Sources Of Knowledge Notes In Hindi (PDF Download)

Sources-Of-Knowledge-Notes-In-Hindi

Sources Of Knowledge Notes In Hindi

आज हम इन नोट्स में Sources Of Knowledge Notes In Hindi, ज्ञान के स्रोत, ज्ञान प्राप्ति के विभिन्न स्रोतों के बारे में जानेंगे। इस नोट्स के माध्यम से आप जान सकेंगे कि आखिर किन साधनों के द्वारा, ज्ञान को प्राप्त किया जा सकता है। ज्ञान के कौन-कौन से स्त्रोत हैं? कितने प्रकार के स्त्रोत है और ज्ञान कैसे प्राप्त किया जा सकता है | तो चलिए जानते है इसके बारे में विस्तार से |


ज्ञान क्या है?

(What is knowledge?)

ज्ञान जानकारी, तथ्यों, कौशल या अवधारणाओं के साथ समझ, जागरूकता या परिचितता है जो अनुभव, सीखने या तर्क के माध्यम से प्राप्त की जाती है। यह साधारण जागरूकता से आगे जाता है और इसमें विभिन्न स्थितियों में उस जानकारी को प्रभावी ढंग से लागू करने की क्षमता शामिल होती है।

  • ज्ञान से तात्पर्य किसी भी चीज़ को पूरी तरह से समझना, उसका अनुभव करना और समय आने पर उसका उपयोग करना है।
  • सूचना को हम ज्ञान नहीं कह सकते। ज्ञान से जुड़ी पूरी जानकारी के लिए आप यह नोट्स पढ़ सकते हैं।

उदाहरण: मान लीजिए कि आपने भौतिकी में गति के नियमों के बारे में जान लिया है। इस ज्ञान में न्यूटन के गति के तीन नियमों जैसी अवधारणाओं को समझना शामिल है, जो बताते हैं कि वस्तुएं कैसे चलती हैं और बलों के साथ कैसे संपर्क करती हैं।

चलिए Newton’s three laws of motion के द्वारा जानते हैं –

यहां प्रत्येक नियम के उदाहरणों के साथ (Newton’s 3 laws of motion) न्यूटन के गति के तीन नियमों का सारांश प्रस्तुत करने वाली एक तालिका दी गई है:

Newton’s Law of Motion Description Example
Newton’s First Law (Law of Inertia) An object at rest will remain at rest, and an object in motion will continue moving at a constant velocity unless acted upon by an external force. Example: मेज पर रखी किताब तब तक रुकी रहेगी जब तक कोई उसे धक्का या खींच न दे। इसी प्रकार, घर्षण रहित सतह पर लुढ़कती हुई गेंद अनिश्चित काल तक चलती रहेगी जब तक कि कोई बल उसे रोक न दे।
Newton’s Second Law (Law of Force) The acceleration of an object is directly proportional to the net force acting on it and inversely proportional to its mass. Example: यदि आप shopping cart को धक्का देने के लिए अधिक बल लगाते हैं, तो इसकी गति तेज़ हो जाएगी। समान बल दिए जाने पर एक हल्की गाड़ी भारी गाड़ी की तुलना में अधिक त्वरण का अनुभव करेगी।
Newton’s Third Law (Action-Reaction) For every action, there is an equal and opposite reaction. Example: जब आप जमीन पर चलते हैं तो आपका पैर पीछे की ओर बल लगाता है। इसके साथ ही, ज़मीन आपके पैर पर समान और विपरीत बल लगाती है, जिससे आप आगे बढ़ते हैं।

ये नियम शास्त्रीय यांत्रिकी की नींव बनाते हैं और विभिन्न परिदृश्यों में वस्तुओं की गति को समझाने में मदद करते हैं।

भौतिकी की यह समझ आपको भविष्यवाणी करने और समझाने की अनुमति देती है कि वस्तुएं विभिन्न परिदृश्यों में कैसे व्यवहार करती हैं, जैसे हवा में फेंकी गई गेंद की गति की गणना करना या चलती कार पर काम करने वाली ताकतों को समझना। (वैज्ञानिक बनने की दिशा में यह आपका पहला कदम हो सकता है |)

Sources-Of-Knowledge-Notes-In-Hindi
Sources-Of-Knowledge-Notes-In-Hindi

स्रोत का अर्थ

(Meaning of Source)

शब्द “स्रोत” का तात्पर्य किसी चीज़ के मूल, प्रवर्तक या प्रदाता से है, जैसे सूचना, डेटा, ज्ञान, या किसी चीज़ की आपूर्ति। यह प्रारंभिक बिंदु है जहां से कोई चीज़ अस्तित्व में आती है या उपलब्ध होती है।

  • जिस वस्तु से दूसरी वस्तु की उत्पत्ति होती है उसे स्रोत कहते हैं। किसी वस्तु की उत्पत्ति (Origin) के स्थान को स्रोत कहा जाता है। यह वह स्थान है जहाँ से कोई पदार्थ प्राप्त किया जाता है।

उदाहरण: आइए एक शोध पत्र के उदाहरण पर विचार करें। अकादमिक लेखन में, एक स्रोत पेपर में प्रस्तुत जानकारी का समर्थन करने के लिए उपयोग किए गए संदर्भ या उद्धरण का उल्लेख कर सकता है। ये स्रोत आम तौर पर प्रकाशित कार्य होते हैं, जैसे किताबें, लेख, या विद्वानों के कागजात, जिनसे शोध पत्र के लेखक ने अपने स्वयं के विश्लेषण या Thesis को मजबूत करने के लिए प्रासंगिक डेटा, तथ्य या तर्क एकत्र किए हैं। इस संदर्भ में, शोध पत्र अपने दावों को प्रमाणित करने और लेखक द्वारा दिए गए बयानों के लिए सबूत प्रदान करने के लिए विभिन्न स्रोतों पर निर्भर करता है। स्रोत पेपर की विश्वसनीयता और सटीकता के लिए आधार के रूप में कार्य करते हैं।


सूचना के प्राथमिक और माध्यमिक स्रोत

(Primary and Secondary Sources of Information)

OR

First Source of Information and Second

Source of Information

सूचना का पहला स्रोत और सूचना का दूसरा स्रोत संदर्भ के आधार पर भिन्न हो सकते हैं, लेकिन आम तौर पर, पहला स्रोत सूचना के मूल या प्राथमिक स्रोत को संदर्भित करता है, जबकि दूसरा स्रोत द्वितीयक या व्युत्पन्न स्रोत को संदर्भित करता है जिसने जानकारी प्राप्त की है पहले स्रोत से.

  1. सूचना का पहला स्रोत (First Source of Information): सूचना का पहला स्रोत प्रत्यक्ष, मूल या प्राथमिक स्रोत है जहाँ से सूचना उत्पन्न होती है। यह सूचना का सबसे तात्कालिक और अपरिवर्तित रूप है और इसकी व्याख्या या अन्य चैनलों के माध्यम से फ़िल्टर नहीं किया गया है। प्रत्यक्ष विवरण, प्रत्यक्षदर्शी साक्ष्य, आधिकारिक रिकॉर्ड, प्रयोगों से सीधे एकत्र किए गए डेटा और मूल शोध पत्र सूचना के पहले स्रोतों के उदाहरण हैं।
    उदाहरण: किसी घटना के बारे में समाचार रिपोर्ट में, सूचना का पहला स्रोत किसी गवाह का प्रत्यक्ष बयान या रिपोर्ट होगी जिसने घटना का प्रत्यक्ष अनुभव किया हो या घटना में शामिल अधिकारियों द्वारा जारी किया गया आधिकारिक दस्तावेज़ हो।
  2. सूचना का दूसरा स्रोत (Second Source of Information): सूचना का दूसरा स्रोत वह स्रोत है जो अपनी जानकारी पहले स्रोत या अन्य प्राथमिक स्रोतों से प्राप्त करता है। इसमें मध्यस्थ या दुभाषिए शामिल होते हैं जो मूल जानकारी को दूसरों के सामने प्रस्तुत करने से पहले उसका विश्लेषण, सारांश या व्याख्या कर सकते हैं। दूसरे स्रोतों में समाचार लेख शामिल हो सकते हैं जो प्राथमिक वैज्ञानिक अध्ययनों के आधार पर मूल साक्षात्कार या शोध सारांश का संदर्भ देते हैं।
    उदाहरण: किसी ऐतिहासिक घटना के बारे में एक वृत्तचित्र में, जानकारी का दूसरा स्रोत एक इतिहासकार हो सकता है जिसने प्राथमिक दस्तावेजों, आधिकारिक रिकॉर्ड और घटना से संबंधित अन्य मूल स्रोतों का अध्ययन और विश्लेषण किया है और वृत्तचित्र में उनकी व्याख्या और विश्लेषण प्रस्तुत कर रहा है।

