Vernon Theory Of Intelligence Notes In Hindi (PDF Download)

Philip Ewart Vernon Theory Of Intelligence Notes In Hindi

आज हम आपको (Vernon’s Hierarchical Theory Of Intelligence) वर्नन का पदानुक्रमित बुद्धि सिद्धांत के नोट्स देने जा रहे है जिनको पढ़कर आपके ज्ञान में वृद्धि होगी और यह नोट्स आपकी आगामी परीक्षा को पास करने में मदद करेंगे | ऐसे और नोट्स फ्री में पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट पर रेगुलर आते रहे, हम नोट्स अपडेट करते रहते है | तो चलिए जानते है, वर्नन के पदानुक्रमित बुद्धि सिद्धांत के सिद्धांत के बारे में विस्तार से |

Notes – In the corner of this page you will see a translate button with the help of which you can change the language of these notes. Within a second and you can even download these notes.


वर्नन का बुद्धि का पदानुक्रमित सिद्धांत क्या है?

(What is Vernon’s Hierarchical Theory Of Intelligence?)

वर्नन के पदानुक्रमित सिद्धांत का प्रस्ताव है कि बुद्धि को तीन स्तरों में व्यवस्थित किया जा सकता है: प्राथमिक मानसिक क्षमताएं, व्यापक क्षमताएं और सामान्य बुद्धि। उदाहरण के लिए, प्राथमिक मानसिक क्षमताओं में संख्यात्मक क्षमता या स्थानिक दृश्यता जैसे विशिष्ट कौशल शामिल हो सकते हैं। ये प्राथमिक क्षमताएं तर्क या मौखिक प्रवाह जैसी व्यापक क्षमताओं के विकास में योगदान करती हैं। अंत में, उच्चतम स्तर पर, सामान्य बुद्धि (जी) बुद्धि के समग्र माप का प्रतिनिधित्व करती है जो व्यापक और प्राथमिक क्षमताओं से प्रभावित होती है।

इस पदानुक्रम का एक उदाहरण एक व्यक्ति होगा जिसके पास मजबूत संख्यात्मक क्षमता (प्राथमिक मानसिक क्षमता) है, जो उनके तर्क कौशल (व्यापक क्षमता) में योगदान करती है, और अंततः उनकी समग्र बुद्धि (सामान्य बुद्धि) को प्रभावित करती है।

Also Read: KVS WEBSITE – NCERT FREE DOWNLOAD


About Philip E. Vernon

(फिलिप ई वर्नन के बारे में)

यहाँ फिलिप ई. वर्नन के लिए एक जीवनी तालिका है:

Name Philip Ewart Vernon
Full Name Philip Ewart Vernon
Date of Birth June 6, 1905
Place of Birth London, England
Date of Death July 28, 1987
Nationality British
Field Psychology
Contributions Founder of the field of personality psychology, Pioneer of factor analysis, Research on intelligence and personality, Development of the theory of general intelligence
Education B.A. in Mathematics and Physics from Cambridge University, Ph.D. in Psychology from London University
Academic Affiliation University College London, University of London, University of Western Ontario.
Notable Publications “The Structure of Human Abilities” (1950), “The Measurement of Abilities” (1961), “Personality Assessment: A Critical Survey” (1964)
Awards and Honors Fellow of the British Psychological Society, Fellow of the American Psychological Association, Honorary Doctorates from various universities

कृपया ध्यान दें कि यह एक सरल जीवनी तालिका है और इसमें फिलिप ई. वर्नन के सभी विवरण और योगदान शामिल नहीं हो सकते हैं।


Vernon-Theory-Of-Intelligence-Notes-In-Hindi
Vernon-Theory-Of-Intelligence-Notes-In-Hindi

Philip E. Vernon: Pioneering Contributions to Intelligence Testing Theory

(फिलिप ई. वर्नन: बुद्धि परीक्षण सिद्धांत में अग्रणी योगदान)

फिलिप ई. वर्नन एक प्रसिद्ध मनोवैज्ञानिक थे जिन्हें बुद्धि परीक्षण सिद्धांत के क्षेत्र में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए जाना जाता है। उनके शोध और सिद्धांतों ने बुद्धि और उसके मूल्यांकन की हमारी समझ को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। यह नोट फिलिप ई. वर्नन की पृष्ठभूमि का अवलोकन प्रदान करता है और बुद्धि परीक्षण सिद्धांत पर उनके प्रभाव की पड़ताल करता है।

पृष्ठभूमि

(Background)

A. प्रारंभिक जीवन और शिक्षा (Early Life and Education)

  • फिलिप ई. वर्नन का जन्म 7 मार्च, 1905 को बोल्टन, इंग्लैंड में हुआ था।
  • उन्होंने मैनचेस्टर विश्वविद्यालय में मनोविज्ञान में स्नातक की पढ़ाई पूरी की।
  • वर्नन ने लंदन विश्वविद्यालय में अपने डॉक्टरेट की पढ़ाई की, जहाँ उन्होंने अंतर
  • मनोविज्ञान में विशेषज्ञता हासिल की।

B. अकादमिक कैरियर (Academic Career)

  • वर्नन ने लंदन विश्वविद्यालय, रीडिंग विश्वविद्यालय और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय
  • सहित विभिन्न संस्थानों में अकादमिक पदों पर कार्य किया।
  • उन्होंने एक व्याख्याता, पाठक और प्रोफेसर के रूप में कार्य किया, एक
  • अनुशासन के रूप में मनोविज्ञान के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया।
  • इंटेलिजेंस टेस्टिंग और साइकोमेट्रिक्स में वर्नन की विशेषज्ञता को व्यापक मान्यता मिली।

