यक्रम की प्रगति और प्रभाव को ट्रैक करने में मदद करता है।

कुल मिलाकर, आरकेएसके एक व्यापक कार्यक्रम है जिसका उद्देश्य भारत में किशोरों की शारीरिक, मानसिक और सामाजिक स्वास्थ्य आवश्यकताओं को पूरा करके उनके स्वास्थ्य और कल्याण को बढ़ावा देना है, और उन्हें जीवन कौशल शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच के साथ सशक्त बनाना है।


  1. DIKSHA (दीक्षा):

  • DIKSHA का मतलब नॉलेज शेयरिंग के लिए डिजिटल इन्फ्रास्ट्रक्चर है।
  • यह मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक पहल है।
  • कार्यक्रम का उद्देश्य शिक्षकों और छात्रों के लिए सीखने और सिखाने का समर्थन करने के लिए डिजिटल संसाधन प्रदान करना है।
  • पहल में डिजिटल संसाधनों की एक श्रृंखला शामिल है, जैसे पाठ्यपुस्तकें, वीडियो और इंटरैक्टिव सिमुलेशन।
  • यह कार्यक्रम 30 से अधिक भारतीय राज्यों में लागू किया गया है और 30 लाख से अधिक शिक्षकों और छात्रों तक पहुंच गया है।
  • उदाहरण के लिए, दीक्षा का उपयोग भारतीय राज्य कर्नाटक के शिक्षकों द्वारा किया गया है, जिन्होंने अपने शिक्षण का समर्थन करने और अपने छात्रों के लिए आकर्षक सीखने के अनुभव बनाने के लिए डिजिटल संसाधनों का उपयोग किया है।

DIKSHA (डिजिटल इन्फ्रास्ट्रक्चर फॉर नॉलेज शेयरिंग) भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय द्वारा शिक्षकों, छात्रों और अभिभावकों को डिजिटल संसाधन और शिक्षण सामग्री प्रदान करने के लिए शुरू किया गया एक डिजिटल प्लेटफॉर्म है। दीक्षा की कुछ प्रमुख विशेषताएं हैं:

  • डिजिटल संसाधनों तक पहुंच (Access to digital resources): DIKSHA छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों के लिए पाठ्यपुस्तकों, वीडियो, क्विज़ और इंटरैक्टिव मॉड्यूल सहित डिजिटल संसाधनों और सीखने की सामग्री तक पहुंच प्रदान करती है।
  • अनुकूलन योग्य सामग्री (Customizable content): मंच शिक्षकों को अपनी सामग्री बनाने और अपलोड करने की अनुमति देता है, और अपने छात्रों की जरूरतों को पूरा करने के लिए मौजूदा सामग्री को अनुकूलित करता है।
  • एकाधिक भाषाएँ (Multiple languages): दीक्षा कई भाषाओं का समर्थन करती है, जिससे यह पूरे भारत में व्यापक दर्शकों के लिए सुलभ हो जाती है।
  • Gamification (Gamification): बैज, पॉइंट और लीडरबोर्ड जैसी सुविधाओं के साथ छात्रों के लिए सीखने को अधिक आकर्षक और मज़ेदार बनाने के लिए प्लेटफ़ॉर्म Gamification तकनीकों का उपयोग करता है।
  • इंटरएक्टिव असेसमेंट (Interactive assessments): DIKSHA इंटरएक्टिव असेसमेंट और क्विज़ प्रदान करती है जो शिक्षकों और छात्रों को उनके सीखने के परिणामों का आकलन करने और उन क्षेत्रों की पहचान करने में मदद करती है जिनमें सुधार की आवश्यकता है।
  • शिक्षक प्रशिक्षण (Teacher training): मंच शिक्षकों के लिए प्रशिक्षण और पेशेवर विकास कार्यक्रम प्रदान करता है, जिससे उन्हें अपनी शिक्षण प्रथाओं और डिजिटल प्रौद्योगिकी के उपयोग में सुधार करने में मदद मिलती है।
  • लचीला कार्यान्वयन (Flexible implementation): स्कूल की जरूरतों और संसाधनों के आधार पर दीक्षा को विभिन्न तरीकों से लागू किया जा सकता है, जैसे कि पूरी कक्षा के निर्देश, स्व-गति सीखने या मिश्रित शिक्षा।

कुल मिलाकर, दीक्षा एक मूल्यवान उपकरण है जो डिजिटल संसाधनों और शिक्षण सामग्री तक पहुंच में सुधार करने में मदद करता है, इंटरैक्टिव और आकर्षक सीखने को बढ़ावा देता है, और भारत में शिक्षकों के पेशेवर विकास का समर्थन करता है।