ज्ञान प्राप्ति के स्रोत

(Source of knowledge)

ज्ञान विभिन्न माध्यमों और अनुभवों से प्राप्त की गई समझ और जागरूकता है। ज्ञान के विभिन्न स्रोत हैं, जिनमें से प्रत्येक दुनिया और हमारे आस-पास की चीज़ों के बारे में हमारी समझ में योगदान देता है। आइए उचित शीर्षकों और उदाहरणों के साथ इन स्रोतों का पता लगाएं:

1. इन्द्रिय अनुभव (Sense Experience): इंद्रिय अनुभव से तात्पर्य दृष्टि, श्रवण, गंध, स्वाद और स्पर्श जैसी इंद्रियों के माध्यम से प्राप्त ज्ञान से है। जब हमारी इंद्रियां बाहरी वस्तुओं के संपर्क में आती हैं, तो वे संवेदनाएं पैदा करती हैं, जो हमारे मस्तिष्क में ज्ञान का आधार बनती हैं। उदाहरण के लिए, यह जानना कि एक अंग्रेज श्वेत है या एक हाथी बड़ा है, संवेदी अनुभवों का परिणाम है।
उदाहरण: जब आप गलती से गर्म स्टोव को छूते हैं, तो गर्मी की अनुभूति आपको खतरे के प्रति सचेत करती है, और आप तुरंत अपना हाथ हटा लेते हैं। चूल्हे की गर्मी का यह ज्ञान स्पर्श की अनुभूति से प्राप्त होता है।

  • ज्ञान मुख्य रूप से आंख, कान, नाक, जीभ और त्वचा जैसी इंद्रियों के माध्यम से प्राप्त किया जाता है। इन इंद्रियों को ज्ञान का प्रारंभिक स्रोत कहा जाता है।
  • जब हमारी इंद्रियां किसी बाहरी वस्तु के संपर्क में आती हैं तो हमें उसकी अनुभूति होती है। इसी अनुभूति के आधार पर हमारे मस्तिष्क में ज्ञान की अवधारणा बनती है। इसी कारण इन्द्रियों को ज्ञान का स्रोत कहा जाता है।
  • उदाहरण के लिए, हम जानते हैं कि ‘अंग्रेज गोरे होते हैं’, हाथी बड़ा होता है, और भैंस काली होती है।
  • यह सब हमारी मान्यताओं का स्रोत है जो इंद्रियों के माध्यम से प्राप्त होता है।
  • अक्सर ज्ञान के स्रोत के रूप में इंद्रिय अनुभव की स्वीकृति की भी आलोचना की जाती है। क्योंकि कभी-कभी भ्रम के कारण व्यक्ति वस्तु की सही पहचान नहीं कर पाता है।
  • इस प्रकार कहा जा सकता है कि यह आलोचना सही नहीं है। क्योंकि भ्रम को हमारी इंद्रियों से ही दूर किया जा सकता है।
  • उदाहरण के लिए, यदि भ्रम के कारण हमारी आंखें रस्सी को सांप समझ लेती हैं तो ऐसे भ्रम को दूर करने के लिए हमें आंखों का सहारा लेना पड़ता है।

2. तर्क (Reasoning): रीज़निंग में पूर्व सूचना या परिसर के आधार पर नए ज्ञान तक पहुंचने के लिए तर्क का उपयोग करना शामिल है। तर्क दो प्रकार के होते हैं:

  1. आगमन तर्क (Inductive Reasoning): इस प्रकार के तर्क में, आधार सत्य होने पर भी निष्कर्ष भिन्न हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि हम कहते हैं, “अंग्रेज गोरे होते हैं’ तो यह निष्कर्ष नहीं निकाला जा सकता कि सभी अंग्रेज गोरे ही होंगे।
    उदाहरण: बिल्लियों के पालतू जानवर होने के कई उदाहरण देखने के बाद, आप यह निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि सभी बिल्लियाँ अच्छी पालतू जानवर होती हैं। हालाँकि, यह निष्कर्ष हमेशा सत्य नहीं हो सकता क्योंकि कुछ बिल्लियों का स्वभाव भिन्न हो सकता है।
  2. निगमन तर्क (Deductive Reasoning): यहां, यदि आधार सत्य है, तो निष्कर्ष भी सत्य होना चाहिए। उदाहरण के लिए, यदि हम कहें कि “जहाँ पानी है, वहाँ जीवन है,” तो हम यह निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि मंगल ग्रह पर जीवन नहीं हो सकता क्योंकि इसमें पानी की कमी है।
    उदाहरण: यदि आप जानते हैं कि सभी पक्षियों के पंख होते हैं, और आपका सामना एक नई पक्षी प्रजाति से होता है, तो आप यह निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि नए पक्षी के भी पंख हैं।

3. तर्क बुद्धि (Rational Intelligence): तर्कसंगत बुद्धि का तात्पर्य जीवन में व्यक्तिगत अनुभवों से प्राप्त ज्ञान से है। तार्किक सोच के माध्यम से, एक व्यक्ति विभिन्न कथनों के बीच संबंधों को समझता है और उन कनेक्शनों के आधार पर अवधारणाएँ बनाता है।
उदाहरण: एक बच्चा व्यक्तिगत अनुभवों से सीखता है कि कंटीली झाड़ी को छूने से दर्द होता है। फिर बच्चा भविष्य में कंटीली झाड़ियों को छूने से बचने के लिए तर्कसंगत बुद्धि का उपयोग करता है।

  • हमें अपने जीवन में प्राप्त अनुभवों से ज्ञान मिलता है। यह ज्ञान ही तर्क में बदल जाता है।
  • तर्क के माध्यम से व्यक्ति दो कथनों के बीच के संबंध को समझता है। इसी आधार पर संकल्पना का निर्माण होता है।

4. शब्द या आप्त वचन (Verbal Testimony of Authority): ज्ञान का यह स्रोत विशेषज्ञों या आधिकारिक हस्तियों से प्राप्त जानकारी पर निर्भर करता है। ज्ञान प्राप्त करने के लिए हम विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों की विशेषज्ञता पर निर्भर हैं। उदाहरण के लिए, किसी गणित विशेषज्ञ से गणित सीखना या किसी विश्वसनीय स्रोत के माध्यम से पियाजे के संज्ञानात्मक विकास सिद्धांत को समझना।
उदाहरण: एक छात्र एक प्रसिद्ध भौतिक विज्ञानी, जो भौतिकी के क्षेत्र में एक विशेषज्ञ है, द्वारा दिए गए व्याख्यानों में भाग लेकर सापेक्षता के सिद्धांत के बारे में सीखता है।

  • अक्सर हमें ऐसे ज्ञान के लिए विशेषज्ञों पर निर्भर रहना पड़ता है। क्योंकि उनके पास ज्ञान देने की विशेषज्ञता है।
  • ऐसे ज्ञान प्रदान करने वाले विभिन्न विशेषज्ञ हैं। उदाहरण के लिए गणित का ज्ञान किसी गणित विशेषज्ञ से ही लेना उचित है।
  • इसी प्रकार पियाजे ने संज्ञानात्मक विकास का सिद्धांत दिया है, जिसे हम आप्त वचन के माध्यम से जानते हैं।
  • इसे विशेषज्ञों की बातें भी कहा जा सकता है.