इंटेलिजेंस टेस्टिंग थ्योरी में योगदान

(Contributions to Intelligence Testing Theory)

A. कारक विश्लेषण (Factor Analysis)

  • वर्नन ने बुद्धि परीक्षण में कारक विश्लेषण के अनुप्रयोग में उल्लेखनीय योगदान दिया।
  • उन्होंने Intelligence underlying कारकों की पहचान करने के लिए प्रमुख घटक विश्लेषण और कारक विश्लेषण जैसे सांख्यिकीय तकनीकों के उपयोग की वकालत की।
  • वर्नन के काम ने बुद्धि को एक बहुआयामी निर्माण के रूप में समझने की नींव रखी, जो अलग-अलग संज्ञानात्मक क्षमताओं से बना है।

B. बुद्धि का श्रेणीबद्ध मॉडल (Hierarchical Model of Intelligence)

  • वर्नन के सबसे प्रभावशाली योगदानों में से एक बुद्धि के पदानुक्रमित मॉडल का विकास था।
  • उन्होंने प्रस्तावित किया कि बुद्धि को कई स्तरों में व्यवस्थित किया जा सकता है, शीर्ष पर सामान्य बुद्धि (G) और निचले स्तर पर विशिष्ट क्षमताएं।
  • इस मॉडल ने यह समझने के लिए एक ढांचा प्रदान किया कि सामान्य संज्ञानात्मक क्षमताएं अधिक विशिष्ट कौशल और प्रतिभाओं से कैसे संबंधित हैं।

C. शैक्षिक सेटिंग्स में बुद्धिमत्ता परीक्षण (Intelligence Testing in Educational Settings)

  • वर्नन के शोध ने शैक्षिक संदर्भों में बुद्धि परीक्षण के महत्व पर बल दिया।
  • उन्होंने तर्क दिया कि बुद्धि परीक्षण छात्रों की ताकत और कमजोरियों की पहचान करने, शैक्षिक हस्तक्षेप और पाठ्यक्रम विकास का मार्गदर्शन करने में सहायता कर सकता है।
  • वर्नन के काम ने शैक्षिक प्रथाओं को सूचित करने और व्यक्तिगत सीखने के दृष्टिकोण को बढ़ावा देने के लिए बुद्धि परीक्षण की क्षमता पर प्रकाश डाला।

वास्तविक जीवन का उदाहरण: द वेस्लर इंटेलिजेंस स्केल

(Real-Life Example: The Wechsler Intelligence Scale)

A. पृष्ठभूमि (Background)

  • वेचस्लर इंटेलिजेंस स्केल एक व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला इंटेलिजेंस टेस्ट है जो विभिन्न डोमेन में संज्ञानात्मक क्षमताओं का आकलन करता है।
  • यह david wexler द्वारा विकसित किया गया था, जिन्होंने परीक्षण के डिजाइन में फिलिप ई. वर्नन के काम से विचारों को शामिल किया था।

B. वर्नन के सिद्धांतों का प्रभाव (Influence of Vernon’s Theories)

  • कारक विश्लेषण पर वर्नन के जोर ने वेचस्लर इंटेलिजेंस स्केल की संरचना को प्रभावित किया।
  • परीक्षण विभिन्न संज्ञानात्मक कारकों को मापता है, जैसे मौखिक समझ, अवधारणात्मक तर्क, कार्यशील स्मृति और प्रसंस्करण गति।
  • यह बहुआयामी दृष्टिकोण एक बहुआयामी निर्माण के रूप में बुद्धि में वर्नन के विश्वास के अनुरूप है।

C. व्यवहार में पदानुक्रमित मॉडल (Hierarchical Model in Practice)

  • वेचस्लर इंटेलिजेंस स्केल के स्कोर विशिष्ट क्षमताओं को दर्शाते हुए एक समग्र बुद्धिमत्ता भागफल (IQ) और अतिरिक्त सूचकांक प्रदान करते हैं।
  • ये सूचकांक, जैसे मौखिक समझ सूचकांक और अवधारणात्मक तर्क सूचकांक, बुद्धि के वर्नन के पदानुक्रमित मॉडल के साथ संरेखित होते हैं।

निष्कर्ष: फिलिप ई. वर्नन की पृष्ठभूमि और बुद्धि परीक्षण सिद्धांत में प्रभावशाली कार्य ने मनोविज्ञान के क्षेत्र पर स्थायी प्रभाव छोड़ा है। कारक विश्लेषण के अनुप्रयोग, बुद्धिमत्ता के एक पदानुक्रमित मॉडल के विकास, और बुद्धि परीक्षण के शैक्षिक निहितार्थों की मान्यता सहित उनके योगदान, मानव बुद्धि की हमारी समझ और मूल्यांकन को आकार देना जारी रखते हैं। वेचस्लर इंटेलिजेंस स्केल जैसे वास्तविक जीवन के उदाहरण प्रदर्शित करते हैं कि कैसे वर्नन के सिद्धांतों को व्यावहारिक बुद्धि परीक्षणों में शामिल किया गया है।

Also Read: CTET COMPLETE NOTES IN HINDI FREE DOWNLOAD


वर्नन का पदानुक्रमित बुद्धि सिद्धांत

(Vernon’s Hierarchical Theory Of Intelligence)

वर्नन का पदानुक्रमित सिद्धांत बुद्धि का एक मनोवैज्ञानिक सिद्धांत है जिसे सिरिल बर्ट के पहले के काम के विस्तार के रूप में फिलिप इवर्ट वर्नन द्वारा प्रस्तावित किया गया था। यह विभिन्न स्तरों या कारकों में व्यवस्थित करके मानव बुद्धि की संरचना और विकास की व्याख्या करना चाहता है। यह सिद्धांत चार्ल्स स्पीयरमैन द्वारा प्रस्तावित बुद्धि के दो-कारक सिद्धांत और लुई थर्स्टन द्वारा प्रस्तावित बहु-कारक सिद्धांत के बीच की खाई को पाटने का प्रयास करता है।