  1. PISA – Programme for International Student Assessment (अन्तर्राष्ट्रीय छात्रों के आंकलन का कार्यक्रम):

  • PISA का मतलब प्रोग्राम फॉर इंटरनेशनल स्टूडेंट असेसमेंट है।
  • यह आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (OECD) द्वारा शुरू की गई एक पहल है।
  • कार्यक्रम का उद्देश्य पढ़ने, गणित और विज्ञान में 15 वर्षीय छात्रों के ज्ञान और कौशल का आकलन करना है।
  • पहल हर तीन साल में आयोजित की जाती है और विभिन्न देशों में छात्रों के प्रदर्शन पर मूल्यवान डेटा प्रदान करती है।
  • कार्यक्रम 80 से अधिक देशों में लागू किया गया है और 600,000 से अधिक छात्रों का परीक्षण किया गया है।
  • उदाहरण के लिए, पीआईएसए का उपयोग फिनलैंड जैसे देशों में छात्रों के प्रदर्शन का आकलन करने के लिए किया गया है, जहां छात्रों ने पढ़ने, गणित और विज्ञान में लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है।

PISA (प्रोग्राम फॉर इंटरनेशनल स्टूडेंट असेसमेंट) आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (OECD) द्वारा पढ़ने, गणित और विज्ञान में 15 वर्षीय छात्रों के ज्ञान और कौशल का आकलन करने के लिए आयोजित एक त्रैवार्षिक अंतर्राष्ट्रीय सर्वेक्षण है। पीआईएसए की कुछ प्रमुख विशेषताएं हैं:

  • अंतर्राष्ट्रीय तुलना (International comparison): PISA भाग लेने वाले देशों और अर्थव्यवस्थाओं के 15 वर्षीय छात्रों के ज्ञान और कौशल का मूल्यांकन करता है, जिससे शैक्षिक परिणामों की अंतर्राष्ट्रीय तुलना की अनुमति मिलती है।
  • वास्तविक जीवन के कौशल पर ध्यान दें (Focus on real-life skills): PISA न केवल छात्रों के शैक्षणिक ज्ञान और कौशल का आकलन करता है, बल्कि उस ज्ञान को वास्तविक जीवन की स्थितियों में लागू करने की उनकी क्षमता का भी आकलन करता है।
  • कंप्यूटर आधारित मूल्यांकन (Computer-based assessment): PISA एक कंप्यूटर आधारित मूल्यांकन है, जो डिजिटल साक्षरता सहित दक्षताओं की एक विस्तृत श्रृंखला के मूल्यांकन की अनुमति देता है।
  • प्रासंगिक प्रश्नावली (Contextual questionnaires): PISAमें प्रासंगिक प्रश्नावली शामिल है जो छात्रों की पृष्ठभूमि, दृष्टिकोण और अनुभवों के बारे में जानकारी एकत्र करती है, जो परिणामों की व्याख्या करने और शैक्षिक परिणामों में योगदान करने वाले कारकों को समझने में मदद करती है।
  • समस्या समाधान कौशल का आकलन (Assessment of problem-solving skills): पीआईएसए छात्रों की समस्या समाधान कौशल का भी आकलन करता है, जो आज की जटिल और गतिशील दुनिया में तेजी से महत्वपूर्ण होते जा रहे हैं।
  • अनुदैर्ध्य विश्लेषण (Longitudinal analysis): PISA अनुदैर्ध्य विश्लेषण की अनुमति देता है, जो समय के साथ शैक्षिक परिणामों में बदलाव को ट्रैक करने और शैक्षिक प्रदर्शन में प्रवृत्तियों और पैटर्न की पहचान करने में मदद करता है।
  • नीतिगत निहितार्थ (Policy implications): PISA मूल्यवान डेटा और अंतर्दृष्टि प्रदान करता है जो नीतिगत निर्णयों को सूचित कर सकता है और शैक्षिक परिणामों में सुधार के लिए साक्ष्य-आधारित नीतियों के विकास का समर्थन कर सकता है।

कुल मिलाकर, PISA एक मूल्यवान उपकरण है जो छात्रों के ज्ञान और कौशल का आकलन करने, ताकत और कमजोरियों के क्षेत्रों की पहचान करने और राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शैक्षिक परिणामों में सुधार के लिए नीतिगत निर्णयों को सूचित करने में मदद करता है।