5. श्रुति (Revelation): श्रुति धार्मिक ज्ञान से संबंधित है और धार्मिक ग्रंथों के रहस्योद्घाटन पर आधारित है। ऐसा माना जाता है कि इन ग्रंथों में वर्णित ज्ञान उनके प्रवर्तकों को देखा या प्रकट किया गया था, जिससे श्रुति धार्मिक ज्ञान का एक आवश्यक स्रोत बन गई।
उदाहरण: कुछ धार्मिक परंपराओं में, विश्वासी हिंदू धर्म में वेद, ईसाई धर्म में बाइबिल, या इस्लाम में कुरान जैसे धार्मिक ग्रंथों को ज्ञान के स्रोत के रूप में मानते हैं, जो दिव्य संस्थाओं द्वारा पैगंबरों या द्रष्टाओं को प्रकट किए जाते हैं।

  • इसका संबंध धार्मिक ज्ञान से है. श्रुति शब्द का अर्थ है सुनना या प्रकट होना।
  • विभिन्न धार्मिक ग्रंथों के संबंध में यह माना जाता है कि उनमें वर्णित ज्ञान को उनके प्रवर्तकों ने अपने ज्ञान चक्षुओं से देखा है। अथवा वह ज्ञान उस पर प्रकट हो चुका है।
  • इस रूप में श्रुति को ज्ञान का स्रोत कहा जाता है। अतः श्रुति धार्मिक ज्ञान का एक महत्वपूर्ण स्रोत है।

6. अन्तःप्रज्ञा (Intuition): अन्तःप्रज्ञा ज्ञान का एक रूप है जो भीतर से उत्पन्न होता है, जिसे अक्सर आंतरिक स्व की आवाज़ कहा जाता है। यह एक धारणा या सहज शक्ति है जिसके माध्यम से व्यक्ति परम सत्य का एहसास कर सकता है। हालाँकि, ज्ञान का यह स्रोत भाषा में आसानी से अभिव्यक्त नहीं होता है और अक्सर अनुभवी योगियों से जुड़ा होता है।
उदाहरण: एक अनुभवी कलाकार हर कदम पर सचेत रूप से सोचे बिना सहज रूप से जान सकता है कि उत्कृष्ट कृति बनाने के लिए किन रंगों और स्ट्रोक्स का उपयोग करना है।

  • यह ज्ञान एक प्रकार से अंतरात्मा की आवाज है। अंतःप्रज्ञा का संबंध धारणा या अंतर्ज्ञान से है। यह एक ऐसी शक्ति है जिससे व्यक्ति को परम सत्य का बोध होता है।
  • हमारी अंतरात्मा की आवाज से ज्ञान का अनुभव होता है। इस अनुभव को छठी इंद्रिय के कारण प्राप्त ज्ञान भी कहा जा सकता है।
  • इस ज्ञान को भाषा के माध्यम से व्यक्त करने में कठिनाई होती है। इस प्रक्रिया से सामान्य व्यक्ति के लिए ज्ञान प्राप्त करना संभव नहीं है।
  • केवल पूर्ण योगी ही इस स्रोत से ज्ञान प्राप्त कर सकता है।

7. आस्था (Faith): आस्था सांस्कृतिक और पारंपरिक प्रथाओं में लगाव और विश्वास में निहित ज्ञान का एक स्रोत है। हमारे सामाजिक जीवन के कई पहलू आस्था से प्रभावित होते हैं, जो इसे ज्ञान का एक महत्वपूर्ण स्रोत बनाता है।
उदाहरण: कुछ संस्कृतियों में, वैज्ञानिक प्रमाण के बिना भी, लोग विशिष्ट जड़ी-बूटियों के उपचार गुणों में विश्वास कर सकते हैं और उन्हें विभिन्न बीमारियों के उपचार के रूप में उपयोग कर सकते हैं।

  • आस्था का अर्थ है “लगाव” हमारी संस्कृतियों में कुछ ऐसी चीज़ें हैं जिन पर हम विश्वास करते हैं।
  • यह मान्यता/आस्था इसलिए है क्योंकि यह प्राचीन काल से ही पारंपरिक तरीके से चली आ रही है।
  • हमारे सामाजिक जीवन में कई चीजें हमारी आस्था से जुड़ी होती हैं। इसलिए, विश्वास को ज्ञान का एक महत्वपूर्ण स्रोत माना जा सकता है।

8. प्रकृति (Nature): प्रकृति ज्ञान के एक महत्वपूर्ण स्रोत के रूप में कार्य करती है, जो व्यक्तिगत अवलोकन और समझ के आधार पर मूल्यवान सबक प्रदान करती है। उदाहरण के लिए, एक फलदार पेड़ से सीखना जो शरद ऋतु के दौरान पक्षियों को छाया देने के लिए झुकता है, हमें उदारता और पोषण के बारे में सिखाता है।
उदाहरण: चींटियों को एक कॉलोनी में एक साथ काम करते हुए देखकर, मनुष्य सामान्य लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए सहयोग और सहयोग के बारे में सीख सकते हैं।

  • ज्ञान का मुख्य स्रोत भी प्रकृति ही है। प्रत्येक व्यक्ति अपनी क्षमता के अनुसार प्रकृति से बहुत कुछ सीखता है।
  • उदाहरण के लिए, एक फल का पेड़ सदैव झुका रहता है और वह पतझड वृक्ष की तरह नहीं रहता और पक्षियों को छाया भी देता है।
  • सूर्य ब्रह्मांड के चारों ओर घूमता है और पृथ्वी सूर्य के चारों ओर घूमती है।
  • उन सभी चीजों से हम सीखते हैं कि हमें अपना जीवन सही तरीके से कैसे जीना चाहिए।

9. पुस्तकें (Books): पुस्तकों को लंबे समय से ज्ञान का महत्वपूर्ण स्रोत माना जाता रहा है। वे हमारे पूर्वजों द्वारा पारित की गई जानकारी का खजाना प्रदान करते हैं। हड़प्पा की सभ्यता जैसी ऐतिहासिक घटनाओं से लेकर आधुनिक समय के विषयों तक, किताबें ज्ञान का एक मूल्यवान भंडार हैं, जो हमें आसानी से सीखने और अंतर्दृष्टि प्राप्त करने में सक्षम बनाती हैं।
उदाहरण: इतिहास का अध्ययन करने वाले छात्र पुरातात्विक पुस्तकों और विद्वानों द्वारा लिखे गए ऐतिहासिक लेखों से सिंधु घाटी सभ्यता जैसी प्राचीन सभ्यताओं के बारे में ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं।

  • पुस्तकों को ज्ञान का एक प्रमुख स्रोत भी माना जाता है। हमारे पूर्वज हमेशा तांबे की थाली, पत्थर और खाने की थाली पर जरूरी बातें लिखते रहे हैं।
  • हमने उनसे बहुत कुछ सीखा है अगर किताबें न होतीं तो हम बहुत सी बातें नहीं जान पाते।
  • चाहे हड़प्पा की सभ्यता के बारे में जानकारी हो या मोहनजोदड़ो की, ज्यादातर चीजें हमें लिखित रूप में ही मिली हैं। इससे हमारे लिए ज्ञान प्राप्त करना आसान हो गया है।
  • आज के युग में हमें हर विषय पर किताबें मिल जाती हैं। यह ज्ञान का भण्डार है।