बढ़ते पेड़ से तुलना (Comparison to a Growing Tree): वर्नन और बर्ट मानव बुद्धि की तुलना एक बढ़ते हुए पेड़ से करते हैं, यह सुझाव देते हुए कि बुद्धि समय के साथ विकसित और विस्तारित होती है, ठीक उसी तरह जैसे एक पेड़ लंबा होता है और शाखाओं में बँट जाता है।

वर्नन के पदानुक्रम में बुद्धि के स्तर

(Levels of Intelligence in Vernon’s Hierarchy)

1. Specific Factors (विशष्ट कारक):

  • विशिष्ट कारक वर्नन के पदानुक्रम में निम्नतम स्तर की बुद्धिमत्ता का प्रतिनिधित्व करते हैं।
  • वे विशिष्ट कौशल या क्षमताएं हैं जो कार्य-उन्मुख और संदर्भ-निर्भर हैं।
  • उदाहरणों में संगीत वाद्ययंत्र बजाना, गणित की समस्याओं को हल करना, या विदेशी भाषा बोलना शामिल है।

2. Minor Group Factors (लघु समूह कारक):

  • विशिष्ट कारकों की तुलना में छोटे समूह कारक पदानुक्रम में अधिक होते हैं।
  • वे संबंधित विशिष्ट कारकों का एक संग्रह शामिल करते हैं।
  • उदाहरणों में भाषा कौशल (शब्दावली, व्याकरण), सामाजिक कौशल या स्मृति क्षमताएं शामिल हैं।

3. Major Group Factors (मुख्य समूह कारक):

  • छोटे समूह कारकों की तुलना में प्रमुख समूह कारक व्यापक हैं।
  • वे संबंधित छोटे समूह कारकों की एक श्रृंखला को शामिल करते हैं।
  • उदाहरणों में मौखिक-शैक्षिक क्षमताएं (पढ़ना, लिखना, समझना) या गणितीय तर्क शामिल हैं।

4. G Factor (सामान्य कारक):

  • जी फैक्टर वर्नन के पदानुक्रम में उच्चतम स्तर की बुद्धिमत्ता का प्रतिनिधित्व करता है।
  • यह एक सामान्य कारक है जो सभी विशिष्ट, छोटे समूह और प्रमुख समूह कारकों को रेखांकित और प्रभावित करता है।
  • जी कारक एक व्यक्ति की समग्र संज्ञानात्मक क्षमता या सामान्य बुद्धि को दर्शाता है।

1. आयु से संबंधित विकास (Age-Related Development):वर्नन के सिद्धांत से पता चलता है कि जैसे-जैसे व्यक्ति बड़े होते हैं, वैसे-वैसे बुद्धि का विकास होता है। प्रारंभिक किशोरावस्था (लगभग 10-12 वर्ष) में, बुद्धि मुख्य रूप से विशिष्ट कारकों से प्रभावित होती है। जैसे-जैसे व्यक्ति किशोरावस्था (12-14 वर्ष) के माध्यम से प्रगति करता है, छोटे समूह कारक उभरने लगते हैं, जो बुद्धि में योगदान करते हैं। देर से किशोरावस्था (14-18 वर्ष) तक, प्रमुख समूह कारक अधिक प्रमुख हो जाते हैं, जिससे अधिक विशिष्ट कारकों का विकास होता है।

2. शैक्षिक प्रभाव (Educational Implications): वर्नन के सिद्धांत के अनुसार, विशिष्ट क्षेत्रों में विशेषज्ञता प्राप्त करने से पहले व्यक्तियों को एक सामान्य शिक्षा प्राप्त करनी चाहिए। यह उच्च शिक्षा या विशेष पाठ्यक्रमों को आगे बढ़ाने से पहले भाषा, गणित और विज्ञान जैसे विषयों में मूलभूत ज्ञान और कौशल प्राप्त करने के सामान्य शैक्षिक अभ्यास के अनुरूप है।
– वर्नन के सिद्धांत से पता चलता है कि व्यक्तियों को एक सामान्य शिक्षा प्राप्त करनी चाहिए जिसमें विशिष्ट क्षेत्रों में विशेषज्ञता प्राप्त करने से पहले क्षमताओं की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल हो। उदाहरण के लिए, व्यक्ति विशेष रूप से उच्च शिक्षा या विशेष पाठ्यक्रमों को आगे बढ़ाने से पहले मौखिक-शैक्षिक (V:ed) और व्यावहारिक-यांत्रिक (K:m) कौशल प्राप्त करते हैं।

3. वर्नन की मानव बुद्धि की पदानुक्रमित संरचना (Vernon’s Hierarchical Structure of Human Intelligence):वर्नन का सिद्धांत शीर्ष पर सामान्य बुद्धि (G factor) और आधार पर विशिष्ट क्षमताओं के साथ मानव बुद्धि की एक पदानुक्रमित संरचना का प्रस्ताव करता है। पदानुक्रम सामान्य बुद्धि से विशिष्ट बुद्धि तक की प्रगति का प्रतिनिधित्व करता है, यह दर्शाता है कि विशिष्ट डोमेन में विशेषज्ञता विकसित करने के लिए व्यक्ति अपनी सामान्य संज्ञानात्मक क्षमताओं पर निर्माण करते हैं।