  1. SEShaGun (स्कूली शिक्षा शगुन):

  • SEShaGun का मतलब स्कूली शिक्षा शगुन है। (School Education Shagun)
  • यह भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय द्वारा शुरू की गई एक पहल है।
  • कार्यक्रम का उद्देश्य भारत भर के स्कूलों में विभिन्न शिक्षा पहलों की प्रगति की निगरानी और ट्रैकिंग के लिए एक मंच प्रदान करना है।
  • मंच डेटा और जानकारी की एक श्रृंखला प्रदान करता है, जैसे कि स्कूल का बुनियादी ढांचा, छात्र नामांकन और शिक्षक उपस्थिति।
  • पहल का उद्देश्य हितधारकों को विश्वसनीय डेटा तक पहुंच प्रदान करके शिक्षा प्रणाली में पारदर्शिता और जवाबदेही को बढ़ावा देना है।
  • यह कार्यक्रम 15 से अधिक भारतीय राज्यों में लागू किया गया है, और 10 लाख से अधिक स्कूलों तक पहुंच गया है।
  • उदाहरण के लिए, शेषगुण का उपयोग भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश के स्कूलों में विभिन्न शिक्षा पहलों की प्रगति को ट्रैक करने के लिए किया गया है, जैसे मध्याह्न भोजन योजनाओं का कार्यान्वयन और छात्रों को पाठ्यपुस्तकों का प्रावधान।

SEShaGun (School Education Shagun) (स्कूल शिक्षा गुणवत्ता सूचकांक) भारत सरकार द्वारा देश में स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता का मूल्यांकन करने के लिए शुरू की गई एक पहल है। सेशागुन की कुछ प्रमुख विशेषताएं हैं:

  • व्यापक मूल्यांकन (Comprehensive assessment): SEShaGun बुनियादी ढांचे, पहुंच, इक्विटी, शासन और सीखने के परिणामों जैसे क्षेत्रों को कवर करते हुए 70 मापदंडों पर स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता का आकलन करता है।
  • एकाधिक संकेतक (Multiple indicators): SEShaGun शिक्षक योग्यता, छात्र-शिक्षक अनुपात, सीखने के संसाधनों की उपलब्धता, छात्र उपस्थिति और सीखने के परिणामों सहित स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता का आकलन करने के लिए संकेतकों की एक विस्तृत श्रृंखला का उपयोग करता है।
  • राज्य-स्तरीय मूल्यांकन (State-level assessment): SEShaGun राज्य स्तर पर स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता का आकलन करता है, जिससे विभिन्न राज्यों में शैक्षिक प्रदर्शन की तुलना और बेंचमार्किंग की अनुमति मिलती है।
  • डेटा-चालित दृष्टिकोण (Data-driven approach): SEShaGun एक डेटा-चालित पहल है, जो स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता का मूल्यांकन करने, कमियों और चुनौतियों की पहचान करने और नीतिगत निर्णयों को सूचित करने के लिए वस्तुनिष्ठ डेटा और साक्ष्य का उपयोग करता है।
  • निरंतर निगरानी (Continuous monitoring): SEShaGun स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता की निरंतर निगरानी और सुधार के लिए एक ढांचा प्रदान करता है, जिससे हितधारक समय के साथ प्रगति को ट्रैक कर सकें और आवश्यक हस्तक्षेप कर सकें।
  • सार्वजनिक रिपोर्टिंग (Public reporting): SEShaGun स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता पर सार्वजनिक रिपोर्ट प्रकाशित करता है, डेटा और निष्कर्षों को सभी हितधारकों के लिए सुलभ बनाता है और पारदर्शिता और जवाबदेही को बढ़ावा देता है।
  • नीतिगत निहितार्थ (Policy implications): SEShaGun मूल्यवान डेटा और अंतर्दृष्टि प्रदान करता है जो नीतिगत निर्णयों को सूचित कर सकता है और भारत में स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए साक्ष्य-आधारित नीतियों के विकास का समर्थन कर सकता है।

कुल मिलाकर, SEShaGun एक व्यापक पहल है जिसका उद्देश्य प्रदर्शन का आकलन करके, कमियों की पहचान करके और नीतिगत निर्णयों को सूचित करके भारत में स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करना है। यह एक डेटा-चालित और साक्ष्य-आधारित दृष्टिकोण है जो पारदर्शिता और जवाबदेही को बढ़ावा देता है, और शैक्षिक परिणामों की निरंतर निगरानी और सुधार को सक्षम बनाता है।


Also Read:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy link
Powered by Social Snap