संक्षेप में, ज्ञान विभिन्न स्रोतों से प्राप्त होता है, प्रत्येक दुनिया की हमारी समझ में योगदान देता है और हमारी मान्यताओं और दृष्टिकोण को आकार देता है। ज्ञान के कई स्रोतों को अपनाने से हमें ब्रह्मांड और उसके भीतर अपने स्थान के बारे में एक व्यापक और सर्वांगीण दृष्टिकोण प्राप्त करने की अनुमति मिलती है।

Also Read: B.Ed COMPLETE Project File IN HINDI FREE DOWNLOAD

Sources-Of-Knowledge-Notes-In-Hindi
Sources-Of-Knowledge-Notes-In-Hindi

 


Sources of Attainment of knowledge

(ज्ञान प्राप्ति के स्रोत/साधन)

ज्ञान प्राप्ति के साधनों की चर्चा अलग-अलग दार्शनिकों ने अलग-अलग ढंग से की है। चार्वाक केवल दृश्य को ही प्रमाण मानते है।

  1. बौद्ध दर्शन में प्रत्यक्ष और अनुमान दो प्रमाण माने जाते हैं,प्रत्यक्ष, अनुमानम्
  2. सांख्य प्रत्यक्ष, अनुमान, शाब्द इन तीन प्रमाणों को मानते है।
  3. न्याय दर्शन चार प्रमाण मानते हैं – प्रत्यक्ष, अनुमान, उपमान तथा शाब्द । ये चार प्रमाण मानते है।
  4. मीमांसक छह: प्रमाणों को मानते हैं, – प्रत्यक्ष, अनुमान, उपमान, शाब्द, अर्थापत्ति, अनुपलब्धि
  5. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार 8 प्रमाण हैं – प्रत्यक्ष, अनुमान, उपमान, शाब्द, अर्थापत्तिः, अनुपलब्धि, सम्भव, ऐतिह्य

भारतीय दर्शन के विभिन्न सम्प्रदायों में प्रमाणों की संख्या भिन्न-भिन्न है। कौन-कौन से दर्शन व प्रमाण मान्य किये गये हैं, वह नीचे दिया गया है।

दर्शन प्रमाण-संख्या प्रमाणों के नाम
यजुर्वेद 4 स्मृति, प्रत्यक्ष, ऐतिह्य, अनुमान
मनुस्मृति 3 प्रत्यक्ष, अनुमान, शाब्द
रामायण 6 प्रत्यक्ष, अनुमान, उपमान, शाब्द, अर्थापत्ति, अभाव
चार्वाक 1 प्रत्यक्ष
वैशेषिक 2 प्रत्यक्ष, अनुमानम् (केचन शाब्दवमपीच्छन्ति)
साङ्ख्य/योग 3 प्रत्यक्ष, अनुमान, शाब्द
नैयायिक 4 प्रत्यक्ष, अनुमिति, उपमान, शाब्द
मीमांसक (भाट्ट) 6 प्रत्यक्ष, अनुमान, उपमान, शाब्द, अर्थापत्ति, अनुपलब्धि
मीमांसक (प्राभाकर) 5 प्रत्यक्ष, अनुमान, उपमान, शाब्द, अर्थापत्ति
अद्वैतवेदान्तिन 6 प्रत्यक्ष, अनुमान, उपमान, शाब्द, अर्थापत्ति, अनुपलब्धि
वैयाकरण 12 प्रत्यक्ष, अनुमान, शाब्द, उपमान, अर्थापत्ति, अभ्यासः, अदृष्ट, प्रतिभा, अनुपलब्धि, प्रत्यभिज्ञा, कोश, ऐतिह्य
बौद्ध 2 प्रत्यक्ष, अनुमानम्
जैन 6 प्रत्यक्ष, परोक्ष- स्मृति, प्रत्यभिज्ञा, ऊहा, अनुमान, आगम
पौराणिक 8 प्रत्यक्ष, अनुमान, उपमान, शाब्द, अर्थापत्तिः, अनुपलब्धि, सम्भव, ऐतिह्य
तान्त्रिक / भरत 9 प्रत्यक्ष, अनुमान, उपमान, शाब्द, अर्थापत्ति, अनुपलब्धि, सम्भव, ऐतिह्य, चेष्टा
विशिष्टाद्वैतिन 4 प्रत्यक्ष, अनुमान, उपमान, शास्त्र (वेद) अर्थापत्ति
आनन्दतीर्थ 2 प्रत्यक्ष, शब्द (अनुमानं तु श्रुत्यनुसारित्वेन प्रमाण, न तु स्वतन्त्रम्)
वल्लभ 4 (अलौकिक विषयों में) वेद, ब्रह्मसूत्र, भगवद्गीता, श्रीमद्भागवत
व्यवहारशास्त्रज्ञ 2 मानुष, दैव
अर्थशास्त्र 3 प्रत्यक्ष, परोक्ष (आप्तवाक्य, अनुमिति)
आयुर्वेद 4 आप्तोपदेश, प्रत्यक्ष, अनुमान, युक्ति (चरक) प्रत्यक्ष, आगम, अनुमान, उपमान (सुश्रुत)
भागवत 4 श्रुति, प्रत्यक्ष, अनुमान, ऐतिह्य
भारत 6 प्रत्यक्ष, अनुमान, उपमान, आगम, अर्थापत्ति, ऐतिह्य

कृपया ध्यान दें कि कुछ प्रविष्टियों में एक से अधिक “प्रमाण” (ज्ञान का स्रोत) सूचीबद्ध हो सकते हैं, जो दर्शाता है कि उन दार्शनिक प्रणालियों में कई प्रकार के ज्ञान पर विचार किया जाता है।

Also Read: KVS WEBSITE – NCERT FREE DOWNLOAD


दर्शन के अनुसार ज्ञान प्राप्ति के साधन

(According to philosophies the means of attaining knowledge)

चलिए अब हम यहां विभिन्न दर्शनों एवं विचारधाराओं के अनुसार ज्ञान प्राप्ति के साधनों पर अपने विचार व्यक्त करते है –