संक्षेप में, वर्नन का श्रेणीबद्ध बुद्धि का सिद्धांत मानव बुद्धि के संगठन और विकास को समझने के लिए एक ढांचा प्रदान करता है। यह सुझाव देता है कि बुद्धि विभिन्न स्तरों या कारकों को शामिल करती है, जिसमें सामान्य बुद्धि अधिक विशिष्ट क्षमताओं को प्रभावित करती है। सिद्धांत का शिक्षा के लिए निहितार्थ है, विशेषज्ञता से पहले सामान्य शिक्षा के महत्व पर बल देना।

Also Read: B.Ed COMPLETE Project File IN HINDI FREE DOWNLOAD


Vernon-Theory-Of-Intelligence-Notes-In-Hindi
Vernon-Theory-Of-Intelligence-Notes-In-Hindi

सामान्य क्षमता

(General Ability)

सामान्य क्षमता बुद्धि के वर्नन के श्रेणीबद्ध सिद्धांत का एक मूलभूत घटक है। यह बुद्धि के व्यापक स्तर का प्रतिनिधित्व करता है और अधिक विशिष्ट संज्ञानात्मक कौशल के लिए नींव बनाता है। इस सिद्धांत में, सामान्य क्षमता को दो प्रमुख श्रेणियों में बांटा गया है: V:ed (मौखिक-शैक्षणिक) और K:m (व्यावहारिक-यांत्रिक)। यहाँ सामान्य क्षमता के घटकों का टूटना है:

V:ed, Verbal-Educational

(मौखिक – शैनिक योग्यता )

  • V:ed मौखिक-शैक्षिक क्षमताओं को संदर्भित करता है, जिसमें भाषा, संचार और अकादमिक ज्ञान से संबंधित कौशल शामिल हैं।
  • रचनात्मक (Creative): इस घटक में कल्पनाशील रूप से सोचने, विचार उत्पन्न करने और अपने आप को एक अनोखे और मूल तरीके से अभिव्यक्त करने की क्षमता शामिल है।
  • मौखिक प्रवाह (Verbal Fluency): यह भाषा का उपयोग करके विचारों और विचारों को धाराप्रवाह और प्रभावी ढंग से व्यक्त करने की क्षमता से संबंधित है।
  • संख्यात्मक (Numerical): संख्यात्मक कौशल में संख्याओं, संख्यात्मक अवधारणाओं और गणितीय तर्क को समझना और हेरफेर करना शामिल है।

K:m, Practical-Mechanical

(क्रियात्मक-यांत्रिक योग्यता)

  • K:m व्यावहारिक-यांत्रिक क्षमताओं को संदर्भित करता है, जिसमें व्यावहारिक समस्या-समाधान, यांत्रिक समझ और व्यावहारिक कार्यों से संबंधित कौशल शामिल हैं।
  • स्थानिक (Spatial): स्थानिक क्षमताओं में अंतरिक्ष में वस्तुओं को देखने और हेरफेर करने, स्थानिक संबंधों को समझने और वस्तुओं को मानसिक रूप से घुमाने की क्षमता शामिल है।
  • मनोगत्यात्मक (Psychomotor): साइकोमोटर स्किल्स में फिजिकल मूवमेंट्स और मोटर स्किल्स का समन्वय शामिल होता है, जैसे कि हाथ से आँख का समन्वय, निपुणता और ठीक मोटर नियंत्रण।
  • यांत्रिक (Mechanical): यांत्रिक क्षमताएँ यांत्रिक सिद्धांतों और प्रक्रियाओं की समझ और अनुप्रयोग से संबंधित हैं, जिसमें मशीनरी, उपकरण और यांत्रिक प्रणालियों का ज्ञान शामिल है।

सामान्य क्षमता के ये घटक व्यक्तियों के पास बुद्धि के विभिन्न क्षेत्रों को ग्रहण करते हैं। वे अधिक विशिष्ट संज्ञानात्मक कौशल और विशिष्ट कारकों के लिए आधार प्रदान करते हैं, जैसा कि वर्नन की बुद्धि की पदानुक्रमित संरचना में उल्लिखित है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि व्यक्तियों के पास V:ed और K:m श्रेणियों में प्रवीणता और ताकत की अलग-अलग डिग्री हो सकती है। जबकि कुछ व्यक्ति मौखिक-शैक्षिक क्षमताओं में उत्कृष्टता प्राप्त कर सकते हैं, अन्य मजबूत व्यावहारिक-यांत्रिक कौशल प्रदर्शित कर सकते हैं। इन सामान्य क्षमताओं और समग्र संज्ञानात्मक कार्यप्रणाली पर उनके प्रभाव के बीच की बातचीत वर्नन के सिद्धांत का एक प्रमुख पहलू है।

मानव बुद्धि सामान्य बुद्धि से विशिष्ट बुद्धि (General Intelligence to specific Intelligence) की ओर विकसित होती है
इसलिए हम बी.एड. जैसे किसी विशिष्ट पाठ्यक्रम में शिक्षा प्राप्त करने से पहले स्कूली शिक्षा प्राप्त करते हैं।

संक्षेप में, सामान्य क्षमता बुद्धि के वर्नन के श्रेणीबद्ध सिद्धांत में एक आधारभूत स्तर है। इसमें मौखिक-शैक्षणिक क्षमताएं (V:ed) और व्यावहारिक-यांत्रिक क्षमताएं (K:m) शामिल हैं, जिनमें विभिन्न संज्ञानात्मक कौशल जैसे रचनात्मक सोच, मौखिक प्रवाह, संख्यात्मक दक्षता, स्थानिक समझ, साइकोमोटर समन्वय और यांत्रिक समझ शामिल हैं। ये सामान्य क्षमताएं अधिक विशिष्ट कारकों के विकास के लिए आधार बनाती हैं और किसी व्यक्ति की समग्र बुद्धि में योगदान करती हैं।