  1. आदर्शवाद और ज्ञान (Idealism and Knowledge): प्लेटो के अनुसार आदर्शवाद का मानना है कि सच्चा ज्ञान विचारों की दिव्य प्रणाली और आत्मा के सार को समझने में निहित है। प्लेटो ज्ञान को तीन रूपों में वर्गीकृत करता है: इंद्रिय-जनित, विचार-जनित, और चिंतन-जनित। इंद्रिय-जनित ज्ञान को अविश्वसनीय माना जाता है क्योंकि इंद्रियों के माध्यम से देखी गई वस्तुएं परिवर्तनशील होती हैं और इसलिए सत्य नहीं होती हैं। राय-जनित ज्ञान, हालांकि आंशिक रूप से सच है, अनुमान पर निर्भर करता है, जिससे यह संभावित रूप से गलत हो जाता है। दूसरी ओर, गहन चिंतन और अपरिवर्तनीय विचारों के माध्यम से प्राप्त चिंतन-जनित ज्ञान को एकमात्र सच्चा ज्ञान माना जाता है। इस सच्चे ज्ञान को प्राप्त करने के लिए, प्लेटो नैतिक जीवन जीने और विवेक का पोषण करने पर जोर देता है।
    उदाहरण: Plato’s Allegory of the Cave का रूपक चिंतन के माध्यम से प्राप्त सच्चे ज्ञान की अवधारणा को दर्शाता है, जिसमें व्यक्ति खुद को भौतिक दुनिया के भ्रम से मुक्त करते हैं और शाश्वत रूपों का अनुभव करते हैं।
  2. प्रकृतिवाद और ज्ञान (Naturalism and Knowledge): प्रकृतिवाद प्राकृतिक दुनिया के ज्ञान को वास्तविक ज्ञान के रूप में देखता है। प्रकृतिवादी प्रकृति के ज्ञान को वास्तविक ज्ञान मानते हैं। अक्सर प्रकृति का अर्थ उस सृष्टि से लिया जाता है जो प्राकृतिक रूप से विकसित होती है और जिसकी रचना में मनुष्य का कोई हाथ नहीं होता, जैसे पृथ्वी, समुद्र, पर्वत, आकाश, सूर्य, चंद्रमा, तारे, बादल, वर्षा और वनस्पति। और जीव-जंतु, लेकिन दार्शनिक दृष्टि से प्रकृति संसार का मूल तत्व है जो पहले से थी, आज भी है और भविष्य में भी रहेगी। “प्रकृति” शब्द को दुनिया के मूल तत्व के रूप में समझा जाता है, जो समय-समय पर स्वतंत्र रूप से और लगातार विद्यमान रहता है। प्रकृतिवादी इंद्रिय-अनुभूत ज्ञान को सत्य मानने पर जोर देते हैं और विश्वसनीय ज्ञान प्राप्त करने के लिए आत्म-अवलोकन परीक्षणों की वकालत करते हैं।
    उदाहरण: विभिन्न पौधों और जानवरों के प्राकृतिक आवासों में उनके जीवन चक्र का अध्ययन करने से उनके विकास और पर्यावरण के प्रति अनुकूलन के बारे में बहुमूल्य ज्ञान मिलता है।
  3. मानवता और ज्ञान (Humanity and Knowledge): मानवतावाद मनुष्य और भौतिक संसार में उनके महत्व पर केन्द्रित है। यह सभी चीजों की प्रकृति की समझ के रूप में वास्तविक ज्ञान को महत्व देता है। मानवतावादी इंद्रिय-प्रदत्त ज्ञान को महत्व देते हैं और इंद्रिय तथा कर्मेंद्रियों दोनों पर जोर देते हैं। वे समझ के मौलिक स्रोत के रूप में तर्क का उपयोग करके प्रत्यक्ष ज्ञान का आलोचनात्मक मूल्यांकन करते हैं।
    उदाहरण: मानवविज्ञान में, मानवतावादी मानव व्यवहार, विश्वासों और सामाजिक संरचनाओं की जटिलताओं के बारे में ज्ञान प्राप्त करने के लिए विविध संस्कृतियों और समाजों का अध्ययन करते हैं।
  4. अस्तित्ववाद और ज्ञान (Existentialism and Knowledge): अस्तित्ववाद व्यक्तिगत अनुभवों को ज्ञान के प्राथमिक स्रोत के रूप में उजागर करता है। किसी के जीवनकाल में प्राप्त व्यक्तिगत ज्ञान आवश्यक रूप से दूसरों के लिए लागू या सार्थक नहीं हो सकता है। परिणामस्वरूप, अस्तित्ववाद तार्किक तर्क के माध्यम से परीक्षण किए गए अनुभवजन्य ज्ञान को महत्व देता है।
    उदाहरण: एक अस्तित्ववादी अस्तित्व के सार और व्यक्तिगत सत्य को समझने के लिए स्वतंत्रता, जिम्मेदारी और प्रामाणिकता के अपने अनुभवों का पता लगा सकता है।
  5. यथार्थवाद और ज्ञान (Realism and Knowledge): यथार्थवाद मनुष्य को भौतिक प्राणी मानता है और बुद्धि को शरीर का एक अंग मानता है। इंद्रियों को ज्ञान प्राप्त करने का साधन माना जाता है। यथार्थवादी तर्क देते हैं कि संवेदी धारणा के माध्यम से प्राप्त ज्ञान वास्तविक है। इसके अतिरिक्त, वे संवेदी अनुभव के बाद भाषा और संचार के माध्यम से प्राप्त ज्ञान को महत्व देते हैं।
    उदाहरण: यथार्थवादी प्राकृतिक घटनाओं का अध्ययन करने और उनके अंतर्निहित सिद्धांतों को समझने के लिए प्रयोग और अवलोकन कर सकते हैं।
  6. व्यावहारिकता और ज्ञान (Pragmatism and Knowledge): व्यावहारिकता ज्ञान को अनुभवों के पुनर्निर्माण के रूप में देखती है, जो न केवल अपने आप में एक लक्ष्य है बल्कि मानव जीवन को बढ़ाने का एक साधन है। व्यवहारवादियों का मानना है कि ज्ञान सामाजिक गतिविधियों में भागीदारी के माध्यम से प्राप्त किया जाता है। मस्तिष्क और बुद्धि के साथ-साथ शारीरिक और इंद्रिय अंग ज्ञान प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
    उदाहरण: व्यवहारवादी व्यावहारिक शिक्षा को बढ़ावा दे सकते हैं जो वास्तविक दुनिया की समस्याओं को हल करने और समाज को बेहतर बनाने के लिए ज्ञान को लागू करने पर केंद्रित है।
  7. सांख्य दर्शन और ज्ञान (Sankhya Philosophy and Knowledge): सांख्य दर्शन में ज्ञान को दो भागों में विभाजित किया गया है: पदार्थ ज्ञान (वास्तविक ज्ञान) और विवेक ज्ञान (प्रकृति-पुरुष के बीच अंतर का ज्ञान)। पदार्थ ज्ञान इंद्रियों, मन, अहंकार, बुद्धि और अंततः मनुष्य के माध्यम से प्राप्त होता है। सांख्य का मानना है कि पुरुष बुद्धि को प्रकाशित करता है, अहंकार को जागृत करता है, और मन और इंद्रियों को सक्रिय करता है।
    उदाहरण: सांख्य दार्शनिक चेतना की प्रकृति पर विचार कर सकते हैं और वास्तविकता में गहरी अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए भौतिक दुनिया से इसके संबंध का विश्लेषण कर सकते हैं।
  8. योग दर्शन और ज्ञान (Yoga Philosophy and Knowledge): योग दर्शन की ज्ञानमीमांसा सांख्य पर आधारित है, लेकिन यह भौतिक जगत के ज्ञान के लिए बाह्य उपकरणों को आवश्यक मानता है। पदार्थ का ज्ञान इंद्रियों और छवियों के माध्यम से प्राप्त किया जाता है, जिससे आत्मा का अंतिम ज्ञान प्राप्त होता है। समाधि की अवस्था में योगी परमात्मा से एकाकार हो जाता है और सर्वज्ञ हो जाता है।
    उदाहरण: योग अभ्यासकर्ता चेतना की उच्च अवस्था प्राप्त करने और आत्म-जागरूकता प्राप्त करने के लिए ध्यान अभ्यास में संलग्न हो सकते हैं।
  9. न्याय दर्शन और ज्ञान (Nyaya Philosophy and Knowledge): न्याय दर्शन आत्मा के ज्ञान को विशेष महत्व देता है। न्याय दर्शन में दो दृष्टिकोणों को मान्यता दी गई है: एक मन के साथ विलय होने पर आत्मा की प्रत्यक्ष अनुभूति शामिल है, और दूसरा किसी के गुणों के आधार पर आत्म-ज्ञान पर जोर देता है। आत्मा को ज्ञाता और भोक्ता माना जाता है।
    उदाहरण: न्याय दार्शनिक स्वयं की प्रकृति का विश्लेषण कर सकते हैं और आत्मा की विशेषताओं में गहरी अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए आत्मनिरीक्षण में संलग्न हो सकते हैं।
  10. अद्वैत वेदांत दर्शन और ज्ञान (Advaita Vedanta Philosophy and Knowledge): अद्वैत वेदांत ज्ञान को अपरा ज्ञान (भौतिक संसार का ज्ञान) और परा ज्ञान (आध्यात्मिक ज्ञान) में विभाजित करता है। यद्यपि अपरा ज्ञान की व्यावहारिक उपयोगिता है, परंतु इससे मुक्ति नहीं मिलती। पारा ज्ञान, जिसमें पवित्र ग्रंथों और शास्त्रों से आध्यात्मिक ज्ञान शामिल है, को सच्चे ज्ञान के रूप में देखा जाता है जो मुक्ति की ओर ले जाता है।
    उदाहरण: अद्वैत वेदांत के विद्वान वास्तविकता और स्वयं की प्रकृति में गहन अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए उपनिषदों और भगवद गीता का अध्ययन कर सकते हैं।
  11. चार्वाक दर्शन और ज्ञान (harvak Philosophy and Knowledge): चार्वाक का दर्शन ज्ञान प्राप्त करने के लिए वैध प्रमाण के रूप में पूरी तरह से प्रत्यक्ष धारणा (प्रत्यक्ष) पर निर्भर करता है। अनुमान को विश्वसनीय नहीं माना जाता है. चार्वाक प्रत्यक्ष संवेदी अनुभवों के माध्यम से प्राप्त ज्ञान को प्राथमिकता देते हैं और काल्पनिक मान्यताओं को अस्वीकार करते हैं।
    उदाहरण: चार्वाक विचारक प्राकृतिक दुनिया को समझने और व्यावहारिक निष्कर्ष निकालने के लिए अनुभवजन्य साक्ष्य पर भरोसा कर सकते हैं।
  12. वैशेषिक दर्शन और ज्ञान (Vaisheshika Philosophy and Knowledge): वैशेषिक का दर्शन सात पदार्थों पर केंद्रित है, जिनमें द्रव्य, गुण और अभाव शामिल हैं। इन पदार्थों को आवश्यक तत्व माना जाता है और इनका ज्ञान वास्तविक माना जाता है।
    उदाहरण: वैशेषिक दार्शनिक ब्रह्मांड के सार में अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए इन पदार्थों की विशेषताओं और अंतःक्रियाओं का अध्ययन कर सकते हैं।
  13. बौद्ध दर्शन और ज्ञान (Buddhist Philosophy and Knowledge): बौद्ध दर्शन धारणा और अनुमान को ज्ञान प्राप्त करने के दो साधनों के रूप में मान्यता देता है। शब्द को ज्ञान का वैध स्रोत नहीं माना जाता है। बुद्ध ने जानकारी को आँख मूँद कर स्वीकार करने के प्रति आगाह किया और व्यक्तिगत अनुभवों और तर्कसंगत चिंतन पर जोर दिया।
    उदाहरण: बौद्ध मन और चेतना की प्रकृति में प्रत्यक्ष अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए माइंडफुलनेस मेडिटेशन का अभ्यास कर सकते हैं।
  14. जैन दर्शन और ज्ञान (Jain Philosophy and Knowledge): जैन दर्शन ज्ञान को आत्मा की प्रकृति के अंतर्निहित पहलू के रूप में देखता है। चेतना को आत्मा का रूप माना जाता है और जीवों के पास अनंत ज्ञान होता है।
    उदाहरण: जैन अपने वास्तविक स्वरूप और सभी जीवित प्राणियों के अंतर्संबंध में अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए आत्म-जागरूकता और ध्यान का अभ्यास कर सकते हैं।

अंत में, विभिन्न दर्शन ज्ञान के स्रोतों और प्रकृति पर अद्वितीय दृष्टिकोण प्रदान करते हैं, सच्ची समझ प्राप्त करने के लिए विभिन्न तरीकों और सिद्धांतों पर जोर देते हैं। ये विविध दृष्टिकोण दुनिया और उसके भीतर हमारे स्थान की हमारी व्यापक समझ में योगदान करते हैं।

Also Read: Psychology in English FREE PDF DOWNLOAD


विभिन्न दार्शनिकों के अनुसार ज्ञान के स्रोत

(Sources of knowledge according to various philosophers)

  1. विवेकानन्द और ज्ञान (Vivekananda and knowledge): स्वामी विवेकानन्द ने ज्ञान को दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया – भौतिक ज्ञान और आध्यात्मिक ज्ञान। भौतिक विज्ञान में भौतिक संसार का ज्ञान शामिल है, जबकि आध्यात्मिक विज्ञान में कर्म योग, भक्ति योग, राज योग और ज्ञान योग जैसे सूक्ष्म मार्गों से संबंधित ज्ञान शामिल है। वे भौतिक एवं आध्यात्मिक दोनों प्रकार के ज्ञान को सत्य मानते थे। विवेकानन्द के अनुसार यदि भौतिक जगत ईश्वर की रचना है और सत्य है तो उसका ज्ञान भी सत्य होना चाहिए। उन्होंने भौतिक संसार का ज्ञान प्राप्त करने के लिए प्रत्यक्ष तरीकों और प्रयोग की वकालत की और आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने के लिए सत्संग, स्वाध्याय और योग जैसी प्रथाओं पर जोर दिया।
    उदाहरण: एक व्यक्ति वैज्ञानिक प्रयोगों (भौतिक ज्ञान) के माध्यम से गति और गुरुत्वाकर्षण के नियमों के बारे में सीखता है और नियमित ध्यान और आत्मनिरीक्षण (आध्यात्मिक ज्ञान) के माध्यम से आध्यात्मिक अंतर्दृष्टि और आंतरिक शांति का अनुभव करता है।
  2. महात्मा गांधी और ज्ञान (Mahatma Gandhi and knowledge): महात्मा गांधी ने भौतिक ज्ञान और आध्यात्मिक ज्ञान के बीच भी अंतर किया। भौतिक ज्ञान भौतिक दुनिया और मानव जीवन के पहलुओं जैसे सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक मामलों से संबंधित है। दूसरी ओर, आध्यात्मिक ज्ञान में निर्माता और आत्मा के सार को समझना शामिल है, जो अंततः आत्म-प्राप्ति या मोक्ष की ओर ले जाता है। गांधीजी का मानना था कि दोनों प्रकार का ज्ञान आवश्यक है – सांसारिक जीवन के लिए भौतिक ज्ञान और आंतरिक विकास के लिए आध्यात्मिक ज्ञान। भौतिक ज्ञान संवेदी धारणा के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है, जबकि आध्यात्मिक ज्ञान गीता पाठ, भजन-कीर्तन और सत्संग जैसी प्रथाओं के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है।
    उदाहरण: गांधी ऐतिहासिक घटनाओं (भौतिक ज्ञान) का अध्ययन करके अहिंसक प्रतिरोध के सिद्धांतों के बारे में सीखते हैं और ध्यान और प्रार्थना (आध्यात्मिक ज्ञान) के माध्यम से आध्यात्मिक सिद्धांतों की अपनी समझ को गहरा करते हैं।
  3. रवीन्द्रनाथ टैगोर और ज्ञान (Rabindra Nath Tagore and knowledge): रवीन्द्रनाथ टैगोर भौतिक और आध्यात्मिक दोनों प्रकार के ज्ञान को महत्व देते थे। उन्होंने भौतिक जगत के ज्ञान को उपयोगी ज्ञान और आध्यात्मिक जगत के ज्ञान को शुद्ध ज्ञान कहा। टैगोर का मानना था कि सभी जीवित और निर्जीव चीजों में एकता को पहचानना ही मानव जीवन का अंतिम सत्य और उद्देश्य है। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि भौतिक ज्ञान संवेदी साधनों के माध्यम से प्राप्त किया जाता है, जबकि आत्मा और परमात्मा से संबंधित आध्यात्मिक ज्ञान, योग जैसे सूक्ष्म माध्यमों से प्राप्त किया जा सकता है। प्रेम योग, प्रेम का मार्ग, आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने और एकता का एहसास करने का सबसे आसान तरीका माना जाता था।
    उदाहरण: टैगोर वैज्ञानिक अन्वेषण (उपयोगी ज्ञान) के माध्यम से पारिस्थितिक तंत्र और जैव विविधता के बारे में ज्ञान प्राप्त करते हैं और ध्यान प्रथाओं (शुद्ध ज्ञान) के माध्यम से प्रकृति के साथ अंतर्संबंध की गहन भावना का अनुभव करते हैं।
  4. श्री अरबिंदो और ज्ञान (Arvind Ghosh and knowledge): श्री अरबिंदो के अनुसार, ब्रह्म भौतिक और आध्यात्मिक दोनों क्षेत्रों का मूल तत्व है। इन दोनों लोकों का ज्ञान सच्चे ज्ञान की ओर ले जाता है। उन्होंने ज्ञान को भौतिक ज्ञान और आत्म-ज्ञान में विभाजित किया। भौतिक ज्ञान में बाहरी दुनिया की समझ शामिल है, जबकि आत्म-ज्ञान में सच्चे आत्म की अंतर्दृष्टि शामिल है। योग के अभ्यास और निःस्वार्थ कर्म के माध्यम से आत्म-ज्ञान प्राप्त किया जा सकता है।
    उदाहरण: श्री अरबिंदो पढ़ने और अवलोकन (भौतिक ज्ञान) के माध्यम से ऐतिहासिक घटनाओं और राजनीतिक प्रणालियों के बारे में ज्ञान प्राप्त करते हैं और ध्यान और आत्म-जांच (आत्म-ज्ञान) के माध्यम से अपने आंतरिक अस्तित्व की गहराई की खोज करते हैं।