Also Read: Psychology in English FREE PDF DOWNLOAD


Vernon’s classification of intelligence

(वर्नोन का बुद्धि का वर्गीकरण)

वर्नोन के बुद्धि के वर्गीकरण में तीन श्रेणियां शामिल हैं: जैविक, मनोवैज्ञानिक और परिचालन बुद्धि।

  1. जैविक उपागम ( Biological Approach): यह परिप्रेक्ष्य बुद्धि को पर्यावरण के प्रति व्यक्ति की अनुकूलनशीलता के रूप में देखता है। यह सुझाव देता है कि बुद्धि विभिन्न सामाजिक और भौतिक संदर्भों में समायोजित करने और पनपने की क्षमता से जुड़ी हुई है। कई उल्लेखनीय वैज्ञानिकों, शिक्षकों और दार्शनिकों ने अपने संबंधित क्षेत्रों में अनुकूलता और बुद्धिमत्ता का प्रदर्शन किया है।
    उदाहरण: प्रसिद्ध जीवविज्ञानी चार्ल्स डार्विन को बुद्धि के जैविक दृष्टिकोण के उदाहरण के रूप में देखा जा सकता है। उनके विकास के सिद्धांत और विभिन्न वातावरणों में अनुकूलन और पनपने की उनकी क्षमता उनकी बुद्धिमत्ता और अनुकूलन क्षमता को प्रदर्शित करती है। प्राकृतिक दुनिया में उनकी टिप्पणियों और अंतर्दृष्टि उनके परिवेश को समझने और अपनाने में उनकी बुद्धि के उत्पाद थे।
  2. मनोवैज्ञानिक उपागम ( Psychological Approach): यह दृष्टिकोण बुद्धि में आनुवंशिकता और पर्यावरण दोनों की भूमिका पर विचार करता है। कुछ परिभाषाएँ बुद्धि को आनुवंशिक कारकों से प्रभावित एक सहज, सामान्य संज्ञानात्मक क्षमता के रूप में महत्व देती हैं। अन्य लोग स्वीकार करते हैं कि बुद्धि वंशानुगत और पर्यावरणीय कारकों के संयोजन का परिणाम है।
    उदाहरण: हॉवर्ड गार्डनर का बहुबुद्धि का सिद्धांत मनोवैज्ञानिक दृष्टिकोण के साथ संरेखित करता है। गार्डनर ने प्रस्तावित किया कि बुद्धि को केवल एक संज्ञानात्मक क्षमता द्वारा परिभाषित नहीं किया जाता है बल्कि भाषाई, तार्किक-गणितीय, संगीत, स्थानिक, शारीरिक-काइनेस्टेटिक और पारस्परिक बुद्धि सहित बुद्धि के विभिन्न रूपों को शामिल किया जाता है। गार्डनर के अनुसार, बुद्धि आनुवांशिक कारकों (आनुवंशिकता) और पर्यावरणीय कारकों, जैसे कि सांस्कृतिक प्रभाव और व्यक्तिगत अनुभव दोनों से प्रभावित होती है।
  3. संक्रियात्मक उपागम (Operational Approach): ऑपरेशनल दृष्टिकोण बुद्धि को परिभाषित करने और मापने के व्यावहारिक पहलुओं पर केंद्रित है। इसमें बुद्धि का मूल्यांकन करने के लिए डिज़ाइन किए गए विशिष्ट परीक्षणों या आकलनों का विकास शामिल है। इन परीक्षणों पर व्यक्तियों के प्रदर्शन का उपयोग उनकी बुद्धि के स्तर को निर्धारित करने के लिए किया जाता है। यह दृष्टिकोण बुद्धि को समझने के लिए एक स्पष्ट और वस्तुनिष्ठ रूपरेखा प्रदान करता है।
    उदाहरण: Wechsler intelligence scale (जैसे, WAIS, WISC) व्यापक रूप से उपयोग किए जाने वाले परीक्षण हैं जो परिचालन दृष्टिकोण का उदाहरण देते हैं। इन परीक्षणों को विभिन्न संज्ञानात्मक क्षमताओं को मापने और बुद्धि की परिचालन परिभाषा प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इन आकलनों के माध्यम से, मौखिक समझ, अवधारणात्मक तर्क, कार्यशील स्मृति और प्रसंस्करण गति से संबंधित कार्यों पर व्यक्तियों के प्रदर्शन का मूल्यांकन उनकी बुद्धि के स्तर को निर्धारित करने के लिए किया जाता है।

जबकि बुद्धि को परिभाषित करने के लिए ये तीन दृष्टिकोण अलग-अलग हैं, वे आपस में जुड़े भी हैं। इन श्रेणियों के भीतर अवधारणाएं और विचार एक दूसरे को ओवरलैप और पूरक करते हैं। हम डेविड वेक्स्लर जैसे मनोवैज्ञानिकों के विचारों और कार्यों में इन परिभाषाओं के समन्वय और विस्तार के तत्वों को देखते हैं, जिन्होंने बुद्धि के उपायों को और विकसित किया।


Unveiling the Layers of Intelligence: Exploring Vernon’s Hierarchical Theory through Arjun’s Journey

(बुद्धि की परतों का अनावरण: अर्जुन की यात्रा के माध्यम से वर्नन के पदानुक्रमित सिद्धांत की खोज)

एक बार की बात है, भारत की प्राकृतिक सुंदरता के बीच बसे एक जीवंत गाँव में, अर्जुन नाम का एक युवा लड़का रहता था। अर्जुन का जीवन वर्नन के पदानुक्रमित सिद्धांत के अनुसार प्रकट हुआ, जिसने उनकी आत्म-खोज और विकास की यात्रा को आकार दिया।

  • अपने प्रारंभिक वर्षों के दौरान, 10 से 12 वर्ष की आयु तक, अर्जुन की बुद्धि सामान्य क्षमता के साथ खिल गई। उनमें विभिन्न विषयों में ज्ञान की स्वाभाविक जिज्ञासा और भूख थी। उनके “V:ed” कौशल, उनके मौखिक-शैक्षणिक कौशल का प्रतिनिधित्व करते हुए, उज्ज्वल रूप से चमके क्योंकि उन्होंने भाषाओं में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया और अपने शिक्षकों और साथियों के साथ पढ़ने और आकर्षक बातचीत के माध्यम से ज्ञान को अवशोषित किया।
  • जैसे ही अर्जुन ने किशोरावस्था में प्रवेश किया, 12 और 14 वर्ष की आयु के बीच, उनकी बुद्धि के विशिष्ट कारक उभरने लगे। कला और संगीत में तल्लीन होते ही उनकी रचनात्मक प्रवृत्ति सबसे आगे आ गई। अर्जुन ने जटिल पारंपरिक रूपांकनों को चित्रित करने के अपने जुनून और मधुर धुनों के माध्यम से सहजता से अपनी भावनाओं को व्यक्त करने की क्षमता का पता लगाया। उनकी मौखिक प्रवाह में सुधार हुआ, जिससे उन्हें वाक्पटुता के साथ अपने विचारों को स्पष्ट करने और विचारोत्तेजक चर्चाओं में संलग्न होने की अनुमति मिली।
  • समय बीतने के साथ अर्जुन की बुद्धि विकसित होती रही। 14 और 18 वर्ष की आयु के बीच, उन्होंने भारतीय परंपराओं में निहित व्यावहारिक-यांत्रिक कौशल (K:m) की खोज की। शिल्प कौशल और हाथों के काम के प्रति उनके आकर्षण ने उन्हें काष्ठकला और मूर्तिकला की जटिल कला को अपनाने के लिए प्रेरित किया। अर्जुन की स्थानिक क्षमताएँ फली-फूलीं क्योंकि उन्होंने त्रुटिपूर्ण कल्पना की और अपनी कलात्मक दृष्टि को प्रकट करते हुए जटिल डिज़ाइन बनाए। जब वे शास्त्रीय भारतीय नृत्य रूपों में शामिल हुए, सटीक आंदोलनों और अभिव्यक्तियों में महारत हासिल करते हुए उनका साइकोमोटर कौशल विकसित हुआ।
  • जैसे ही अर्जुन ने वयस्कता को अपनाया, उन्होंने प्राचीन भारतीय डिजाइनों से प्रेरित वास्तुकला में विशेषज्ञता हासिल करते हुए अपने लिए एक अनूठा रास्ता बनाया था। संख्यात्मक अवधारणाओं में उनकी विशेषज्ञता ने उन्हें विस्मयकारी संरचनाएं बनाने में सक्षम बनाया, जो कलात्मकता और कार्यक्षमता को मिश्रित करती हैं। उनकी व्यावहारिक-यांत्रिक क्षमताओं ने उन्हें पारंपरिक तत्वों और टिकाऊ प्रथाओं को शामिल करते हुए, अपने वास्तु दर्शन में जान फूंकने की अनुमति दी।
  • अर्जुन की यात्रा भारतीय परंपराओं में गहराई से निहित वर्नन के पदानुक्रमित सिद्धांत की पिरामिड-आकार की संरचना का उदाहरण है। उन्होंने सामान्य क्षमता की एक मजबूत नींव के साथ शुरुआत की, जो धीरे-धीरे विशिष्ट कारकों में बदल गई क्योंकि उन्होंने अपनी सांस्कृतिक विरासत में गहराई से प्रवेश किया। पिरामिड का प्रत्येक स्तर उसकी वृद्धि का प्रतीक है, उसकी बुद्धि को गहराई और विशेषज्ञता के साथ समृद्ध करता है।

अंत में, अर्जुन की कहानी ने भारतीय संदर्भ में (Vernon’s Hierarchical Theory of Intelligence) वर्नन का बुद्धि का पदानुक्रमित सिद्धांत के गहरे प्रभाव को प्रदर्शित किया। अर्जुन ने अपनी सांस्कृतिक जड़ों को अपनाकर, अपनी प्रतिभा का पोषण करके और अपनी बुद्धिमत्ता का लाभ उठाकर, भारतीय वास्तुकला के संरक्षण और विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उनकी यात्रा बुद्धि की शक्ति और सांस्कृतिक विरासत के साथ इसके सामंजस्यपूर्ण एकीकरण के लिए एक वसीयतनामा के रूप में खड़ी थी, जो भारत की सुंदरता और विविधता को दर्शाती है।


Vernon-Theory-Of-Intelligence-Notes-In-Hindi
Vernon-Theory-Of-Intelligence-Notes-In-Hindi

बुद्धिमत्ता सिद्धांत की तुलना: वर्नन का मॉडल बनाम हॉर्न-कैटेल का Gf-Gc थ्योरी

(Comparing Intelligence Theories: Vernon’s Model vs. Horn-Cattell’s Gf-Gc Theory)

जॉन एल. हॉर्न और रेमंड बी. कैटेल द्वारा प्रस्तावित हॉर्न-कैटेल Gf-Gc सिद्धांत, एक अन्य प्रसिद्ध सिद्धांत है जो बुद्धि के दो व्यापक आयामों पर केंद्रित है: द्रव बुद्धि (Gf) और क्रिस्टलीकृत बुद्धि (Gc), यहाँ वर्नन के मॉडल और Gf-Gc सिद्धांत के बीच कुछ महत्वपूर्ण अंतर हैं:

  1. कारक संरचना (Factor Structure): जबकि दोनों मॉडल एक सामान्य कारक (G) और कई विशिष्ट कारकों के अस्तित्व को पहचानते हैं, प्रत्येक सिद्धांत में पहचाने जाने वाले विशिष्ट कारक भिन्न होते हैं। वर्नन का मॉडल प्राथमिक मानसिक क्षमताओं और व्यापक क्षमताओं पर जोर देता है, जबकि जीएफ-जीसी सिद्धांत तरल बुद्धि (GF) और क्रिस्टलाइज्ड इंटेलिजेंस (GC) पर केंद्रित है। Gf नवीन समस्याओं को हल करने और अमूर्त रूप से सोचने की क्षमता को संदर्भित करता है, जबकि Gc अर्जित ज्ञान और कौशल से संबंधित है।
  2. टेस्ट बैटरी (Test Battery): वर्नन के मॉडल की तुलना में हॉर्न-कैटेल मॉडल ने परीक्षणों की अधिक व्यापक और सावधानीपूर्वक चयनित बैटरी का इस्तेमाल किया। इस व्यापक विश्लेषण ने Gf-Gc सिद्धांत के भीतर अतिरिक्त कारकों की पहचान के लिए अनुमति दी, जैसे दृश्य स्थानिक क्षमता (Gv), प्रसंस्करण गति (Gs), और पुनर्प्राप्ति क्षमता (Gr)। ये कारक वर्नन के मॉडल में कैद की गई विशिष्ट संज्ञानात्मक क्षमताओं की अधिक विस्तृत समझ प्रदान करते हैं।
  3. समूहीकरण कारक (Grouping Factors): एक उल्लेखनीय अंतर यह है कि हॉर्न-कैटेल जीएफ-जीसी मॉडल में समूहीकरण कारक शामिल हैं जो विशिष्ट क्षमताओं के बीच संबंधों के लिए जिम्मेदार हैं। ये समूह कारक प्राथमिक और व्यापक क्षमताओं के बीच अंतर्संबंधों और पदानुक्रमों की व्याख्या करने में मदद करते हैं। वर्नन के मॉडल में, समूहीकरण कारकों की अनुपस्थिति एक कारण है कि 2005 में जॉनसन और बुचर्ड द्वारा मॉडल को एक बड़े डेटासेट में फ़िट करते समय अतिरिक्त कारकों को जोड़ा जाना था।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि बुद्धि के विभिन्न सिद्धांत इस बात पर विभिन्न दृष्टिकोण प्रस्तुत करते हैं कि बुद्धि कैसे संरचित और संकल्पित होती है। वर्नन का मॉडल और Gf-Gc सिद्धांत दोनों ही बुद्धि की हमारी समझ में योगदान करते हैं लेकिन अलग-अलग पहलुओं और कारकों के साथ।


वर्नन के बुद्धि के श्रेणीबद्ध सिद्धांत की आलोचना

(Criticism of Vernon’s Hierarchical Theory of Intelligence)

(Vernon’s Hierarchical Theory of Intelligence) वर्नन का बुद्धि का पदानुक्रमित सिद्धांत, अपने समय में प्रभावशाली होने के दौरान, विभिन्न विद्वानों और शोधकर्ताओं की आलोचना का भी सामना करना पड़ा है। इस सिद्धांत की ओर निर्देशित कुछ सामान्य आलोचनाएँ नीचे दी गई हैं:

  1. अनुभवजन्य साक्ष्य का अभाव (Lack of Empirical Evidence): वर्नन के सिद्धांत की प्राथमिक आलोचनाओं में से एक सीमित अनुभवजन्य साक्ष्य है जो इसकी पदानुक्रमित संरचना का समर्थन करता है। आलोचकों का तर्क है कि बुद्धिमत्ता के प्रस्तावित स्तर, जैसे कि विशिष्ट कारक और छोटे/प्रमुख समूह कारक, स्पष्ट अनुभवजन्य सत्यापन की कमी रखते हैं। सिद्धांत व्यक्तिपरक वर्गीकरण पर बहुत अधिक निर्भर करता है और अपने दावों के लिए एक ठोस अनुभवजन्य आधार प्रदान नहीं करता है।
  2. बुद्धि का अतिसरलीकरण (Oversimplification of Intelligence): आलोचकों का तर्क है कि यह सिद्धांत बुद्धि की अवधारणा को एक श्रेणीबद्ध संरचना में घटाकर अतिसरल बना देता है। इंटेलिजेंस एक जटिल और बहुआयामी विशेषता है, जो विभिन्न आनुवंशिक, पर्यावरण और सामाजिक-सांस्कृतिक कारकों से प्रभावित है। एक पिरामिड जैसी संरचना में बुद्धि को कम करके, सिद्धांत मानव संज्ञानात्मक क्षमताओं की पूर्ण जटिलता और बारीकियों को पकड़ने में विफल रहता है।
  3. सांस्कृतिक पूर्वाग्रह (Cultural Bias): एक और आलोचना वर्नन के सिद्धांत में निहित संभावित सांस्कृतिक पूर्वाग्रह है। पदानुक्रम में प्रस्तावित विशिष्ट कारक और समूह कारक सांस्कृतिक मूल्यों और मानदंडों से प्रभावित हो सकते हैं, जिससे बुद्धि पर एक सीमित परिप्रेक्ष्य हो सकता है। सिद्धांत विभिन्न संस्कृतियों और समाजों में बुद्धि प्रकट करने वाले विविध तरीकों के लिए पर्याप्त रूप से खाता नहीं हो सकता है।
  4. व्यक्तिगत मतभेदों का अभाव (Lack of Individual Differences): आलोचकों का तर्क है कि वर्नन का सिद्धांत बुद्धि में व्यक्तिगत अंतरों को पर्याप्त रूप से संबोधित नहीं करता है। सिद्धांत व्यापक समूहों और सामान्य क्षमताओं पर अधिक ध्यान केंद्रित करता है, जो अद्वितीय शक्तियों और कमजोरियों की उपेक्षा करता है जो व्यक्तियों के पास हो सकती हैं। इंटेलिजेंस एक बहुआयामी निर्माण है, और एक आकार-फिट-सभी श्रेणीबद्ध संरचना व्यक्तिगत अंतरों की पूरी श्रृंखला पर कब्जा नहीं कर सकती है।
  5. पर्यावरणीय कारकों की उपेक्षा (Neglect of Environmental Factors): एक अन्य आलोचना, बुद्धि को आकार देने में पर्यावरणीय कारकों पर सिद्धांत का सीमित जोर है। जबकि आनुवंशिकी एक भूमिका निभाती है, बुद्धि भी पर्यावरणीय कारकों जैसे कि शिक्षा, सामाजिक-आर्थिक स्थिति और सांस्कृतिक अनुभवों से बहुत अधिक प्रभावित होती है। वर्नन का सिद्धांत बुद्धि के विकास में आनुवंशिक और पर्यावरणीय कारकों के बीच परस्पर क्रिया के लिए पर्याप्त रूप से जिम्मेदार नहीं है।
  6. व्यावहारिक अनुप्रयोगों की कमी (Lack of Practical Applications): आलोचकों का तर्क है कि वर्नन के सिद्धांत की वास्तविक दुनिया की सेटिंग में सीमित व्यावहारिक उपयोगिता है। पदानुक्रमित संरचना शैक्षिक प्रथाओं या बुद्धि को बढ़ावा देने के उद्देश्य से हस्तक्षेप के लिए कार्रवाई योग्य अंतर्दृष्टि प्रदान नहीं कर सकती है। वर्गीकरण और पदानुक्रम पर सिद्धांत का ध्यान व्यक्तिगत दृष्टिकोण और अनुरूप हस्तक्षेपों की आवश्यकता को कम कर सकता है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि वर्नन के पदानुक्रमित सिद्धांत की बुद्धि को आलोचना का सामना करना पड़ा है, इसने बुद्धि के आसपास चल रही चर्चाओं और बहसों में भी योगदान दिया है। शोधकर्ता वैकल्पिक सिद्धांतों और मॉडलों का पता लगाना जारी रखते हैं जो मानव बुद्धि की जटिलताओं को बेहतर ढंग से पकड़ते हैं।


Famous books written by Philip E. Vernon

(फिलिप ई. वर्नन द्वारा लिखित प्रसिद्ध पुस्तकें)

यहाँ फिलिप ई. वर्नन द्वारा लिखित प्रसिद्ध पुस्तकों की एक छोटी तालिका प्रत्येक पुस्तक के संक्षिप्त विवरण के साथ दी गई है:

Book Title Description
Intelligence and Cultural Environment बुद्धि और संज्ञानात्मक विकास पर सांस्कृतिक और पर्यावरणीय कारकों के प्रभाव की पड़ताल करता है। वर्नन बौद्धिक क्षमताओं को आकार देने में अनुवांशिक और पर्यावरणीय प्रभावों के बीच परस्पर क्रिया पर चर्चा करता है।
The Structure of Human Abilities वर्नन का संज्ञानात्मक क्षमताओं का प्रभावशाली श्रेणीबद्ध मॉडल प्रस्तुत करता है। वह मानव बुद्धि की संरचना को समझने के लिए एक व्यापक रूपरेखा प्रदान करते हुए व्यापक और विशिष्ट कारकों के संगठन की रूपरेखा तैयार करता है।
Personality Assessment: A Critical Survey व्यक्तित्व मूल्यांकन के विभिन्न दृष्टिकोणों और विधियों की जाँच करता है, जिसमें स्व-रिपोर्ट सूची, प्रक्षेपी परीक्षण और व्यवहार संबंधी अवलोकन शामिल हैं। वर्नन विभिन्न मूल्यांकन तकनीकों की ताकत और सीमाओं का गंभीर रूप से मूल्यांकन करता है।
“Ability Testing: Uses, Validities, and Limitations” शिक्षा, रोजगार और नैदानिक सेटिंग्स सहित विभिन्न संदर्भों में क्षमता परीक्षण के उपयोग, वैधता और सीमाओं की पड़ताल करता है। वर्नन संज्ञानात्मक क्षमताओं का आकलन करने के व्यावहारिक अनुप्रयोगों और नैतिक विचारों पर चर्चा करता है।
“Testing: An Introduction” मनोविज्ञान में परीक्षण के सिद्धांतों, तकनीकों और अनुप्रयोगों को शामिल करते हुए मनोवैज्ञानिक परीक्षण का अवलोकन प्रदान करता है। वर्नन परीक्षण निर्माण, विश्वसनीयता, वैधता और परीक्षण परिणामों की व्याख्या पर चर्चा करता है।

कृपया ध्यान दें कि प्रदान किए गए विवरण संक्षिप्त हैं और प्रत्येक पुस्तक के लिए एक परिचय के रूप में कार्य करते हैं। कवर किए गए विषयों की अधिक व्यापक समझ के लिए, इन पुस्तकों को विस्तार से देखने की अनुशंसा की जाती है।


Also Read:

Leave a Comment

Copy link
Powered by Social Snap