  5. जिद्दू कृष्णमूर्ति और ज्ञान (J Krishnamurthy and Gyan): जिद्दू कृष्णमूर्ति ने ज्ञान को तीन भागों में वर्गीकृत किया: वैज्ञानिक, सामूहिक और व्यक्तिगत ज्ञान। वैज्ञानिक ज्ञान तथ्यात्मक विश्लेषण पर आधारित है, सामूहिक ज्ञान प्रकृति के साथ मानवीय संबंधों से संबंधित है, और व्यक्तिगत ज्ञान आत्म-जागरूकता से संबंधित है। कृष्णमूर्ति ने इस बात पर जोर दिया कि वास्तविक ज्ञान निष्पक्ष बुद्धि से आता है। उनका मानना था कि वास्तविक ज्ञान व्यक्तियों को सशक्त बनाता है और उनके जीवन का मार्गदर्शन करता है। ऐसा ज्ञान केवल चेतना के माध्यम से ही प्राप्त किया जा सकता है।
    उदाहरण: कृष्णमूर्ति भौतिकी और रसायन विज्ञान (वैज्ञानिक ज्ञान) का अध्ययन करके वैज्ञानिक ज्ञान प्राप्त करते हैं और आत्मनिरीक्षण (व्यक्तिगत ज्ञान) के माध्यम से अपनी भावनाओं और विचार प्रक्रियाओं का पता लगाते हैं।
  6. प्लेटो और ज्ञान (Plato and knowledge): प्लेटो ने ज्ञान के तीन प्रकार बताए – इन्द्रिय ज्ञान, मत ज्ञान और विचार ज्ञान। संवेदी ज्ञान को अविश्वसनीय माना जाता है क्योंकि इंद्रियों के माध्यम से देखी जाने वाली वस्तुएं परिवर्तन के अधीन होती हैं। राय-जनित ज्ञान आंशिक रूप से सत्य हो सकता है लेकिन अटकलों पर आधारित है। तार्किक तर्क के माध्यम से प्राप्त केवल सोच-जनित ज्ञान ही सत्य माना जाता है। प्लेटो का मानना था कि विचार आत्मा के जन्मजात गुण हैं और आत्मनिरीक्षण और तर्क के माध्यम से कोई भी व्यक्ति ज्ञान प्राप्त करने के लिए इन विचारों को याद कर सकता है।
    उदाहरण: प्लेटो के दार्शनिक-राजा केवल संवेदी धारणा या राय के बजाय चिंतन और द्वंद्वात्मकता (सोच ज्ञान) के माध्यम से न्याय के सार को समझते हैं।
  7. सुकरात और ज्ञान (Socrates and knowledge): सुकरात ने ज्ञान को सार्वभौमिक और वैचारिक माना, जो किसी प्रजाति के भीतर वस्तुओं या प्राणियों के सार से प्राप्त हुआ था। किसी श्रेणी के कई उदाहरणों में समान आवश्यक गुण, ज्ञान को परिभाषित करते हैं। सुकरात के लिए, सच्चे ज्ञान में अच्छे और बुरे के बीच अंतर करने की क्षमता शामिल थी, अच्छाई वह है जो मानवता के लिए आनंद लाती है। सामान्य ज्ञान धारणा के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है, लेकिन अंतिम सत्य के लिए बुद्धि और आत्मनिरीक्षण की आवश्यकता होती है।
    उदाहरण: सुकरात विभिन्न समाजों (सामान्य ज्ञान) का अवलोकन करके सरकार के विभिन्न रूपों के बारे में सामान्य ज्ञान प्राप्त करते हैं और दार्शनिक चर्चाओं (अंतिम सत्य) के माध्यम से न्याय की प्रकृति पर विचार करते हैं।
  8. अरस्तू और ज्ञान (Aristotle and knowledge): अरस्तू ने ज्ञान को तीन स्तरों में वर्गीकृत किया है। संवेदी अनुभव विशेष का ज्ञान प्रदान करता है, भौतिक ज्ञान विशेष में सामान्य और उनके कारण-और-प्रभाव संबंधों को प्रकट करता है, और तत्वज्ञान, या परम ज्ञान, परम वास्तविकता, पदार्थ और सत्य की समझ से संबंधित है। उन्होंने भौतिक और आध्यात्मिक दोनों प्रकार के ज्ञान को आवश्यक माना, इंद्रियों को ज्ञान के विभिन्न रूपों को प्राप्त करने के आधार के रूप में कार्य किया।
    उदाहरण: अरस्तू अवलोकन और प्रयोग (भौतिक ज्ञान) के माध्यम से पौधों की वृद्धि और प्रजनन के बारे में सीखते हैं और दार्शनिक पूछताछ (अंतिम ज्ञान) के माध्यम से आत्मा और तत्वमीमांसा की प्रकृति पर विचार करते हैं।
  9. जीन-जैक्स रूसो और ज्ञान (Jean-Jacques Rousseau and Knowledge): रूसो का मानना था कि प्रकृति का ज्ञान ही सच्चा ज्ञान है। उन्होंने मानवीय हस्तक्षेप के बिना निर्मित घटनाओं को संदर्भित करने के लिए “प्रकृति” शब्द का उपयोग किया। रूसो ने विश्व के अनेक दुःखों के लिए समकालीन सभ्यता एवं विज्ञान को जिम्मेदार ठहराया, जिसे वह अनावश्यक मानता था। उन्होंने एक ऐसे शैक्षिक दृष्टिकोण की वकालत की जो बच्चों को व्यक्तिगत अनुभव और इंद्रियों के माध्यम से सीखने की अनुमति दे।
    उदाहरण: रूसो की शैक्षिक पद्धतियाँ बच्चों को प्रत्यक्ष अनुभवों (प्रकृति का ज्ञान) के माध्यम से प्राकृतिक पर्यावरण के बारे में जानने और सीखने के लिए प्रोत्साहित करती हैं।
  10. जॉन डेवी और ज्ञान (John Dewey and Knowledge): जॉन डेवी ने ज्ञान को तभी सत्य माना जब वह मानव जीवन में व्यावहारिक रूप से उपयोगी हो। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि सत्य की खोज कार्यों के परिणामों पर आधारित होनी चाहिए। डेवी ने सत्य की खोज में पाँच चरणों का प्रस्ताव रखा, जिसमें समस्या की धारणा, स्पष्टीकरण, संभावित समाधान, प्रयोग और अवलोकन शामिल थे।
    उदाहरण: डेवी छात्रों के सीखने को बढ़ावा देने (सत्य की खोज) में उनकी प्रभावशीलता निर्धारित करने के लिए विभिन्न शैक्षिक तरीकों के परिणामों की जांच करता है।

Source of Knowledge

(ज्ञान के स्रोत)

OR

Different Sources of Knowledge

(ज्ञान के विभिन्न स्रोत)

  1. Empirical knowledge (अनुभवजन्य ज्ञान): अनुभवजन्य ज्ञान से तात्पर्य उस ज्ञान से है जो अवलोकन, अनुभव, जांच और प्रयोग के माध्यम से प्राप्त किया जाता है। यह दृष्टि, श्रवण, स्पर्श, स्वाद और गंध जैसी इंद्रियों के माध्यम से एकत्रित जानकारी पर निर्भर करता है। इस प्रकार के ज्ञान को अक्सर वस्तुनिष्ठ माना जाता है क्योंकि इसे कई व्यक्तियों द्वारा अपनी इंद्रियों का उपयोग करके सत्यापित और पुष्टि किया जा सकता है।
    उदाहरण: एक वैज्ञानिक किसी पदार्थ का क्वथनांक निर्धारित करने के लिए एक प्रयोग करता है। तापमान को मापने और पदार्थ के उबलने का अवलोकन करके, वैज्ञानिक उसके क्वथनांक के बारे में अनुभवजन्य ज्ञान प्राप्त करता है।
  2. Rational Knowledge (तार्किक ज्ञान): तर्कसंगत ज्ञान तर्क, बुद्धि और तार्किक सोच के माध्यम से प्राप्त ज्ञान है। यह प्रत्यक्ष संवेदी अनुभवों पर निर्भर नहीं है बल्कि मौजूदा जानकारी के आधार पर विश्लेषण करने, अनुमान लगाने और निष्कर्ष निकालने की मानवीय क्षमता से प्राप्त होता है।
    उदाहरण: एक गणितज्ञ किसी प्रमेय को सिद्ध करने के लिए तार्किक तर्क का उपयोग करता है। स्थापित सिद्धांतों और तर्क के नियमों का उपयोग करके, वे प्रमेय की वैधता के बारे में एक निश्चित और सार्वभौमिक निष्कर्ष पर पहुंचते हैं।
  3. Authentication of Knowledge (ज्ञान का प्रमाणीकरण): ज्ञान के प्रमाणीकरण में जानकारी की सटीकता और सत्यता को मान्य करने के लिए बाहरी स्रोतों या अधिकारियों पर निर्भर रहना शामिल है। जब प्रत्यक्ष अनुभव या व्यक्तिगत अवलोकन संभव नहीं है, तो लोगों को विश्वसनीय पुस्तकों, अभिलेखों या विशेषज्ञों पर भरोसा करने की आवश्यकता हो सकती है जिनके पास आवश्यक जानकारी है।
    उदाहरण: एक इतिहासकार एक ऐतिहासिक घटना पर एक शोध पत्र लिखता है लेकिन पेपर में दिए गए तथ्यों और दावों का समर्थन करने के लिए प्रतिष्ठित विद्वानों द्वारा लिखी गई विभिन्न पुस्तकों का हवाला देता है। ये स्रोत प्रस्तुत ज्ञान के प्रमाणीकरण के रूप में कार्य करते हैं।
  4. Experience (अनुभव): अनुभव ज्ञान का एक मौलिक स्रोत है, जिसमें व्यक्तिगत अनुभव और दूसरों के अनुभवों से प्राप्त ज्ञान दोनों शामिल हैं। अपने स्वयं के अनुभवों से सीखना और दूसरों के अनुभवों से सबक लेना ज्ञान प्राप्त करने का एक अनिवार्य पहलू है।
    उदाहरण: एक अनुभवी शेफ व्यावहारिक प्रशिक्षण के माध्यम से अपने पाक ज्ञान को अपने प्रशिक्षु तक पहुंचाता है। शेफ के मार्गदर्शन से प्रशिक्षु को बहुमूल्य अनुभव और ज्ञान प्राप्त होता है, जो उसे खाना पकाने में कुशल बनने में मदद करता है।
  5. Values and Ideals (मूल्य और आदर्श): मूल्य और आदर्श ज्ञान के पहलू हैं जो परंपराओं और सामाजिक मानदंडों के माध्यम से पीढ़ियों तक प्रसारित होते हैं। वे व्यक्तियों को विशिष्ट व्यवहार अपनाने में मार्गदर्शन करते हैं जिन्हें उनकी संस्कृति या समाज में वांछनीय और स्वीकृत माना जाता है।
    उदाहरण: एक पारंपरिक समाज में, बुजुर्ग युवा पीढ़ी को नैतिक मूल्य और नैतिक सिद्धांत सौंपते हैं। ये मूल्य व्यक्तियों के व्यवहार को आकार देने में मदद करते हैं और सामाजिक सद्भाव और एकजुटता बनाए रखने में योगदान देते हैं।

संक्षेप में, ज्ञान विभिन्न स्रोतों के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है जैसे प्रत्यक्ष अवलोकन और अनुभव, तार्किक तर्क, विश्वसनीय स्रोतों से सत्यापन, व्यक्तिगत अनुभवों से सीखना और सामाजिक मूल्यों और आदर्शों का पालन। प्रत्येक स्रोत दुनिया के बारे में किसी व्यक्ति की समझ और उसके भीतर उनकी बातचीत को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

Also Read: CTET COMPLETE NOTES IN HINDI FREE DOWNLOAD


Table of Sources of Knowledge

(ज्ञान के स्रोतों की तालिका)

Here is the Table of Sources of Knowledge (ज्ञान के स्रोतों की तालिका):

Source of Knowledge Description
Empirical knowledge (अनुभवजन्य ज्ञान) Acquired through observation, experience, investigation, and experimentation.
The senses are the main source of empirical knowledge.
It is information that confirms the truth or falsehood of a claim.
Rational Knowledge (तार्किक ज्ञान) The knowledge gained by conscience/reason is called logical knowledge.
Logical knowledge is based on intelligence and not on experience and sensations.
Wisdom helps us reach definite, true, and universal knowledge.
Authentication of Knowledge (ज्ञान का प्रमाणीकरण) Many times, we have to believe the facts given by others to obtain the right knowledge.
Authority refers to any reliable book, record, or expert who has the right information.
For example, in court, a judge may accept a criminal’s psychiatric report prepared by a psychologist as evidence.
Experience (अनुभव) Knowledge is absorbed within one’s experiences.
Learning from personal experience and the experiences of others is an appropriate way of acquiring knowledge.
Personal knowledge and the experience of knowledge gained by others are the most ancient, familiar, and original sources of knowledge.
Different types of experiences – physical, emotional, spiritual, virtual, etc. – are used to acquire knowledge.
In ancient times, people relied on experiences to understand the natural world and societal customs.
Values and Ideals (मूल्य और आदर्श) The preservation and transfer of society-based knowledge occur through traditions.
Values, ideals, and social skills are followed through traditions within society.
Different traditions provide knowledge of values and ideals.
Values originate through life, environment, self, society, culture, and ideals.
Values provide knowledge of desirable behaviors and actions followed in daily life for happiness, satisfaction, and mental peace.

 


Also Read:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy link
Powered by Social Snap